Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Gour Express: আমের শহর মালদা থেকে রোজ যায় শিয়ালদা - Joydeep Roy

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Wed Sep 28 13:03:40 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search
Page#    468796 news entries  <<prev  next>>
Today (10:18) ग्वालियर में शीतला जाने वाले श्रद्धालु ट्रेनाें पर पत्थर नहीं फेंक सकें, इसलिए ट्रैक पर बढ़ाई जाएगी नाइट गश्त (www.naidunia.com)
IR Affairs
NCR/North Central
0 Followers
2518 views

News Entry# 498892  Blog Entry# 5490304   
  Past Edits
Sep 28 2022 (10:18)
Station Tag: Virangana Lakshmibai Jhansi Junction/VGLB added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836

Sep 28 2022 (10:18)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836
बलबीर सिंह,(ग्वालियर नईदुनिया)। झांसी मंडल ने झांसी रोड थाने से विक्की फैक्ट्री तक के रेलवे ट्रैक पर निगरानी बढ़ा दी है। रात 12 बजे से सुबह 4 बजे तक ट्रैक पर जवान ट्रैक की निगरानी करेंगे। रात के समय शीतला जाने वाले श्रद्धालु ट्रेनों पर पत्थर फेंकते हैं, जिससे यात्रियों के घायल होने की आशंका रहती है। इस स्थिति को देखते हुए गश्त बढ़ाया है। यह नाइट गश्त दशहरे तक जारी रहेगी।
चैत्र नवरात्रि में श्रद्धालु दर्शन करने के लिए शहर से 17 किमी दूर शीतला माता मंदिर पर दर्शन के लिए जाते हैं। माता मंदिर पर दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु रात में जाते हैं। ये लोग झांसी राेड से होकर गुजरते हैं, तो वहां से गुजरने वाली ट्रेनों
...
more...
पर पथराव कर देते हैं। पिछले कुछ वर्षों में चैत्र व शारदेय नवरात्रि में भी युवकों ने कुछ ट्रेनों पर पथराव किया था। ट्रेनों पर पथराव न हो, उसके लिए आरपीएफ निरीक्षक संजय आर्या ने अपनी एक टुकड़ी को नाइट गश्त पर लगा दिया है। यह टुकड़ी रात में शहर से शीतला माता मंदिर के दर्शन करने जा रहे लोगाें की निगरानी करेगी। युवक झांसी रोड से विक्की फैक्ट्री तिराहे के पहले तक सड़क किनारे बने रेलवे ट्रैक पर हंगमा करते हैं। युवक ट्रेनों पर पथराव न करें, जवान उन पर कार्रवाई करेंगे। ये पेट्राेलिंग टीमें 12 बजे से सुबह 4 बजे तक रेलवे ट्रैक पर गश्त करेगी। बीते दिवस पैदल जा रहे भक्तों काे आरपीएफ ने समझाईश देते हुए कहा कि अगर ट्रेन पर किसी भी युवक ने पथराव किया तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। पथराव से यात्रियों के घायल होने की आशंका बढ़ जाती है।
जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। त्योहार का सीजन शुरू हो गया है। अब दशहरा से लेकर दीपावली और फिर छठ पूजा पर लोग अपने घर जाएंगे और फिर वापस भी लौटेंगे। सबसे ज्यादा लोग ट्रेन के जरिए ही अपना सफर पूरा करेंगे। वहीं हर साल की तरह इस बार भी पहले से चल रही ट्रेनों में आरक्षित सीट मिलना तो दूर वेटिंग टिकट भी बमुश्किल से मिल रही है। ऐसे में आरक्षित सीट के लिए यात्री परेशान हो रहे हैं। रेलवे ने ट्रेन में यात्रियों को आरक्षित सीट देने के लिए तैयारी की है। इसके लिए कई स्पेशल ट्रेन चलाई हैं। इनमें कई ट्रेन जबलपुर से होकर गुजरेंगी तो कई जबलपुर से शुरू होकर गंतव्य तक जाएंगी। इतना ही नहीं कई ट्रेनों में अतिरिक्त कोच की संख्या बढ़ाई गई है। रेलवे का दावा है कि उनके इस कदम से बड़ी संख्या में यात्रियों को आरक्षित सीट मिलेगी।
प्रस्ताव
...
more...
कई ट्रेन के, कम ट्रेनों की मिली स्वीकृति
नवरात्र, दीपावली और छठ पूजा तक जबलपुर के यात्रियों को मुंबई, पटना, लखनऊ, बिहार जाने में सबसे ज्यादा परेशानी होती है। इस बार पश्चिम मध्य रेलवे और जबलपुर मंडल ने पहले से चल रही ट्रेनों में सीट के हालात की समीक्षा की और फिर कई स्पेशल ट्रेनों शुरू करने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। हालांकि अभी तक जबलपुर से सीधी दानापुर जाने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की ही स्वीकृति मिली है। अभी जबलपुर से रायपुर, जबलपुर से मुंबई, जबलपुर से यूपी-बिहार की ओर जाने के लिए ट्रेनों को चलाने स्वीकृति मांगी है।
अभी ऐसे हैं हालात
- जबलपुर से मुंबई- इस रूट पर 12 से 16 ट्रेनें चलती हैं, लेकिन इनमें सभी ट्रेनों में सीट नहीं है। हालांकि रेलवे ने दो से तीन स्पेशल ट्रेन चलाई हैं, जिसमें 15 फीसदी ज्यादा किराया देकर सीट ली जा सकती है।
-जबलपुर से रायपुर- इस रूट पर सिर्फ एक ट्रेन चलती है। इस रूट पर एक और ट्रेन चलाने का प्रस्ताव है। अभी तक स्वीकृति नहीं मिली है। यात्री परेशान हैं।
-जबलपुर से दिल्ली- जबलपुर से दिल्ली के बीच नियमित तीन ट्रेन और सप्ताह में पांच ट्रेन चलती हैं। दीपावली और छठ के आसपास इसमें भी सीट नहीं मिलती है।
जबलपुर होकर जाएंगी ये स्पेशल
1- जबलपुर से एलटीटी और बिहार जाने स्पेशल ट्रेन 01043/01044 चलाई जो रही है। यह ट्रेन 20, 23, 27 और 30 अक्टूबर को चलेगी, जो जबलपुर के अलावा इटारसी, पिपरिया, कटनी, मैहर एवं सतना स्टेशनों से रुकेगी। एलटीटी से समस्तीपुर जाने समय यह ट्रेन जबलपुर सुबह 4.30 पर पहुुंचेगी। समस्तीपुर से एलटीटी जाते समय स्पेशल ट्रेन जबलपुर दोपहर 3.25 पर पहुंचेगी। इसमें कुल 20 कोच लगे हैं।
2. जबलपुर से मुंबई और मालदा टाउन जाने स्पेशल ट्रेन 01031-01032 चलेगी, जो 17, 19, 24 और 26 अक्टूबर को चलेगी। 01031 ट्रेन 17 और 24 अक्टूबर को सीएसएमटी से सुबह 11:05 बजे चलेगी, जो इटारसी, पिपरिया, जबलपुर, कटनी, सतना, मानिकपुर
होकर चलेगी।
3. रानीकमलापति से दानापुर के लिए दीपावली स्पेशल ट्रेन चलेगी, जो जबलपुर होकर जाएगी। 01663 ट्रेन 21, 26 और 31 अक्टूबर को रानी कमलापति स्टेशन से चलेगी, जो जबलपुर शाम 7:35 बजे पहुंचेगी। 01664 ट्रेन दानापुर से रानी कमलापति के लिए 22, 27 अक्टूबर और 1 नवंबर को चलेगी। यह ट्रेन जबलपुर रात 3:50 बजे पहुंचेगी।
जबलपुर से सीधी ट्रेन
1. जबलपुर से दानापुर के लिए 27 अक्टूबर को सीधी ट्रेन चलेगी। यह ट्रेन शाम 7.45 पर जबलपुर से दानापुर के लिए रवाना होगी, जो सिहोरा रोड, कटनी, मैहर और सतना होते हुए दानापुर पहुंचेगी। ट्रेन 01706 दानापुर से 28 अक्टूबर को जबलपुर के लिए रात 12.45 पर रवाना होगी और अगले दिन शाम 4.15 पर रवाना होगी। इसमें 17 कोच लगेंगे।
ऐसे हैं हालात
- अधिकांश यात्री इन दिनों एजेंट के माध्यम से टिकट करा रहे हैं, जिस वजह से उन्हें वेटिंग टिकट में सफर करने भी नहीं मिलेगा
- आरक्षित सीट लेने के लिए यात्रियों ने दलालों से संपर्क किया है, जो उन्हें आरक्षित सीट दिलवाने का वादा कर रहे हैं।
- कई यात्रियों को सफर अब तत्काल टिकट के कोटे पर आकर फंस गया है, जिससे वे परेशान हैं।
- यात्रियों को अधिकृत एजेंट से टिकट कराना होगी, अनाधिकृत एजेंट से टिकट रेलवे रद कर देता है।
पश्चिम मध्य रेलवे के यात्रियों को नवरात्र, दीपावली व छठ पूजा पर घर जाने और लौटने के लिए कई स्पेशल ट्रेन चलाई हैं। कई ट्रेनों में अतिरिक्त कोच भी लगाए हैं। जरूरत होने पर अतिरिक्त कोचों की संख्या बढ़ाई जाएगी।- राहुल श्रीवास्तव, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, पमरे
हमारे देश में सबसे ज्यादा लोग रेल के माध्यम से अपनी यात्रा को संपन्न करते हैं ऐसे में भारतीय रेलवे समय-समय पर नई नई ट्रेने है और नई नई सुविधाएं लाता रहता है. अगर आप भी अक्सर रेल से अपनी यात्रा पूरी करते हैं तो यह खबर आपके लिए है क्योंकि भारतीय रेलवे 30 सितंबर से सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत के अपग्रेडेड वर्जन वंदे भारत 2 को लांच करने की तैयारियों में लगा हुआ है. वंदे भारत 2 मौजूदा वंदे भारत ट्रेन से कई चीजों में काफी ज्यादा अपग्रेडेड और आगे हैं. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो वंदे भारत 2 को 30 सितंबर से अहमदाबाद से मुंबई जाने के लिए हरी झंडी दिखा दी जाएगी. हालांकि, रेलवे ने अपनी तरफ से कोई आधिकारिक डेट फिक्स नहीं की है लेकिन ज्यादातर मीडिया रिपोर्ट में 30 सितंबर से इस नई रेल को शुरू करने की बात कही जा रही है.
...
more...

क्या होगा वंदे भारत 2 का किराया

हमारे देश में कोई भी सुविधा लेने से पहले लोग उस सुविधा में आने वाले खर्च के बारे में जानना चाहते हैं ऐसे में लोग लगातार इस नई ट्रेन के किराए के बारे में सवाल कर रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अहमदाबाद से मुंबई तक चलने वाली वंदे भारत ट्रेन के एग्‍जीक्‍यूट‍िव क्‍लॉस के सीट के लिए यात्रियों को 2349+GST देना होगा तो वही बात करें चेयर कार के फेयर की तो चेयर कार के लिए यात्रियों को 1144+ GST देना होगा. आपको बता दें कि वंदे भारत 2 जोकि अहमदाबाद से सीधे मुंबई जाएगा यह ट्रेन अहमदाबाद और मुंबई के बीच मात्र दो ही स्टेशनों पर रोकी जाएगी.

2 रूटों पर चल रही है वंदे भारत ट्रेन

आपको बता दें कि वंदे भारत ट्रेन फिलहाल भारत में सिर्फ 2 रूटों पर चल रही है लेकिन इसका अपग्रेडेड वर्जन 30 सितंबर से अहमदाबाद से मुंबई के लिए रवाना कर दिया जाएगा. वही बात करें इन दो रूटों की तो वंदे भारत ट्रेन का पहला रूट नई दिल्ली से कटरा तक का है तो वही दूसरा रूट नई दिल्ली से वाराणसी तक का है. वंदे भारत ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों ने इसको काफी आरामदायक और अच्छी ट्रेन बताया है लेकिन अब वंदे भारत 2 शुरू होने वाला है और इसमें और भी नई चीजें जैसे 32 इंच की एलईडी टीवी, वाईफाई और एयर प्यूरीफायर जैसी सुविधाएं मिलने वाली है.
Today (08:50) Exclusive: Good news for rail passengers: 122 kms in New Delhi-Agra section. AC local trains will run at an hourly speed, time will be saved (granthshala.in)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
2058 views

News Entry# 498889  Blog Entry# 5490256   
  Past Edits
Sep 28 2022 (08:50)
Station Tag: Agra Cantt./AGC added by karbang/50057

Sep 28 2022 (08:50)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by karbang/50057
Stations:  Agra Cantt./AGC   New Delhi/NDLS  
There is good news for the rail passengers traveling between New Delhi to Agra section. In the coming time, Railways will run AC local trains in this section. These trains will be seen running at a speed of 122 kmph. This rail facility will be on the lines of metro rail. This will also save the time of the passengers.
According to railway officials, Delhi will be the second city after Mumbai where AC local trains will be run. It is being said that gradually the benefit of this facility will also be available at other major stations of Delhi NCR. Three days ago, a successful trial of AC local train between Delhi’s Safdarjung railway station and Asavati has been done. Soon
...
more...
its final trial will be done till Agra.
just 96 km, Local trains run at the speed of
Please tell that the local trains running between New Delhi to Palwal and Mathura run at a maximum speed of 96 kmph. But in the coming time, the speed of AC local trains running on this route will be 122 km. will be per hour. Running the train at this speed will also save the time of the passengers. Talking about local trains, it takes 1 hour 26 minutes to reach New Delhi Palwal. Whereas it takes 3 hours 10 minutes to reach Mathura. Railway officials believe that 122 km. Passengers will be able to reach Mathura in about three and a half hours if the train runs at the speed of Rs.
Foreign travelers will also have facility
Let us tell that a large number of foreign tourists coming to India from all over the world keep coming to visit Vrindavan in Mathura and Taj Mahal in Agra. Right now these foreigners are seen traveling by Gatimaan Express. Railway officials say that due to the running of AC local trains, a large number of foreign passengers will also be able to travel. Railway officials said that the Ministry of Railways is constantly emphasizing on passenger amenities. In the same episode, it is planned to run AC local train.
There will be stoppage at major stations only
Railway sources also said that AC local trains running in Delhi-Agra section will not have stoppage like other normal local trains. Rather, arrangements will be made for their stoppage at major stations as well. It is being discussed right now. Train coaches will be inter-connected on the lines of metro rail. No passenger will be able to travel without a valid train ticket.
Today (08:48) Indian Railways: भारत-बांग्लादेश के बीच रेल संपर्क होगा मजबूत, यह है प्लान (www.hindusthanpost.com)
New Facilities/Technology
INT/International
0 Followers
1949 views

News Entry# 498888  Blog Entry# 5490252   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
भारत और बांग्लादेश के बीच वीजा मुक्त यात्रा शुरू करने की कोशिश जारी है।

बांग्लादेश के रेल मंत्री नुरुल इस्लाम सुजान ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच रेल संपर्क बढ़ने से दोनों देशों के साथ-साथ पूरे दक्षिण पूर्व एशिया को लाभ होगा। उन्होंने भारत और बांग्लादेश के बीच वीजा मुक्त यात्रा शुरू करने की भी वकालत की।

बांग्लादेश
...
more...
के रेल मंत्री नुरुल इस्लाम सुजान ने विशेष बातचीत में कहा कि अगर भारत और बांग्लादेश के बीच वीजा मुक्त यात्रा शुरू हो जाती है, तो दोनों देशों के लोगों के बीच आत्मीय संबंध और मजबूत होंगे। उन्होने दावा किया कि भारत और बांग्लादेश के बीच रेल संपर्क बढ़ने से दोनों देशों के साथ-साथ पूरे दक्षिण पूर्व एशिया को लाभ होगा।

उल्लेखनीय है कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हाल ही में भारत का दौरा किया है। इस दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच रेलवे कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। शेख हसीना के भारत दौरे के दौरान नुरुल इस्लाम सुजान भी उनके साथ थे। नूरुल ने भारत भ्रमण के बाद स्वदेश लौटकर हिन्दुस्थान समाचार से बात की है। पेश है उसके खास अंश-

ये भी पढ़ें – Good news for passengers: इस दिन से लखनऊ होकर चलेगी चंडीगढ़-गोरखपुर स्पेशल ट्रेन

प्रश्न : भारत यात्रा के दौरान रेल संचार क्षेत्र में भारत और बांग्लादेश के बीच किस तरह के समझौते पर हस्ताक्षर किए गए?उ : भारत-बांग्लादेश के बीच रेलवे संपर्क के बढ़ोतरी के जरूरत दोनों देशों के संबंधों की मजबूती के लिए है। इससे भारत या बांग्लादेश को ही नहीं बल्कि पूरे दक्षिण पूर्व एशिया को फायदा होगा। क्योंकि ट्रांस एशिया रेलवे के साथ शामिल होने में बांग्लादेश रुचि रखता है। बांग्लादेश के कॉक्स बाजार-म्यांमार से थाईलैंड तक रेलवे कनेक्शन प्रणाली बनाने का प्रस्ताव है। यदि क्षेत्रीय परिवहन में सुधार होता है, तो बांग्लादेश को भी लाभ होगा। यह दक्षिण एशियाई देशों के बीच वाणिज्यिक संचार को बढ़ाएगा। परिवहन लागत भी कम होगी। वर्तमान में, भारत के साथ रेल संचार के क्षेत्र में नौ प्रवेश द्वार (सीमा पार) हैं। उनमें से कई पाकिस्तान के समय के थे। 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान उन्हें बंद कर दिया गया था। उन्हें फिर से खोल दिया गया है।”

प्रश्न : क्या भारत की ओर से नए रेलवे मार्ग के निर्माण को लेकर कोई प्रस्ताव मिला है?रेल मंत्री : भारत ने पहाड़ी सीमा क्षेत्रों में मेघालय के साथ रेलवे परिवहन का विस्तार करने के लिए एक नई सड़क और रेल प्रणाली बांग्लादेश के बीरामपुर के माध्यम से सीमा से लगे क्षेत्रों में विस्तार करने का प्रस्ताव दिया है। हालांकि, नए रेलवे और सड़क निर्माण की लागत का भुगतान कौन करेगा, इस बारे में चर्चा अभी शुरू नहीं हुई है। इसलिए निर्माण लागत को अंतिम रूप देने पर नई कनेक्टिविटी के बारे में निर्णय लिया जाएगा। हालांकि, बांग्लादेश को इस नए प्रस्तावित रेल पथ को लेकर कोई आपत्ति नहीं है।

प्रश्न : अगर रेलवे संचार बढ़ता है, तो क्या बांग्लादेश और भारत के बीच वाणिज्यिक परिवहन लागत कम हो जाएगा?उत्तर : वर्तमान में कपास पंजाब से लाना पड़ता है। कपास ट्रेन से गुजरात और मुंबई तक जाता है, या कोई अन्य समुद्री बंदरगाह तक। वहां से यह समुद्र के रास्ते सिंगापुर जाता है। सिंगापुर से चटगांव बंदरगाह तक आ रहा है। वहां से कपास ढाका के आसपास सूता मिलों में आ रहा है। यमुना नदी पर बंगबंधु रेल पुल शुरू हो जाता है तो इस कपास को पंजाब से सीधे बांग्लादेश के जॉयदेवपुर के पास लाया जाएगा। इससे पता चलता है कि परिवहन लागत और समय कितना कम होगा। लेकिन हां, इस रेलवे का बुनियादी ढांचा अभी भी तय नहीं है। भारत अपने पूरे रेल संचार को ब्रॉड गेज में अपग्रेड कर सकता है, लेकिन हम अभी भी नहीं कर सकते हैं। पश्चिमी यमुना नदी का तट (पश्चिमी भाग) सभी ब्रॉड गेज है लेकिन हमारा पूर्वी तट (पूर्वी भाग) अभी भी मीटर गेज है। लेकिन अब बांग्लादेश के पूर्वी हिस्से में रेलवे लाइनों का नवीनीकरण किया जा रहा है और उन्हें दोहरी गेज में परिवर्तित किया जा रहा है। बांग्लादेश के पूर्वी हिस्से में रेलवे लाइन में मीटर गेज और ब्रॉड गेज दोनों हैं। एक बार यह हो जाने के बाद, भारत के किसी भी हिस्से को बांग्लादेश से जोड़ा जा सकता है। जिससे कोई भी रेल द्वारा सेवन सिस्टर्स के किसी भी राज्य की यात्रा कर सकता है।

प्रश्न : शेख हसीना के भारत दौरे को लेकर बांग्लादेश में विपक्षी दलों के बयान अजीबोगरीब हैं। इसके बारे में क्या कहेंगे?उत्तर : 1971 में भारत के सैनिकों की शहादत के साथ मिली बांग्लादेश की आजादी के बाद से ही ऐसे बयान लगातार दिए जाते रहे हैं। भारत के साथ हमारा रिश्ता व्यापारिक नहीं है। हमारा संबंध खून का है। बांग्लादेश के स्वतंत्रता संग्राम में भारत ने आश्रय, हथियार, प्रशिक्षण ही नहीं दिया, बल्कि सहयोगी के रूप में पाक-आक्रामकों के खिलाफ लड़ाई में भाग लेकर अपनी कुर्बानी दी है।

दरअसल, बांग्लादेश की विपक्षी पार्टी बीएनपी जमात सहित अन्य दलों ने आरोप लगाया है कि भारत दौरे के दौरान शेख हसीना ने बांग्लादेश के स्वाभिमान को ताक पर रखकर भारत के साथ समझौता किया है।
Page#    468796 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy