Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Wed Apr 26, 2017 11:56:06 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Wed Apr 26, 2017 11:56:06 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 288999
  
Dec 18 2016 (18:18)  रेलवे ने सड़क के लिए दी थी जमीन, यूआईटी ने बना दिया प्राइवेट बस स्टैंड (www.bhaskar.com)
back to top
Commentary/Human InterestWCR/West Central  -  

News Entry# 288999     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  128350 news posts
कोटा.बोरखेड़ा से डीसीएम तक 80 फीट सड़क बनाने के लिए यूआईटी ने रेलवे से लीज पर जमीन ली, लेकिन सड़क बनने के बाद जो जमीन बची उस पर प्राइवेट बस स्टैंड और ऑटो स्टैंड बना दिया। अब रेलवे ने यूआईटी सचिव को पत्र के जरिए आपत्ति जताते हुए निर्माण को हटाने के लिए कहा है।
रेलवे बोर्ड ने वर्ष 2001 में जमीन लीज पर देने की स्वीकृति दी थी। इसमें शर्त थी कि जमीन का उपयोग सड़क निर्माण के लिए ही किया जाए। रेलवे व यूआईटी की ओर से 10 जुलाई 2008 को 35 वर्ष के लिए अनुबंध हुआ। इसमें स्पष्ट है कि यूआईटी की ओर से कोई भी निर्माण कार्य रेलवे की सहमति, स्वीकृति के बिना नहीं किया जा सकता।
दिसबंर
...
more...
के प्रथम सप्ताह में रेलवे के वरिष्ठ मंडल इंजीनियर दक्षिण ने यूआईटी सचिव को आपत्ति पत्र भेजा है कि सड़क बनाने के लिए दी (914 से 915 किमी के बीच) जमीन पर प्राइवेट बस, ऑटो स्टैंड व अन्य प्रकार के स्ट्रक्चर का निर्माण कर दिया गया है। इस बारे में रेलवे ने पूर्व में भी पत्र भेजा था, लेकिन निर्माण होता रहा। अब निर्माण को हटवाने की व्यवस्था करें। भूमि का आवंटन किसी भी फर्म को नहीं दिया जाए।
आशंका: कहीं भाजपा कार्यालय रेलवे की दी हुई इसी जमीन पर तो नहीं बन रहा
यूआईटी के पूर्व न्यासी महेन्द्र शर्मा ने इस अनुबंध को उजागर करने की मांग की है। जिससे वास्तविकता सामने आ सके। शर्मा ने यूआईटी से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी भी मांगी है, लेकिन यूआईटी के उपसचिव ने शर्मा को 22 दिसंबर को 11 बजे कार्यालय में उपलब्ध पत्रावली का अवलोकन करने के लिए बुलाया है। दस्तावेज नहीं दिए गए हैं। शर्मा ने आशंका जताई है कि इस जमीन पर ही कहीं भाजपा कार्यालय तो नहीं बनाया जाने वाला? इसकी जांच होनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि इस क्षेत्र में ही भाजपा कार्यालय के लिए 3 हजार वर्ग मीटर जमीन दो करोड़ में दी गई है।
नियमानुसार करेंगे कार्रवाई
यूआईटी सचिव एमएल यादव ने बताया कि जमीन के बारे में रेलवे का आपत्ति पत्र मिला है। वैसे नियमानुसार कार्रवाई की गई है। फिर भी जांच करवाकर विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी। भाजपा कार्यालय के लिए उसी जमीन में से जमीन देने के मामले को दिखवाया जाएगा।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site