Disclaimer   
Search Trains
 ♦ 
×
DOJ:
Dep:
SunMonTueWedThuFriSat
Class:
2SSLCCEx3AFC2A1A3E
Type:
 

Train Details
Words:
LHB/ICF:
Pantry:
In-Coach Catering/Pantry Car
Loco:
Reversal:
Rake Reversal at Any Stn
Rake:
RSA:
With RSA
Inaug:
 to 
# Halts: to 
Trvl Time: to  (in hrs)
Distance: to  (in kms)
Speed: to  (in km/h)

Departure Details
Include nearby Stations:      ONLY this Station:
Dep Between:    
Dep PF#:
Reversal:
Rake Reversal at Dep Stn

Arrival Details
Include nearby Stations:      ONLY this Station:
Arr Days:
SunMonTueWedThuFriSat
Arr Between:    
Arr PF#:
Reversal:
Rake Reversal at Arr Stn

Search
2-month Availability Calendar
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sun Dec 4, 2016 17:48:33 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sun Dec 4, 2016 17:48:33 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
How are Delhi Metro pillars being utilized to provide location information and address directions?  
2 Answers
Jul 31 2011 (9:57PM)
Train Connections/Directions

Entry# 396     
moderator*^~
How are Delhi Metro pillars being utilized to provide location information and address directions?

Jul 31 2011 (10:14PM)
News Entry# 32241  Pin code to pillar code, Metro changes city’s addresses  
Posted by: moderator*^~   Added by: moderator*^~  Jul 31 2011 (10:01PM)
(old article about Delhi pillar codes)
In the mornings, sitting in the large room at the Gole Market Post Office where he sorts out mail, Inderjit Gupta looks out for Metro pillar numbers on envelopes, postcards and packages, and arranges them in order.
As he walks along the Metro pillars on Panchkuian Road that reverberate with the sound and the weight of the Metro each time a train passes overhead, Gupta follows the pillars to mark his route.
The
...
more...
pillars are the new postal address, the new landmark, and new reference point for Delhiites who live along Metro corridor. And they have made his job simpler, Gupta says.
The Delhi Metro Rail Corporation started to number the pillars to make maintenance work easier. In case of an accident, or a pillar developing cracks, it would be easier to locate the pillar through serial numbers, the officials thought. But this was a use they never foresaw. “It is Delhi’s new form of address, beyond the codes,” Gupta says. “It is so much easier now — I just follow the pillar’s serial numbers and don’t have to stop and ask for directions.”
Ashish Kumar, director of the General Post Office at Gol Dak Khana, says the pillars work as a good landmark. “They are additional information that help our people,” he says. “Unlike other countries, we do not have street numbers, so sometimes addresses are a little tricky.”
In yet another part of the city, the pillars have found their way on to business cards. In Shadipur, where Metro runs through a road choked with traffic and tiny shops jostling for space, Harvinder Singh had the brainwave three years ago when the Dwarka Metro line was flagged off. The owner of Raja Speaker Shoppe added an extra line — Opp. Metro Pillar No. 250 — on his business card.
“It is common sense,” Singh says, “for what better than to have the pillars as landmark? All shops have done this now.”
Sushil Chadda, another shopkeeper, says the locals earlier indicated Shadipur Depot or the post office as landmarks. But it was confusing, and the numbering system isn’t always in order. The serial numbers on pillars are a foolproof way.
On Shahdara line, near Pitampura in West Delhi, Rajiv Yadav, a watchman, knows how to direct the police patrol to a crime spot. Earlier, the police would get confused and keep going around the area, he says, but a couple of months ago, when a chain snatching occurred his block, he called the police in, indicating the Metro pillar numbers.
“Right across are pillars 319 and 320,” he says. And the police response was prompt.

लाखों यात्रियों को रोज अपनी मंजिल तक पहुंचाने वाली मेट्रो के साथ कॉरिडोर पर बने पिलरों पर अंकित नंबर भी अब अनजान मुसाफिरों को गंतव्य तक पहुंचने का सहारा बनते जा रहे हैं। कई इलाकों में कॉरिडोर के नजदीक रहने वाले डॉक्टर, वकील, मिठाई वाले, टेंट हाउस आदि के मालिकों ने अपने विजिटिंग कार्ड पर मेट्रो के इन पिलर नंबर को बतौर पहचान अंकित कर रखा है।खासतौर पर राजधानी वासी दूसरे शहरों से आने वाले अपने मित्रों व रिश्तेदारों को आसानी से उन तक पहुंचने के लिए पिलर नंबर बता रहे हैं, जिससे ये मेहमान मेट्रो के पिलर नंबर की बदौलत अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं और उन्हें ज्यादा भटकने की जरूरत नहीं पड़ती।
इसके अलावा लोगों ने कूरियर व
...
more...
डाक से भेजे जाने वाले अपने पत्रों पर पिलर नंबर को लैंडमार्क की तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। पंचकुइयां से द्वारका रूट पर बने पिलर के नंबरों को कॉरिडोर के पास रहने वालों ने अपनी दुकान, प्रतिष्ठान और यहां तक कि ऑफिस के पते में शामिल कर लिया है। इसी तरह लक्ष्मीनगर, (विकास मार्ग) कुतुब मीनार (हुडा सिटी सेंटर का रूट) पर कॉरिडोर के नजदीक रहने वाले डॉक्टर-वकीलों ने भी अपने बोर्ड पर पिलर नंबर को प्रमुखता से लिखवा रखा है। राजधानी को नई पहचान देने वाले पिलर नंबरों पर खुश होते मेट्रो प्रवक्ता कहते हैं कि ट्रेन के साथ ही पिलर नंबर दिल्ली की नई पहचान बन गए हैं। कॉरिडोर के नजदीक रहने वाले लोगों ने पिलर नंबर को लैंडमार्क की तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इससे अनजान लोग भी नंबरों के सहारे सही पते पर पहुंच जाते हैं।
इंटरचेंज मेट्रो स्टेशनों पर एंबुलेंस सर्विस सेवा शुरू :
मेट्रो में चलने वाले आम लोगों की सुविधा के लिए तीन स्टेशनों पर ‘एंबुलेंस और फस्र्ट एड कीऑस्क’ की सुविधा बड़े अस्पताल ने मुहैया करानी शुरू कर दी है। राजीव चौक, कश्मीरी गेट और केंद्रीय सचिवालय स्टेशन में सुबह आठ से रात दस बजे तक इमरजेंसी सर्विस के लिए एंबुलेंस खड़ी रहेगी।
शुक्रवार शाम को केंद्रीय सचिवालय स्टेशन में स्वास्थ्य सचिव अंशु सिंगल ने एंबुलेंस सर्विस का उद्घाटन किया। इस मौके पर एंबुलेंस मुहैया कराने वाले मैक्स अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ. परवेज अहमद ने कहा मेट्रो के साथ मिलकर अस्पताल प्रबंधन ने आम लोगों की सेवा के लिए कदम उठाया है।
स्टेशन या ट्रेन में इमरजेंसी के दौरान यात्री की जान बचाने के लिए एंबुलेंस में हर प्रकार की सुविधा मौजूद है। ‘कीऑस्क’ में डॉक्टर के अलावा नर्स भी ट्रेंड तैनात की जा रही हैं जो किसी भी प्रकार की इमरजेंसी में पीड़ित की मदद कर सके। एंबुलेंस के जरिए पीड़ित को पास के अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site