Forum Super Search
 ♦ 
×
HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Thu Sep 21, 2017 05:19:04 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Thu Sep 21, 2017 05:19:04 IST

Blog Entry# 2381885  
Posted: Aug 16 2017 (16:15)

1 Responses
Last Response: Aug 16 2017 (16:15)
  
Rail News
0 Followers
283 views
Commentary/Human InterestNR/Northern  -  
Aug 16 2017 (06:32)   कागजों में सिमटी पांच रैपिड रेल कॉरिडोर की ‘डोर’

जय माता दी🙏😊^~   2400 news posts
Entry# 2381885   News Entry# 311805         Tags   Past Edits
संजीव गुप्ता, नई दिल्ली1दिल्ली- एनसीआर को रफ्तार देने के लिए प्रस्तावित आठ में से पांच रैपिड रेल कॉरिडोर की डोर कागजों में सिमटती नजर नजर आ रही है। इनकी योजना कई साल पहले बनी थी, लेकिन अब तक न तो डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार हुई है और न ही कोई अन्य कार्यवाही। 1 एनसीआर ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन कहता है कि शहरी विकास मंत्रलय से अभी हरी झंडी नहीं मिली है। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड द्वारा कराए गए एक अध्ययन के मुताबिक रोजगार के अवसरों की अधिकता की वजह से सर्वाधिक शहरीकरण दिल्ली-एनसीआर का ही हो रहा है। यहां आबादी बढ़ने की दर भी विश्वस्तर पर सर्वाधिक आंकी गई है। इसीलिए वर्ष 2005 में बोर्ड ने भविष्य की परिवहन जरूरतों की योजना बनाने के लिए शहरी विकास मंत्रलय के सचिव की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन किया। 1 टास्क फोर्स ने वर्ष 2007-2008 में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के एनसीआर...
more...
पार्ट-1 एवं पार्ट-2 में शामिल विभिन्न शहरों के बीच रैपिड रेल शुरू करने की अनुशंसा की। आठ कॉरिडोर भी चिह्न्ति किए गए। इनमें से दिल्ली-पानीपत, दिल्ली- मेरठ और दिल्ली-अलवर कॉरिडोर पर दो-तीन साल बाद कुछ काम शुरू हुआ। वर्ष 2011 में दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और केंद्र सरकार के बीच करार हुआ। इसमें तय हुआ कि चारों राज्य कुल पचास फीसद का खर्च वहन करेंगे। यानी प्रत्येक राज्य को महज 12.5 फीसद खर्च उठाना होगा।1जानकारी के मुताबिक उक्त तीनों कॉरिडोर की योजना पर तो फिर भी काम चल रहा है, लेकिन बाकी पांच का भविष्य ‘भूत’ बनता जा रहा है। सालों बाद भी इनकी योजना को लेकर कोई प्रगति नहीं हुई है। 1एनसीआर ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने के अनुरोध पर बताया कि काम शुरू करने के लिए केंद्रीय शहरी विकास मंत्रलय की सहमति और अनुमति दोनों जरूरी है, जबकि सरकार का फोकस तीन कॉरिडोर पर ही है। शेष पांच को लेकर सरकार के स्तर पर कोई भी संकेत नहीं मिल रहा है। इसलिए अभी कहा जा सकता है कि ये ठंडे बस्ते में हैं।1संजीव गुप्ता, नई दिल्ली1दिल्ली- एनसीआर को रफ्तार देने के लिए प्रस्तावित आठ में से पांच रैपिड रेल कॉरिडोर की डोर कागजों में सिमटती नजर नजर आ रही है। इनकी योजना कई साल पहले बनी थी, लेकिन अब तक न तो डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार हुई है और न ही कोई अन्य कार्यवाही। 1 एनसीआर ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन कहता है कि शहरी विकास मंत्रलय से अभी हरी झंडी नहीं मिली है। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड द्वारा कराए गए एक अध्ययन के मुताबिक रोजगार के अवसरों की अधिकता की वजह से सर्वाधिक शहरीकरण दिल्ली-एनसीआर का ही हो रहा है। यहां आबादी बढ़ने की दर भी विश्वस्तर पर सर्वाधिक आंकी गई है। इसीलिए वर्ष 2005 में बोर्ड ने भविष्य की परिवहन जरूरतों की योजना बनाने के लिए शहरी विकास मंत्रलय के सचिव की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन किया। 1 टास्क फोर्स ने वर्ष 2007-2008 में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा के एनसीआर पार्ट-1 एवं पार्ट-2 में शामिल विभिन्न शहरों के बीच रैपिड रेल शुरू करने की अनुशंसा की। आठ कॉरिडोर भी चिह्न्ति किए गए। इनमें से दिल्ली-पानीपत, दिल्ली- मेरठ और दिल्ली-अलवर कॉरिडोर पर दो-तीन साल बाद कुछ काम शुरू हुआ। वर्ष 2011 में दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और केंद्र सरकार के बीच करार हुआ। इसमें तय हुआ कि चारों राज्य कुल पचास फीसद का खर्च वहन करेंगे। यानी प्रत्येक राज्य को महज 12.5 फीसद खर्च उठाना होगा।1जानकारी के मुताबिक उक्त तीनों कॉरिडोर की योजना पर तो फिर भी काम चल रहा है, लेकिन बाकी पांच का भविष्य ‘भूत’ बनता जा रहा है। सालों बाद भी इनकी योजना को लेकर कोई प्रगति नहीं हुई है। 1एनसीआर ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने के अनुरोध पर बताया कि काम शुरू करने के लिए केंद्रीय शहरी विकास मंत्रलय की सहमति और अनुमति दोनों जरूरी है, जबकि सरकार का फोकस तीन कॉरिडोर पर ही है। शेष पांच को लेकर सरकार के स्तर पर कोई भी संकेत नहीं मिल रहा है। इसलिए अभी कहा जा सकता है कि ये ठंडे बस्ते में हैं।1हरी झंडी के इंतजार में पांच कॉरिडोर11. >>दिल्ली-फरीदाबाद-बल्लभगढ़- पलवल12. >>गाजियाबाद-खुर्जा13. >>दिल्ली-बहादुरगढ़-रोहतक14. >>गाजियाबाद-हापुड़15. >>दिल्ली-शाहदरा-बड़ौत1तीन की ताजा स्थिति11. >>दिल्ली-पानीपत : डीपीआर को दिया जा रहा अंतिम रूप12. >>दिल्ली-अलवर : डीपीआर को दिया जा रहा अंतिम रूप13. दिल्ली-मेरठ : डीपीआर तैयार, उत्तर प्रदेश सरकार के बाद दिल्ली सरकार की स्वीकृति का इंतजार

  
587 views
Aug 16 2017 (16:15)
a2z~   2033 blog posts
Re# 2381885-1            Tags   Past Edits
Rapid Rail Corridor ka Rapid Mantra-
-
Poora NCR ke liye, RRC study karaya
Ek saath 8 routes ki, report banaya
Construction karne ka, vichaar aaya
8
...
more...
kuch jyaada hai, aisa samajh aaya
3 routes, shuru karne par jor lagaaya
Par MoUD ko, kuch bhi raas na aaya
-
waqt soch vichar mein, tu na gawa re bhaiyya
teenon ko lapetna, hai ek badi bhul bhulaiyya
Ek ko pakad ke, seedha chal-de tu chaaiya chaaiya
Nibta de tu ek ko, apna pura zor laga ke haiya
-
Chal gayi theek, to yeh hai gazab ki pudia
Baakiyon ko pakd ke, RRC ki baha de nadiya
Chali na theek to bhool ja, maar ke ise goliya
Akhir kya kaam ki, ye hai ek bezaan si gudiya

ARP (Advanced Reservation Period) Calculator

Reservations Open Today @ 8am for:
Trains with ARP 10 Dep on: Sun Oct 1
Trains with ARP 15 Dep on: Fri Oct 6
Trains with ARP 30 Dep on: Sat Oct 21
Trains with ARP 120 Dep on: Fri Jan 19

  
  

Rail News

  • ओएचई वायर टूटने से मेट्रो सेवा रही बाधित  News Entry# 317571
    by: जय माता दी🙏😊^~  Today (05:14)


    जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : द्वारका व द्वारका मोड़ मेट्रो स्टेशन के बीच में ओएचई वायर (ओवरहेड इलेक्टिक वायर) टूटने के बाद करीब पचास मिनट तक मेट्रो सेवा धीमी रही। इस दौरान द्वारका व द्वारका मोड़ मेट्रो स्टेशन पर सिंगल लाइन से ही मेट्रो की आवाजाही होती रही। इस कारण मेट्रो...
  • India gets its first high horse power loco from Alstom France  News Entry# 317570
    by: Akhlaq~  Today (00:45)


    India’s dream for high horse power locomotive moved closer to reality with the arrival of the first bodyshell of 12000 HP loco from Alstom France at Kolkata port today. This first-of-its-kind high-power electric locomotive will be used to haul freight trains at twice the existing speed by next year. The bodyshell...
  • Good news: Railways food must carry details of quantity, supplier, says Railway Minister Piyush Goyal - The Financial Express  News Entry# 317569
    by: IR no more Safe  Yesterday (23:46)


    Railway Minister Piyush Goyal has asked officials to ensure that meals served on board trains carry information about quantity and the contractor supplying it, as the national carrier continues efforts to improve catering services. In a letter addressed to all zonal general managers, the railway board has said that Goyal has...
  • एक साथ मिले कई तोहफे तो खिले उठे चेहरे  News Entry# 317568
    by: Saurabh*^~  Yesterday (23:46)


    जागरण संवाददाता, गाजीपुर: जिलेवासियों के लिए बुधवार का दिन खास रहा। एक साथ कई सौगात पाकर लोगों के चेहरे चमक उठे। मंत्री मनोज सिन्हा के सिटी स्टेशन परिसर में आते ही पूरा पंडाल हर-हर महादेव के उद्घोष से गूंज उठा। एनसीसी कैडेटों से गार्ड आफ आनर के बाद वे सीधे मंच...
  • Office-goers cheer Metro for saving on time, money  News Entry# 317567
    by: rdb*^  Yesterday (22:32)


    LUCKNOW: The city, which is frequently slowed down by jams, witnessed smooth traffic around Kanpur Road on Thursday. This was made possible by Lucknow Metro, which gave fast, uninterrupted rides to commuters and with none of the hurdles it had run into on the opening day. As several office-goers enjoyed the...

New Trains

Site Announcements

  • Entry# 2409730
    Sep 15 (11:46PM)


    In recent times, the number of FM Complaints regarding "targeting me", "offensive content", "sarcastic comment" have been increasing. This has led to increased censorship and throttling of open discussions. . This is a clarification that this site is meant for a FREE EXCHANGE of ideas. Some arguments/debates/disagreements/jokes/sarcasm are ALLOWED and are an integral...
  • Entry# 2390218
    Aug 25 (12:59PM)


    There has been a partial rollout of a modification to Timeline entries. The implementation will be complete within a week. 1. Void & RAC buttons have been removed. . 2. TL Entries can now be Edited and Fixed by the original updater, if there are errors. So there is no need to Void TLs...
  • Entry# 2175399
    Feb 23 2017 (01:22PM)


    There has recently been a lot of frustration among RFs when their Station Pics, Loco Pics, Train Pics get rejected because the "number is not showing", "shed is not visible", the loco/train is at a distance, Train Board is too small, "better pic available", etc. . To address this issue, effective tomorrow, ALL...
  • Entry# 2165159
    Feb 15 2017 (09:53AM)


    A minor update, but may impact many members: Hereafter, FMs will be able to delete invalid Red Flags on Imaginary trains. Red Flags can be removed by FMs, only against specific complaints filed against the blog. This does not give all members the right to complain against EVERY single red flag they...
  • Entry# 2155798
    Feb 08 2017 (11:40AM)


    -@all members: As of recently, there has been a trend whereby minor name updates of Trains/Stations - whether such and such regional name should be there or not, whether the train should be called "Abc Express" or "Abc Superfast Express", etc. are threatening to take over the majority of Timeline entries. Also,...
  • Entry# 2147631
    Feb 01 2017 (11:05AM)


    A new experimental feature is being introduced called BotD - "Blog of the Day". The rules are: . 1. Replies are not eligible - only the Top Blog. 2. ONLY Blogs posted today (the day of the vote) are eligible. 3. Every member has ONE vote. In the course of the day, you may keep...
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.