Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Tue Jan 24, 2017 04:37:23 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Tue Jan 24, 2017 04:37:23 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 289061
  
Dec 19 2016 (10:25)  पूवरेत्तर रेलवे की लूप लाइनों का भी होगा विद्युतीकरण (epaper.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNER/North Eastern  -  

News Entry# 289061   Blog Entry# 2096574     
   Tags   Past Edits
Dec 19 2016 (10:25AM)
Station Tag: Barabanki Junction/BBK added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Dec 19 2016 (10:25AM)
Station Tag: Balrampur/BLP added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Dec 19 2016 (10:25AM)
Station Tag: Bahraich/BRK added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Dec 19 2016 (10:25AM)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Dec 19 2016 (10:25AM)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~  4752 news posts
इन रेलखंडों का होगा विद्युतीकरण 13गोरखपुर कैंट-कप्तानगंज-बाल्मीकि नगर 96 किमी। 3आनंदनगर-गोंडा-बहराइच-मैलानी 443 किमी। 3भटनी-बेल्थरा-औड़िहार 125 किमी। 3कप्तानगंज-थावे-खैरा-छपरा कचहरी 206 किमी। 3कल्याण-कासगंज-मथुरा 338 किमी। 3औड़िहार-जौनपुर 60 किमी। 13
जागरण संवाददाता, गोरखपुर : आखिरकार, इंतजार की घड़ियां समाप्त हो गईं। गोरखपुर में वातानुकूलित इलेक्टिक लोको शेड के शिलान्यास के बाद पूवरेत्तर रेलवे के लूप लाइनों पर भी विद्युतीकरण की आस जग गई। मंत्रलय ने रेल बजट में ही 1035 किमी रेल खंड के विद्युतीकरण की स्वीकृति प्रदान कर दी थी। इसके लिए 1424.59 करोड़ रुपये का बजट भी स्वीकृत हो चुका है। 1पूवरेत्तर रेलवे के मुख्यमार्ग बाराबंकी- छपरा (424 किमी) रेल खंड का विद्युतीकरण तो पहले ही पूरा हो चुका है। गाड़ियां इलेक्टिक इंजन से फर्राटा भर रही हैं। सीवान-थावे रूट पर कार्य चल
...
more...
रहा है। रेलमंत्री ने बांद्रा टर्मिनस से अंतिम चरण में पूरा हुआ गोरखपुर- गोंडा विद्युतीकरण का भी लोकार्पण किया। फिलहाल, लोको शेड के निर्माण के लिए रेल मंत्रलय ने 89.34 करोड़ रुपये अवमुक्त कर दिया है। एयरफोर्स परिसर के समीप बनने वाले लोको शेड के लिए सड़क आदि का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। इस शेड में इलेक्टिक इंजनों का रखरखाव और मरम्मत आदि कार्य होगा। यहां से निकले इंजन गोरखपुर के नाम से जाने जाएंगे। आने वाले दिनों में 12555/12556 गोरखधाम सुपरफास्ट एक्सप्रेस सहित पूवरेत्तर रेलवे की सभी गाड़ियां इलेक्टिक इंजन से ही चलाई जाएंगी। 1गोरखपुर में दूसरी व तीसरी लाइन भी: रेल मंत्रलय ने पूवरेत्तर रेलवे के मुख्यालय स्टेशन गोरखपुर जंक्शन पर गाड़ियों का दबाव कम करने के लिए डोमिनगढ़-गोरखपुर-कैंट-कुसम्ही के बीच तीसरी रेल लाइन बिछाने तथा गोरखपुर-नकहा जंगल रेल लाइन के बीच दोहरीकरण के लिए 186.9 करोड़ रुपये स्वीकृत किया है। अतिरिक्त रेल लाइन के बिछ जाने से अधिकतर मालगाड़ियां गोरखपुर में बिना रुके ही पास कर जाएंगी। दूर से चलकर आने वाली यात्री गाड़ियां भी समय से प्लेटफार्म पर लग जाएंगी। अक्सर, लोड बढ़ने पर लंबी दूरी की गाड़ियां भी पास वाले स्टेशन या आउटर पर घंटों खड़ी रह जाती हैं। यात्री परेशान होते हैं।जागरण संवाददाता, गोरखपुर : आखिरकार, इंतजार की घड़ियां समाप्त हो गईं। गोरखपुर में वातानुकूलित इलेक्टिक लोको शेड के शिलान्यास के बाद पूवरेत्तर रेलवे के लूप लाइनों पर भी विद्युतीकरण की आस जग गई। मंत्रलय ने रेल बजट में ही 1035 किमी रेल खंड के विद्युतीकरण की स्वीकृति प्रदान कर दी थी। इसके लिए 1424.59 करोड़ रुपये का बजट भी स्वीकृत हो चुका है। 1पूवरेत्तर रेलवे के मुख्यमार्ग बाराबंकी- छपरा (424 किमी) रेल खंड का विद्युतीकरण तो पहले ही पूरा हो चुका है। गाड़ियां इलेक्टिक इंजन से फर्राटा भर रही हैं। सीवान-थावे रूट पर कार्य चल रहा है। रेलमंत्री ने बांद्रा टर्मिनस से अंतिम चरण में पूरा हुआ गोरखपुर- गोंडा विद्युतीकरण का भी लोकार्पण किया। फिलहाल, लोको शेड के निर्माण के लिए रेल मंत्रलय ने 89.34 करोड़ रुपये अवमुक्त कर दिया है। एयरफोर्स परिसर के समीप बनने वाले लोको शेड के लिए सड़क आदि का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। इस शेड में इलेक्टिक इंजनों का रखरखाव और मरम्मत आदि कार्य होगा। यहां से निकले इंजन गोरखपुर के नाम से जाने जाएंगे। आने वाले दिनों में 12555/12556 गोरखधाम सुपरफास्ट एक्सप्रेस सहित पूवरेत्तर रेलवे की सभी गाड़ियां इलेक्टिक इंजन से ही चलाई जाएंगी। 1गोरखपुर में दूसरी व तीसरी लाइन भी: रेल मंत्रलय ने पूवरेत्तर रेलवे के मुख्यालय स्टेशन गोरखपुर जंक्शन पर गाड़ियों का दबाव कम करने के लिए डोमिनगढ़-गोरखपुर-कैंट-कुसम्ही के बीच तीसरी रेल लाइन बिछाने तथा गोरखपुर-नकहा जंगल रेल लाइन के बीच दोहरीकरण के लिए 186.9 करोड़ रुपये स्वीकृत किया है। अतिरिक्त रेल लाइन के बिछ जाने से अधिकतर मालगाड़ियां गोरखपुर में बिना रुके ही पास कर जाएंगी। दूर से चलकर आने वाली यात्री गाड़ियां भी समय से प्लेटफार्म पर लग जाएंगी। अक्सर, लोड बढ़ने पर लंबी दूरी की गाड़ियां भी पास वाले स्टेशन या आउटर पर घंटों खड़ी रह जाती हैं। यात्री परेशान होते हैं।

7 posts - Mon Dec 19, 2016 - are hidden. Click to open.

  
4404 views
Dec 20 2016 (15:15)
Railfan Rishi   1213 blog posts   21 correct pred (48% accurate)
Re# 2096574-8            Tags   Past Edits
IZN-KGM And RMU-KGM ko vahin chod do boss. Fayda nahi hain electrification karke. jab Passenger traffic bade ga tabhi hoga. Aur NER me bhi vahin par Electrification hoga jahan Pax raffic jyada hain. haan , Tracks aur sleeper change kar sakte hai.. bahot hi kharab halat hai tracks ki in RMU-KGM route Poorly jointed tracks hai . Purana bhi hai. . Rlys should make use of the land at Haldwani Rly station . Platforms or a coach care centre should be made so that more trains can come to KGM. 6 km distance (KGM-HDW) cover karna , majak ban gaya hai . Shatabdi bhi pit rahi hai. Agar aap dekho to kam se kam ek pit line banne layak space hai Haldwani me. Kathgodam ko to aur ched nahi sakte. Poora Conjested ho gaya hai !
Vaise
...
more...
Sab election ke chakkar me ho raha . Ye har time hota hai election me. In each and every state of India. Prabhu Sir looks more reliable than other RMs. I dont know whether NER had proposed the Infrastructure development . If they had , why did the Railway Ministry Put down those proposals in the past .Blame also goes to RM at the Time when UPA 2 was at the Centre.
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site