Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Fri Apr 28, 2017 10:03:52 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Fri Apr 28, 2017 10:03:52 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 288561
  
तीनोंमृतक आपस में दोस्त होने के साथ ही एक ही कक्षा के छात्र भी रहे थे। मो.जग्गू ने बताया कि उमर के पिता पीडब्ल्यूडी में कर्मचारी हैं,सागर के पिता बेंता में दवा दुकान खोलकर अपनी रोजी-रोटी को पूरा करते हैं मगर सुहैल के पिता के तो बीमार और लाचार एक ऑटो चालक ही है। एक साथ तीन घरों में जवान बेटों की मौत की सूचना ने आस-पास के इलाकों में भी मातम छा दिया है। मंगलवार की सुबह से यह खबर इलाके में चीत्कार का माहौल बना दिया है। गौरतलब है कि साढ़े सात बजे डीएमयू पैसेंजर ट्रेन से कट कर तीन युवक गम्भीर रूप से जख्मी हो गए थे। हालांकि एक की मौत तो कुछ ही देर में वहीं हो गई जबकि दूसरा मो.सुहैल डीएमसीएच पहुंचने के बाद दम तोड़ा था। वहीं तीसरे की मौत उसी रात होने पर माहौल गमगीन बना हुआ है। सभी लगभग बीस वर्षीय ही थे।...
more...
घटनास्थल के संबंध में बताया गया है कि तीनों युवक अपनी बाइक रेलवे लाइन के पूरब बगल खड़ी कर इस पर रेलवे लाइन पर ही बैठकर मोबाइल पर कुछ देख रहे थे। समस्तीपुर की ओर से आने वाली डीएमयू पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आकर तीनों जख्मी हुए थे।
दरभंगा-लहेरियासराय रेलखंड में दोनार रेलवे फाटक संख्या 25 के पास साेमवार की देर शाम हुई थी घटना
क्राइमरिपोर्टर | दरभंगा
दरभंगा-लहेरियासरायरेलखंड में दोनार रेलवे फाटक संख्या 25 के कुछ दूर दक्षिण रेलवे ट्रैक पर सोमवार की देर शाम हुई हादसों में तीसरे युवक मो.सागर ने भी देर रात प्राइवेट अस्पताल में दम तोड़ दिया। वहीं घटनास्थल पर मरे भैलुचक मोहल्ला के उस्मान के पुत्र मो.उमर का तो अंतिम संस्कार (मिट्‌टी) का बिना पोस्टमार्टम के ही मंगलवार को संपन्न हो गया। इस बीच देर रात मरे मिल्की चक गांव के अली हसन के पुत्र मो.सागर का भी शव बिना पोस्टमार्टम के कराए ही अपने गांव ले गए।
वहीं दोनार मस्जिद के निकट रहने वाले सुहैब के पुत्र मो.सुहैल के शव का पोस्टमार्टम मंगलवार की दोपहर डीएमसीएच में कराया गया। पोस्टमार्टम कराने के लिए सुहैल के दोस्तों के साथ-साथ उसके परिजनों के परिचय वालों का हुजूम डीएमसीएच में दोपहर बाद तक जुटा रहा। तीन दोस्तों की मौत को लेकर उसके डीएमसीएच में भी मायूसी का माहौल बना रहा। सुहैल के चाचा मो.जग्गू का रो-रोकर बूरा हाल था। वह मृतक के लाचार पिता ऑटो चालक सुहैब की माली हालत पर भी रो-रोकर उसकी स्थिति और अंतिम संस्कार को लेकर परेशान था। उसने बताया कि अंतिम संस्कार कैसे होगा,शव उसके ही आगमन में जाएगा। मृतक के परिजनों को रहने को घर भी नहीं है। मृतक अपने पिता का इकलौता पुत्र था। एक जवान बहन के लिए भी अब उसके पिता को गम सताने लगा है।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site