Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
IR Press Release:

Search
  Go  
 
Sat Jan 31, 2015 06:17:28 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsMembersLoginFeedback
Sat Jan 31, 2015 06:17:28 IST
Modify Search
Trains in the News    Stations in the News    show english news only

News Posts by विश्व नाथ**

Page#    Showing 1 to 10 of 2664 news entries  next>>
  
इनदिनों अगर आपको ट्रेन का सफर करना है तो एक दिन पहले अपना सफर प्लान कर लें। दिन के दिन सफर करने पर आप गंतव्य पर तो जरूर पहुंचेंगे लेकिन हो सकता है कि काम पूरा करने का वक्त ही खत्म हो जाए। कोहरे के कारण ट्रेनों की लेटलतीफी 24 घंटे तक हो गई है। मुसाफिर इससे बेहाल हो रहे हैं। रविवार को महानंदा, भागलपुर गरीबरथ और 24 घंटे और सीमांचल 25 घंटे देरी से इलाहाबाद जंक्शन पहुंची। ट्रेनों की लेटलतीफी से मुसाफिरों को जबदस्त परेशानी हुई। इसके साथ दूसरी प्रमुख ट्रेनें 14 से 15 घंटे तक देरी से पहुंची। राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें भी 10 घंटे तक देरी से पहुंची। एनसीआर के जीएम प्रदीप कुमार दिल्ली से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस से दिल्ली से इलाहाबाद आए। उनकी ट्रेन भी 7 घंटे 45 मिनट देरी से इलाहाबाद पहुंची। जयपुर इलाहाबाद 15 घंटे , महाबोधि 12 घंटे 45 मिनट, मगध 12 घंटे...
Read more...
30 मिनट, पूवा 19 घंटे, शिवगंगा सात घंटा, संपक क्रांति सात घंटा, झारखंड नौ घंटे, मगध डाउन सात घंटे, प्रयागराज सवा सात घंटे देरी से इलाहाबाद पहुंची।
कोहरे के कारण आम मुसाफिरों का सफर मुश्किल हो गया। मेरठ सिटी से आने वाली संगम एक्सप्रेस दो हिस्सों में इलाहाबाद पहुंची। लिंक एक्सप्रेस शाम 5:30 बजे इलाहाबाद जंक्शन आई जबकि संगम 12 घंटे देरी से इलाहाबाद जंक्शन पहुंची। संगम के देरी से आने के कारण रेलवे ने रात 2 बजे के बाद ट्रेन पुटबैक की। शाम 5:45 बजे इलाहाबाद जंक्शन से मेरठ सिटी के लिए चलती है। कोहरे के कारण ट्रेन 12 घंटे देरी से पहुंची। ट्रेन की साफ सफाई और लोडिंग के लिए रेलवे ने ट्रेन को 6 घंटे 30 मिनट पुटबैक किया। इसके साथ ही इलाहाबाद से सहारनपुर जाने वाली नौचंदी देरी से आने के कारण रात 8:45 बजे जंक्शन से छूटी। ट्रेन को सवा तीन घंटे पुटबैक किया गया। इसी तरह जयपुर एक्सप्रेस को साढ़े तीन घंटे पुटबैक किया गया। आज और कल नहीं आएगी पूवापूवा एक्सप्रेस सोमवार और मंगलवार को इलाहाबाद जंक्शन नहीं आएगी। पीआरओ अमित मालवीय ने बताया कि देरी के कारण दोनों ट्रेनें रद रहेंगी।
इलाहाबाद वरिष्ठ संवाददाताइनदिनों अगर आपको ट्रेन का सफर करना है तो एक दिन पहले अपना सफर प्लान कर लें। दिन के दिन सफर करने पर आप गंतव्य पर तो जरूर पहुंचेंगे लेकिन हो सकता है कि काम पूरा करने का वक्त ही खत्म हो जाए। कोहरे के कारण ट्रेनों की लेटलतीफी 24 घंटे तक हो गई है। मुसाफिर इससे बेहाल हो रहे हैं। रविवार को महानंदा, भागलपुर गरीबरथ और 24 घंटे और सीमांचल 25 घंटे देरी से इलाहाबाद जंक्शन पहुंची। ट्रेनों की लेटलतीफी से मुसाफिरों को जबदस्त परेशानी हुई। इसके साथ दूसरी प्रमुख ट्रेनें 14 से 15 घंटे तक देरी से पहुंची। राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें भी 10 घंटे तक देरी से पहुंची। एनसीआर के जीएम प्रदीप कुमार दिल्ली से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस से दिल्ली से इलाहाबाद आए। उनकी ट्रेन भी 7 घंटे 45 मिनट देरी से इलाहाबाद पहुंची। जयपुर इलाहाबाद 15 घंटे , महाबोधि 12 घंटे 45 मिनट, मगध 12 घंटे 30 मिनट, पूवा 19 घंटे, शिवगंगा सात घंटा, संपक क्रांति सात घंटा, झारखंड नौ घंटे, मगध डाउन सात घंटे, प्रयागराज सवा सात घंटे देरी से इलाहाबाद पहुंची।
  
Dec 22 2014 (9:10PM)  सुनिए इनकी पीड़ा गोरखधाम 14 घंटे लेट खाने को तरसे यात्री (epaper.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNER/North Eastern  -  

News Entry# 205961   Blog Entry# 1316704 **new     
   Tags   Past Edits
Dec 22 2014 (9:10PM)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by विश्व नाथ**/31233

Dec 22 2014 (9:10PM)
Train Tag: Gorakhdham SF Express/12556 added by विश्व नाथ**/31233

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
दिल्ली से गोरखपुर की यात्र तो कटने का नाम ही नहीं ले रही थी। जहां खड़ी होती थी, वहीं खड़ी रह जा रही थी। बैलगाड़ी से भी बदतर चाल थी इसकी।एसएन यादव, यात्रीकुछ खाने के लिए नहीं मिला। ट्रेन में पेंट्रीकार भी नहीं था। बिस्किट, नमकीन खाकर काम चलाया। अब तो इस ट्रेन से कभी यात्र नहीं करेंगे। स्वाति ओझा, यात्रीशुक्रवार को दोपहर दो बजे से गोण्डा में मीटिंग थी। अनुमान था कि ट्रेन सुबह 11 बजे तक तो पहुंच ही जाएगी लेकिन रात हो गई। मीटिंग छूट गई।डॉ. वधन, यात्रीट्रेन की लेटलतीफी ने काफी नुकसान कराया है। परीक्षा तो छूटी ही, छुट्टियों का भी नुकसान हो रहा है। क्या करें कोई विकल्प भी तो नहीं है। शुभम, यात्री
गोरखपुर कायालय संवाददाताट्रेनों की लेटलतीफी से किसी की परीक्षा छूट रही है तो किसी की छुट्टी खराब हो रही है। हिसार से
...
Read more...
गोरखपुर आने वाली गोरखधाम सुपरफास्ट (12556) शनिवार को इस कदर लेट हुई कि उसे लखनऊ पहुंचने में 18 घंटे लग गए जबकि दिल्ली से लखनऊ की यात्र महज सात घंटे की है। ट्रेन गोरखपुर जंक्शन पर रात 11.30 बजे के करीब पहुंची। हिसार से चली ट्रेन दिल्ली पहुंचने में ही देर हो गई। दिल्ली से रात नौ बजे छूटने वाली गोरखधाम रात 11:50 बजे छूटी। दोपहर करीब एक बजे ट्रेन कानपुर पहुंची। लखनऊ आते-आते शाम के छह बज गए। इसी ट्रेन से गोरखपुर आ रहे कौड़ीराम के इंजीनियरिंग छात्र शुभम आनन्द बताते हैं वह इन दिनों ट्रेनों की लेटलतीफी से बुरी तरह परेशान हुए हैं। एक सप्ताह पहले वाराणसी से दिल्ली के लिए श्रमजीवी से रवाना हुए लेकिन ट्रेन इस कदर लेट हुई कि सेमेस्टर परीक्षा का एक पेपर ही छूट गया। शुभम बताते हैं कि बुलेट और हाईस्पीड ट्रेन चलाने की बात हो रही हैं लेकिन यह ट्रेनें तो बैलगाड़ी की रफ्तार से भी सुस्त हैं। 13 घंटे की यात्र 27 घंटे में पूरी हो रही है। उनका कहना है कि कॉलेज से 10 दिन की छुट्टी मिली है। दो दिन तो रास्ते में ही निकल गए। यही हाल रहा तो छुट्टी खत्म होने के दो दिन पहले निकलना पड़ेगा।गोरखधाम के लेट होने और पेंट्रीकार न होने के कारण यात्रियों का बुरा हाल था। यात्री नमकीन और बिस्किट खाकर अपनी भूख मिटा रहे थे। इसी ट्रेन से यात्र कर रही श्वेता ओझा ने बताया कि रास्ते में ट्रेनें ऐसी जगह खड़ी हो रही हैं, जहां खाने के लिए भी कुछ नहीं मिल रहा।

5 posts - Mon Dec 22, 2014 - are hidden. Click to open.

  
616 views
Dec 24 2014 (10:21AM)        

prashanttyagi121   1 blog posts  
Re# 1316704-6               Tags   Past Edits
This is a new feature showing the full history of past edits to this Blog Post. All members will now be able to Edit and refine their past and future Blog Posts with NO time limit.
Railway ko ispar dhyan dena chahiye ki yatriyon ko to pareshaniii bahut ho rahhiii haii sath hii railway ko bhii bahut loss ho raha kya har baar iisee tarah railway ko pareshaniiyaan aur yatriyon koo musiibatein jhelne ke liye majboor hota rehna padega kya koi system aisa nahii hai jisse fog asar hii na kar paye...railway koo iss baare me jarur kuch jaldii se jaldiii karna chahiye..coz kal ko GATIMAAN EXPRESS kii bhii haalat aise hii honge..
sardiyyan 2-3 month rahtii haiin to kya 3 month ya 2 month aisa hii chalta rahega...railway apne trains har baar 31 december se 15 februrary tak cancle kar deta hai...yaaniii railway ke liye saal 9 month ka hoga jisme wo purii income kar payega ..aur baakii ke 3 months me uskii income 30-40 pecent less hogii aur Yatrriyon ko pareshaaniii GIFT me milegii..ab
...
Read more...
is par socha naa jaye kuchh kara jaye turant..kyonkiii ab bhii sochoge to kya 10 saal baad use karenge uskoo........
  
Dec 22 2014 (8:46PM)  कोहरे की मार: जानें, कौन-सी वीआइपी ट्रेन कितनी लेट (www.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 205954     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
दिल्ली में ठंड बढ़ने के साथ-साथ कोहरे ने भी अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। यहां सोमवार सुबह से ही घना कोहरा है जिसकी वजह से दृश्यता काफी कम है। इससे यातायात पर काफी असर पड़ा है। भारी कोहरे की वजह से करीब देशभर में 150 से ज्याद ट्रेनें देर से चल रही हैं। साथ ही 12 ट्रेनों के समय में बदलाव किया गया है। रेलवे के मुताबिक, 20 ट्रेनें 10 से ज्यादा घंटे की देरी से चल रही हैं। साथ ही दो ट्रेनों के रूट में बदलाव किया गया है। इसके अलावा दो ट्रेनों को रद्द किया गया था।
मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में सुबह 7 बजे का न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं दिल्ली में कल का दिन 11 साल में सबसे ठंडा दिन रहा। पहाड़ी इलाकों में हो रही जबरदस्त बर्फबारी से मैदानी
...
Read more...
इलाकों में ठंड काफी बढ़ गई है। अमृतसर में भी तापमान में तेजी से गिरावट आई है। कई इलाकों में कोहरे और धुंध की वजह से रेल और यातायात काफी प्रभावित हुआ है।
दिल्ली से अपने गंतव्य तक जाने और आने वालों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। कोहरे का आलम यह है कि दिल्ली आने वाली कई वीआइपी ट्रेनें काफी देरी से चल रही हैं जिसमें शताब्दी, दूरंतो, राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें भी शामिल हैं।
देर से चल रही ट्रेनें
शहीद एक्स (अमृतसर से जयनगर) नौ घंटे
नार्थ ईस्ट (आनंद विहार से गुवाहाटी) पौने पांच घंटे
आनंद विहार-जोगबनी 23 30 घंटे
शताब्दी एक्स (नई दिल्ली से कालका) दो घंटे
गोमती एक्स (लखनऊ से नई दिल्ली) 12 घंटे
संपूर्ण क्रांति एक्स (पटना से नई दिल्ली) पांच घंटे
विक्रमशिला एक्स (भागपुर से आनंद विहार) सात घंटे
राजधानी एक्स (पटना नई दिल्ली) छह घंटे
दरभंगा नई दिल्ली संपर्क क्रांति 6:34 घंटे
सप्त क्रांति (मुजफ्फरपुर से आनंद विहार) 6:10 घंटे
राजधानी एक्स (डिब्रूगढ़ से नई दिल्ली) 3:37 घंटे
अवध असम एक्स (अलीपुर द्वार से दिल्ली) 6:35 घंटे
पुरबैया एक्स (सहरसा से दिल्ली) 6:30 घंटे
ब्रह्रमपुत्रा मेल (डिब्रूगढ से दिल्ली एवं दिल्ली से डिब्रूगढ) 5 घंटे से ज्यादा
गरीब रथ (गया से आनंद विहार) 10 घंटे
दूरंतो एक्स (चेन्नई से हजरत निजामुद्दीन) 11:50 घंटे
वैशाली एक्स (बरौनी से नई दिल्ली) 3 घंटे
हिमगिरी एक्स (हावड़ा से जम्मू तवी)13:30 घंटे
  
डीजल की कीमत में आ रही कमी का असर रेल किराये पर नहीं पड़ेगा. यात्री यह उम्मीद लगाये बैठे थे कि डीजल के दाम घटने के बाद रेल किराये के दाम भी घटेंगे लेकिन सरकार ने यह साफ कर दिया कि फिलहाल रेल किराये में यात्रियों को कोई राहत नहीं मिलने वाली. इसकी वजह यह है कि यात्री सेवाओं के मामले में अभी भी 26,000 करोड़ रुपये का सब्सिडी का बोझ बना हुआ है.रेल मंत्री सुरेश प्रभु से जब यह पूछा गया कि क्या ईंधन लागत में कटौती का असर अगली बार होने वाली ईंधन समायोजन (एफएसी) आधारित रेल किराया संशोधन में दिखेगा? जवाब में उन्होंने कहा, ‘‘यह सही है कि पिछले कुछ महीनों में डीजल के दाम दो-तीन बार घटे हैं, लेकिन इससे पहले पूरे साल ऐसा नहीं हुआ. यात्रियों को पहले ही लाभ मिल रहा है क्योंकि यात्री किराये पर सब्सिडी दी जा रही है.’’ ...
Read more...


प्रभु ने संवाददाताओं से अनौपचारिक बातचीत में कहा, ‘‘रेलवे की आमदनी में दो-तिहाई हिस्सा मालभाडे का है, जबकि एक-तिहाई यात्री किराये से आता है. यात्री सेवाओं के लिये मालभाडा ऊंचा रखकर सब्सिडी दी जा रही है.’’ एफएसी संबद्ध किराया संशोधन दिसंबर में होना था, लेकिन अब इसे फरवरी में आगामी रेल बजट में किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि डीजल के दाम जरुर नीचे आए हैं, लेकिन राज्य बिजली बोर्डों द्वारा दरों में बढ़ोतरी की वजह से रेलवे का बिजली बिल चार प्रतिशत बढ गया है. एफएसी आधारित किराया संशोधन में उस अवधि के लिए डीजल व बिजली लागत को शामिल किया जाता है. रेलवे की घोषित नीति के अनुसार ईंधन तथा बिजली लागत से संबद्ध किराया संशोधन साल में दो बार किया जाता है. आखिरी बार यह संशोधन जून में किया गया था.
  
भिंड इटावा-भिंड ट्रैक पर चंबल नदी के पुल पर शनिवार को १० बार गिट्टी से भरी ३४ डिब्बों की मालगाड़ी दौड़ाई गई इस दौरान आरडीएसओ एसके सिंह और कानपुर आईआईटी की टीम ने ३० किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन चलाकर पुल के छठवें पिलर में आए क्रेक की टेस्टिंग की-डिप्टी चीफ इंजीनियर धर्मेंद्र कुमार पांडे का कहना है टेस्टिंग में यह देखा कि क्रेक पिलर और सामान्य पिलर पर कंपन की क्या स्थिति रही?
  
पूर्व रेलमंत्री ललित नारायण मिश्रा हत्याकांड मामले में कड़कड़डूमा कोर्ट ने गुरुवार को चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। जिला जज विनोद गोयल ने करीब चालीस साल से चल रहे मुकदमे में दोषी करार दिए गए एडवोकेट रंजन द्विवेदी(66), संतोषानंद अवधूत(75), सुदेवानंद अवधूत(79) और गोपाल जी(73) को उम्रकैद की सजा सुनाई। इस हत्याकांड में 39 साल 11 महीने और 16 दिन बाद अपराधियों को सजा सुनाई गई है। बीते 8 दिसंबर को ही अदालत ने चारों को मर्डर, आपराधिक साजिश रचने समेत आईपीसी की कई धाराओं के तहत दोषी करार दिया था। चारों दोषी आनंद मार्ग संगठन के सदस्य बताए जाते हैं।चारों दोषियों ने मिलकर रची हत्‍या की साजिश: जज
जिला जज ने सजा सुनाते हुए कहा कि सबूतों और परिस्थितियों के आधार पर अदालत एलएन मिश्रा हत्या मामले में चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा देती है। अभियोजन पक्ष
...
Read more...
की ओर से दी गई दलीलें साक्ष्यों और स्थितियों को स्पष्ट करती हैं कि चारों दोषियों ने मिलकर हत्या की साजिश रची गई थी। दरअसल, मामले में 15 दिसंबर को हुई सजा पर बहस के दौरान जांच एजेंसी सीबीआई ने आरोपियों को मृत्युदंड दिए जाने का फैसला अदालत पर छोड़ दिया था। इसके बाद कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलों पर गौर करने के बाद सजा सुनाए जाने पर फैसला सुरक्षित कर लिया था और गुरुवार को चारों आरोपियों के लिए उम्रकैद की सजा मुकर्रर की।

दि‍ल्ली में 22 जजों ने की सुनवाई, पड़ीं 720 से ज्‍यादा तारीखें
वैसे, इस केस में अब तक कुल 720 से ज्‍यादा तारीखें पड़ीं। अगर बिहार की अदालतों की बात छोड़ दें, तो केवल दिल्ली की निचली अदालत में ही 22 जजों ने इस केस की सुनवाई की। मामले में 200 से अधिक गवाह थे और अभियोजन पक्ष की ओर से 161 और बचाव में 40 गवाहों को अदालत में पेश किया गया था। इस मामले में सीबीआई पर हमेशा आरोप लगता रहा कि सीबीआई ने इस मामले की ठीक से जांच नहीं की। आरोपों की अंगुलियां तत्कालीन केंद्र सरकार पर भी उठी थी।

भीड़ में से किसी ने फेंका था ललित बाबू पर बम
2 जनवरी, 1975 को समस्तीपुर में ब्रॉड गेज रेल लाइन का उद्घाटन करने गए एलएन मिश्र के ऊपर भीड़ में से ही किसी ने बम फेंक दिया था, जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे। हमले में घायल होने के करीब 12 घंटे बाद तक मिश्र जिंदा रहे। कहा जाता है कि अस्पताल में उचित इलाज नहीं मिलने की वजह से अगले दिन उन्होंने दम तोड़ दिया था।
  
Dec 17 2014 (5:48PM)  अब चलती ट्रेन में भी काटे जा सकेंगे टिकट (www.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyER/Eastern  -  

News Entry# 205155     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
अब टीटीई चलती ट्रेन में टिकट जांच के अलावा यात्रियों की टिकट भी काट सकेंगे। इसके लिए रेलवे उन्हें हैंडहेल्ड मशीन उपलब्ध करा रही है। फिलहाल राजधानी व शताब्दी एक्सप्रेस में चलने वाले टीटीई को यह मशीन दी जा रही है। धीरे-धीरे अन्य महत्वपूर्ण ट्रेनों में भी यह व्यवस्था उपलब्ध कराने की योजना है। इसकी खरीदारी के लिए बजट भी आवंटित कर दिया गया है। इसकी सूचना महाप्रबंधक स्तर के अधिकारियों को दे दी गई है।हैंडहेल्ड मशीन वाइ-फाइ के माध्यम से रेलवे के मुख्य सरवर से जुड़ी होगी। नई व्यवस्था लागू होने से टीटीई की मनमानी पर भी काफी हद तक रोक लग सकेगा। यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे ने कई ट्रेनों में वाइ-फाइ सेवा शुरू की है। इससे यात्री बिना किसी कनेक्शन के चलती ट्रेन में लैपटाप या टैबलेट पर इंटरनेट का प्रयोग कर सकते हैं। इंटरनेट के माध्यम से आम यात्रियों के लिए सुविधा बढ़ाने की भी...
Read more...
रेलवे ने योजना बनाई है। नई व्यवस्था से रेलवे के काम में पारदर्शिता आएगी।
इस संबंध में मालदा रेल मंडल के डीआरएम राजेश अर्गल ने बताया कि फिलहाल राजधानी व शताब्दी एक्सप्रेस में टीटीई को हैंडहेल्ड मशीन उपलब्ध कराई जा रही है। फेज वाइज काम चल रहा है। दूसरी महत्वपूर्ण ट्रेनों में चलने वाले टीटीई को भी हैंडहेल्ड मशीन उपलब्ध कराई जाएगी।
मिलेगी किस-किस तरह की सुविधा
- हैंडहेल्ड मशीन से सीट की उपलब्धता व टिकट जांच के अलावा चलती ट्रेन में टिकट भी काटा जा सकेगा।
- टीटीई जुर्माने की रसीद बना सकेंगे।
- चलती ट्रेन में यात्रियों की टिकट का यात्रा विस्तार हो सकेगा।
- ट्रेन में ही यात्रियों को वापसी का सामान्य टिकट भी मिल जाएगा।
- आरक्षित यात्रियों की सूची व खाली बर्थ की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे टीटीई
  
Dec 17 2014 (5:16PM)  आक्रोशित लोगों ने रोकी ट्रेन (www.jagran.com)
back to top
PoliticsECR/East Central  -  

News Entry# 205133     
   Tags   Past Edits
Dec 17 2014 (5:16PM)
Station Tag: Sitamarhi Junction/SMI added by विश्व नाथ**/31233

Dec 17 2014 (5:16PM)
Train Tag: Muzaffarpur - Sitamarhi - Samastipur Passenger/55506 added by विश्व नाथ**/31233

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर रेल खंड के मेहसौल के पास आरओबी बनाने को लेकर रेलवे द्वारा प्रताप नगर की सड़क को बंद किए जाने से आक्रोशित लोगों ने सवारी गाड़ी 55506 को करीब सवा दो घंटे तक रोके रखा। इस दौरान लोगों ने जमकर हंगामा किया। सूचना के बाद पहुंचे रेलवे के अधिकारियों को लोगों ने बैरंग लौटा दिया। बाद में एसडीओ सदर संजीव कुमार व नगर कोतवाल रामाकांत सिंह ने मौके पर पहुंचकर लोगों को आश्वासन देकर जाम समाप्त कराया। इसके बाद 12.05 बजे ट्रेन मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हुई।
मालूम हो कि आरओबी निर्माण जारी है। मंगलवार को रेलवे ने सड़क को बंद कर दिया। रेल रोको आंदोलन के बाद तत्काल सड़क से मिट्टी काटने का कार्य बंद कर दिया गया है। आगे रेलवे व सिविल के अधिकारी बैठकर मसले का समाधान निकालेंगे।
  
Dec 16 2014 (9:41PM)  भागलपुर में सरिया लदे ट्रक से टकराई ट्रेन जमालपुर रेलखंड पर 5 घंटे परिचालन बाधित (epaper.bhaskar.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsER/Eastern  -  

News Entry# 205037     
   Tags   Past Edits
Dec 16 2014 (9:41PM)
Station Tag: Kahalgaon/CLG added by विश्व नाथ**/31233

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
डाउनजमालपुर-रामपुर पैंसेजर ट्रेन की चपेट में आने से एक ट्रक के परखच्चे उड़ गए। ट्रक दो हिस्सों में बंट गया। ट्रक का चालक कूद कर भाग निकला। घटना कहलगांव से दो किमी दूर बभनगामा के समीप सोमवार की शाम करीब पांच बजे घटी। ट्रेन के चालक द्वारा आपात ब्रेक लगाने से दर्जन भर यात्रियों को चोटें आईं। ट्रक पर सरिया लदा था। टक्कर के बाद पटरी पर सरिए बिखर जाने और ट्रेन के चक्कों में फंस जाने से साहेबगंज-जमालपुर रेलखंड पर करीब पांच घंटे रेल परिचालन बाधित रहा। हादसे की खबर मिलते ही एडीआरएम समेत रेलवे के वरीय अधिकारी घटनास्थल पर घंटे भर के भीतर पहुंच कर राहत बचाव कार्य में जुट गए।
इनट्रेनों पर असर: हादसेके बाद अप वर्धमान पैंसेजर, हावड़ा-जमालपुर सुपर, गया हावड़ा ट्रेनों के परिचालन पर खासा असर पड़ा। करीब पांच घंटे बाद ट्रेनों को गंतव्य के
...
Read more...
लिए रवाना कर दिया गया।
^ट्रेन के इंजन का सेल काउ कैचर डैमेज हुआ है जिसे काट कर हटा दिया गया। हादसे में कोई भी यात्री हताहत नहीं हुआ है। ट्रक चालक फरार है। परिचालन बहाल कर दिया गया है। हादसे की जांच के आदेश दे दिये गए हैं। दोषियों पर कार्रवाई होगी। एस.एस.श्रीवास्तव, एडीआरएम,मालदा डिविजन
जमालपुर-रामपुर पैंसेजर ट्रेन की चपेट में आने से ट्रक दो हिस्सों में बंट गया।
  
Dec 14 2014 (3:03PM)  यात्र में सुरक्षा के लिए रेलवे जिम्मेदार (epaper.livehindustan.com)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 204695     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: विश्व नाथ**  2664 news posts  
एक उपभोक्ता शादी तय करने के ¶िए ट्रेन से सफर कर रही थी। साथ ही वह खुद रे¶वे कमचारी भी थीं। रास्ते में सफर के दौरान रात के 2 बजे ट्रेन के उस कोच में कुछ शरारती तत्व चढ़ गए और उनसे छीना-झपटी करने ¶गे। छीना-झपटी में बदमाश उनका पस झपट कर भाग गए। उपभोक्ता के मुताबिक उस पस में करीब 1.63 लाख रुपये और कुछ आभूषण भी थे। उपभोक्ता ने हादसे के वक्त शोर मचाया और मदद की अपील की। साथ ही उपभोक्ता ने ट्रेन की जंजीर भी खींची, ¶ेकिन उनकी मदद के लिए कोई नहीं आया। आखिरकार उपभोक्ता ने रे¶वे पु¶िस में प्राथमिकी दज कराई।इधर, रे¶वे की ¶ापरवाही के आधार पर उपभोक्ता ने जि¶ा उपभोक्ता फोरम में शिकायत की, जिसमें 1.63 ¶ाख रुपये का मुआवजा मांगा। फोरम ने शिकायत मंजूर कर ली। जि¶ा उपभोक्ता फोरम ने सुनवाई के बाद अपने फैस¶े में रे¶वे को 75,000 रुपया मुआवजा, 3,000...
Read more...
रुपये मानसिक प्रताड़ना और 2,000 रुपये वाद खच के रूप में रे¶वे को चुकाने का आदेश दिया और निश्चित समयसीमा में रकम नहीं देने पर नौ प्रतिशत ब्याज भी चुकाने का आदेश जारी किया। फैस¶े के खिलाफ रे¶वे ने राज्य उपभोक्ता फोरम में अपील की। यहां भी रे¶वे को दोषी मानते हुए राज्य उपभोक्ता फोरम ने सिफ मुआवजे की राशि को 75,000 रुपये से घटाकर 65,000 रुपये कर दिया और बाकी फैसला पूववत रखा। रे¶वे ने राष्ट्रीय उपभोक्ता फोरम में रिवीजन याचिका डा¶ी। सुनवाई के दौरान रे¶वे ने यह दली¶ दी कि उपभोक्ता रे¶वे का ग्राहक नहीं है, बल्कि वह रे¶वे का कमचारी है और वह यात्र रे¶वे के पास पर कर रही थीं। इस पर फोरम ने रे¶वे को कहा कि कमचारी होने के बावजूद रे¶वे अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हट सकता। सफर के दौरान कोच की सुरक्षा और आने-जाने वा¶े पर नजर रखने की जिम्मेदारी ट्रेन के साथ चल रहे टीटीई की है। टीटीई अपनी जिम्मेदारी को नकार नहीं सकता। इस¶िए यह पूरी तरह से रे¶वे की ¶ापरवाही है और उपभोक्ता की शिकायत सही है। आखिरकार राष्ट्रीय उपभोक्ता फोरम ने रे¶वे की रिवीजन याचिका को खारिज कर दिया और राज्य उपभोक्ता फोरम के फैस¶े को बहा¶ कर दिया और साथ ही रे¶वे को 10,000 रुपये दंड के रूप में जमा कराने का भी आदेश दिया।यूनियन ऑफ इंडिया और अन्य बनाम अंजना सिंह चौहान, वॉल्यूम-4, 2014, सीपीजे, पेज संख्या - 198(एनसी)
उपभोक्ता मामलों के जानकार
Page#    2664 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site