Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Tue Feb 28, 2017 08:55:52 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Tue Feb 28, 2017 08:55:52 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 289211
  
यात्रियों के लाभ के लिए मंत्रालय की किराए में रिबेट के निर्णय की घोषणा की।
नया निर्णय 20 दिसम्बर, 2016 से प्रभावी होगा।
रेल मंत्रालय ने राजधानी/शताब्दी/दुरंतो रेलगाड़ियों में फ्लैक्सी किराया प्रणाली की समीक्षा की है, जो सितम्बर, 2016 में शुरू की गई थी। इस समीक्षा के आधार पर यात्रियों के लाभ के लिए कुछ निर्णय किए गए हैं। ये निर्णय 20 दिसम्बर, 2016 से 6 महीने की अवधि के लिए प्रयोग के तौर पर कार्यान्वित किए जाएंगे। इन फैसलों के अनुसार प्रथम चार्ट तैयार होने के बाद खाली बर्थ/सीट पर बुनियादी
...
more...
किराए में 10 प्रतिशत की रियायत दी जाएगी।
राजधानी/शताब्दी/दुरंतो रेलगाड़ियों में तत्काल कोटा में कमी करने का भी निर्णय किया गया है। शुरू में तत्काल कोटा में कुल श्रेणीवार सीटों की 10 प्रतिशत कमी की जाएगी। इसके अतिरिक्त 2 शताब्दी रेलगाड़ियों – नई दिल्ली-अजमेर शताब्दी एक्सप्रेस और चेन्नई सेंट्रल-मैसूर शताब्दी एक्सप्रेस के चुने हुए क्षेत्रों में एसी चेयरकार के किराए में डिस्काउंट देने का निर्णय किया गया है। इन सेक्शनों में अजमेर-जयपुर, जयपुर-किशनगढ़ और मैसूर-बेंगलुरू शामिल हैं।
इन सेक्शनों पर फ्लैक्सी फेयर प्रणाली की बजाए नियत किराया प्रणाली लागू होगी। तीन रेलगाड़ियों के उपर्युक्त सेक्शनों के लिए फ्लैक्सी किराया प्रणाली लागू नहीं होगी। उपरोक्त संशोधित किराए में कोई रियायत/डिस्काउंट/रिबेट नहीं दी जाएगी।
*****
वि. कासोटिया/आरएसबी-5450
(Release ID 56692)
Downloadविज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें

  
472 views
Dec 21 2016 (19:03)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 2098995-1            Tags   Past Edits
Sameeksha kaisee rahee
Khoda Pahad Nikli Chuhiyaa.
A better step would have been to sell 50% seats at basefare and then increase in steps of 10% rather than selling just 10% of seats at base fare and 50%/60% at maximum fare. The max surcharge could have been limited to 40% for all classes just like ACIII class.
Atleast the ACIII of premium trains could
...
more...
have been in the reach of middle class. Today these train have really become an exclusive privilege of rich as only 10% tickets sell at normal fare (actually only 6-7% if tatkal and Emergency/VIP quota seats are taken into account).
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site