Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Mon May 29, 2017 15:21:01 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Mon May 29, 2017 15:21:01 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 287314
  
Dec 01 2016 (09:02)  दुघर्टनाग्रस्त होने से बची राजगीर-हावड़ा (epaper.jagran.com)
back to top
Other NewsER/Eastern  -  

News Entry# 287314     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Anand Mohan Mishra~  85 news posts
हवाई अड्डा के निकट गोपालपुर में मंगलवार देर रात हावड़ा-राजगीर फास्ट पैसेंजर दुर्घटनाग्रस्त होते-होते तब बची, जब इसकी चपेट में एक मैजिक गाड़ी आ गई। गोपालपुर स्थित रेलवे के ध्वस्त पुल के निकट अवैध समपार पर ट्रेन को कुछ नहीं हुआ और इसपर सवार सैकड़ों लोगों की राहत की सांस ली। हालांकि ट्रेन की चपेट में आने से मैजिक के परखच्चे उड़ गए। बुधवार दोपहर बाद कहलगांव आरपीएफ ने पटरी के बगल में पड़े दुर्घटनाग्रस्त मैजिक को जब्त कर इसके ड्राइवर-मालिक पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है।1घटना रात सवा बजे की है। हावड़ा से चलकर राजगीर जा रही रेलगाड़ी सबौर से भागलपुर के लिए खुली थी। इधर जीच्छो इलाके से पूर्णिया के लिए पत्ता गोभी लेकर एक भरी हुई मैजिक पुल के पास बने समपार से निकल रही थी। यह समपार आसपास के लोगों द्वारा बनाया है सो इससे गाड़ी निकालना हमेशा जोखिम से भरा होता है। मैजिक का आगे का...
more...
हिस्सा निकल गया पर अधिक लोड होने के कारण पीछे का चक्का रेलवे लाइन में फंस गया। दूसरी ओर तेजी से आ रही रेलगाड़ी को देखकर ड्राइवर व व्यापारी ने गाड़ी से कूदकर जान बचाई। रेलवे सूत्रों ने बताया कि रात में कोहरे के कारण दृष्यता कम थी ड्राइवर ने अचानक से मैजिक का आधा हिस्सा रेलवे लाइन पर देखा तो ब्रेक लगाने की कोशिश की, पर तब तक टक्कर हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी गाड़ी में सो रहे लोग जग गए और मैजिक करीब सौ मीटर दूर गोपालपुर के ध्वस्त पुल के पास तक घिसटते हुए गई। मैजिक के ट्रेन में नहीं फंसने पर ड्राइवर की जान में जान आई और फिर गाड़ी को अपनी लेकर भागलपुर पहुंचा और घटना की रिपोर्ट की। इस दुर्घटना में 11 कोच वाली हावड़ा-राजगीर फास्ट पैसेंजर का इंजन भी दुर्घटनाग्रस्त हुआ। इंजन को भागलपुर में बदलकर इसे राजगीर के लिए रवाना किया गया। ड्राइवर की सूचना के बाद रेलवे ने इस रूट पर गाड़ियों का आवागमन रोक दिया। स्टेशन अधीक्षक ओंकार प्रसाद, आरपीएफ इंस्पेक्टर अनुपम कुमार और रेलवे की टीम ने तत्काल घटना स्थल का मुआयना किया। रेलवे पटरी आवागमन के योग्य थी।जागरण संवाददाता, भागलपुर : हवाई अड्डा के निकट गोपालपुर में मंगलवार देर रात हावड़ा-राजगीर फास्ट पैसेंजर दुर्घटनाग्रस्त होते-होते तब बची, जब इसकी चपेट में एक मैजिक गाड़ी आ गई। गोपालपुर स्थित रेलवे के ध्वस्त पुल के निकट अवैध समपार पर ट्रेन को कुछ नहीं हुआ और इसपर सवार सैकड़ों लोगों की राहत की सांस ली। हालांकि ट्रेन की चपेट में आने से मैजिक के परखच्चे उड़ गए। बुधवार दोपहर बाद कहलगांव आरपीएफ ने पटरी के बगल में पड़े दुर्घटनाग्रस्त मैजिक को जब्त कर इसके ड्राइवर-मालिक पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है।1घटना रात सवा बजे की है। हावड़ा से चलकर राजगीर जा रही रेलगाड़ी सबौर से भागलपुर के लिए खुली थी। इधर जीच्छो इलाके से पूर्णिया के लिए पत्ता गोभी लेकर एक भरी हुई मैजिक पुल के पास बने समपार से निकल रही थी। यह समपार आसपास के लोगों द्वारा बनाया है सो इससे गाड़ी निकालना हमेशा जोखिम से भरा होता है। मैजिक का आगे का हिस्सा निकल गया पर अधिक लोड होने के कारण पीछे का चक्का रेलवे लाइन में फंस गया। दूसरी ओर तेजी से आ रही रेलगाड़ी को देखकर ड्राइवर व व्यापारी ने गाड़ी से कूदकर जान बचाई। रेलवे सूत्रों ने बताया कि रात में कोहरे के कारण दृष्यता कम थी ड्राइवर ने अचानक से मैजिक का आधा हिस्सा रेलवे लाइन पर देखा तो ब्रेक लगाने की कोशिश की, पर तब तक टक्कर हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी गाड़ी में सो रहे लोग जग गए और मैजिक करीब सौ मीटर दूर गोपालपुर के ध्वस्त पुल के पास तक घिसटते हुए गई। मैजिक के ट्रेन में नहीं फंसने पर ड्राइवर की जान में जान आई और फिर गाड़ी को अपनी लेकर भागलपुर पहुंचा और घटना की रिपोर्ट की। इस दुर्घटना में 11 कोच वाली हावड़ा-राजगीर फास्ट पैसेंजर का इंजन भी दुर्घटनाग्रस्त हुआ। इंजन को भागलपुर में बदलकर इसे राजगीर के लिए रवाना किया गया। ड्राइवर की सूचना के बाद रेलवे ने इस रूट पर गाड़ियों का आवागमन रोक दिया। स्टेशन अधीक्षक ओंकार प्रसाद, आरपीएफ इंस्पेक्टर अनुपम कुमार और रेलवे की टीम ने तत्काल घटना स्थल का मुआयना किया। रेलवे पटरी आवागमन के योग्य थी।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site