Disclaimer   
Forum Super Search
 ♦ 
×
HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Mon Apr 24, 2017 11:03:12 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Mon Apr 24, 2017 11:03:12 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
Filters:

Blog Posts by simplelive
Page#    183 Blog Entries  next>>
  
Rail News
0 Followers
2889 views
ECR/East Central  -  
Jan 21 2017 (12:03)   10 coaches of Ranikhet Express derail in Rajasthan
 

simplelive   1 news posts
Entry# 2134766   News Entry# 291763         Tags   Past Edits
AIPUR: Ten coaches of Ranikhet Express derailed in Rajasthan's Jaisalmer, officials said on Saturday.
Train 15014 Kath Godham-Jaisalmer Express derailed with ten coaches between Thayat Hamira-Jaisalmer at 23.16 hours last night, a statement said.
However, no casualties or major injuries were reported, said Railways North West region spokesperson Tarun Jain.
A team of senior officials have reached the spot to investigate the reason of
...
more...
derailment and passengers continued their journey through a special train.

1 posts - Sat Jan 21, 2017

2 posts are hidden.

  
952 views
Jan 21 2017 (13:05)
No one is beyond huminity nither region nor religi~   5268 blog posts   97 correct pred (63% accurate)
Re# 2134766-4            Tags   Past Edits
Ab is pe kiya bahana banayenge???

1 posts are hidden.

  
3291 views
Jan 21 2017 (13:06)
Guest: 81eb314e   show all posts
Re# 2134766-6            Tags   Past Edits
somthing is wrong constant derails
i think home grown dogs done it by taking money??????????????????

2 posts are hidden.

  
3184 views
Jan 21 2017 (13:48)
RajdhaniFan   546 blog posts
Re# 2134766-10            Tags   Past Edits
Railways' negligence as usual. Actually rail employment badana hoga. Not adequate manpower to continuously check or monitor every route round the clock.

  
2967 views
Jan 21 2017 (14:47)
ADMINISTRATOR   400 blog posts   917 correct pred (64% accurate)
Re# 2134766-13            Tags   Past Edits
Seems to be Pakistan is jealous of India bullet train .that is why using isi agent for derailment to put fear among indians

4 posts are hidden.

  
2891 views
Jan 21 2017 (16:15)
Mohd Arif   15000 blog posts   1475 correct pred (80% accurate)
Re# 2134766-18            Tags   Past Edits
Blog Entry Archived.
Even after so many try this Blog is still diverted , so we need to archive this now
  
Rail News
0 Followers
2308 views
IR AffairsNR/Northern  -  
Nov 22 2016 (10:24)   दुर्घटना रोधी कोच जल्द लगेंगे : प्रभु

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5492 news posts
Entry# 2067623   News Entry# 286384         Tags   Past Edits
राज्यसभा में भी स्पष्टीकरण :
दुखद : दुर्घटनास्थल से निकाले गए 145 शव,एक घायल की अस्पताल मेंमौत
रेल हादसे में मृतकों की संख्या 146 हुई
तलाश में भटकते रहे परिजन
आधुनिक तकनीकी और फोरेंसिक विश्लेषण
...
more...
के साथ एक उचित एजेंसी द्वारा अलग से एक व्यापक जांच भी की जाएगी। दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।
नई दिल्ली। केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने सोमवार को कानपुर रेल हादसे पर लोकसभा में गहरा दुख प्रकट किया। उन्होंने कहा कि ट्रेनों में मौजूदा पुराने आईसीएफ डिब्बों की जगह दुर्घटना रोधी आधुनिक कोच लगाने के काम में तेजी लाई जाएगी। साथ ही उन्होंने संसद को दोषियों के खिलाफ कड़ी कठोरतम कार्रवाई का भी भरोसा जताया। प्रभु ने कहा कि रेलवे सुरक्षा आयुक्त की जांच के साथ अलग से फोरेंसिक जांच के भी आदेश दिए गए हैं। उन्होंने कहा, ह्यमैंने इस सदन को पिछले रेल बजट के दौरान सूचित किया था कि इस तरह के पुराने कोचों को चरणबद्ध तरीके से बदला जाएगा। अब इस काम में तेजी लाई जाएगी। रेल मंत्री ने रेल हादसे पर स्वत: संज्ञान लेते हुए निचले सदन में दिए अपने बयान में कहा, ह्यघटना के सही कारणों का पता लगाने के लिए रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) की वैधानिक जांच का आदेश दे दिया गया है। प्रभु के अनुसार दुर्घटना के तत्काल बाद राहत और बचाव के प्रयास किए गए। स्थानीय एंबुलेंसों को मौके पर पहुंचाया गया और घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रभु ने बताया कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन के साथ उन्होंने घटनास्थल का मुआयना किया और अस्पताल में घायलों से मुलाकात की। बाद में राज्यसभा में रेल राज्यमंत्री राजेंद्र गोहेन ने सुरेश प्रभु का बयान पढ़ा। हालांकि गोहेन जैसे ही बयान पढ़ने के लिए खड़े हुए कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि यह एक गंभीर मामला है। इसमें रेल मंत्री सुरेश प्रभु को खुद उच्च सदन में आकर बयान देना चाहिए। इस पर उपसभापति पी. जे. कुरियन ने कहा कि रेल राज्यमंत्री बयान देने के लिए सक्षम हैं। बाद में कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के बीच ही गोहेन ने बयान पढ़ा।
कानपुर देहात निज संवाददाताकानपुर देहात जिले में पुखरायां और मलासा स्टेशनों के बीच रविवार भोर में हुए रेल हादसे में मरने वालों की संख्या 146 हो गई है। इनमें से 145 शव दुर्घटनास्थल से निकाले गए, जबकि एक घायल ने सोमवार को कानपुर के रीजेन्सी अस्पताल में दम तोड़ दिया। उनकी पहचान बिहार पुलिस के इंस्पेक्टर रामप्रकाश (55) के रूप में हुई है। मरने वालों में 46 महिलाएं और चार बच्चे शामिल हैं। पोस्टमार्टम के लिए लाए गए शवों में से 124 की शिनाख्त हो गई है। उनका पोस्टमार्टम भी हो गया। 89 घायलों का कानपुर देहात जिला अस्पताल अकबरपुर और कानपुर के हैलट अस्पताल में इलाज चल रहा है। इसके साथ ही ट्रैक पर राहत और बचाव का काम पूरा हो गया है। अब पटरियों की मरम्मत कर कानपुर-झांसी मार्ग पर यातायात बहाल करने का प्रयास किया जा रहा है। रात 12 बजे तक निकले थे 130 शव: इंदौर-पटना (राजेंद्रनगर टर्मिनल) एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतरे थे। इनमें से तीन स्लीपर बोगियां पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थीं। इन्हीं में सबसे ज्यादा लोग हताहत हुए। राहत और बचाव के दौरान रविवार रात 12 बजे तक ट्रेन के मलबे से 130 शव निकाले जा चुके थे। इस दौरान बोगी के बीच फंसे एक महिला और एक पुरुष के शव निकालने के लिए रेलवे कर्मचारियों, एनडीआरएफ की टीम और सेना के जवानों को घंटों मशक्कत करनी पड़ी। इलेक्ट्रिक कटर के अलावा लोहे की आरी से बोगी के बाहर का जंगला काटकर शव निकाले जा सके थे। सुबह निकाले गए 15 शववहीं, सुबह साढ़े 10 बजे तक 15 और शव निकाले गए। सुबह करीब आठ बजे एक बोगी में फंसे यात्री का केवल हाथ दिख रहा था। एनडीआरएफ के जवानों ने मशक्कत के बाद जगह बनाकर उसे निकाला, पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। रीजेन्सी में बिहार पुलिस के इंस्पेक्टर की मौत के साथ आंकड़ा और बढ़ गया। ट्रैक से साफ हुआ मलबाउधर, दोपहर होते-होते रेलवे ट्रैक से दुर्घटनाग्रस्त ट्रैक का मलबा साफ कर लिया गया। बोगियों की तलाशी का काम भी पूरा हो गया। मौके पर पहुंचे रेलवे के अधिकारियों ने रूट सामान्य कराने की कवायद शुरू की। ट्रैक पर पड़े डिब्बे को क्रेन की मदद से किनारे किया गया।मुख्य सचिव भी पहुंचेदुर्घटनास्थल पर पूरे दिन अधिकारियों का आना-जाना लगा रहा। शाम को प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पंडा पहुंचे। उनकी मौजूदगी में ही आधे घंटे बाद मुख्य सचिव राहुल भटनागर भी पहुंच गए। मुख्य सचिव ने बताया कि हादसे की गंभीरता के अनुसार राहत और बचाव कार्य सफलता से किया गया। काम लगभग पूरा हो चुका है। बाकी उपायों के अलावा स्नैफर डॉग का भी इस्तेमाल किया गया है। अब कोई जिंदा या मृत व्यक्ति मलबे में नहीं है।
अपनों को खोजने के लिए सुबह से ही एक बार फिर लोग भटकते दिखाई दिए। बड़ी संख्या में लोग दुर्घटनास्थल के पास बनाए गए अस्थाई हेल्प डेस्क पर भी पहुंचे। कई के हाथ में लापता परिजनों की फोटो थी। कानपुर देहात जिला अस्पताल अकबरपुर और जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज से संबद्ध हैलट अस्पताल में भी अपनों की तलाश में लोगों का तांता लगा रहा।

2 posts are hidden.

  
1199 views
Nov 22 2016 (11:07)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067623-3            Tags   Past Edits
150 कि बलि लेकर रेलवे प्रशासन यदि जाग जाये तो भी ठिक

  
840 views
Nov 22 2016 (16:08)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   12918 blog posts   3042 correct pred (65% accurate)
Re# 2067623-4            Tags   Past Edits
200+death hui h gov ne data hide kiya h

11 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1350 views
Other NewsNR/Northern  -  
Nov 21 2016 (18:44)   हादसे से प्रभु के जीरो एक्सीडेंट मिशन को झटका

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5492 news posts
Entry# 2067177   News Entry# 286313         Tags   Past Edits
हादसे ने रेल संरक्षा की जमीनी हकीकत पर सोचने पर रेलमंत्री को किया विवश
रेलवे के सामने बड़ी चुनौती होगी कि ट्रेनों के बेपटरी होने को कैसे रोका जाए एक्सिडेंट रोकने के किसी सिस्टम को अब तक पूरी तरह से लागू नहीं कर पाया है मंत्रालय
पुखराया रेल हादसे से रेलमंत्री सुरेश प्रभु के जीरो एक्सिडेंट मिशन को जोरदार झटका लगा है। बुलेट ट्रेन, हाईस्पीड और सेमी हाईस्पीड ट्रेनों की ओर तेजी से आगे बढ़ने वाले रेलमंत्री सुरेश प्रभु को इस हादसे ने रेल संरक्षा की जमीनी हकीकत पर सोचने को विवश कर
...
more...
दिया है। रेलमंत्री के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि बेपटरी हो रही रेल को कैसे रोका जाए। जमीनी स्तर पर ऐसी कौन सी खामियां हैं, जिसे सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर ठीक करने की जरूरत है। पुखराया रेल हादसे ने ऐसे कई सवाल पैदा किए हैं, जिनके जवाब रेलवे के लिए ढूंढना एक फिर जरूरी हो गया है, ताकि ऐसे दर्दनाक हादसों की पुनरावृत्ति न हो। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने रेल हादसों को शून्य पर ले जाने की बात कही है और इसके लिए रेल मंत्रालय जीरो एक्सिडेंट मिशन पर काम रहा है। इसमें प्रमुख रूप से रेल हादसों को रोकने के लिए वह ट्रेन प्रोटक्शन वार्निग सिस्टम (टीपीडब्ल्यूएस) पर काम रहा है। इसका 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार पर सफल परीक्षण भी किया गया है।
द विनोद श्रीवास्तवनई दिल्ली।

2 posts are hidden.

  
2126 views
Nov 21 2016 (19:32)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067177-3            Tags   Past Edits
Lazy higher up,lack of interest in staff,lazy railway administration, just a regular daily duty. please hand over it to privet player.
  
Rail News
0 Followers
917 views
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  
Nov 21 2016 (18:45)   हंसती-खेलती गुड़िया दो टुकड़ों में कट गई

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5492 news posts
Entry# 2067222   News Entry# 286314         Tags   Past Edits
ट्रेन हादसे की सबसे भयावह तस्वीर उस यात्री ने बताई है जिसने दो साल की एक बच्ची को इसका शिकार बनते देखा। प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि दो साल की बच्ची गुड़िया उज्जैन से अपने परिवार के साथ ट्रेन पर सवार हुई थी। बच्ची पूरे रास्ते मस्ती करते हुए आ रही थी। प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हादसे के बाद बच्ची के शरीर के दो टुकड़े हो चुके हैं। रुंधे गले से बोले पिता, सिर्फ बेटे का पर्स मिला : इस हादसे में अमित गुप्ता नाम का एक युवक भी लापता है। अमित कानपुर आ रहे थे। हादसे के बाद उनके पिता घटनास्थल पर अमित को खोज रहे हैं। अबतक अमित का पर्स ही मिल पाया है। पिता की स्थिति ऐसी है कि रुंधे गले की वजह से वह कुछ बोल पाने में भी सक्षम नहीं हैं।‘‘मेरे पापा कहीं नहीं दिख रहे’ : घटनास्थल पर अपनी आंखों के ठीक ऊपर माथे पर पट्टी...
more...
लगाए एक लड़की घूम रही है। वह अभी-अभी अस्पताल से मरहम पट्टी कराकर लौटी है। लड़की बदहवास है कि उसके पिता की कोई खोजखबर नहीं मिल रही। मीडिया से बातचीत के दौरान लड़की ने बताया कि कोई सूचना भी नहीं दे रहा।रोहित को नहीं मिल रहे मां, भाई और बहन : रोहित पांडे नाम के युवक ने भोपाल से अपनी मां, भाई और बहन को जनरल कोच में बिठाया था। रोहित के मुताबिक सभी लोग फैजाबाद जा रहे थे। शाम तक फोन से बात हुई थी पर अब कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। अब वह अपने पिता के साथ घटनास्थल पर जा रहे हैं।चाचा-चाची की तलाश में भतीजे का हाल बेहाल : हादसे के बाद लोग अपनों की तलाश में लगे हैं। ऐसे कई लोग हैं जो अपनों की तलाश में हॉस्पीटल, शव गृह और हादसे की जगह का चक्कर लगा रहे हैं। उन्हें कहीं भी उनके अपनों की खबर नहीं मिल रही है। वे इतने मायूस हैं कि उनकी तमन्ना ये है कि शव ही मिल जाए ताकि सब्र हो जाए। ये प्रमोद कुमार सिंह, जिनके चाचा शत्रुघ्न सिंह और चाची ललिता सिंह इस ट्रेन में सवार थे।चाचा-चाची एस-2 बॉगी में सवार थे, जिस बॉगी को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है।प्रमोद सिंह ने सभी बॉगियों की खाक छान ली हैज् हादस की जगह के हर-हर हिस्से को खंगाला है। लेकिन चाचा-चाची का कुछ भी पता नहीं चला है। उनका रो रो कर बुरा हाल है. प्रमोद सिंह कहते हैं कि उनके चाचा-चापी वेटिंग टिकट के साथ एस-2 बॉगी में सवार थे। अभी इस बॉगी में उन्हें जाने की इजाजत नहीं दी जा रही है। उनका कहना है कि प्रशासन उनके चाचा-चाची को खोजने में लगा हुआ है. हादसे का असर एस-2 बोगी पर सबसे ज्यादा पड़ा है। एस2 से अब तक शवों को नहीं निकाला जा सका है।ऐसा दर्द मिला जिसे भूलना मुश्किल : कानपुर के पास हुए बड़े ट्रेन हादसे ने कई लोगों को जिंदगी भर नहीं भूलने वाला दर्द दिया है। कानपुर ट्रेन हादसे में सीवान की रहने वाली रत्निका और उनकी एक बेटी की मौत हो गई है, जबकि दूसरी बच्ची लापता है। बिहार के सीवान का रहने वाला ये परिवार शादी में शामिल होने के लिए इंदौर से पटना जा रहा था लेकिन कानपुर के पास ऐसा दर्द मिला है जिसे जीवन भर भूलना मुश्किल है।

  
2273 views
Nov 21 2016 (19:32)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067222-1            Tags   Past Edits
please research and make coaches of fireproof mattress,puffy birth,cushiony everthing so passenger do not bump the head
  
Rail News
0 Followers
924 views
Other NewsNER/North Eastern  -  
Nov 21 2016 (18:48)   गोरखधाम हादसे के बाद सतर्क है एनईआर

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5492 news posts
Entry# 2067204   News Entry# 286315         Tags   Past Edits
गोरखपुर (एसएनबी)। कानपुर के पास हुई ह्रदय विदारक रेल दुर्घटना के बाद एक बार फिर संरक्षा को लेकर तरह-तरह की र्चचाएं शुरू हो गई हैं। नई सरकार के सत्ता में आने के बाद लगातार दो दुर्घटनाओं का दंश झेल चुका पूर्वोत्तर रेलवे अब सतर्क हो चुका है। मेन लाइन के साथ लूप लाइन की भी अल्ट्रासोनिक फ्ला डिटेक्शन टेस्ट किया जा रहा है। 26 मई 2014 को चुरेब में गोरखधाम एक्सप्रेस रेल फेल्योर के कारण डिरेल हो गई थी जबकि 30 सितंबर 2014 को नंदानगर में कृषक व लखनऊ-बरौनी एक्सप्रेस सिग्नल ओवरशूट के कारण आपस में टकरा गई थी। इन दोनों घटनाओं में दर्जनों यात्रियों को जान गंवानी पड़ी थी। पर, इसके बाद संरक्षा को लेकर पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन और भी गंभीर हो चुका है। सिग्नल ओवरशूट न हो इसके लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने पहली बार लोको पायलट की पत्नियों से भी संवाद स्थापित...
more...
कर उन्हें ज्यादा से ज्यादा आराम देने की अपील की थी। इसके अलावा भी विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए लोको पायलटों को सिग्नल ओवरशूट न करने को जागरूक किया जा रहा है।
रेल फ्रैक्चर पर है विशेष ध्यानपूर्वोत्तर रेलवे में हल्की ठंडक में हर महीने औसतन तीन से चार रेल फ्रैक्चर के मामले प्रकाश में आते हैं। अधिकारियों का दावा है कि इससे बचाव के जो भी उपाय हैं, वे अपनाए जाते हैं, जिससे रेल फ्रैक्चर आसानी से पकड़ में आ रहे हैं। दिसंबर व जनवरी महीने में रेल फ्रैक्चर की घटनाएं बढ़ जाती हैं। गोरखधाम एक्सप्रेस का हादसा रेल फेल्योर के कारण हुआ था। रेलवे बोर्ड के निर्देश के अनुसार पटरियों की जांच अल्ट्रासोनिक फ्ला डिटेक्शन (यूएसएफडी) के द्वारा किया जाता है। इससे पटरियों की स्थिति के बारे में पता चल जाता है और उन्हें आवश्यकतानुसार दुरुस्त कर लिया जाता है या फिर बदल दिया जाता है। जहां पटरी कमजोर दिखती है, वहां अतिरिक्त फिश प्लेट लगाकर उसे मजबूत बना दिया जाता है। एक अधिकारी का कहना है कि गोरखधाम हादसे के बाद मेन लाइन के साथ ही लूप लाइन में भी यूएसएफडी टेस्ट शुरू कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त नियमित रूप से पेट्रोलिंग की जा रही है।पूर्वोत्तर रेलवे में हुए कुछ बड़े रेल हादसे25 जुलाई, 2016 भदोही इलाके में मडुआडीह-इलाहाबाद पैसेंजर ट्रेन मिनी स्कूल वैन टकरा गई, जिसमें 7 स्कूली बच्चों की मौत हो गई है। इस वैन में 19 बच्चे सवार थे। 26 मई, 2014 को गोरखधाम एक्सप्रेस चुरेब रेलवे स्टेशन के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस हादसे में अब तक 40 लोगों की मौत हो गई। 30 सितंबर, 2014 को देर रात गोरखपुर के नंदानगर इलाके में दो ट्रेनों लखनऊ -बरौनी और कृषक एक्सप्रेस के बीच टक्कर हो गई़ इस हादसे में 14 लोगों की मौत और 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए।

  
2874 views
Nov 21 2016 (19:14)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067204-1            Tags   Past Edits
Wrong policies of railway creating fault in running railway. No use of technology in railway field
  
Rail News
0 Followers
845 views
Other NewsNCR/North Central  -  
Nov 21 2016 (18:52)   इंदौर पटना एक्सप्रेस हादसे में ललितपुर के आशीष की भी मौत - Patrika News

ankurgupta0602~   4691 news posts
Entry# 2067199   News Entry# 286317         Tags   Past Edits
कहते हैं कि हमारी मौत तो ऊपर वाले के हाथ में है और उसका समय और जगह See more at : click here

  
2358 views
Nov 21 2016 (19:11)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067199-1            Tags   Past Edits
Railway or Yemraj
  
Rail News
0 Followers
768 views
Other NewsNCR/North Central  -  
Nov 21 2016 (18:52)   इंदौर पटना एक्सप्रेस हादसे में ललितपुर के आशीष की भी मौत - Patrika News

ankurgupta0602~   4691 news posts
Entry# 2067197   News Entry# 286317         Tags   Past Edits
कहते हैं कि हमारी मौत तो ऊपर वाले के हाथ में है और उसका समय और जगह See more at : click here

  
767 views
Nov 21 2016 (19:11)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2067197-1            Tags   Past Edits
Death railway complete failure.
  
★  Rail News
0 Followers
3557 views
Major Accidents/Disruptions
Nov 21 2016 (11:18)   इंदौर-पटना एक्सप्रेस रेल हादसे में आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

Saif Ali^~   28 news posts
Entry# 2066759   News Entry# 286265         Tags   Past Edits
नई दिल्ली(21 नवंबर): इंदौर-पटना एक्सप्रेस रेल हादसे में हैरान कर देने वाली रिपोर्ट सामने आई है। ट्रेन के ड्राइवर जलत शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक झांसी के बाद ही उन्हें खतरे के बारे में पता चला था। जिसके बारे में उन्होंने अफसरों को भी बताया। लेकिन उन्होंने ट्रेन को कानपुर तक ले जाने के लिए कहा।
- रात करीब 1 बजे ट्रेन ड्राइवर जलत शर्मा ने अफसरों को खतरे के संकेत दे दिए थे। झांसी से चलने के बाद दो स्टेशन पार होते ही उन्हें इंजन मीटर पर अधिक लोड दिखा।
- उन्होंने
...
more...
तुरंत साथी डीपी यादव को बताया। इसके बाद झांसी मंडल के अफसरों को जानकारी दी। लेकिन वहां से कहा गया कि ट्रेन को जैसे-तैसे कानपुर तक ले जाओ, फिर देखेंगे।
- झांसी डिविजन के इस ड्राइवर ने सेंट्रल स्टेशन पर चालक लॉबी में सौंपी रिपोर्ट में बताया कि तड़के 3:03 बजे ओएचई केबल (ओवरहेड इलेक्ट्रिक केबल) में तेज धमाके के बाद उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाए।
- जिस समय ट्रेन हादसे का शिकार हुई, उसकी स्पीड 110 किमी प्रति घंटा थी। ओएचई में धमाके से लाइन ट्रिप नहीं होती तो पूरी ट्रेन में आग लग सकती थी।
- गौरतलब है कि इंदौर से पटना जा रही ट्रेन के 14 कोच शनिवार देर रात पटरी से उतर गए। कई बोगियां पिचक गईं। कोच दूसरे कोच पर चढ़ गए। हादसे में 133 की मौत हो गई। 200 से ज्यादा जख्मी हैं

  
★  
1382 views
Nov 21 2016 (11:47)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2066759-1            Tags   Past Edits
यदि इंजन मीटर पर अधिक लोड दिखा तो ट्रेन 110 किमी के रफ्तार से भगाने कि क्य जरुरत थी.

  
1378 views
Nov 21 2016 (11:55)
Rahul K😎🚂~   2068 blog posts   2041 correct pred (77% accurate)
Re# 2066759-2            Tags   Past Edits
Bilkul sahi.. Saara leepa-poti chalne wala hai ab.. end result will be zero..

1 posts are hidden.

  
964 views
Nov 21 2016 (15:19)
Indian Railways the life line of our Nation   14106 blog posts   137 correct pred (81% accurate)
Re# 2066759-4            Tags   Past Edits
Sayad LP train ko slow karne hi waala hoga aur train derail ho gayi.LP se jitna ho sakta hai vo utna kosis karta hai accident ko avert karne ka.

  
826 views
Nov 21 2016 (15:20)
JBP ET OHE OMG 😲 SUPPORTS KKR 😎~   12423 blog posts   22 correct pred (42% accurate)
Re# 2066759-5            Tags   Past Edits
Bhai dhere dhere momentum increase hota gya hoga

22 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1040 views
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  
Nov 21 2016 (11:44)   indore-patna express: Indore-Patna Express derails: 128 die in worst rail accident in 6 years - Times of India

IR no more Safe^~   115 news posts
Entry# 2066863   News Entry# 286270         Tags   Past Edits
KANPUR: At least 128 lives were snuffed out in the deadliest train accident in six years as the Indore-Patna Express, packed with more than 2,000 people and doing 100 kmph, flew off the tracks at 3.10am, leading to derailment of 14 coaches.
The coaches derailed in the pre-dawn hours as the Patna-bound train crossed Pukhraya in the Jhansi-Kanpur section, about 60km from here. The high toll was in part due to sleeping passengers being caught unawares and the older coaches in the train+ . Two coaches, S2 and S3, bore the brunt of the derailment.
'
...
more...
Rail fracture+ ' due to expansion of the track in summer and contraction in winter has been identified as the likely cause of the accident that occurred at Hasemau village, between Pukhraya and Malasa stations. If confirmed, it could point to deficiencies in track management.
The train had 23 coaches, including 12 sleeper coaches, three general seating coaches, four AC3, one AC1 and two SLR (seating-cum-luggage) rakes. The driver and guard are safe; their account could help the commissioner of rail safety piece events together.
The last big rail accident was in May 2010, when Gyaneshwari Express derailed in West Midnapore in West Bengal, killing 148 people.
Medical and accident relief trains from Kanpur, Jhansi, Agra and Allahabad were rushed to the spot. Rescue personnel, including National Disaster Response Force, pulled out dozens of passengers.
Railway sources said an extra AC3 coach was added to the train. They said casualties may have been higher since all coaches were old ICF ones rather than the modern Linke Hofmann Busch coaches.
Locals and cops were the first to reach the spot within 30 minutes of the accident. The train runs between Rajendra Nagar Terminal (Patna) and Indore, and passes through Varanasi, Faizabad and Kanpur, among 17 stops.
An Army column and NDRF personnel from Varanasi and Lucknow reached the site to speed up rescue operations. Besides, police teams from neighbouring Orai and Kanpur districts were also deployed. Rail traffic on the crucial Kanpur-Jhansi section that links UP to MP and Maharashtra remained affected till the filing of this report. Many trains were either cancelled or diverted.
The accident scene was not for the faint hearted. Villagers said they removed more than 25 bodies.

  
Nov 21 2016 (13:07)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2066863-1            Tags   Past Edits
possible cause of higher death in this accident and idea to avoid so much deaths.
(1) injury in head, heart, body
(A)from metallic structure
(B) middle birth
(C) throwing in air and bumping
(D)
...
more...
burning of coaches
(E) damaged coaches from impact

----------
(*) shock based break to coaches
(*) using soft/ fireproof material in coaches
(*) reducing weight of coaches using steel material in ground .
(*) glass/teflon acrilic sheet above roof so did not cath fire from higher voltage.
(*)permanent fixing of middle birth
(*) cabin design soft and fire proof
(*) complete design change of coaches
supply line from engine side 5 to 15 volt to coaches
if this supply break, auto break will be enabled so after derailment coaches will stop.
it can n by lowring ground hieght
so can passanger can sit comfortibly
-------please pepole explane exsact couse of higher death so i can give safety suggestion----

  
2121 views
Nov 21 2016 (13:09)
JBP ET OHE OMG 😲 SUPPORTS KKR 😎~   12423 blog posts   22 correct pred (42% accurate)
Re# 2066863-2            Tags   Past Edits
Thank god no coaches caught fire
  
Rail News
0 Followers
1312 views
Nov 21 2016 (09:28)   120 die in worst rail accident in 6 years

❤ WAP7 ❤~   1071 news posts
Entry# 2066661   News Entry# 286254         Tags   Past Edits
At least 120 lives were snuffed out in the deadliest train accident in six years as the Indore-Patna Express, packed with more than 2,000 people and doing 100km per hour, flew off the tracks, leading to derailment of 14 coaches.
The coaches derailed in the pre-dawn hours, at 3.05am, as the Patna-bound train crossed Pukhrayan in the JhansiKanpur section, about 60km from Kanpur. The high toll was in part due to sleeping passengers being caught unawares and the older coaches in the train. Two coaches, S2 and S3, bore the brunt of the derailment.
`Rail
...
more...
fracture' due to expansion of the track in summer and contraction in winter has been identified as the likely cause of the accident that occurred at Hasemau village, between Pukhrayan and Malasa stations. If confirmed, it could point to deficiencies in track management.
The train had 23 coaches, including 12 sleeper coaches, three general seating coaches, four AC3, one AC1and two SLR (seating-cum-luggage) rakes.The driver and guard are safe and their account can help the commissioner of rail safety piece the events together.
The last big rail accident was in May 2010, when Gyaneshwari Express derailed in West Midnapore in West Bengal, killing 148 people.
Medical and accident rel ief trains from Kanpur, Jhansi, Agra and Allahabad were rushed to the spot and rescue personnel, including National Disaster Response Force, brought dozens of passengers to safety.
Railway sources said an extra AC3 coach was added to the train and pointed out that casualties are likely to have been higher due to all the coaches of the train being old ICF ones rather than the modern Linke Hofmann Busch (LHB) coaches. Local villagers and police were the first to reach the spot within 30 minutes of the accident. The train runs between Rajendra Nagar Terminal (Patna) and Indore, and passes through Varanasi, Faizabad and Kanpur, among 17 stoppages.
Later, an Army column and NDRF personnel from Varanasi and Lucknow reached the site to speed up rescue operations. Besides, police teams from neighbouring Orai and Kanpur districts were also deployed. Rail traffic on the crucial Kanpur-Jhansi section that links UP to MP and Maharashtra remained affected till the filing of this report. Many trains were either cancelled or diverted.
Villagers who reached the spot said they removed more than 25 bodies. Very few could reach the site in the first two hours but after daybreak, relatives and friends of the passengers arrived and began a frantic search.
Though the exact cause of the derailment was not ascertained, junior railway minister Manoj Sinha said contraction of tracks, which normally happens in winters, could be one of the reasons. Railway minister Suresh Prabhu said strong action would be taken if anybody was found responsible for the accident.
A total of Rs 12.5 lakh ex gratia was announced immediately from various sources--Rs 5 lakh from UP government, Rs 3.5 lakh from railways and Rs 2 lakh each from the PM Relief Fund and MP government. Rescuers used giant cranes and gas cutters to cut through twisted metal to reach survivors, as Army and IAF ambulances, railway ambulances and vans and buses streamed in to ferry the injured to nearby hospitals. Many of the injured were rushed to Kanpur where hospitals had been kept ready .
“Initially, locals of nearby villages with the help of district police and fire department pulled out the dead and injured. They were later assisted by NDRF, NCC, NSS volunteers and school children. There were many people inside the 14 coaches of the train and death toll will rise,“ ASP Kanpur Manoj Sonker told TOI. Several police teams from neighbouring Kanpur and Orai districts, too, rushed to the spot and assisted the rescue workers.

  
1591 views
Nov 21 2016 (10:23)
simplelive   245 blog posts   554 correct pred (60% accurate)
Re# 2066661-1            Tags   Past Edits
coach design should be made to handle Accident so minimum impact feel people and lower physical injuries.

2 posts are hidden.
Page#    183 Blog Entries  next>>

ARP (Advanced Reservation Period) Calculator

Reservations Open Today @ 8am for:
Trains with ARP 10 Dep on: Thu May 4
Trains with ARP 15 Dep on: Tue May 9
Trains with ARP 30 Dep on: Wed May 24
Trains with ARP 120 Dep on: Tue Aug 22

  
  

Rail News

New Trains

Site Announcements

  • Entry# 2175399
    Feb 23 2017 (01:22PM)


    There has recently been a lot of frustration among RFs when their Station Pics, Loco Pics, Train Pics get rejected because the "number is not showing", "shed is not visible", the loco/train is at a distance, Train Board is too small, "better pic available", etc. . To address this issue, effective tomorrow, ALL...
  • Entry# 2165159
    Feb 15 2017 (09:53AM)


    A minor update, but may impact many members: Hereafter, FMs will be able to delete invalid Red Flags on Imaginary trains. Red Flags can be removed by FMs, only against specific complaints filed against the blog. This does not give all members the right to complain against EVERY single red flag they...
  • Entry# 2155798
    Feb 08 2017 (11:40AM)


    -@all members: As of recently, there has been a trend whereby minor name updates of Trains/Stations - whether such and such regional name should be there or not, whether the train should be called "Abc Express" or "Abc Superfast Express", etc. are threatening to take over the majority of Timeline entries. Also,...
  • Entry# 2147631
    Feb 01 2017 (11:05AM)


    A new experimental feature is being introduced called BotD - "Blog of the Day". The rules are: . 1. Replies are not eligible - only the Top Blog. 2. ONLY Blogs posted today (the day of the vote) are eligible. 3. Every member has ONE vote. In the course of the day, you may keep...
  • Entry# 2136570
    Jan 23 2017 (12:25AM)


    Several new features have been introduced recently to the Forum, and we are forever striving to make Member experience here more productive and satisfying. With the recent introduction and success of the new FM System, it has been observed that small groups of highly involved and enthusiastic members are far more...
  • Entry# 2134907
    Jan 21 2017 (02:46PM)


    It has been over 2 weeks since the appointment of the current batch of FMs and 750 Complaints have been handled so far. It gives me immense pleasure in congratulating them for running the team diligently, professionally, competently and above all, without a shred of controversy or bias. The FM position...
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site