Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Mon Apr 24, 2017 05:41:22 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Mon Apr 24, 2017 05:41:22 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 287047
  
Nov 28 2016 (22:03)  दोषियों को बचाने के लिए रेलवे में खींचतान,इंजिनियरिंग और मकैनिकल निकाल रहे एक-दूसरे की कमियां (epaper.navbharattimes.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 287047     
   Tags   Past Edits
Nov 28 2016 (10:03PM)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Nov 28 2016 (10:03PM)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Nov 28 2016 (10:03PM)
Train Tag: Indore - Rajendranagar Express (via Faizabad)/19321 added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
ट्रेन हादसे के बाद
इंजिनियरिंग और मकैनिकल निकाल रहे एक-दूसरे की कमियां
काफी जंग लगा है। दावा यह भी किया जा रहा है कि इस कोच के हेड स्टॉक में डिरेलमेंट के पहले ही गड़बड़ हो गई थी। इसके अलावा कुछ और तकनीकी जानकारियों के आधार पर दावा किया जा रहा है कि गड़बड़ी कोच में थी।
सूत्रों का यह भी कहना
...
more...
है कि इंजिनियरिंग और मकैनिकल के अफसर अपनी रिपोर्ट कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) को भेजेंगे।
हैलट में 10 जख्मी भर्ती : हादसे के एक हफ्ते बाद रविवार को आईसीयू में 2 लोगों को मिलाकर सिर्फ 10 पेशंट्स ही बचे थे।•एनबीटी ब्यूरो, कानपुर : इंदौर- राजेंद्रनगर एक्सप्रेस हादसे में 152 लोगों की मौत के बाद फौरी कार्रवाई में रेलवे ने झांसी डिविजन के डीआरएम का ट्रांसफर किया और पांच अफसरों को सस्पेंड कर दिया। हालांकि असल दोषियों को बचाने के लिए इंजिनियरिंग और मकैनिकल डिपार्टमेंट्स ने पूरी ताकत लगा दी है। ट्रैक में खराबी की खबरों के बाद इंजिनियरिंग के अफसरों ने मोर्चा संभाल लिया है। वे कोचों में गड़बड़ियों के आरोप लगा रहे हैं। जांच के दौरान इंजिनियरिंग के एक अफसर की एक सीनियर अधिकारी से करीब 2 घंटे की मुलाकात भी चर्चा का विषय है।
रेलवे सूत्रों का दावा है कि पटना एक्सप्रेस के एस-1 कोच के हेडस्टॉक (कपलिंग को सपोर्ट देने वाले, कोचों को जोड़ने वाले लोहे के गोल टुकड़े) की बफर असेंबली की पुरानी वेल्डिंग टूट गई थी। इसी कोच का ट्रॉली (पहियों) वाला हिस्सा जो हादसे के बाद बाहर निकल गया, उसमें बुरी तरह जंग लगा है। एस-1 कोच से ही फ्लोरिंग के जिन हिस्सों का सैंपल लिया गया है, उनमें
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site