Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Tue Jan 24, 2017 08:43:35 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Tue Jan 24, 2017 08:43:35 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 289002
  
नई दिल्ली. रेलवे शताब्दी, राजधानी, दुरंतो एक्सप्रेस की 142 ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम के तहत पहला चार्ट बनने के बाद बची सीटों के लिए करंट बुकिंग पर किराए में 10% की छूट देगा। खुद टीटीई पैसेंजर को 10 फीसदी कम किराए पर टिकट बनाकर देगा। यह जानकारी रेलवे बोर्ड के मेंबर (ट्रांसपोर्ट) मोहम्मद जमशेद ने दी। तत्काल कोटे की बची सीटों को सामान्य सीट में बदल दिया जाएगा। छूट देने की वजह कई सीटों का खाली होना बताया गया है। 50 की जगह 40% हो जाएगी सीलिंग...
- रेलवे ने 9 सितंबर से प्रीमियम ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम की शुरुआत की थी। इसकी वजह कई सीटों/बर्थों का खाली रहना बताया गया था।
-
...
more...
अक्टूबर के अंत में सिस्टम का रिव्यू किया गया। इसके बाद रेलवे ने तय किया कि राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 50% तक बढ़ने वाला बेस फेयर 40 फीसदी से ज्यादा नहीं होगा।
- इसके बारे में नोटिफिकेशन भी जल्द ही जारी होगा।
क्यों लिया गया फैसला?
- रेलवे के एक सीनियर अफसर के मुताबिक, 9 सितंबर-31 अक्टूबर के बीच राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 5 हजार 871 बर्थ खाली रही थी।
- अब प्रीमियम ट्रेनों में चार्ट बनने के बाद पैसेंजर बेस फेयर से 40% (1.4 गुना) किराया देकर ज्यादा बर्थ ले सकेगा।
- बता दें कि फ्लेक्सी फेयर स्कीम सेकंड एसी, थर्ड एसी, एसी चेयरकार और स्लीपर के लिए है। एसी फर्स्ट क्लास और एग्जीक्यूटिव क्लास को इससे बाहर रखा गया है।
- फ्लेक्सी फेयर सिस्टम से सरकार को इस फाइनेंशियल इयर में 500 करोड़ का फायदा होने की उम्मीद है।
समझें, कैसे मिलेगी छूट?
- अभी दिल्ली-मुंबई राजधानी का बेसिक फेयर 1628 रुपए है। कुल किराया 2085 रुपए लगता है। 10% की छूट के हिसाब से 208.5 रु. कम देने होंगे।
क्यों लाया गया फ्लेक्सी फेयर सिस्टम?
- रेलवे की इस पहल से लोग फ्लाइट की ओर ज्यादा जाएंगे। सरकार चाह भी यही रही है, ताकि ट्रेनों पर से कुछ हद तक दबाव कम हो सके।
- हालांकि, इससे रेलवे में टिकट बुक कराने वाले दलाल भी ज्यादा कमाई करने लगेंगे, क्योंकि वे अब कंज्यूमर से ज्यादा चार्ज करेंगे।
- बता दें कि देश में 54 दुरंतो, 42 राजधानी और 46 शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनें हैं।
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site