Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sun Feb 26, 2017 20:26:12 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sun Feb 26, 2017 20:26:12 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 286941
  
भारतीय रेलवे और आईआरसीटीसी ने टिकट बुकिंग और और टिकट कैंसिल कराने वाले फॉर्म में महिला और पुरुषों के साथ-साथ ट्रांसजेंडर को तीसरे लिंग के तौर पर शामिल कर लिया है. एक वकील के आवेदन पर यह फैसला किया गया. टिकट बुकिंग और कैंसिल कराने के अलावा यह सुविधा ऑनलाइन और ऑफलाइन भी मिलेगी.
दिल्ली हाई कोर्ट ने फरवरी में दिल्ली के एक वकील से अपनी याचिका पर कार्रवाई के लिए रेल मंत्रालय से संपर्क करने को कहा था. मंत्रालय ने शीर्ष न्यायालय के अप्रैल-2014 के निर्देशों के संदर्भ देते हुए बताया कि हिजड़ा, किन्नर और बाइनरी के अधिकारों की रक्षा के लिए अब उन्हें तीसरे लिंग के रूप में माना जाएगा.
पूरी
...
more...
कीमत पर मिलेगा ट्रांसजेंडरों को रेलवे टिकट
सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्णय में संविधान के तृतीय भाग और संसद के द्वारा बनाये गए कानून के तहत हिजड़ा और किन्नर के साथ-साथ बाइनरी के अधिकारों की रक्षा के लिए उन्हें तीसरे लिंग के रूप में मान्यता देने का निर्देश दिया था. सर्कुलर में कहा गया कि निर्देशों के तहत टिकट आरक्षण, रद्द कराने के फॉर्म में महिला और पुरुष के साथ-साथ ट्रांसजेंडर का विकल्प भी शामिल करने का निर्णय किया गया है. प्रणाली में यह सूचना दर्ज कर ली जाएगी, जबकि उन्हें पूरी कीमत पर टिकट जारी किया जाएगा.
जमशेद अंसारी नाम के वकील ने हाई कोर्ट में दायर अपनी जनहित याचिका में इसे आईआरसीटीसी द्वारा संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 19 और 21 का उल्लंघन बताया था. अंसारी ने भारतीय रेलवे से शीर्ष न्यायालय के उस निर्णय के पाले की मांग की थी, जिसमें अदालत ने केंद्र और राज्य सरकारों से ट्रांसजेंडर को तीसरे लिंग के रूप में मान्यता प्रदान करने का निर्देश दिया था.
ट्रांसजेंडरों के लिए सीटें रिजर्व करने की भी मांग
अंसारी ने उन्हें सामाजिक और आर्थिक पृष्ठभूमि के हिसाब से रियायत देने की मांग भी की थी. इसके अलावा उन्होंने ट्रांसजेंडर समुदाय की देखभाल एवं अधिकारों की रक्षा के लिए सभी ट्रेनों में विशेष बोगियां एवं आरक्षित सीटें लगाने की भी मांग की थी. मुख्य न्यायाधीश जी रोहिणी की अध्यक्षता वाली पीठ ने रेलवे मंत्रालय से याचिका का संज्ञान लेने को कहा था.

9 posts - Sun Nov 27, 2016 - are hidden. Click to open.

  
Nov 28 2016 (01:33)
Divyanshu Gupta to be CM of Uttar Pradesh Soon^~   30254 blog posts   22623 correct pred (76% accurate)
Re# 2072902-10            Tags   Past Edits
Kyu hoga, aese faaltu thinking vhi log rkhte h jo tees maar khan hote h, constitution me sbko equal rights h usme kya galat h, jaruri nhi h har transgender sirf pese hi maangta h, kai govt college me transgender students b hote h, unhe b rights diye gae h, ek bill b rajya sabha me pass hua tha isse related " Rights of Transgender Persons Bill, 2014 guaranteeing rights and entitlements, reservations in education and jobs (2% reservation in government jobs), legal aid, pensions, unemployment allowances and skill development for transgender people".

  
1419 views
Nov 28 2016 (09:51)
Indian Railways the life line of our Nation~   11435 blog posts   136 correct pred (83% accurate)
Re# 2072902-12            Tags   Past Edits
Problem se mera mat lab hai ki passenger ko problem hoga.Koi bhi Male Female Transgender ke saath travel nahi karna chahega.

  
Nov 28 2016 (09:53)
A capella*^~   9376 blog posts   2458 correct pred (77% accurate)
Re# 2072902-13            Tags   Past Edits
aisi thinking sirf tmhari hi lagti hai.. aise bol rhe ho jaise wo criminal ya terrorist ho.. Such cheap thinking you have

  
1434 views
Nov 28 2016 (09:56)
Indian Railways the life line of our Nation~   11435 blog posts   136 correct pred (83% accurate)
Re# 2072902-14            Tags   Past Edits
Mai to bas pros and cons bata raha tha,mujhe is decision se koi problem nahi hai

  
1426 views
Nov 28 2016 (09:57)
A capella*^~   9376 blog posts   2458 correct pred (77% accurate)
Re# 2072902-15            Tags   Past Edits
koi problem na hogi kisiko... mentality badalni chahiye logon ko...
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site