Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Tue Mar 28, 2017 02:04:51 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Tue Mar 28, 2017 02:04:51 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 291025
  
ब्रैंड वाली ट्रेन,
सुरेश प्रभु के रेल मंत्रालय संभालने के बाद से इस विभाग में आइडिया की आंधी सी चल रही है। हर तीसरे दिन कोई नया आइडिया नमूदार हो रहा है और उसे मीडिया कवरेज भी भरपूर मिल रहा है। मुश्किल सिर्फ एक है कि ये सारे आइडिया मिलकर भारतीय रेलवे की दशा में रत्ती भर भी सुधार नहीं कर पा रहे। और तो और, रेल दुर्घटनाओं की संख्या बढ़ती जा रही है और नामी-गिरामी ट्रेनों की भी पहचान दस-बीस घंटे लेट होने से लेकर ऐन मौके पर कैंसिल हो जाने तक के लिए बनती जा रही है। रेल मंत्री का लेटेस्ट आइडिया ट्रेनों और स्टेशनों को बोली लगाकर बड़े औद्योगिक घरानों को विज्ञापन के लिए सौंप देने का है। इससे
...
more...
भारतीय रेलवे को कुछ आमदनी जरूर हो सकती है, लेकिन जब-तब कुछ हास्यास्पद स्थितियां भी पैदा हो सकती हैं। किसी कॉफी के नाम पर चलने वाली ट्रेन आपको किसी कोल्ड ड्रिंक के नाम पर चल रहे स्टेशन पर पहुंचाएगी। विज्ञापन के मामले में सबसे ज्यादा सक्रियता शराब कंपनियां दिखाती हैं- अपने ब्रैंड नाम से बिकने वाले पानी को आगे रखकर। काफी संभावना है कि एक-दो साल बाद आप किसी व्हिस्की के नाम वाली ट्रेन में सपरिवार यात्रा करते नजर आएं। स्टेशन पर घोषणा हो रही होगी कि शराब के अमुक ब्रैंड वाली एक्सप्रेस अगले पांच मिनट में पहुंचने वाली है। ऐसे में स्टेशन का नाम अगर किसी मसालेदार चिप्स के ब्रैंड वाला हुआ, तब तो मजा ही आ जाएगा। इसका कमजोर पहलू यह है कि ट्रेन और स्टेशनों की सुरक्षा व्यवस्था का ध्यान रखने वालों को अपनी ड्यूटी ज्यादा चुस्ती से निभानी होगी, क्योंकि पैसे देने वाली कंपनियां रेलवे की अपनी कलर स्कीम (जिसमें लाल-हरे सिग्नल भी शामिल हैं) की परवाह किए बगैर स्टेशनों का चप्पा-चप्पा चमकीले रंगों से भर डालेंगी। ये सारी मुश्किलें बर्दाश्त की जा सकती हैं, बशर्ते भारतीय रेलवे अपनी सेफ्टी-सिक्युरिटी, टाइमिंग और क्वालिटी पर पर्याप्त ध्यान दे। अभी तो हाल यह है कि लोगों को अपनी छोटी-छोटी जरूरतों के लिए भी रेल मंत्री के ट्विटर हैंडल को टैग करना पड़ रहा है, इसके बावजूद इनके पूरा होने का प्रतिशत बहुत कम है। दरअसल यह विभाग अपने मंत्री से गुमनामी में रहकर मशक्कत करने की मांग करता है, लेकिन इसका दुर्भाग्य कि खबरों के भूखे मंत्री ही लगातार इसके हिस्से आ रहे हैं।

5 posts - Wed Jan 11, 2017 - are hidden. Click to open.

12 posts - Thu Jan 12, 2017 - are hidden. Click to open.

  
705 views
Jan 19 2017 (13:18)
Guest: 52ad97b9   show all posts
Re# 2123870-20            Tags   Past Edits
Suresh Prabhu sirf idea de sakta hai aur lootne ke liye kiraya badha sakta hai. Sachchai logon ko hazam nahi hoti isliye mere blog posts delete kar diye jaate hain
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site