Timeline UpdatesTrip UpdatesNews PostsPvt Posts♥♥Travel TipsAdmin PostsConv PostsFollowed PostsChat RequestsBlog PostsPNR Posts

Disclaimer
Search
 
 
Mon Nov 24, 2014 20:41:29 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsMembersLoginFeedback
Trains in the News **new    Stations in the News **new

News Super Search        show english news only

News Posts by Bhiwani*

Page#    Showing 1 to 10 of 2058 news entries  next>>
  
Today (3:26PM)  रेलवे की एक ही वेबसाइट पर अब कई जानकारियां, किया गया वेबसाइट को री-लॉन्च (www.bhaskar.com)
back to top
IR AffairsNR/Northern  -  

News Entry# 202288     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
भोपाल. अब ट्रेन शेड्यूल के संबंध में सारी जानकारी एक ही वेबसाइट पर मिल सकेंगी। सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) ने रेलवे पूछताछ संबंधी कई वेबसाइट्स का विलय करते हुए पहले से अधिक सुविधाजनक वेबसाइट www.trainenquiry.com री-लॉन्च की है।

प्रयोग के तौर पर नई वेबसाइट पिछले सप्ताह ही शुरू की गई थी। यात्रियों के अच्छे रिस्पांस के बाद रविवार से इसे औपचारिक तौर पर शुरू कर दिया गया। इस वेबसाइट का अंग्रेजी के साथ हिंदी वर्जन भी उपलब्ध कराया गया है। हालांकि इस साइट पर यात्रियों के पीएनआर नंबर से संबंधित जानकारी नहीं मिलेगी। पीएनआर की जानकारी www.indianrail.gov.in पर ही मिलेगी।

पुरानी वेबसाइट का स्थान लेगी
...
Read more...
नई वेबसाइट बीटा वर्जन वाली पुरानी वेबसाइट का स्थान लेगी। इसमें events.trainenquiry.com, railradar.trainenquiry.com, trainenquiry.com/liveupdates/special trains/aspx वेबसाइट्स को एक्जाई कर दिया गया है। इन वेबसाइट्स से संबंधित सूचनाएं अब नई वेबसाइट पर ही उपलब्ध होंगी।

ये सहूलियत
स्पॉट योर ट्रेन: इसमें ट्रेन का शेड्यूल, रनिंग स्टेटस, किसी स्टेशन पर उसके आगमन-प्रस्थान का संभावित समय देखा जा सकता है।

स्टेशन: किसी भी स्टेशन पर अगले दो, चार, छह और आठ घंटे के भीतर किसी भी ट्रेन के आने-जाने का संभावित समय पता किया जा सकता है।

ट्रेन्स बिटविन स्टेशंस: सभी ट्रेन की दो स्टेशनों के बीच की वर्तमान स्थिति तुरंत पता की जा सकती है।
ट्रेन्स कैंसिल्ड: किसी रूट पर पूर्णत: या आंशिक रूप से रद्द की गई सभी ट्रेनों का ब्योरा मिलेगा।
  
महाराष्‍ट्र में नासिक के लोगों ने अपने सांसद को ट्रेन में सेकंड क्‍लास की सवारी करने के लिए मजबूर किया। लोग चाहते थे कि सांसद खुद उनकी तकलीफों को महसूस करें। ये लोग स्‍थानीय रेल पैसेंजर एसोसिएशन के सदस्‍य थे। इन्‍होंने एनसीपी के कद्दावर नेता छगन भुजबल को हरा कर सांसद बने शिवसेना के हेमंत गोडसे को आम मुसाफिरों की तरह सफर कराया।

गोडसे ने 186 किमी का सफर तय कर रोज कमाने के लिए नासिक से मुंबई जाने वाले लोगों की समस्‍याएं दूर करने का वादा किया था। लेकिन आरोप है कि कई बार सांसद को याद दिलाए जाने के बावजूद उनकी समस्‍याएं जस की तस हैं। 19 नवंबर को पैसेंजर एसोसिएशन के सदस्‍यों ने गोडसे को स्‍टेशन पर देख लिया। सांसद पंचवटी एक्‍सप्रेस की एसी बोगी में सवार
...
Read more...
होने जा रहे थे। लेकिन एसोसिएशन के यात्रियों ने उनके पास जाकर उनसे सेकंड क्‍लास में चलने के लिए कहा।
पंचवटी पैसेंजर एसोसिएशन के प्रमुख राजेश फोकाने का कहना है, 'हम रोज आठ घंटे नासिक से मुंबई आने-जाने के क्रम में ट्रेन में बिताते हैं। इस दौरान हमें कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। नासिक से मुंबई जाने वाले करीब 8500 लोग मंथली टिकट कटा कर सफर करते हैं। इनमें से करीब 1800 सरकारी कर्मचारी हैं। ट्रेन देरे होने के चलते ये अक्‍सर ऑफिस में लेट मार्क किए जाते हैं। हम चाहते थे कि सांसद हमारी तकलीफों को महसूस करें।'

सांसद गोडसे का कहना है कि उन्‍होंने आम यात्रियों के साथ सफर कर उनकी तकलीफों को समझा है। ट्रेन लेट होने के अलावा डेली पैसेंजर्स के लिए कंपार्टमेंट्स उपलब्‍ध नहीं होने की भी समस्‍या है। उन्‍होंने कहा कि इस समस्‍या के समाधान के लिए मध्‍य रेलवे के जीएम एसके सूद से वह मिल चुके हैं और रेल मंत्री सुरेश प्रभु को भी खत लिखने वाले हैं।

कुछ ही दिन पहले पाकिस्‍तान में भी लोगों ने देर से आने वाले पूर्व मंत्री को विमान से उतार कर दौड़ा दिया था। इसका वीडियो वायरल हो गया था। बाद में वीडियो शूट करने वाले व्‍यक्ति को नौकरी गंवानी पड़ी थी।
  
Nov 21 (8:30AM)  ट्रेन के टॉयलेट में दरवाजा नहीं और खिड़कियां टूटी, रेलवे पर 22 हजार का जुर्माना (www.bhaskar.com)
back to top
Other NewsNWR/North Western  -  

News Entry# 201969     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
भिवानी. ट्रेन में टॉयलेट के दरवाजे व खिड़कियां टूटे होने की शिकायत पर कंज्यूमर फोरम ने रेलवे को 20 हजार रुपए मुआवजा देने का आदेश दिया है। शिकायत करने वाली महिला डिंपल शर्मा को दो हजार रुपए अदालती खर्च के तौर पर देने का भी फैसला सुनाया। भिवानी की डिंपल शर्मा ने शिकायत में बताया था कि वे पति राजीव कौशिक के साथ 2 जनवरी 2011 को भिवानी जाने के लिए निजामुद्दीन स्टेशन से दिल्ली-सिरसा किसान एक्सप्रेस में सवार हुई थीं। वे जब ट्रेन के टॉयलेट में गईं तो दरवाजे टूटे थे। खिड़कियों में कांच नहीं थे। सर्दी में उनके कोच की भी अधिकतर खिड़कियों पर शीशे नहीं थे। भिवानी स्टेशन के सभी टॉयलेट पर ताले लगे थे। इन हालात में वे टॉयलेट नहीं जा सकीं।

10 दिन रही बीमार
...
Read more...
रेलवे अधिकारियों से शिकायत बुक मांगी तो इनकार कर दिया गया। इस कारण घर पहुंचने के बाद 10 दिन तक तबीयत खराब रही। उन्होंने बताया कि 10 जनवरी 2011 को भिवानी स्टेशन अधीक्षक से मामले की शिकायत की। कुछ दिन बाद पति ने इसी ट्रेन में दोबारा सफर किया तो कोई सुधार नहीं दिखा। इसके बाद कंज्यूमर फोरम में शिकायत की गई।
  
Nov 20 (8:38AM)  पटरी से उतरा गरीब रथ का इंजन, हादसा टला (www.jagran.com)
back to top
Crime/AccidentsNR/Northern  -  

News Entry# 201825     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
नई दिल्ली [राज्य ब्यूरो]। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के नजदीक बुधवार सुबह अमृतसर से सहरसा जाने वाली गरीब रथ (12204) का इंजन पटरी से उतर गया। गनीमत रही कि इस दुर्घटना में किसी भी यात्री को नुकसान नहीं पहुंचा। लगभग एक घंटे तक रेल परिचालन बाधित रहा। वहीं दुर्घटना की जांच के लिए रेलवे ने कमेटी गठित कर दी है।
मिली जानकारी के अनुसार, अमृतसर से सहरसा जाने वाली गरीब रथ एक्सप्रेस बुधवार सुबह 11:05 बजे सदर बाजार रेलवे स्टेशन को पार कर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के यार्ड में प्रवेश की तो इसके इंजन का पहिया अचानक ट्रैक से उतर गया। ट्रेन की गति धीमी होने से एक झटके के साथ ट्रेन रुक गई। घटना यार्ड के पास हुई थी, इसलिए मौके पर मौजूद रेलवे अधिकारी और कर्मचारी तुंरत राहत कार्य में जुट गए।
...
Read more...
सूचना मिलते ही दिल्ली के मंडल रेल प्रबंधक अनुराग सचान व अन्य वरिष्ठ रेलवे अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। इस दौरान दिल्ली-अमृतसर रूट पर रेल परिचालन बाधित रहा। सबसे ज्यादा असर अमृतसर शताब्दी पर पड़ा।
इस ट्रेन को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से बाहर लगभग एक घंटे तक खड़ा रखा गया। लोकल ट्रेनों का परिचालन भी प्रभावित हुआ। 64401 नंबर की ईएमयू को पुरानी दिल्ली से आगे नहीं भेजा गया।
  
Nov 18 (3:30PM)  रेलवे की कमाई 11 फसदी बढ़ी (www.jagran.com)
back to top
IR AffairsNR/Northern  -  

News Entry# 201663     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
नई दिल्ली। रेलवे की कमाई की रफ्तार और तेज होती जा रही है। अप्रैल-अक्टूबर 2014 के बीच रेलवे ने माल भाड़े से 57012.74 करोड़ रुपये की कमाई की है। जो पिछले साल समानावधि में 51189.29 करोड़ रुपये थी। इसमें 11..38 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। अप्रैल-अक्टूबर 2014 के बीच रेलवे ने 621.66 मिलियन टन कमोडिटीज की ढुलाई की, जो पिछले साल समानावधि में 593.27 मिलियन टन थी। इसमें 4.79 फीसद की वृद्धि दर्ज की गई। इस तरह से अक्टूबर माह में रेलवे की कुल कमाई 8950.69 करोड़ रुपये थी जो पिछले साल समानावधि में 7731.51 करोड़ रुपये थी।
इस दौरान इसमें 15.77 फीसद का इजाफा हुआ। जिसमें से 4315.00 करोड़ रुपये 46.20 टन कोयले की ढुलाई से आए और निर्यात के लिए 8.38 मिलियन टन आयरन ओर से 598.62 करोड़ रुपये आए। 8.24 मिलियन टन सीमेंट की ढुलाई से
...
Read more...
703.52 करोड़ रुपये आए। 4.35 मिलियन टन अनाज की ढुलाई से 734.05 करोड़ रुपये आए। 3.48 मिलियन टन पेट्रोलियम पदार्थों की ढुलाई से 480.52 करोड़ रुपये की कमाई हुई। वहीं, पिग आयरन और फिनिश्ड स्टील की ढुलाई से 546.52 करोड़ रुपये की कमाई हुई।
वहीं, फर्टिलाइजर की ढुलाई से 510.82 करोड़ रुपये की कमाई हुई। रॉ मैटीरियल की ढुलाई से 166.76 करोड़ रुपये की कमाई हुई। कंटेनर सर्विस से 384.90 करोड़ रुपये की कमाई हुई। अन्य सामानों की डुलाई से 509.56 करोड़ रुपये की कमाई हुई।
  
Nov 18 (9:46AM)  चार ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाए (www.bhaskar.com)
back to top
Coach AugmentationsNWR/North Western  -  

News Entry# 201640     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
अलवर| रेलवेने रविवार से चार ट्रेनों में कोच बढ़ाए हैं। नईदिल्ली- अजमेर शताब्दी एक्सप्रेस में 16 नवंबर से 31 दिसंबर तक वातानुकूलित चेयरकार का एक, उदयपुर- जम्मूतवी गरीब रथ में 20 से 27 नवंबर तक, दिल्ली सराय रोहिल्ला- बांद्रा टर्मिनस गरीब रथ में 17 नवंबर से 30 दिसंबर तक तथा दिल्ली- बाड़मेर इंटरसिटी एक्सप्रेस में 17 नवंबर से 1 जनवरी तक फ़र्स्ट क्लास मय सैकंड एसी का एक-एक कोच लगाया है।
  
मानवरहित रेलवे फाटक पर होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ट्रेन का इंजन लगातार हॉर्न देगा। रेलवे मानव रहित फाटकों से 250 मीटर की दूरी पर रिपिट विसलिंग रेलवे क्रासिंग बोर्ड लगा रहा है। इससे ट्रेन चालकों को 250 मीटर आगे फाटक होने का पता चल सकेगा और वह हॉर्न बजाता हुआ फाटक क्रॉस करेगा।
अबभी हैं मानव रहित 1500 फाटक मौजूद
उत्तर-पश्चिमरेलवे महाप्रबंधक ने दो दिन पहले ही ट्रेनों के दुर्घटना रहित होने का दावा किया था। हालांकि इस दावे को हकीकत का आईना खुद रेलवे के इंतजाम ही दिखा रहे हैं। हरियाणा-राजस्थान में बड़ी लाईन (ब्रॉडगेज) तथा छोटी लाईन (मीटर गेज) मिलाकर कुल 2500 क्रॉसिंग है, इनमें से 1500 फाटकों पर ही रेलकर्मी तैनात है। 1000 फाटक अब भी मानव रहित है। देश में इस साल अप्रैल
...
Read more...
से अक्टूबर तक 9 बड़े हादसे हो चुके हैं। पिछले तीन साल में 33 दुर्घटनाएं हुई हैं। रेलवे ने हादसों के चलते 3 साल में 275 मानव रहित क्रॉसिंग को स्थाई तौर पर बंद किया गया है।
उत्तर-पश्चिम रेलवे के मुख्य संरक्षक अधिकारी अनुप कुमार ने बताया कि सामान्य तौर पर स्टेशन और फाटकों से 600 मीटर की दूरी पर एक संकेतक लगाया जाता है। अब फाटकों से 250 मीटर पहले ही रिपीट विसलिंग लेवल क्रॉसिंग बोर्ड लगाए जा रहे हैं। इस स्थान से लगातार सायरन बजाकर आस-पास के लोगों को ट्रेन निकलने तक क्रॉसिंग पार करने के लिए सावधान किया जाएगा। ये संकेतक रात के अंधेरे धुंध में भी गाड़ी चालकों को स्पष्ट नजर आएंगे। रेल मंत्रालय द्वारा मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग फाटकों पर आए दिन होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ये कदम उठाया जा रहा है।
ऐसे मानव रहित फाटकों पर रेल की आवाज काफी नजदीक आने पर आती है। जिसके चलते विशेषकर सर्दी के मौसम में पड़ने वाली धुंध में वाहन राहगीर दुर्घटनाओं का शिकार हो जाते हैं। जयपुर डिवीजन के अनेक मानव रहित फाटकों पर पिछले दिनों इस तरह की दुर्घटनाएं घटित हो चुकी है। मानव रहित फाटक से 250 मीटर की दूरी पर ट्रेनों द्वारा लगातार हॉर्न देने से इन दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सकता है।
  
Nov 12 (8:47AM)  कोटा-उधमपुर साप्ताहिक हॉलीडे ट्रेन आज से होगी नियमित, समय भी बदला (www.bhaskar.com)
back to top
New/Special TrainsWCR/West Central  -  

News Entry# 200941     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
कोटा. कोटा से उधमपुर के बीच चल रही हॉली-डे स्पेशल ट्रेन को 12 नवंबर से नियमित कर दिया गया है। ट्रेन कोटा से दोपहर ढाई बजे रवाना होगी। डीसीएम बाबूलाल मछया ने बताया कि बुधवार से ट्रेन की नई समय-सारणी लागू हो जाएगी। नए नंबरों के साथ कंप्यूटरीकृत आरक्षण पिछले महीने से शुरू कर दिया गया था। कोटा से उधमपुर जाने वाली ट्रेन का नया नंबर 19805 तथा उधमपुर से कोटा का नया नंबर 19806 हो जाएगा। ट्रेन कोटा से प्रत्येक बुधवार को दोपहर 2.30 बजे रवाना होकर दूसरे दिन गुरुवार को दोपहर 12.10 बजे उधमपुर पहुंचेगी। वापसी में प्रत्येक गुरुवार को दोपहर 2.35 बजे उधमपुर से रवाना होकर दूसरे दिन शुक्रवार को सुबह 11.15 बजे कोटा आएगी।

22 स्टेशनों पर रुकेगी
...
Read more...
ठहराव: साप्ताहिक ट्रेन रास्ते में इन्द्रगढ़ सुमेरगंजमंडी, सवाईमाधोपुर, गंगापुरसिटी, हिण्डौन सिटी, बयाना, भरतपुर, मथुरा, फरीदाबाद, हजरत निजामुद्दीन, नई दिल्ली, सोनीपत, पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र, अम्बाला, लुधियाना, जालंधर छावनी, पठानकोट छावनी, कठुआ, जम्मूतवी आदि 22 स्टेशनों पर रुकेगी। कुल सफर 1094 किमी का होगा।
बर्थ: ट्रेन में वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी की 46 बर्थ, वातानुकूलित तृतीय श्रेणी की 128 बर्थ तथा स्लीपर श्रेणी की कुल 432 बर्थ की क्षमता है।
कोच: ट्रेन में कुल 17 कोच लगेंगे, जिसमें से दो कोच गार्ड-कम-ब्रेकवान, 6 कोच सामान्य द्वितीय श्रेणी, 6 कोच शयनयान , एक कोच वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी तथा दो कोच वातानुकूलित तृतीय श्रेणी के रहेंगे।

आगरा-रतलाम ट्रेन अब 10 मिनट पहले होती है रवाना

आगरा-रतलाम पैसेंजर ट्रेन कोटा से अब 10 मिनट पहले रवाना होने लगी है। इस ट्रेन का समय यात्रियों को पता नहीं होने के कारण अब भी कई यात्री ट्रेन चूक जाते हैं। गाड़ी संख्या 59812 आगरा-नीमच पैसेंजर ट्रेन एक सितंबर के बाद से सुबह 5.45 बजे कोटा प्लेटफॉर्म पहुंचती है। ट्रेन को कोटा से सुबह 6.10 बजे रवाना किया जाता है।

पूर्व में यह ट्रेन कोटा से सुबह 6.20 बजे रवाना होती है। यानी अब ट्रेन पहले के समय से 10 मिनट पहले रवाना होती है। इस ट्रेन के रवाना होने के बाद चित्तौडगढ़ रूट से रतलाम जाने वाली कोई ट्रेन यात्रियों को नहीं मिल पाती है। शिवपुरा निवासी गोरधन लाल व मथुरालाल ने बताया कि ट्रेन के पूर्व समय के अनुसार स्टेशन पहुंचे तो पता लगा कि ट्रेन रवाना हो चुकी है।
  
Nov 03 (7:27AM)  हिसार नाम का ही आदर्श स्टेशन, पानी से लेकर सफाई तक की सुविधा नहीं (www.bhaskar.com)
back to top
NWR/North Western  -  

News Entry# 200018     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
हिसार. हिसार रेलवे स्टेशन को माडल यानी आर्दश रेलवे स्टेशन का तबका मिले अर्से बीत गए, लेकिन यहां पर मुसाफिरों के लिए सुविधाएं व विकास कार्यों में अनदेखी की जा रही है। स्टेशन के आसपास की अधिकतर सड़कें टूट गईं हैं। इसके अलावा स्टेशन पर फैली समस्याओं से आदर्श रेलवे स्टेशन नाम का ही रह गया है।
सुरक्षा के लिए लगाई गई मेटलडिटेक्टर मशीन भी है। वहीं प्लेटफार्म टिकट खिड़की बंद होने के कारण टिकट लेने वालों को लंबी कतार में लगना होता है। प्रतिदिन हजारों की संख्या में स्टेशन पर मुसाफिर आते हैं।

यात्रियों ने गिनाईं असुविधाएं
प्लेटफार्म नंबर 1 : जाखल जाने वाले डीएन कॉलेज के
...
Read more...
छात्र संदीप ने बताया कि प्लेटफार्म नंबर एक पर आधे में तो टिन शेड ही नहीं है। ऐसे में यहां धूप व बारिश से जूझना पड़ता है।

प्लेटफार्म नंबर 2 : डीएन कॉलेज के छात्र अनूप ने बताया कि प्लेटफार्म नंबर दो पर डिजिटल घडिय़ां खराब हैं। इससे मुसाफिरों को समय की जानकारी नहीं मिल पाती है।

प्लेटफार्म नंबर 3 : सिरसा की सीडीएलयू विश्वविद्यालय की रिसर्च स्कॉलर व जनसंचार विभाग की प्रवक्ता शैफी परूथी ने कहा कि उनका सिरसा के लिए आना जाना रहता है। प्लेटफार्म तीन पर कुर्सियां की संख्या कम होने के कारण परेशानी हाेती है।

प्लेट फार्म नंबर चार व पांच : सिरसा सीडीएलयू की रिसर्च स्कॉलर रेखा ने कहा कि प्लेटफार्म नंबर चार व पांच पर पानी की टंकियां कूड़े से भरी रहती हैं जिससे परेशानी होती है।

प्लेट फार्म नंबर छह : राजस्थान जाने के लिए ट्रेन का इंतजार कर रहे नरेंद्र चौहान ने बताया कि वह अपने बेटे के साथ प्लेटफार्म नंबर छह पर आए। प्यास लगी तो प्लेटफार्म छह पर पानी तक नहीं मिला।

यात्री प्रतीक्षालय में बिखरी गंदगी
यहां अकसर चोरों तरफ गंदगी बिखरी रहती है। वैसे तो यहां पर मुसाफिर अपने गन्तव्य पर पहुंचने के लिए ट्रेन के आने की प्रतीक्षा करते हैं, पर यहां लावारिस पशु मुंह मारते फिरते हैं।
  
Nov 01 (2:36PM)  ट्रैक का विद्युतीकरण पूरा, ट्रायल की तैयारी (www.bhaskar.com)
back to top
NWR/North Western  -  

News Entry# 199876   Blog Entry# 1264360 **new     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Bhiwani*  2056 news posts  
मथुरा- अलवर-रेवाड़ी रेलवे ट्रैक के विद्युतीकरण का कार्य तेजी से चला रहा है। अलवर यार्ड रेवाड़ी में विद्युतीकरण कार्य होना शेष है। इसके बाद ट्रॉयल होगा। अगले साल इस रूट पर बिजली के इंजन से कोयले की मालगाड़ी का संचालन शुरू होगा। -बी ढिल्लन, पीआरओउत्तर मध्य रेलवे आगरा मंडल
196
किलोमीटरहै मथुरा-अलवर-रेवाड़ी ट्रैक की लंबाई, 123 किमी अलवर- मथुरा 73 किमी अलवर- रेवाड़ी ट्रैक की है लंबाई
100
करोड़रुपए से अलवर - मथुरा ट्रैक का हो रहा है विद्युतीकरण
195
करोड़रुपए की लागत से हो रहा है मथुरा-अलवर- रेवाड़ी रेलवे ट्रैक का विद्युतीकरण
...
Read more...
विद्युतीकरण से यह मिलेगा फायदा
>अलवर-मथुरा के बीच चार ट्रेनों का संचालन होता है। इनमें तीन पैसेंजर ट्रेन एक एक्सप्रेस ट्रेन शामिल है। रेवाड़ी रूट पर भी कई ट्रेनें संचालित हैं। विद्युतीकरण कार्य पूरा होने के बाद इस रूट पर मालगाड़ी सवारी गाड़ी बिजली के इंजन से चलाने की योजना है।
>बिजली के इंजन से संचालन होने पर ट्रेनों की रफ्तार बढ़ेगी। अलवर से मथुरा रेवाड़ी आने-जाने कम समय लगेगा।
>इस ट्रैक पर गाड़ियों का दबाव अधिक रहता है। दिल्ली - रेवाड़ी रेलवे ट्रैक के विद्युतीकरण के बाद मुंबई की तर्ज पर दिल्ली से अलवर के बीच ईएमयू (इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट) का संचालन योजना में शामिल है। इससे अलवर-दिल्ली का सफर सस्ता सरल हो पाएगा।
अलवर. कला काॅलेज के समीप विद्युतीकरण का कार्य करते श्रमिक।
अलवर. अलवर-रेवाड़ी रेलवे ट्रैक का हुआ विद्युतीकरण कार्य।
मनोज मुद‌््गल | अलवर
रेवाड़ी-अलवर-मथुरारेल मार्ग पर अगले साल बिजली के इंजन से ट्रेनें दौड़ सकती हैं। इस ट्रैक पर विद्युतीकरण कार्य लगभग पूरा हो गया है। रेवाड़ी अलवर यार्ड पर करीब 12 किलोमीटर लंबे रेलवे ट्रैक का विद्युतीकरण का कार्य शेष बचा। यह कार्य भी दिसंबर तक पूरा हो जाएगा। योजना के अनुसार इस ट्रैक पर पहले बिजली के इंजन से मालगाड़ी चलाई जाएंगी। इसके बाद सवारी गाड़ी का संचालन शुरू किया जाएगा। ट्रायल के लिए रेलवे ने उच्चाधिकारियों से स्वीकृति मांगी है। इसके लिए रेलवे सुरक्षा आयुक्त मुंबई कार्यालय को फाइल भेजी गई है। वहां से हरी झंडी मिलने के बाद इस ट्रैक पर बिजली के इंजन से कोयला की मालगाड़ी का संचालन शुरू होगा। ये मालगाड़ी कोयला लेकर हिसार के पास स्थित झाड़ली बिजली प्लांट जाएंगी।

  
1310 views
Nov 01 (10:58PM)        

Koush   47640 blog posts   2835 correct pred (77% accurate)  
Re# 1264360-1               Tags   Past Edits
This is a new feature showing the full history of past edits to this Blog Post. All members will now be able to Edit and refine their past and future Blog Posts with NO time limit.
Yeah .
I saw that whole route of alwar to rewari has electric lines
Just alwar yard and Rewari yard are remaining .
Page#    2058 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom