Forum Super Search
 ♦ 
×
HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Mon Sep 25, 2017 19:08:01 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Mon Sep 25, 2017 19:08:01 IST

Blog Entry# 1985121  
Posted: Sep 08 2016 (20:39)

11 Responses
Last Response: Sep 09 2016 (00:54)
  
बजट के आम बजट में समाहित होने पर कोई चर्चा भी नहीं हुई तो इसका सबसे बड़ा नुकसान आम पैसेंजरों का ही होगा
सरकार के संकेतों से साफ हो चला है कि रेल बजट अब इतिहास के पन्नों में सिमट जाएगा। अलग से रेल बजट पेश करने की बजाय उसे आम बजट का ही हिस्सा बना दिया जाएगा। इस तरह आगे से न तो कोई रेल बजट होगा, न ही उस पर संसद में कोई बहस हो पाएगी। जिस तरह आम बजट में दूसरे मंत्रालयों का जिक्र होगा, उसी तरह रेलवे का भी हो जाएगा। लेकिन क्या इससे रेलवे और रेल में सफर करने वाली जनता का कुछ भला होगा/ क्या इससे रेलवे की आमदनी बढ़ जाएगी, या फिर उसकी उत्पादकता पर
...
more...
कोई पॉजिटिव असर पड़ेगा/ रेल बजट को समाप्त करने के पक्षधर लोग इसे एक बड़ा रिफार्म बता रहे हैं। लेकिन यह रिफॉर्म है, या सिर्फ एक बदलाव/
अंधेरे में यात्री
हर बदलाव रिफॉर्म यानी सुधार नहीं होता। अगर रेल बजट को समाहित करके अलग से बजट की छपाई को खत्म करना, संसद में उस पर बहस में ‘जाया होने वाला’ संसद का वक्त बचाना, सांसदों की अपने क्षेत्र में लाइनें बिछाने, ट्रेनें चलाने का दबाव खत्म करना ही इस फैसले का मकसद है तो इसे रिफॉर्म नहीं कहा जा सकता। यह तर्क इसलिए भी लचर माना जाएगा, क्योंकि ऐसे रिफॉर्म का मतलब यह है कि सरकार जिन जगहों पर दबाव न झेल सके, उन्हें खत्म ही कर देना चाहिए। ऐसे में तो अगर किसी विभाग में करप्शन हो और उस विभाग की मशीनरी ही कमजोर हो तो क्या उसे खत्म कर देना चाहिए/ ऐसे तो सरकार को अपने ज्यादातर महकमे बंद कर देने होंगे, क्योंकि करप्शन की शिकायतें किस विभाग से नहीं आतीं/
रेल बजट को आम बजट में समाहित करने के बाद वहां रेलवे को कितनी जगह मिल पाएगी, यह अभी साफ नहीं है। क्या वित्त मंत्री उसी तरह से रेल बजट पढ़ेंगे, जैसे रेल मंत्री पढ़ते थे, या फिर रेलवे के समूचे लेखे-जोखे को एक एनेक्सर की तरह यूज किया जाएगा/ यह तो बाद में पता चलेगा लेकिन इस फैसले को लेकर सबसे बड़ी चिंता यह है कि कहीं इससे रेलवे की पारदर्शिता ही खत्म न हो जाए। इसकी आशंका इसलिए है, क्योंकि आजादी के बाद के सात दशकों में रेलवे का कामकाज जनता को साफ नजर आता है। उसकी दुर्दशा की भी चिंता होती है और उसकी अच्छाई भी लोगों तक पहुंचती है। यहां तक कि यह जानकारी भी मिलती है कि रेलवे को एक रुपया कमाने के लिए 90 पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं या 95 पैसे। लेकिन क्या रेल बजट खत्म होने के बाद यह सब हो पाएगा/ क्या किसी को पता चलेगा कि रेलवे की आर्थिक हालत क्या है/
इसे दूसरे रूप में भी देखा जा सकता है। अभी रेलमंत्री बजट में घोषणाएं करते हैं तो एक साल के बाद पता चलता है कि उन्होंने जितने ऐलान किए थे, उनमें से कितने पूरे हुए और कितने हवाई साबित हुए। लेकिन जब बजट का ही पता नहीं चलेगा तो कौन जान पाएगा कि रेलवे ने क्या करने को कहा था और क्या किया/ भारत जैसे देश में रेलवे से जुड़ी सबसे अहम बात यह है कि यह आम लोगों का यातायात साधन है और लोग इससे जुड़े हुए हैं। देश के हर कोने में लोगों को उम्मीद होती है कि उनके क्षेत्र को इस बार रेल बजट में जरूर कुछ न कुछ मिलेगा। लेकिन अगर रेल बजट ही नहीं होगा तो फिर कौन क्या उम्मीद करेगा/ यूं कहें कि देश के इस सबसे बड़े सरकारी कमर्शल वेंचर से जनता की उम्मीदें ही खत्म हो जाएंगी। क्या यह जरूरी नहीं है कि रेल बजट को समाप्त करने का फैसला लेने से पहले देश में इस पर बहस हो/ क्या लोगों के सामने यह साफ नहीं होना चाहिए कि इस कदम से देश का फायदा होगा या नुकसान /
इस निर्णय के पक्ष में दिया जा रहा यह तर्क भी दिलचस्प है कि रेल बजट बनाने में लंबा वक्त लगता है, उस पर पैसा खर्च होता है और फिर संसद में लंबी-चौड़ी बहस होती है। लेकिन सवाल यह है कि क्या रेल बजट को आम बजट में समाहित कर देने से ही रेलवे की उत्पादकता बढ़ जाएगी, उसका घाटा कम हो जाएगा और वह रातोंरात एक चमकता हुआ ऑर्गनाइजेशन बन जाएगा/ यह सही है कि रेल बजट बनता है तो वक्त भी लगता है और उसके छपने पर कागज भी खर्च होता है लेकिन यह क्यों नहीं सोचा जाता कि जब बजट बनता है तो उससे पहले प्लानिंग होती है। रेलवे अफसरों पर दबाव होता है कि वे सुविधाओं के विस्तार के लिए नए आइडिया लाएं। इसके साथ पिछले बजट के वादों को पूरा करने की चिंता भी जुड़ी होती है, वरना सरकार के लिए संसद में जवाब देना मुश्किल हो जाता है।
नौकरशाही का दबदबा
संसद में जब रेल बजट पर चर्चा होती है तो सांसद उस दौरान अपनी शिकायतें भी रखते हैं। लेकिन ये शिकायतें उनकी अपनी नहीं, उनके क्षेत्र की जनता की होती हैं। इस तरह जनता का फीडबैक संसद में गूंजता है और उसका असर भी होता है। लेकिन अगर रेल बजट के आम बजट में समाहित होने पर कोई चर्चा भी नहीं हुई तो इसका सबसे बड़ा नुकसान आम पैसेंजरों का ही होगा। वैसे सवाल यह भी है कि अगर रेलवे पर चर्चा न होने से इसका भला हो जाएगा, तो फिर आम बजट पर भी तो इसी तरह तैयारियां होती हैं। ऐसे में क्या देर-सबेर उसे भी खत्म कर दिया जाएगा और सरकार का हर काम नौकरशाही के दबदबे में ही चला करेगा/
(लेखक एनबीटी के सहायक संपादक हैं)
इसे आम बजट में समाहित करने से रेलवे की पारदर्शिता कम होगी

6 posts - Thu Sep 08, 2016

  
Prabhu ke liye sukun wali news.... Ir ki Train ab time se chal rahi ....rly ke survey ke hisab se Operating ratio 82% huwa

  
Sep 08 2016 (21:27)
©The Dark Lord™~   8303 blog posts   2 correct pred (67% accurate)
Re# 1985121-8            Tags   Past Edits
NTES k farji updates ka asar.

  
Sep 08 2016 (23:01)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   14965 blog posts   3076 correct pred (65% accurate)
Re# 1985121-9            Tags   Past Edits
Mgs-ald may train kuch sudhri h ...ye baat to h

  
2094 views
Sep 09 2016 (00:35)
DhnEcr~   5571 blog posts
Re# 1985121-10            Tags   Past Edits
13131 ko short terminate kiya hai upto PNBE aur kauns si train hati hai bhala

  
Sep 09 2016 (00:54)
anirudhpuri~   1670 blog posts
Re# 1985121-11            Tags   Past Edits
Bhai trains k distance k according time bahot jyada hai.... time par to chalegi hi.... abhi time par chal rahi hai fir b4 bhi chalegi.... or credit prabhu ko milega.... sabko ullllu bana gaye.... waah prabhu waah

ARP (Advanced Reservation Period) Calculator

Reservations Open Today @ 8am for:
Trains with ARP 10 Dep on: Thu Oct 5
Trains with ARP 15 Dep on: Tue Oct 10
Trains with ARP 30 Dep on: Wed Oct 25
Trains with ARP 120 Dep on: Tue Jan 23

  
  

Rail News

New Trains

Site Announcements

  • Entry# 2418661
    Today (07:09AM)


    @all: There are some changes coming to the PNR Forum. 1. All PNRs will be anonymized, i.e. you won't see who posted the PNRs or search PNRs by Traveller. This is to better protect the confidentiality of travelling members and their travel plans. However, members will still be able to search their OWN...
  • Entry# 2409730
    Sep 15 (11:46PM)


    In recent times, the number of FM Complaints regarding "targeting me", "offensive content", "sarcastic comment" have been increasing. This has led to increased censorship and throttling of open discussions. . This is a clarification that this site is meant for a FREE EXCHANGE of ideas. Some arguments/debates/disagreements/jokes/sarcasm are ALLOWED and are an integral...
  • Entry# 2390218
    Aug 25 2017 (12:59PM)


    There has been a partial rollout of a modification to Timeline entries. The implementation will be complete within a week. 1. Void & RAC buttons have been removed. . 2. TL Entries can now be Edited and Fixed by the original updater, if there are errors. So there is no need to Void TLs...
  • Entry# 2175399
    Feb 23 2017 (01:22PM)


    There has recently been a lot of frustration among RFs when their Station Pics, Loco Pics, Train Pics get rejected because the "number is not showing", "shed is not visible", the loco/train is at a distance, Train Board is too small, "better pic available", etc. . To address this issue, effective tomorrow, ALL...
  • Entry# 2165159
    Feb 15 2017 (09:53AM)


    A minor update, but may impact many members: Hereafter, FMs will be able to delete invalid Red Flags on Imaginary trains. Red Flags can be removed by FMs, only against specific complaints filed against the blog. This does not give all members the right to complain against EVERY single red flag they...
  • Entry# 2155798
    Feb 08 2017 (11:40AM)


    -@all members: As of recently, there has been a trend whereby minor name updates of Trains/Stations - whether such and such regional name should be there or not, whether the train should be called "Abc Express" or "Abc Superfast Express", etc. are threatening to take over the majority of Timeline entries. Also,...
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.