Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Mon Jan 16, 2017 16:34:01 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Mon Jan 16, 2017 16:34:01 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 287863
  
Dec 07 2016 (09:01)  दूसरी परीक्षा की तैयारी में मेट्रो टीम (epaper.jagran.com)
back to top
Other NewsNR/Northern  -  

News Entry# 287863     
   Tags   Past Edits
Dec 07 2016 (9:01AM)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by shuk Railway is my first crush~/339802

Posted by: shuk RAILWAY is my first crush~  108 news posts
जागरण संवाददाता, लखनऊ : मेट्रो टीम ने पहली परीक्षा में पास होने के बाद दूसरी परीक्षा में पास होने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। हालांकि दूसरी परीक्षा में पास या फेल होना रेल संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) पर निर्भर करेगा। सीआरएस चाहेगा तो जल्द ट्रेन चलाने की अनुमति लखनऊ मेट्रो को मिल सकती है और राजधानी की जनता के लिए मेट्रो के दरवाजे 26 मार्च से खुल सकते हैं। कुल मिलाकर लखनऊ मेट्रो के पास 108 दिन शेष बचे हैं। उक्त दिनों के भीतर लखनऊ मेट्रो को नार्थ साउथ कारीडोर के सभी स्टेशनों को तैयार करने के साथ ही सभी कमियां दूर करनी होगी। लखनऊ मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने अपनी टीम को दूसरे टारगेट पर फोकस करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। इससे उनकी टीम में उत्साह तो है लेकिन एक भी छुट्टी न मिलने से निराशा भी है। कार्यदायी संस्थाओं को उम्मीद थी कि ट्रायल...
more...
रन होने के बाद उनके कर्मियों को एक दिन का अवकाश जरूर मिलेगा, कुछ यही मेट्रो टीम ने भी सोचा था, लेकिन ऐसा न हुआ। मेट्रो अधिकारियों का तर्क है कि सभी औपचारिकताएं समय से पूरी कर ली जाए, फिर आराम ही करना है। करीब 45 दिन का मेट्रो ट्रायल होने के बाद उसके क्लीयरेंस के लिए प्रयास और तेज कर दिए जाएंगे। कैसे होगा एलीवेटेड ट्रैक पर ट्रायल एलीवेटेड ट्रैक पर ट्रायल के लिए अभी मेट्रो जनवरी मध्य तक खाली दौड़ेगी, उसकी गति कभी तेज की जाएगी तो कभी धीमी गति से चलेगी। अधिकारियों के मुताबिक इस दौरान बालू से भरी बोरियां भी मेट्रो में रखकर ट्रायल किया जाएगा। यह बोरियां यात्रियों के स्थान पर रखी जाती हैं। केंद्र के हाथ में सबकुछ| अब सबकुछ केंद्र के हाथ में है। रेल संरक्षा आयुक्त को क्लीयरेंस देना है। रेल संरक्षा आयुक्त, नागरिक उड्डयन मंत्रलय के अंतर्गत आता है। हालांकि यह अधिकारी रेलवे के होते हैं जो प्रतिनियुक्ति पर उक्त विभाग में जाते हैं। आयुक्त के जिम्मे नई लाइनों को क्लीयरेंस देने के साथ ही जान माल के हुए नुकसान की जांच का भी जिम्मा होता है।
भूमिगत स्टेशनों पर बढ़ी रफ्तार
लखनऊ मेट्रो ने भूमिगत स्टेशनों पर अपने कार्य की रफ्तार बढ़ा दी है। चारबाग स्टेशन के आगे रैंप उतारने का काम जहां चल रहा है वहीं हुसैनगंज में डॉयाफ्राम वॉल बनाई जा रही है। बापू भवन में काम की रफ्तार सबसे तेज है और हजरतगंज में वॉल बनाने का काम चल रहा है। अधिकारियों के मुताबिक जनवरी के प्रथम सप्ताह से बापू भवन भूमिगत स्टेशन पर टनल बोरिंग मशीन का काम शुरू कर दिया जाएगा।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site