Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Poorva Express: हुगली सी बहती तेरी चाल है पूर्वा तू बेमिसाल है - Keshav Singh

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Oct 30 05:12:24 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search
Page#    398235 news entries  <<prev  next>>
Yesterday (23:12) Bullet Train: देश की पहली बुलेट ट्रेन का ठेका इस कंपनी को मिला, 2 घंटे में पहुंचेंगे मुंबई से अहमदाबाद (www.naidunia.com)
IR Affairs
WR/Western
0 Followers
1262 views

News Entry# 423130  Blog Entry# 4762200   
  Past Edits
Oct 29 2020 (23:12)
Station Tag: Ahmedabad Junction/ADI added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 29 2020 (23:12)
Station Tag: Mumbai Central/MMCT added by Adittyaa Sharma/1421836
Bullet Train: दिग्गज कंपनी लार्सन एंड टूब्रो (Larsen and Toubro) को मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन (Bullet Train) परियोजना के लिए सरकार से 25000 करोड़ रुपए का ठेका मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के एक हिस्से को पूरा करने के लिए एल एंड टी कंपनी को यह ठेका दिया गया है। एल एंड टी कंपनी के सीईओ और प्रबंध निदेशक एसएन सुब्रमणियम ने बुधवार को वित्तीय परिणाम की घोषणा करते हुए बताया कि कंपनी ने सरकार से अभी तक का सबसे बड़ा अनुबंध हासिल किया है। यह इतनी बड़ी राशि का सिंगल प्रोजेक्ट ऑर्डर है, जिसे सरकार ने दिया है।
SN Subrahmanyam ने कहा, इस प्रोजेक्ट को चार साल में पूरा करना होगा। हमें विश्वास
...
more...
है कि हम इस प्रोजेक्ट को डेडलाइन के अंदर पूरा कर लेंगे। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन ने 24 सितंबर को अहमदाबाद-मुंबई बुलेट रेल परियोजना के लिए करीब 1.08 लाख करोड़ रुपए की बोलियों को खोला था, इसमें परियोजना का गुजरात में पड़ने वाला हिस्सा शामिल है। इस bidding प्रक्रिया में सात कंपनियों ने हिस्सा लिया था।
मुंबई से अहमदाबाद के बीच की 508 किलोमीटर की दूरी को इस प्रोजेक्ट के तहत दो घंटे में पूरा किया जाएगा। इस टेंडर में कुल प्रोजेक्ट का 47 प्रतिशत हिस्सा कवर होगा जो वापी से वडोदरा के बीच का होगा। इस 237 किलोमीटर वाले कॉरिडोर में चार स्टेशन वापी, बिलिमोर, सूरत और भरूच शामिल है। इस रूट में 24 नदियां और 30 रोड़ क्रॉसिंग शामिल है। इस प्रोजेक्ट में निर्माण कार्य में 90000 लोगों प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर नौकरियां मिलेंगी।
मुंबई और अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की कुल लागत 1.08 करोड़ रुपए है और इसके लिए जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी फंडिंग कर रही है। प्रधानमंत्री Narendra Modi और जापान के प्रधानमंत्री Shinzo Abe ने सितंबर 2017 में इस प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी थी।
Yesterday (20:30) धनबाद मंडल में अब 100 किमी की रफ्तार से चलेगी मालगाड़ी, कोयला ढुलाई प्रक्रिया को बढ़ाने के प्रयास तेज (m.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
4170 views

News Entry# 423102  Blog Entry# 4762077   
  Past Edits
Oct 29 2020 (20:30)
Station Tag: Singrauli/SGRL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 29 2020 (20:30)
Station Tag: Krishnashilla/KRSL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 29 2020 (20:30)
Station Tag: Shaktinagar (Terminal)/SKTN added by Anupam Enosh Sarkar/401739
सोनभद्र, जेएनएन। पूर्व मध्य रेलवे धनबाद रेल मंडल प्रबंधक आशीष बंसल एवं रेलवे हाजीपुर जोन के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) दिनेश कुमार ने गुरुवार को ऊर्जांचल के शक्तिनगर, कृष्णशिला, सिंगरौली, महदहिया आदि रेलवे स्टेशनों का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए विकास कार्यों की प्रगति की जानकारी ली। अपराह्न में सैलून से शक्तिनगर रेलवे स्टेशन पहुंचे डीआरएम ने सुरक्षा, भवन निर्माण, रेलवे दोहरीकरण समेत अन्य कार्यों की संबंधित अधिकारियों से विस्तृत जानकारी ली। कहा कि कामर्शियल मायने में यह क्षेत्र धनबाद मंडल के लिए काफी महत्वपूर्ण है। कोयला ढुलाई प्रक्रिया को और बढ़ाने के साथ मालगाड़ी की गति को बढ़ाने के लिए सभी बिंदुओं पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। दोहरीकरण के लिए बिछाई जा रही रेल पटरियों पर अब 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन चलेगी। वर्तमान में रेल लाइन पर ट्रेनों की गति सीमा काफी घुमाव होने के कारण बढ़ नहीं पा रही थी। ...
more...

रेलवे दोहरीकरण, विद्युतीकरण आदि कार्यों की जानकारी लेते हुए उन्होंने और तीव्र गति से कार्य करने का निर्देश दिया। कहा कि मार्च 2022 तक 44 किमी. दोहरीकरण का सभी कार्य पूरे कर लिए जाएंगे। कार्यदायी संस्था को दिसंबर 2021 तक सभी कार्य पूर्ण कर लेने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने नवनिर्मित रेलवे स्टेशन व अन्य स्थलों का स्थलीय निरीक्षण कर आवश्यक सुझाव दिए। इससे पूर्व उन्होंने सिंगरौली रेलवे स्टेशन का निरीक्षण कर वहां के विकास कार्यों की जानकारी ली। शक्तिनगर से डीआरएम सड़क मार्ग द्वारा रेणुसागर पावर डिविजन भी गए। डीआरएम के साथ सीनियर डीएसओ एके राय, सीनियर डीसीएम एके पांडेय, मुख्य अभियंता सिविल आरके सिन्हा एवं डीपीओ, डीपीइ, डीइएन, डीएससीइ समेत धनबाद मंडल के तमाम अधिकारी मौजूद रहे।
डीआरएम को ज्ञापन सौंपा
सोर्ड एनजीओ की अध्यक्ष रीना सिंह व आशीष मिश्रा ने शक्तिनगर में डीआरएम को ज्ञापन सौंपा। सिंगरौली में भाजपा मंडल अध्यक्ष भूपेंद्र गर्ग एवं सिंगरौली विकास मंच के अध्यक्ष सतीश उत्पल ने ज्ञापन सौंपा। कहा कि गत एक वर्ष बंद चल रही त्रिवेणी एक्सप्रेस समेत वाराणसी इंटरसिटी, पटना लिंक एक्सप्रेस, सिंगरौली-दिल्ली, सिंगरौली-भोपाल ट्रेनों का संचालन तत्काल शुरू कराया जाए। डीआरएम ने ज्ञापन को संज्ञान में लेते हुए जल्द ही ट्रेनों का संचालन करने का आश्वासन दिया।

Rail News
3086 views
Yesterday (21:57)
WAG 12B in CIC
s27sidharthgmai~   308 blog posts
Re# 4762077-1            Tags   Past Edits
100 KMPH se malgadi chalane me avi kai jamane lag jayege han dubling ka kam dhn se katni tak entire stretch me 2022 march ya dec tak ho jayega Except koal bridge
राज्य ब्यूरो, कोलकाता : किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से बंगाल के हावड़ा के बीच शुरू की गई पहली किसान रेल गुरुवार को यहां पहुंची। फल व सब्जियां लेकर बुधवार सुबह 5 बजे छिंदवाड़ा से चली यह ट्रेन महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ व झारखंड होते हुए अपने समय से करीब 20 मिनट पहले ही गुरुवार सुबह करीब 11:40 बजे हावड़ा स्टेशन पहुंच गई। 
यहां स्टेशन पर व्यापारी बेसब्री से इस ट्रेन के पहुंचने का इंतजार कर रहे थे। आरपीएफ की निगरानी में सब्जियों व फल सहित अन्य खाद्य सामग्री ट्रेन से उतारी गई। इसके बाद वहां मौजूद व्यापारी के एजेंट वाहनों में फल व सब्जियों को उठाकर सीधे मंडियों की तरफ रवाना हो गए। 
इधर,
...
more...
पूर्व रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) निखिल चक्रवर्ती ने बताया कि पहली बार हावड़ा पहुंची इस किसान रेल से पपीता, अंगूर, संतरा सहित हरी मिर्च व अन्य सब्जियां यहां लाई गई है। उन्होंने बताया कि गुरुवार शाम में ही यह ट्रेन वापस छिंदवाड़ा के लिए रवाना हो गई। 
चक्रवर्ती ने बताया कि किसान रेल की कई खूबियां हैं। इस ट्रेन की मदद से सभी छोटे-बड़े किसान और व्यापारी देश के एक कोने से दूसरे कोने तक बहुत कम समय में ताजा फल और सब्जियां सहित जल्द खराब होने वाली खाद्य सामग्रियों को भेज सकेंगे। 
फल और सब्जियों की ढुलाई के लिए उन्हें मालभाड़ा में भी 50 फीसद की छूट दी जाएगी, जिससे किसानों और उपभोक्ताओं दोनों को लाभ होगा।यह साप्ताहिक ट्रेन प्रत्येक बुधवार को छिंदवाड़ा से चलेगी।  
गुरुवार को हावड़ा पहुंचकर उसी दिन वापस रवाना हो जाएगी। गौरतलब है कि देश में पहली किसान रेल इस साल 7 अगस्त को महाराष्ट्र के नासिक जिले के देवलाली से बिहार के दानापुर के बीच शुरू की गई थी।
चंदौली [विवेक दुबे]। अंग्रेजों के जमाने की परंपरा को भारतीय रेलवे अब गुड बाय कर देगी। पीडीडीयू मंडल में जीरो बेस्ट टाइम टेबल से ट्रेनें जहां नानस्टाप चलेंगी वहीं समय से स्टेशन पहुंचेंगी। यात्रियों को इस सुविधा का लाभ होगा ही मालगाडिय़ों का कैरियर भी निर्धारित समय पर पहुंच जाएगा। हालांकि, ट्रेनों के नानस्टाप चलने से छोटे स्टेशन के यात्रियों को परेशानी होगी। महानगर की तर्ज पर उन्हें अब बड़े स्टेशनों से ट्रेनें पकडऩी होगी।
महानगर की तर्ज पर उन्हें अब बड़े स्टेशनों से ट्रेनें पकडऩी होगी। नई व्यवस्था के तहत एलएचबी कोच से लैस ट्रेनों की रफ्तार 130 किलोमीटर प्रति घंटे होगी। ट्रेनों की गति बढ़ाने की दिशा में छोटे स्टेशनों के स्टॉपेज में कटौती की जाएगी। सुपरफास्ट, एक्सप्रेस व पैसेंजर
...
more...
सहित मालगाडिय़ों के लिए भी समय निर्धारित किया गया है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय मंडल में नया नियम वैसे तो लागू हो गया है लेकिन पहल जल्द होगी। देशभर में हर साल नई ट्रेनें बढ़ती है लेकिन ट्रैक नहीं बढ़ पाया। इससे एक ही ट्रैक पर डबल ट्रेन गुजारने के चक्कर में किसी एक ट्रेन को लूप लाइन में डालना पड़ता है। इससे महत्वपूर्ण ट्रेनें जहां तहां खड़ी हो जाती हैं। इसके निदान को जीरो बेस्ड टाइम टेबल की पहल की गई।
खत्म होंगे 68 स्टॉपेज, साढ़े पांच घंटे की होगी बचत
बड़े महानगरों के स्टेशनों की तर्ज पर मंडल में भी ट्रेनों का ठहराव होगा। इसके लिए रेलवे बोर्ड ने खाका तैयार कर लिया है। छोटे जिलों में लंबी दूरी की ट्रेनों को रास्ते में किसी बड़े स्टेशन के पडऩे पर ही स्टॉपेज मिलेगा। ट्रेनों के लिए इस तरह के मंडल के 68 स्टॉपेज चिह्नित किए गए हैं जिन्हें खत्म करने पर मंथन चल रहा है। रेलवे ने इस बात का भी ध्यान है कि छोटे स्टेशनों पर किसी न किसी गाड़ी का स्टापेज रखा जाए। इस दिशा में काम होने पर पांच घंटे 40 मिनट की बचत होगी।
अब 60.57 प्रतिघंटे से भर्राटा भरेंगी ट्रेनें
ग्रैंड कार्ड लाइन पर एलबीएच से लैस 56 ट्रेनें पहले 110 की स्पीड से 56.97 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती थीं लेकिन अब 130 की स्पीड से 60.57 प्रतिघंटे की रफ्तार से चलेंगी। एलएचबी कोच की 14 राजेंद्र नगर-दूरंतो राजधानी 130 किमी से रफ्तार भरेंगी। इसके अलावा ग्रैंड कार्ड लाइन पर 32 आइसीएफ ट्रेन भर्राटा भरेगी। मंडल में 22307/08 बीकानेर हावड़ा व 25631/32 बीकानेर-गुवाहाटी ट्रेन का ट्रायल किया जा चुका है।
तीन घंटे में पूरा करना होगा मरम्मत
नई योजना जारी होने के बाद कई नियमों में बदलाव होगा। पहले जैसे तैसे ब्लाक लेकर पटरियों की मरम्मत की जाती है अब ऐसा नहीं होगा। रेलवे मंडल को तीन घंटे में रेल पटरियों, विद्युत सहित अन्य चीजों को दुरुस्त करना होगा। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि नानस्टाप ट्रेनों के संचालन में कोई रुकावट न आए।
यात्रियों को 10 से 15 मिनट का फायदा होगा
यात्रियों को 10 से 15 मिनट का फायदा होगा। मरम्मत के लिए जो ब्लाक की जरूरत होगी, वह टाइम टेबल में रहेगा। उस समय में ट्रैक का जो अनुरक्षण है, उसे सुनिश्चित किया जाएगा।
- राजेश कुमार पांडेय, मंडल रेल प्रबंधक, पीडीडीयू रेल मंडल
Yesterday (21:45) रैपिड रेल: एनसीआरटीसी ने एमडीए से ली छह बीघा जमीन (m.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
RRTS/Rapid Train
0 Followers
2819 views

News Entry# 423128  Blog Entry# 4762158   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
परतापुर। संवाददातादिल्ली मेरठ रैपिड रेल का निर्माण कार्य परतापुर में तेजी पर है। शताब्दीनगर में कास्टिंग यार्ड बनाने के बाद एनसीआरटीसी ने सरिया मोल्डिंग के लिए सीएनजी रिफिलिंग पंप के समीप एमडीए से करीब छह बीघा जमीन ली है। एनसीआरटीसी के इंजीनियरों का कहना है कि बड़े स्तर पर सरिया मोल्ड किया जाना है जिसके लिए ज्यादा जमीन की जरूरत है।एनसीआरटीसी ने जिस स्थान पर जमीन ली है वहां रैपिड का स्टेशन भी प्रस्तावित है। एनसीआरटीसी की निर्माणाधीन कंपनी एलएंडटी के अधिकारियों का कहना है कि शताब्दीनगर में पहले कास्टिंग यार्ड बनाया गया है जो गोदाम के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। छह बीघा जमीन सिर्फ सरिया मोल्डिंग के लिए लिया गया। बड़ी मशीनें सरिया मोल्ड करेंगी। बुधवार को जमीन की जेसीबी से लेबलिंग कर बाउंड्री बनाना शुरु कर दिया गया। अधिकारियों का कहना है कि आटोमेटिक मशीनें जल्द आ जाएंगी जो सरिया मोल्डिंग करेंगी।
Page#    398235 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy