Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sat Feb 25, 2017 20:05:51 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sat Feb 25, 2017 20:05:51 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 287369
  
Dec 01 2016 (20:50)  रेल के ब्रेक लगने पर भी घर्षण से बनेगी बिजली लखनऊ मेट्रो स्टेशनों पर सोलर पैनल से बनेगी बिजली (epaper.navbharattimes.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNR/Northern  -  

News Entry# 287369     
   Tags   Past Edits
Dec 01 2016 (8:50PM)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~  5011 news posts
स्टूडेँट कक्षा 10 "250
सीनियर सिटीजन "410
एमएसटी का किराया
एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ : सिटी ट्रांससोर्ट ने मेट्रो रूट पर सिटी बसों की एमएसटी के लिए तैयारियां पूरी कर ली हैं। फीडर बसों से मेट्रो स्टेशन तक जाने वालों को चार श्रेणियों में एमएसटी मुहैया करवाई जाएंगी। पहले चरण में अमौसी से चारबाग तक मेट्रो स्टेशनों के लिए एमएसटी जारी होगी। सिटी ट्रांसपोर्ट के एमडी ए
...
more...
रहमान ने बताया, फीडर सेवा के लिए 28 सीटर छोटी बसें चलाने का निर्णय हुआ है। ये बसें मेट्रो स्टेशन से न्यूनतम पांच और अधिकतम नौ किमी की दूरी तय करेंगी। योजना है कि अमौसी से चारबाग तक के आठों स्टेशनों के लिए 65 बसें चलाई जाएं। बसों का संचालन मेट्रो की समय सारिणी के हिसाब से दुबग्गा डिपो से किया जाएगा।
दिल्ली में इसी साल मार्च में हुई पांचवीं मेट्रो रेल इंडिया समिट में लखनऊ मेट्रो को देश के सभी मेट्रो प्रॉजेक्ट्स में सबसे बेहतर पाया गया था। इसके लिए एलएमआरसी के एमडी समेत सभी अधिकारियों को सम्मनित भी किया गया। समिट में दिल्ली, जयपुर, मुबई, एलऐंडटी, आरवीएनएल और लखनऊ मेट्रो ने अपने प्रॉजेक्ट्स रखे थे। विशेषज्ञों ने लखनऊ मेट्रो को एक्सिलेंस इन इनोवेटिव डिजाइन के लिए सर्वश्रेष्ठ पाया। एमडी कुमार केशव और डायरेक्टर (वर्क एंड इंफ्रास्ट्रक्चर) दलजीत सिंह को ट्रॉफी सौंपी गई थी।
सामान्य ट्रैक : टीपी नगर, नहरिया और मवैया को छोड़कर पूरा एलेवेटेड रूट पिलर्स पर तैयार हुआ है। ये पिलर सड़क के डिवाइडर पर तैयार किए गए हैं। हर पिलर पर पिलर कैप इंस्टॉल किए गए हैं और दो पिलर कैप पर मेट्रो के अप और डाउन रूट के ट्रैक बिछाए गए हैं।
स्टील स्पैन : नहरिया चौराहे पर अम्बेडकर प्रतिमा और ट्रैफिक के भारी दबाव को देखते हुए यहां करीब 60 मीटर लम्बा स्टील का ब्रिज (स्टील स्पैन) बनाया गया है। बिना पिलर 60 मीटर लम्बे ट्रैक के लिए नहरिया चौराहे के एक तरफ इसका ढांचा तैयार हो गया है। इसका वजन करीब 3500 टन है।
स्पेशल स्पैन : मवैया से चारबाग के बीच स्पेशल स्पैन तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। इस तकनीक से करीब 110 मीटर लम्बे एलेवेटेड ट्रैक के बीच में कोई पिलर नहीं है। इस हिस्से के निर्माण के लिए अलग से टेंडर किया गया है, हालांकि इसका निर्माण स्टील स्पैन की तुलना में महंगा है।
पोर्टल बीम : टीपी नगर में मेट्रो के ऐलेवेटेड रूट का कुछ हिस्सा ऐसा है, जो डिवाइडर से अलग सड़क की तरफ आ रहा था। यहां पोर्टल बीम तकनीक से एक पिलर डिवाइडर पर बनाया गया जबकि दूसरा सड़क के दूसरे किनारे और दोनों पर बीम डाल दी गई। मेट्रो का ट्रैक इस बीम के ऊपर से गुजरा है।
टीपी नगर से चारबाग तक मेट्रो का ऐलेवेटेड रूट के चार अलग-अलग पॉइंट्स पर चार तकनीक का इस्तेमाल हुआ है। इन्हीं तकनीक ने हमारी मेट्रो को इतने कम समय में ट्रायल रन के लिए तैयार कर दिया।
रेल के ब्रेक लगने पर भी घर्षण से बनेगी बिजली
मेट्रो स्टेशनों पर सोलर पैनल से बनेगी बिजली
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site