Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
 
Fri Jul 29, 2016 03:50:23 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Fri Jul 29, 2016 03:50:23 IST
Modify Search
Trains in the News    Stations in the News   
Page#    261977 news entries  <<prev  next>>
  
Yesterday (7:17PM)  Indian Railways working on a multi pronged strategy for a high speed travel in the country (pib.nic.in)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 275219   Blog Entry# 1944407     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  119730 news posts
High Speed Train between Mumbai Ahmedabad Corridor already sanctioned and under implementation

Other high speed corridors along the diamond quadrilaterals are under exploration

Semi-High Speed Train between Delhi – Agra called
...
more...
Gatimaan Express already started

8 More semi-high speed corridors are under study

Indian Railways working on a proposal to acquire modern EMU Train Sets for improved average speed

Field trails are underway with Spanish Talgo Train for saving substantial travel time

Mission Raftaar launched to work towards increasing speed of existing trains in Indian Railways

Process is on for introducing faster trains Tejas as announced in the Railway Budget

Indian Railways is working on a multi pronged strategy for running of high speed trains (with a speed of 300 kmph+), semi high speed trains (with a speed of 160 kmph+ - 200kmph), running of existing trains with increased speeds and introduction of faster trains and faster train sets.
A high speed train (300 kmph+) has already been sanctioned on Mumbai – Ahmedabad high speed corridor with financial and technical assistance from Government of Japan. This train is based on Japanese Shinkansen high speed technology. A company for the implementation of this project with the name “National High Speed Rail Corporation Limited” has already been formed. The implementation of this project has already begun and is now targeted for commissioning in 2023-24. The study for this high speed train popularly referred to as Bullet Train has been done by JICA. Government of Japan is providing financial assistance in the form of loan upto 81% of the project cost at a very nominal interest rate of 0.1% per annum to be repaid in 50 years with a 15 year moratorium.
In addition to Mumbai – Ahmedabad high speed (300 kmph+) corridor, five more corridors covering sides of diamond quadrilaterals and semi diagonals in the country are being explored and Consultants have been appointed to undertake feasibility studies as per details given below : -

S.N
High Speed Corridor
Consultants undertaking feasibility study
1
Delhi-Mumbai
Consortium of M/s. The Third Railway Survey and Design Institute Group Corporation (Chinese Consultant) and Lahmeyer International (India) Private Limited, India. Interim report 1 received. Interim report 2 expected in November, 2016. Final Report expected in January, 2017.
2
Mumbai-Chennai
Consortium of M/s. SYSTRA (French Consultants), RITES and Ernst and Young LLP. Interim report 1 received. Interim report 2 expected in November, 2016. Final Report expected in January, 2017.
3
Delhi-Kolkata
Consortium of M/s. INECO- M/s. TYPSA- M/s. Intercontinental Consultants and Technocrats Private Limited (Spanish Consultants). Interim report 1 & 2 received. Final Report expected in January, 2017.
4
Delhi-Nagpur
Government to Government cooperation with Chinese Railway Company. Inception report received.
5
Mumbai-Nagpur
Government to Government cooperation with Spanish Railway companies. Interim report 1 received. Interim report 2 expected in November, 2016. Final Report expected in January, 2017.

Railways has also taken up a programme of running of semi high speed trains (160 kmph+ - 200kmph) in a big way. It has already started running such a train with the name Gatimaan Express between Hazrat Nizammuddin to Agra Cantt Station w.e.f. 05.04.2016 with a maximum speed of 160 kmph. In addition to this Delhi –Agra semi high speed corridor, Indian Railways have also identified eight more corridors for feasibility of semi high speed rail, Zone wise details are as under:

S.N
Corridor
Zonal Railways
Status
1
Delhi-Chandigarh
Northern
Feasibility-cum implementation study awarded to SNCF (France) on cost sharing basis.
2
Chennai-Bengaluru-Mysore
Southern, South Western
Feasibility Study for upgradation of speed awarded to ERYUAN Group of Chinese Railways at their cost.
3
Delhi-Kanpur
Northern, North Central


Quantum of Technical inputs required for upgradation of speed to 160 Kmph have been identified by the concerned Zonal Railways and KONKAN Railway.
4
Nagpur-Bilaspur
South East Central
5
Mumbai-Goa
Central, South Western, Konkan Railway
6
Mumbai-Ahmedabad
Western
7
Chennai- Hyderabad
Southern, South Central
8
Nagpur - Secunderabad
Central, South Central

Indian Railways is also currently undertaking field trials for assessing savings in transit time by using special type Spanish Talgo Coaches on existing New Delhi-Mumbai corridor. These are faster trains which may run at around 200 kmph.
Indian Railways is also working on a proposal to acquire modern electrical EMU train sets which will have a good average speed thereby saving travel time substantially.
With a view to increasing speed of existing trains in Indian Railways, ‘Mission Raftaar’ has been announced in the Railway Budget 2016-17. The mission envisages a target of doubling of average speed of freight trains and increasing the average speed of all non-suburban passenger trains by 25 kilometre per hour (kmph) in next 5 years. The present level of average speeds in Indian Railways for non-suburban passenger trains is 46.3 kmph and for freight trains the average speeds is 24.2 kmph. In order to implement this, a cross-functional mission directorate has been created in Railway Board.
Action Plan for improving mobility and increasing average speed of trains, inter-alia, includes removal of speed restrictions, construction of road over bridges (ROBs) and road under bridges (RUBs), right powering of trains, introduction of twin-pipe brake system in wagons, and replacement of conventional loco hauled commuter trains by Main Line Electric Multiple Unit (MEMU) and Diesel Electric Multiple Unit (DEMU) trains.
Some of the important achievements in mobility improvement in Indian Railways are;
o Two pairs of trains between Kanpur-Allahabad section, and one pair of MEMU train between Asansol-Dhanbad section in place of conventional loco hauled passenger trains have already been introduced.
o Two more pairs of trains have been scheduled for switch over to MEMU in Allahabad-Mughalsarai section in July 2016.
o Mobility study of high density Ghaziabad-Allahabad-Mughalsarai section completed. Short term Action Plan under implementation.
o Introduction of twin-pipe brake system in freight trains approved in-principle for implementation in all freight stocks. This will result in faster application and release of brake system consequent increase in speed of freight trains.
o Action Plan for Right powering of freight trains is being worked out. Optimum horse power to trailing load ratio will speed up freight trains and reduce transit time, directly benefitting the customers.
o Removal of Level Crossing Gates for achieving faster speed and improved safety for 2787 level crossing gates targeted for removal in 2016-17.
Besides above mentioned measures, Ministry has also announced introduction of faster train services like TEJAS which requires minimal technological inputs and aims at attaining speeds above 130 kmph.
*******


(Release ID :147877)

3 posts - Yesterday - are hidden. Click to open.

  
108 views

Enter ChatRoom
You need to be logged in to enter ChatRooms. Please click here to sign up.
Today (12:41AM)
For Better Managed Indian Railways~   294 blog posts
Re# 1944407-4            Tags   Past Edits
This feature shows the full history of past edits to this Blog Post.
On routes where not more than 200 ac coaches not being operated daily, there will not be enough traffic to justify investment in High speed trains.
In order to make HST successful daily passengers of the order of 1 lac per day is required on the route. That quantum of passengers is possible only on a few routes in India and that too only if Middle class and to some extent lower middle class people could afford the HST fares.
With Govt especially the present one,drastically increasing the taxes, the purchasing power of
...
more...
Middle & lower middle class is eroding very fast. It is very unlikely that they will be able to afford the high BT fares. Govt need to give tax relief to these classes to increase their purchasing power else that bullet train will incur heavy operational losses. To reduce it
(1) use of many technical/operational/ financial/commercial innovations/ latest management practices/ efficient ERP cutting edge office & site technologies and automation for cutting operational costs
(2) increasing revenues without keeping high fares by increasing number of seats/ coach like double-decker coach,
(3) automation of operations,
(3) low cost indigenous production of rakes, track consumables and materials
(4) Extensice Commercial utilisation of station/ rly properties
(5) Creation of high-end townships/ high tech-R&D center clusters for emerging fieldslike IT, ITeS, Pharma, Argro, Biotech, Electronic H/W etc along the route
(6) Levy of surcharge on the property & property deals in catchment areaof BT route
(7)State & CentralGovt shelling out money in lieu of other economic benefits derived bie the nation/ statefro Bullet trains etc have to be resorted to
(8) IRlys shelling out money in lieu of benefits derived through abssorption of advanced and cost effective BT technology wit hrespect to track and moving assets.
(9) Eliminating concessional/ free travel.
  
Yesterday (7:14PM)  हापुड़-खुर्जा के बीच बंद होंगे सभी मानव रहित फाटक (www.amarujala.com)
back to top
Other NewsNR/Northern  -  

News Entry# 275218     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (7:14PM)
Station Tag: Khurja Junction/KRJ added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:14PM)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:14PM)
Station Tag: Hapur Junction/HPU added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
भदोही जिले में दो दिन पहले मानव रहित रेलवे फाटक से गुजरते समय स्कूली वैन के पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आने से आठ स्कूली बच्चों की मौत से रेल मंत्रालय सतर्क हो गया है।
रेल प्रबंधन ने इस संबंध में गाइड लाइन जारी कर वर्ष 2017 के अंत तक मुरादाबाद मंडल के ऐसे सभी फाटकों को बंद करने का निर्णय लिया है। इसमें हापुड़-मुरादाबाद और हापुड़-खुर्जा के बीच पड़ने वाले एक दर्जन फाटक भी शामिल हैं। इससे रेलवे फाटक पर होने वाले हादसों में कमी आएगी।
मानव रहित फाटकों पर इस प्रकार
...
more...
के हादसों को रोकने के लिए रेल मंत्रालय ने नई गाइड लाइन जारी की है। इसमें स्पष्ट कहा गया है कि दिसंबर वर्ष 2017 तक रेल मंडलों में पड़ने वाले मानव रहित फाटकों को बंद किया जाए।
इन फाटकों पर अंडरपास या फिर गेटमैनों की तैनाती की जाए, ताकि हादसों में कमी आ सके। मुरादाबाद मंडल के मॉडल स्टेशन हापुड़ क्षेत्र में करीब एक दर्जन मानव रहित फाटक हैं, जिन पर भी आए दिन हादसों की आशंका बनी रहती है।
इस गाइड लाइन के बाद इन फाटकों के बंद करने की तैयारी शुरू हो गई है। रेलवे सूत्रों का कहना है कि जिन मानव रहित फाटकों पर आवागमन कम है, वहां अंडरपास बनाए जाएंगे। इसके लिए प्रपोजल तैयार किया जा रहा है।
इसके बाद मंडल के उच्चाधिकारियों को भेजा जाएगा। उधर, इस बाबत मुरादाबाद मंडल के डीआरएम प्रमोद कुमार का कहना है कि जल्द ही मानव रहित फाटकों को बंद किया जाएगा।
भदोही में रेल हादसे के कारण आठ स्कूली बच्चों की मौत का मामला पहला नहीं है। हापुड़ के चमरी में स्थित मानव रहित फाटक पर करीब दस साल पहले एक्सप्रेस ट्रेन से टकराकर ट्रैक्टर-ट्रॉली के परखच्चे उड़ गए थे। हालांकि इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ था।
  
Yesterday (7:12PM)  रेलवे स्मार्ट कार्ड ने ‌ट‌िकट न‌िकाले, पैसे लेना भूल गया (www.amarujala.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 275217     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (7:12PM)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:12PM)
Station Tag: Meerut City Junction/MTC added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:12PM)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
स्मार्ट कार्ड से टिकट खरीदने की सुविधा ने रेलवे को दो करोड़ का झटका दिया है। रेलवे की ओर से जारी किए स्मार्ट कार्ड से यात्रियों ने टिकट वेंडिंग मशीन के जरिए टिकट खरीदे, लेकिन मशीन ने स्मार्ट कार्ड से रुपये डिडक्ट नहीं किए। लिहाजा रेलवे को दो करोड़ का चूना लग गया। रेलवे को दिल्ली मंडल में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ तो मुरादाबाद मंडल में सबसे कम।
जब रेलवे के खाते में टिकट बिक्री की रकम नहीं पहुंची तो चेकिंग कराई गई। चेकिंग में सारा मामला खुलकर सामने आ गया। अब इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी है।
लगभग
...
more...
दो साल पहले रेलवे ने मेट्रो रेल की तर्ज पर स्मार्ट कार्ड की सुविधा शुरू कई थी। स्मार्ट कार्ड से यात्री बिना लाइन में लगे टिकट वेंडिंग मशीन के जरिए टिकट ले सकते हैं। टिकट मिलने के साथ ही कार्ड से पैसे कट जाते हैं। इस व्यवस्था को रेलवे का तकनीकी विभाग क्रिस (सेंट्रल रेलवे इनफार्मेशन सिस्टम) संभाल रहा है।
सिस्टम तो लागू कर दिया गया, लेकिन रेलवे इसकी देखभाल करना भूल गया। नतीजा ये रहा कि टिकट वेंडिंग मशीन ने यात्रयिों को टिकट तो बांट दिए, लेकिन उनसे पैसा नहीं लिया। जब पैसे ही नहीं कटे तो लोगों ने कार्ड रीचार्ज कराने की भी जरूरत नहीं समझी। काफी समय से ऐसे ही चल रहा था।
जिससे रेलवे को करोड़ों रुपये का नुकसान ज्यादा रहा। सबसे ज्यादा नुकसान दिल्ली में हुआ। मुरादाबाद मंडल में यह सुविधा केवल तीन ही स्टेशनों पर थी। इन तीनों स्टेशनों से कुल मिलाकर 61 हजार 445 रुपये के टिकट बिना भुगतान के ही बिक गए। सबसे कम मेरठ स्टेशन पर नुकसान हुआ। वहां केवल 40 रुपये के ही टिकट लुटे।
  
Yesterday (7:10PM)  खुर्जा-मेरठ पैसेंजर बंद, यात्री परेशान (www.amarujala.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 275216   Blog Entry# 1944356     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (7:10PM)
Station Tag: Bulandshahr/BSC added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:10PM)
Station Tag: Meerut City Junction/MTC added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:10PM)
Station Tag: Khurja Junction/KRJ added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:10PM)
Train Tag: Meerut City Khurja Passenger/54404 added by Subhash/746156

Jul 28 2016 (7:10PM)
Train Tag: Khurja Meerut Passenger/54403 added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
रेलवे ने बुधवार से दो खुर्जा-मेरठ पैसेंजर ट्रेनों का आगामी आदेश तक आवागमन बंद कर दिया है। इसके चलते हजारों यात्री परेशान रहे। स्टेशन पर पहुंचे यात्री ट्रेन के न पहुंचने पर बसों और अन्य वाहनों से अपने गंतव्य की ओर रवाना हुए।
बता दें कि एक पैसेंजर ट्रेन (54403) खुर्जा से मेरठ के लिए चलती है और वह बुलंदशहर में दोपहर बाद 12.45 बजे पहुंचती है। इसी तरह दूसरी पैसेंजर ट्रेन (54404) मेरठ से खुर्जा के लिए चलती है, जो बुलंदशहर स्टेशन पर दोपहर बाद 13.45 बजे पहुंचती है।
मगर बुधवार स्टेशन
...
more...
इंचार्ज को रेलवे विभाग का आदेश प्राप्त हुआ कि यह दोनों ट्रेनों का आगामी आदेश तक आवागमन नहीं होगा। दोनों ट्रेनों में यात्रा करने वाले यात्री समय पर स्टेशन पर पहुंच गए और जब उन्हें पता चला कि ट्रेनों का आवागमन बंद हो गया है तो वह मायूस दिखाई दिए।
इसके बाद वह स्टेशन से लौटे और बसों व अन्य वाहनों से अपने गंतव्य की ओर रवाना हुए। यात्री प्रवेश कुमार, मनीष, ममता, कृष्णा और सरोज का कहना था कि ट्रेन बंद होने से अब उन्हें अधिक किराया देना होगा, जबकि ट्रेन का किराया बसों के किराए से बहुत कम है। इससे उनकी जेब भी ढीली होगी।
विभागीय आदेश प्राप्त हुआ कि कि खुर्जा से मेरठ और मेरठ से खुर्जा को चलने वाली दोनों ट्रेनों का आगामी आदेश तक आवागमन बंद रहेगा। ट्रेनों का आवागमन बंद होने संबंधित कोई कारण नहीं दर्शाया गया है। विभाग से जो भी आगे आदेश मिलेगा तो उसकी जानकारी स्टेशन के नोटिस बोर्ड पर चस्पा कर दी जाएगी। - मकबूल खां, स्टेशन इंचार्ज, बुलंदशहर

  
636 views

Enter ChatRoom
You need to be logged in to enter ChatRooms. Please click here to sign up.
Yesterday (7:10PM)
Subhash   171 blog posts   2 correct pred (100% accurate)
Re# 1944356-1            Tags   Past Edits
This feature shows the full history of past edits to this Blog Post.
LE DE KAR GINTI KI TRAIN THIN BULANDSHAHR K LIYE, RAILWAY NE UNHE BHI BAND KAR DI...
  
Yesterday (7:03PM)  भारतीय रेल देश में हाई स्पीड सफर के लिए बहु-कोणीय रणनीति बना रही है (pib.nic.in)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 275215     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  119730 news posts
हाई स्पीड मुम्बई-अहमदाबाद गलियारा स्वीकृत और क्रियान्वयन के तहत

हीरक चतुर्भुज के संबंध में अन्य हाई स्पीड गलियारों का आकलन

दिल्ली-आगरा के बीच सेमी-हाई स्पीड गतिमान एक्सप्रेस चालू
...
more...

8 अन्य सेमी-हाई स्पीड गलियारों का अध्ययन जारी

संशोधित औसत गति के लिए आधुनिक ईएमयू गाड़ियों के संबंध में भारतीय रेल द्वारा प्रस्तावों पर विचार

यात्रा समय में कमी लाने के लिए स्पेन की टेलगो ट्रेन के साथ परीक्षण जारी

मौजूदा गाड़ियो की गति बढ़ाने के लिए मिशन रफ्तार शुरू

रेल बजट की घोषणा के अनुरूप तेज गति की तेजस गाड़ियां चलाने की प्रक्रिया जारी

भारतीय रेल हाई स्पीड रेल गाड़ी (300 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक गति), सेमी-हाई स्पीड रेल गाड़ी (160 किलोमीटर प्रतिघंटा + से 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति), मौजूदा गाड़ियों की गति बढ़ाने और तेज गति की गाड़ियां चलाने के संबंध में बहु-कोणीय रणनीति पर काम कर रही है।

मुम्बई-अहमदाबाद हाई स्पीड गलियारे के लिए जापान के वित्तीय और तकनीकी सहयोग से एक हाई स्पीड रेल गाड़ी (300 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक गति) को स्वीकृति दे दी गई है। यह गाड़ी जापानी शिनकानसेन हाई स्पीड प्रौद्योगिकी पर आधारित है। इस परियोजना को पूरा करने के लिए ‘नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड’ नामक एक कंपनी बनायी गई है। इस परियोजना का कार्यान्वयन हो रहा है और वर्ष 2023-24 में इसे चालू करने का लक्ष्य रखा गया है। इस तरह की हाई स्पीड रेल गाड़ी को आमतौर पर बुलेट ट्रेन के रूप में जाना जाता है और इसका अध्ययन जेआईसीए द्वारा किया जा चुका है। परियोजना के लिए जापान सरकार ऋण के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान कर रही है। इस सहायता के तहत परियोजना लागत का 81 प्रतिशत जापान सरकार ऋण प्रदान करेगी, जिस पर 0.1 प्रतिशत प्रतिवर्ष के हिसाब से मामूली ब्याज देय होगा। इस ऋण को 50 वर्षों में चुकाया जाना है। चुकाने की प्रक्रिया 15 वर्षों के बाद शुरू होगी।

मुम्बई-अहमदाबाद हाई स्पीड गलियारे (300 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक गति) के अलावा हीरक चतुर्भुजीय और अर्ध-कोणीय क्षेत्रों के संबंध में 5 अन्य गलियारों की संभावना खोजी जा रही है। इसके संबंध में अध्ययन के लिए सलाहकारों को नियुक्त किया गया है। इसका ब्यौरा इस प्रकार है : -

क्र.स.
हाई स्पीड गलियारा
व्यवहार्यता अध्ययन के लिए सलाहकार
1
दिल्ली – मुम्बई
मैसर्स दी थर्ड रेलवे सर्वे एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट ग्रुप कॉरपोरेशन (चीनी सलाहकार) और लेहमेयर इंटरनेशनल (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, भारत का संकाय। अंतरिम रिपोर्ट-1 प्राप्त। अंतरिम रिपोर्ट-2 नवम्बर, 2016 में अपेक्षित। अंतिम रिपोर्ट जनवरी, 2017 में अपेक्षित।
2
मुम्बई - चेन्नई
मैसर्स सिस्ट्रा (फ्रांसीसी सलाहकार), राइट्स और अर्नस्ट एंड यंग एलएलपी का संकाय। अंतरिम रिपोर्ट-1 प्राप्त। अंतरिम रिपोर्ट-2 नवम्बर, 2016 में अपेक्षित। अंतिम रिपोर्ट जनवरी, 2017 में अपेक्षित।
3
दिल्ली - कोलकाता
मैसर्स आईएनसीओ-मैसर्स टीवाईपीएसए – मैसर्स इंटरनेशनल कंस्लटेंट्स एंड टेक्नोक्रेट्स प्राइवेट लिमिटेड (स्पेनी सलाहकार) का संकाय। अंतरिम रिपोर्ट-1 और 2 प्राप्त। अंतिम रिपोर्ट जनवरी, 2017 में अपेक्षित।
4
दिल्ली - नागपुर
चीनी रेलवे कंपनी के साथ सरकार से सरकार के बीच सहयोग। शुरूआती रिपोर्ट प्राप्त।
5
मुम्बई - नागपुर
स्पेनी रेलवे कंपनियों के साथ सरकार से सरकार के बीच सहयोग। अंतरिम रिपोर्ट-1 प्राप्त। अंतरिम रिपोर्ट-2 नवम्बर, 2016 में अपेक्षित। अंतिम रिपोर्ट जनवरी, 2017 में अपेक्षित।

रेलवे ने सेमी-हाई स्पीड रेल गाड़ियां (160 किलोमीटर प्रतिघंटा + से 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति) चलाने का बड़े पैमाने पर कार्यक्रम तैयार किया है। उल्लेखनीय है कि हजरत निजामुद्दीन से आगरा कैंट स्टेशन के बीच 160 किलोमीटर प्रतिघंटा अधिकतम गति वाली गतिमान एक्सप्रेस को 5 अप्रैल, 2016 से शुरू कर दिया गया है। दिल्ली - आगरा सेमी–हाई स्पीड गलियारे के अलावा 8 अन्य सेमी-हाई स्पीड गलियारों की पहचान की जा रही है, जिसका ब्यौरा इस प्रकार है : -

क्र. स.
गलियारा
जोनल रेलवे
स्थिति




1
दिल्ली - चंडीगढ़
उत्तरी
लागत साझा आधार पर सीएनसीएफ (फ्रांस) को व्यवहार्यता सह कार्यान्वयन अध्ययन सौंपा गया।
2
चेन्नई – बैंग्लुरू - मैसूर
दक्षिणी, दक्षिण - पश्चिमी
चीनी रेलवे के ईआरवाईयूएएन ग्रुप को उनकी लागत पर गति उन्नयन के लिए व्यवहार्यता अध्ययन सौंपा गया।
3
दिल्ली - कानपुर
उत्तरी, उत्तर - मध्य


संबंधित जोनल रेलवे और कोंकण रेलवे ने 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति बढ़ाने की निशानदेही की है, जिसके लिए तकनीकी इनपुट्स आवश्यक हैं।
4
नागपुर - बिलासपुर
दक्षिण पूर्व मध्य
5
मुम्बई - गोवा
मध्य, दक्षिण - पश्चिमी, कोंकण रेलवे
6
मुम्बई - अहमदाबाद
पश्चिमी
7
चेन्नई - हैदराबाद
दक्षिणी, दक्षिण मध्य
8
नागपुर- सिकंदराबाद
मध्य, दक्षिण मध्य
मौजूदा नई दिल्ली – मुम्बई गलियारे के संबंध में यात्रा समय बचाने के उद्देश्य से भारतीय रेल स्पेनी टेलगो कोचों के इस्तेमाल पर परिक्षण कर रही है। ये तेज रफ्तार की गाड़ियां होंगी जो लगभग 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलेंगी।

भारतीय रेल बिजली से चलने वाली आधुनिक ईएमयू गाड़ियों को प्राप्त करने के प्रस्ताव पर भी काम कर रही है, जिनकी बेहतर औसत रफ्तार से यात्रा समय में काफी कमी आ जाएगी।

भारतीय रेल की मौजूदा गाड़ियों की गति बढ़ाने के संबंध में रेल बजट 2016-17 में मिशन रफ्तार की घोषणा की गई थी। इस मिशन के तहत अगले पांच सालों में माल गाड़ियों की औसत रफ्तार को दोगुना करने और गैर-शहरी पैसेंजर गाड़ियों की औसत रफ्तार में 25 किलोमीटर प्रतिघंटा तक का इजाफा करने का लक्ष्य रखा गया है। उल्लेखनीय है कि इस समय गैर-शहरी पैसेंजर गाड़ियों की औसत रफ्तार 46.3 किलोमीटर प्रतिघंटा और माल गाड़ियों की औसत रफ्तार 24.2 किलोमीटर प्रतिघंटा है। इसके क्रियान्वयन के लिए रेलवे बोर्ड में एक बहु-उद्देशीय मिशन निदेशालय गठित किया गया है।

गाड़ियों की औसत रफ्तार बढ़ाने और उनकी गतिशीलता में सुधार के लिए कार्य योजना तैयार की गई है। इसमें गति बाध्यताओं को दूर करना, पुलों के ऊपर (आरओबी) और पुलों के नीचे (आरयूबी) सड़क बनाना, गाड़ियों की सही शक्ति, वैगनों में ट्विन-पाइप ब्रेक प्रणाली लगाना, गाड़ियों की पारंपरिक लोको प्रणाली की जगह मेन लाइन इलेक्ट्रीक मल्टीपल यूनिट (एमईएमयू) और डीजल इलेक्ट्रीक मल्टीपल यूनिट (डीईएमयू) की शुरूआत करना शामिल है।

भारतीय रेल में गतिशीलता सुधार की कुछ प्रमुख उपलब्धियां इस प्रकार हैं : –
· पारंपरिक लोको चालित पैसेंजर गाड़ियों की जगह कानपुर-इलाहाबाद सेक्शन में दोतरफा और आसनसोल-धनबाग सेक्शन में एक जोड़ा एमईएमयू गाड़ी की शुरूआत की जा चुकी है।
· इलाहाबाद-मुगलसराय में दो अन्य युगल गाड़ियों को जुलाई, 2016 में एमईएमयू में बदलने का कार्यक्रम तय।
· भारी यातायात वाले गाजियाबाद-इलाहाबाद-मुगलसराय सेक्शन का गतिशीलता अध्ययन पूरा। अल्पकालीन कार्य योजना क्रियान्वयन के तहत।
· सभी मालगाड़ियों के लिए ट्विन-पाइप ब्रेक प्रणाली के क्रियान्वयन को सैद्धांतिक मंजूरी। इस प्रणाली से ब्रेक आसानी और कारगर तरीके से काम करता है और माल गाड़ियों की गति दुरुस्त रहती है।
· माल गाड़ियों की सही शक्ति के लिए कार्य योजना बनायी जा रही है। माल से लदे डिब्बों को खींचने के लिए आदर्श हार्सपावर से माल गाड़ियों की गति बढ़ेगी और यातायात समय में कमी आयेगी। इससे ग्राहकों को सीधा फायदा होगा।
· तेज गति के लिए रेलवे क्रासिंगों को हटाना और 2787 रेलवे क्रासिंगों की सुरक्षा में सुधार करना उपलब्धियों में शामिल है। वर्ष 2016-17 तक इन्हें हटाने का लक्ष्य रखा गया है।

उपरोक्त उपायों के अलावा रेल मंत्रालय ने तेजस जैसी तेज रफ्तार गाड़ियों को चलाने की घोषणा की है। इन गाड़ियों की गति 130 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक रखने का लक्ष्य है और इसके लिए न्यूनतम प्रौद्योगिकीय इनपुट्स की आवश्यकता है।
***
एकेपी/सीएस-3700

(Release ID 53280)
  
दिल्लीअब बल्लभगढ़ के करीब आनी शुरू हो गई है। वाईएमसीए-बल्लभगढ़ के बीच चल रहे मेट्रो विस्तार कार्य के तहत मंगलवार को दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) के अधिकारियों की देखरेख में पूजन विधि के साथ पहला ‘यू गर्डर’ रखा गया। दूसरा ‘यू गर्डर’ बुधवार शाम को रखा गया। 3.4 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक पर 110 पिलरों पर 220 ‘यू गर्डर’ रखे जाने हैं। डीएमआरसी के सहायक प्रबंधक सुधीर कुमार का मानना है कि जून 2017 से पहले ही यह काम पूरा हो जाएगा। बनाए जा रहे एनबीसी और बल्लभगढ़ मेट्रो स्टेशन का 50 फीसदी कार्य भी पूरा हो चुका है। बकाया काम में अब ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। वॉयलेट लाइन के रूप में बल्लभगढ़ से मेट्रो सीधे मंडी हाउस तक चलेगी। बल्लभगढ़ से दिल्ली जाने वाले 50 हजार से दैनिक कामकाजी लोगों को इसका प्रत्यक्ष रूप से फायदा मिलेगा।
17पियर
...
more...
कैप लग चुके
मेट्रोप्रोजेक्ट के तहत 17 पियर कैप लग चुके हैं। 110 पिलर में से 78 पिलर का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। वाईएमसीए-बल्लभगढ़ के बीच जमीन का कुछ टुकड़ा अभी विवादित हैं, वह निपटा नहीं है। हुडा विभाग के अधिकारी इस विवाद को सुलझाने के लिए तेजी से प्रयासरत है। हुडा प्रशासक डा. प्रियंका सोनी ने बुधवार को भी प्राेजेक्ट लाइन का निरीक्षण किया था। डीएमआरसी के साथ एग्जीक्यूटिंग कंपनी एलएंडटी अगले एक सप्ताह में 17 ‘यू गर्डर’ रखने का काम पूरा कर लेगी। ‘यू गर्डर’ रखने के लिए कालिंदी कुंज मेट्रो प्रोजेक्ट से 400 टन क्षमता वाली क्रेन यहां मंगवाई गई थी। ‘यू गर्डर’ रखने का कार्य डीएमआरसी के प्रोजेक्ट मैनेजर टीके भौसले, सहायक इंजीनियर सुधीर कुमार, सुनील राठौर की देखरेख में चल रहा है।
फरीदाबाद. वाईएमसीएसे बल्लभगढ़ तक मेट्रो लाइन के लिए बुधवार को दो यू गर्डर रखे गए।
वाॅयलेट लाइन एक नजर में
{38किलोमीटर : मंडी हाउस से बल्लभगढ़ तक। {वॉयलेट लाईन की शुरुआत केंद्रीय सचिवालय से बदरपुर-बॉर्डर तक हुई थी। {वॉयलेट लाईन को मंडी हाउस तक बढ़ाया गया। {इसे विस्तारित करके मंडी हाउस से आईटीओ बढ़ाया गया। {इसी बीच बदरपुर-बॉर्डर से फरीदाबाद के बीच वाईएमसीए (एस्कोटर्स मुजेसर) तक विस्तारित किया। {6 सितंबर 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बदरपुर-वाईएससीए मेट्रो का शुभारंभ किया था। {3 लाख लोग रोजाना इसमें सफर करते हैं। { अब वाईएमसीए से बल्लभगढ़ तक इसके विस्तारण का कार्य चल रहा हैं।
यू गर्डर की खासियत
{पिलरकी ऊंचाई 11 मीटर
{यू गर्डर की लंबाई 26 मीटर
{यू गर्डर की चौड़ाई 5 मीटर
{प्रति गर्डर वजन 160 टन
मेट्रो प्रोजेक्ट पर एक नजर
{पहलास्टेशन एनसीबी/गुडईयर चौक
{दूसरा स्टेशन बल्लभगढ़
{लंबाई 3.4 किलोमीटर
{कुल लागत 678 करोड़ रुपए।
{यू गार्डर 220
{पिलर 110
{पियर कैप बिछाए गए 17
प्लेटफार्म की पहली मंजिल तक काम पूरा
बल्लभगढ़मेट्रो स्टेशन पर पहली दो मंजिल बनकर तैयार हो गई है। इसके बाद डवलपमेंट के लिए अन्य मंजिलों पर काम शुरू हो गया है। इसी तरह गुडईयर मेट्रो स्टेशन का सिविल कार्य भी 50 फीसदी हो चुका है।
मेट्रो पर यू गर्डर रखने के चलते डीएमआरसी की तरफ से हाईवे पर बनाई गई सर्विस रोड को मंगलवार सुबह से ही बंद कर दिया गया है। जब तक यह काम पूरा नहीं हो जाता, सर्विस रोड बंद रहेगी। डीएमआरसी की सुरक्षा टीम के सदस्य लोगों को एहतियात के साथ चलने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, ताकि किसी तरह की दुर्घटना घटित हो।
^डीएमआरसी के लिए यह बड़ी उपलब्धि है कि कुशलता के साथ दो यू गर्डर रखे गए। प्रोजेक्ट पर यू गर्डर एलाइनमेंट का काम करते हैं। हमारा लक्ष्य है कि जून 2017 से पहले ही काम पूरा कर लें। दिल्ली अब धीरे-धीरे बल्लभगढ़ के निकट रही है। -सुधीर कुमार, सहायक प्रबंधक, डीएमआरसी।
  
Yesterday (6:51PM)  रेलवे स्टेशन परिसर से काटे 50 साल पुराने नीम के पेड़ (www.bhaskar.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 275213     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (6:51PM)
Station Tag: Panipat Junction/PNP added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
पानीपत | पानीपतरेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 2 3 के बीच खड़े 50-50 साल से भी ज्यादा पुराने नीम के पेड़ काटे गए। पेड़ काटने के दौरान दिल्ली से अम्बाला जाने वाली लाइन की पावर भी 1 घंटा तक बंद रखी गई। रेलवे अधिकारियों ने बताया कि पेड़ बहुत पुराने हो चुके हैं। उनके तने भी खोखले हो चुके हैं। ये पेड़ आंधी-तूफान के मौसम में टूटकर ओएचई लाइनों पर गिर सकते हैं। सुरक्षा के मद्देनजर इन्हें मंडल के उच्चाधिकारियों से इजाजत लेकर काटा गया है। कम ऊंचाई वाले पौधों की सिर्फ छंटाई की है। जो पेड़ काटे गए हैं, उनकी जगह नए पेड़ लगवाए जाएंगे।
पानीपत. रेलवेस्टेशन पर काटा पेड।
  
Yesterday (6:50PM)  रेलवे नियम तोड़ने के आरोप में 2 वेंडर 14 यात्री पकड़े (www.bhaskar.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 275212     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (6:50PM)
Station Tag: Panipat Junction/PNP added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
पानीपत| आरपीएफकी टीम ने ट्रेनों स्टेशन परिसर में रेलवे नियम तोड़ने के आरोप में 2 वेंडरों 14 यात्रियों को पकड़ा। दिनभर चलाए अभियान में यात्रियों को रेलवे नियमों का पालन करने का भी आह्वान किया गया। एएसआई वीरभान सिंह ने बताया कि अवैध रूप से खाद्य सामग्री बेचते 2 वेंडर, महिला कोच में यात्रा करने पर 5 यात्री धूम्रपान करते हुए 9 यात्रियों को पकड़ा गया। वेंडरों महिला कोच वाले यात्रियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा और धूम्रपान करने वालों को मौके पर ही जुर्माना लगाया गया।
  
Yesterday (6:47PM)  सर्वे: बिहार और यूपी के रेलवे स्टेशन सबसे गंदे (www.livehindustan.com)
News Entry# 275211     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: RailFanning is my Religion^~  700 news posts
रेल मंत्रालय के मंगलवार को जारी सर्वेक्षण के मुताबिक साफ रेलवे स्टेशनों में गुजरात ने बाजी मारी है। यूपी-बिहार के रेलवे स्टेशन सबसे गंदे रहे।
सबसे साफ स्टेशनों में से पांच गांधीधाम, जामनगर, सूरत, राजकोट और अंकलेश्वर गुजरात के हैं। इसके विपरीत बिहार और यूपी के स्टेशन सबसे निचले पायदान पर रहे।
बिहार के मधुबनी, बख्तियारपुर, अनुग्रह नारायण रोड, सगौली और आरा जंक्शन सबसे गंदे दस स्टेशनों में रहे। वहीं, उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़, जंघाई, शाहगंज और बलिया निचले पायदान पर रहे। इसके अलावा, कर्नाटक का स्टेशन रायचुर भी सबसे गंदे रेलवे स्टेशनों
...
more...
में रहा।
ऐसे हुआ सर्वे: सफाई आंकने को चार आधार बनाए गए। इसमें टिकट काउंटर क्षेत्र, कचरे का प्रबंधन, शौचालय और स्टेशन परिसर की सफाई अहम थे। 45 टीमों ने हर स्टेशन पर 300 से 400 यात्रियों का साक्षात्कार किया।
  
Yesterday (6:38PM)  शार्ट कट के चक्कर में ट्रैक पर ट्रेन से कटकर दो बच्चों की मौत (www.bhaskar.com)
News Entry# 275210     
   Tags   Past Edits
Jul 28 2016 (6:39PM)
Station Tag: Yamunanagar-Jagadhri/YJUD added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  607 news posts
शार्टकटके चक्कर में पश्चिमी यमुना नहर के पुल को पार करते समय तीन बच्चों को एक्सप्रेस ट्रेन ने अपनी चपेट में ले लिया। जिसमें से दोनों बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई। एक बच्चे ने पुल से नहर में कूद कर अपनी जान बचाई। सूचना मिलते ही जीआरपी पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया।
पीर कॉलोनी पासरा के रहने वाले तीन बच्चे 10 वर्षीय रवि सिंह, नौ वर्षीय मोंंटी 10 वर्षीय निशांत पश्चिमी यमुना नहर की साइड में आए हुए थे। बुधवार की शाम करीब साढ़े आठ बजे तीनों कैनाल रेस्ट हाउस के पास यमुना नहर पुल को पार कर रहे थे। इसी दौरान रवि मोंटी पीछे चल रहे थे। जबकि
...
more...
निशांत पुल से आगे निकल चुका था। तभी पीछे से तेज गति से रन थ्रू ट्रेन आई और उसने रवि को चपेट में ले लिए। उसके शरीर के चिथडे़ उड गए। ट्रेन को देखकर मोंटी रेलवे ट्रैक पर लेट गया। मगर कुछ देर के बाद वह उठकर यह देखने लगा कि ट्रेन कितनी देर में पास होगी। इसी दौरान वह भी ट्रेन की चपेट में गया। उसकी भी मौके पर ही मौत हो गई। पुल से नीचे कूदे निशांत ने हादसे की सूचना परिजनों को दी। उसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। थाना प्रभारी जसविंद्र ने बताया कि पुल पार करते हुए यह हादसा हुआ है। शवों को कब्जे में ले लिया और मामले की छानबीन शुरू कर दी। यमुना नहर के किनारे पर काफी संख्या में झुग्गी झोपडि़यों में लोग रहते हैं। इनके बच्चे यमुना नहर से सिक्के उठाने के लिए आते है। चर्चा है कि रवि मोंटी भी शायद इसीलिए यमुना नहर के किनारे आए होंगे।
Page#    261977 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site