Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sat Mar 25, 2017 13:48:01 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sat Mar 25, 2017 13:48:01 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 287810
  
सोए नहीं कि ट्रेन आकर चली न जाए
बच्चों को ठंड से बचाएं
मधुमेह रोगी सतर्क रहें
ठंड से बचाएगी अदरक और अजवाईन
ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ा
बचाव
...
more...

गोरखपुर वरिष्ठ संवाददाताकोहरे की वजह से ट्रेनों की चाल बिगड़ गई है। एक बार ट्रेन जहां रुक जा रही है वहां से तीन से चार घंटे बाद ही हिल रही है। स्थिति यह है सैकड़ों यात्रियों को पूरी रात प्लेटफॉर्म पर जाग कर गुजारनी पड़ रही है तो उधर ट्रेन में भी भूखे पेट सफर कट रहा है। माता वैष्णो देवी के दरबार जाने वाली अमरनाथ एक्सप्रेस हो या मुम्बई जाने वाली कुशीनगर एक्सप्रेस ट्रेन। दिल्ली जाने वाली वैशाली हो या दिल्ली से आने वाली गोरखधाम। सभी की रफ्तार कोहरे ने घटा दी है। रही-सही कसर रूट डायवर्जन ने पूरी कर दी है। ट्रेनों के लेट होने से यात्रियों पर दोहरी मार पड़ रही है। किसी की आगे की ट्रेन छूट जा रही है तो शादी में टाइम से नहीं पहुंच पा रहा है। घंटों लेट व कैश की किल्लत से ट्रेन में यात्रियों के सामने खाने-पीने का संकट है। गोरखधाम एक्स.को भले ही कानपुर के मेन लाइन से चलाया जाना शुरू कर दिया गया है पर कोहरे ने उसकी रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। शनिवार को हिसार से गोरखपुर के लिए चली गोरखधाम 17 घंटे देर से रात दो बजे गोरखपुर पहुंची। समय से चलने वाली कुशीनगर एक्स. तो इस कदर लेट चल रही है कि जिस दिन की ट्रेन है, उसके अगले दिन भी रवाना नहीं हो पा रही है। रविवार शाम सात बजे रवाना होने वाली कुशीनगर सोमवार की सुबह सात बजे रवाना हुई। सोमवार को जाने वाली यह ट्रेन भी 18 घंटे लेट रही। गोरखपुर से दोपहर दो बजे रवाना होने वाली जम्मूतवी एक्स. इस कदर लेट हुई कि मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे रवाना होगी।
वैष्णो देवी जाने के लिए सुबह 11 बजे ही प्लेटफॉर्म पर आ गया था। यहां पता चला कि ट्रेन सुबह आठ बजे के बाद जाएगी। यह सुनकर होश ही उड़ गए। लम्बी यात्र करनी थी। पास में बहुत पैसा भी नहीं था। -कृष्ण देव यादव, यात्री, सहजनवा
गोरखपुर। घर आने का मौका मिला। काफी उत्साहित था। समय से प्लेटफार्म पहुंच गया। पता चला गोरखपुर जाने वाली गोरखधाम एक्सप्रेस रात 12 बजे तक आएगी। सोचा थोड़ा आराम कर लें। कुछ ही देर में पता चला कि भोर में तीन बजे आएगी। यह सुनते ही नींद उड़ गई। पूरी रात इस वजह से जागता रहा कि कहीं सोते में ट्रेन आकर निकल न जाए। सुबह साढ़े छह ट्रेन दिल्ली पहुंची। ट्रेन में सवार होने के बाद राहत तो मिली लेकिन कुछ ही घंटे बाद भूख सताने लगी। खुल्ले पैसे न होने के कारण स्टेशन पर कुछ ले भी न सका। सफर का अनुभव यही है कि पूरी रात स्टेशन पर इंतजार में बीती और ट्रेन में दिन भूखे पेट गुजरा। यह कहानी है कि दिल्ली से गोरखपुर आ रहे आलोक गुप्ता की। आलोक गोरखधाम एक्सप्रेस के एस-2 कोच में यात्र कर रहे थे। आलोक गोरखपुर में दवा करोबारी हैं और व्यापार के सिलसिले में दिल्ली गए थे। आलोक की तरह प्लेटफार्म पर रात गुजारने वाले यात्रियों की सूची बहुत ही लम्बी है। गोरखपुर से जम्मूतवी जाने वाली एक्सप्रेस अमरनाथ एक्सप्रेस के यात्री सुबह 11 बजे से ही प्लेटफार्म पर आना शुरू हो गए। 18 घंटे लेट सुन कुछ स्थानीय यात्री तो वापस घर लौट गए लेकिन दूर-दराज से आए यात्री स्टेशन पर ही फंस गए। मजबूरन उन्हें पूरी रात स्टेशन पर गुजारनी पड़ी।
कुशीनगर से भोपाल जाना था। दोपहर दो बजे ही जंक्शन आ गया। यहां पता चला कि रात दो बजे के बाद ट्रेन जाएगी। सीवान से आया था ऐसे में वापस जा पाना भी संभव नहीं था। बड़ी मुश्किल हुई। -राहुल कुमार, इंजीनियरिंग छात्र, सीवान
बालरोग विशेषज्ञ डॉ. एके राय ने बताया कि तापमान में परिवर्तन का सबसे तेज असर बच्चों पर होता है। बच्चों के सीने में संक्रमण, सर्दी-जुखाम और बुखार हो सकता है। इसके अलावा मासूम वायरल निमोनिया की चपेट में आ सकते हैं। ठंड में बच्चों को कोल्ड डायरिया भी हो जाती है। बच्चे भी ठंड के कारण सांस की तकलीफ के शिकार हो सकते हैं।
कटरा जाने के लिए पूरी तैयारी कर घर से निकला। जंक्शन आया तो पता चला कि ट्रेन दूसरे दिन रवाना होगी। मजबूरन घर से लाई चादर को बिछाया और वहीं लेट गया। - राजेश, यात्री, भीटी रावत
मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के डॉ. राजकिशोर सिंह के मुताबिक सर्दी में मधुमेह रोगियों को सबसे अधिक परेशानी होती है। ठंडक में चलना-फिरना कम हो जाता है। शरीर में ग्लूकोज का स्तर असंतुलित हो जाता है। इससे हाथ और पैरों में समस्या बढ़ जाती हैं। हाथ व पैर सुन्न हो जाते हैं। पैरों में बेवाई फट जाती है। इससे मधुमेह रोगियों में गैंगरीन का खतरा बढ़ जाता है।
ठंड के बढ़ने के साथ ही मौसमी बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाता है। सर्दी-जुकाम, बुखार, एलर्जी समेत कई बीमारियां इस मौसम में होती है। ऐसी बीमारियों से बचने के लिए घरेलू नुस्खे भी कारगर होते हैं। सिविल अस्पताल के आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. आशीष त्रिपाठी ने बताया कि सर्दियों में चीनी का सेवन कम कर देना चाहिए। गुड़ की मात्र बढ़ा देनी चाहिए। गुड़ में भरपूर मात्र में आयरन होता है जो हीमोग्लोबिन बढ़ाता है। पाचन क्षमता दुरुस्त रखता है। जाड़े में जुखाम और बुखार के रोगी बढ़ जाते हैं। बच्चे निमोनिया की गिरफ्त में आ जाते हैं। इन बीमारियों से बचने के लिए अदरक का सेवन करें। अदरक शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है। अदरक, आंवला और लहसुन की चटनी बनाकर भी खा सकते हैं। ठंडक में रोजाना नाश्ते के बाद आधा चम्मच अजवाइन का सेवन करना चाहिए। इसकी तासीर गर्म होती है। जो सर्दियों में होने वाले डायरिया से बचाती है। सर्दियों में पिसी हल्दी संजीवनी की तरह काम करती है। सुबह खाली पेट आधा चम्मच हल्दी खाने से एलर्जी व गले में खराश समेत दूसरी बीमारियों से बच सकते हैं।
मेडिकल कालेज के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. पवन सिंह ने बताया कि सर्दियों में बुजुर्गों को ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। बीते तीन दिन में ही आठ मरीज ब्रेन स्ट्रोक के बीआरडी में आ चुके हैं। इनमे से छह बुजुर्ग हैं। इस मौसम में 45 वर्ष की आयु से अधिक के हर व्यक्ति को अपना रक्तचाप (बीपी) चेक कराते रहना चाहिए। बुजुर्ग सुबह एकदम से रजाई से बाहर न निकलें। पहले शरीर से रजाई हटाएं। एक से दो मिनट कमरे में टहले। फिर बाहर निकलें।
’ धूप में कम से कम 20 मिनट बैठे ’ धूप खिलने के बाद मॉनिंग वॉक करें ’ हरी साग सब्जी खाएं ’ मूंगफली फायदेमंद हैं’ गाजर, पत्ता गोभी व हरी सब्जी की खाने में बढ़ा दें ’ ज्वार, बाजरा, मक्के के आटे की रोटी खाएं ’ दिल के रोगी शाम को दही, चावल से परहेज करें ’ तेल-घी और मसालेदार खाने से परहेज करें
ट्रेन लेट (घंटे में)12553 वैशाली एक्सप्रेस 4.3012554 वैशाली एक्सप्रेस 14.0012556 गोरखधाम एक्सप्रेस 17.0015210 जनसेवा एक्सप्रेस 13.00 12565 बिहार संपर्कक्रांति 7.4012566 बिहार संपर्कक्रांति 17.0012542 गोरखपुर-एलटीटी 5.0012587 अमरनाथ एक्सप्रेस 18.0015107 छपरा-मथुरा एक्स. 10.0013019 बाघ एक्सप्रेस 6.0015003 चौरीचौरा एक्सप्रेस 8.0019039 अवध एक्सप्रेस 6.00
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site