Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sat May 26 02:36:53 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    319318 news entries  <<prev  next>>
  
Yesterday (23:54) टीआरटी मशीन ने एक घंटे में बिछाई साढ़े तीन सौ मीटर रेल पटरी (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
189 views

News Entry# 338299  Blog Entry# 3453520   
  Past Edits
May 25 2018 (23:54)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Saurabh*^~/15807
Stations:  Moradabad Junction/MB  
मुरादाबाद।रेल पटरी और स्लीपर बदलने के लिए अब घंटों रेलवे को ब्लाक लेने की जरूरती नहीं पड़ेगी। यूएसए निर्मित टीआरटी (ट्रैक रिन्युवल ट्रेन) मशीन से कम समय और आसानी से स्लीपर और पटरियां बिछा सकेगी। गुरुवार दोपहर मुरादाबाद रेल मंडल के हरथला रेलवे स्टेशन के यार्ड में इस अत्याधुनिक मशीन से एक घंटे में साढ़े तीन सौ मीटर पटरियां बिछा दी गईं। उत्तर रेलवे मुख्यालय से आई अफसरों की टीम की मौजूदगी में किया गया डेमो सफल रहा। अब इस मशीन से ही पटरियां बिछाने का काम होता रहेगा।रेल गाड़ियां पिछले पांच माह से देरी से चल रही हैं। इनके देरी से चलने के पीछे वजह जो भी हो। लेकिन रेल अधिकारी पटरियों पर चल रहे कार्य का ही हवाला ही देते हैं। रेलवे ने यूएसए की हार्सको रेल कंपनी से तकरीबन 40 करोड़ रुपये की कीमत में टीआरटी मशीन खरीदी है। उत्तर रेलवे मुख्यालय के डिप्टी चीफ इंजीनियर (ट्रैक) संदीप...
more...
कुमार गर्ग के नेतृत्व में सीपीआरओ नितिन चौधरी, पीआरओ आरके राणा समेत अन्य अफसरों की टीम गुरुवार को स्पेशल गाड़ी से मुरादाबाद पहुंची। इस टीम ने साढ़े चार बजे मशीन ने कार्य शुरू किया। करीब एक घंटे में टीआरटी मशीन ने साढ़े तीन सौ मीटर पटरी बिछा दी। छह सीनियर सेक्शन इंजीनियर और जूनियर इंजीनियरों समेत 50 कर्मचारी इस कार्य में जुटे। डिप्टी चीफ इंजीनियर उत्तर रेलवे संजीव कुमार गर्ग ने बताया कि पहले इस काम को दो हजार से ज्यादा कर्मचारी आठ से दस दिन में पूरा करते थे। अब तीन घंटे में एक किलोमीटर पटरियां आसानी से बिछाई जा सकती हैं।इस तरह मशीन ने किया कार्यमुरादाबाद। अति आधुनिक इलेक्ट्रिॉनिक, मेकेनिकल और इंजीनियरिंग के मेल वाली इस मशीन को इस तरह डिजाइन किया गया है कि वह पुरानी पटरी और स्लीपर को हटाते हुए मिट्टी की सतह को समतल और ठोस बनाकर नए स्लीपर बैठाती है। अंत में नई पटरियों को बिछाते हुए स्लीपर के बीच की सही दूरी को बनाए रखते हुए रेलपथ तैयारी करती है। ट्रैक तैयार होने के तुरंत बाद ही गाड़ियां को दौड़ाया जा सकता है।मशीन में तीन प्रमुख सेक्शन1- टीआरटी मशीन में तीन प्रमुख सेक्शन हैं। पावर प्लांट और हाईड्रोलिक प्रणाली वाली पावर कार।2- पुरानी पटरियों को खोलकर निकालने और नई पटरियों को कसने के साथ साथ पुराने स्लीपर को हटाने और नये स्लीपर लगाने के लिए कन्वेयर्स वाली हैंडलिंग कार3- हैंडलिंग कार से जुड़ी बीम कार, जिसमें पुराने स्लीपर को हटाने, मिट्टी को समतल करने और उसकी ठोस सतह तैयार करने वाली मशीनइस साल 70 किलोमीटर रेल पटरियों बिछाने का लक्ष्यमुरादाबाद। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ नितिन चौधरी ने बताया कि दो साल में करीब 100 किलोमीटर रेल पटरियों बिछाई जा चुकी है। इस साल 70 किलोमीटर पटरियां बिछाने का लक्ष्य तय किया गया है। गाजियाबाद और सहारनपुर सेक्शन में भी पटरियों बदली गई है।.social-poll {margin:0px auto;width:300px;} .social-poll .poll-wrapper {box-sizing: border-box;}
  
कहीं आप भी तो ट्रेन में सफर के दौरान ऐसा नहीं करते। ध्यान से पढ़ लीजिए वरना भुगतना  पड़ेगा। ट्रेनों में बिना टिकट यात्रा करना सात पुलिस कर्मियों समेत 40 यात्रियों को महंगा पड़ गया।बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्रियों से रेलवे के अधिकारियों ने 16 हजार से अधिक का जुर्माना वसूला है। चेकिंग के दौरान पुलिस कर्मियों ने वर्दी का रुआब दिखाने की कोशिश की, लेकिन रेलवे अधिकारियों के सामने उनकी एक न चली।बाद में पुलिस कर्मियों को जुर्माना भरना पड़ा। अधिकारियों के मुताबिक चेकिंग अभियान आगे भी जारी रहेगा। मुरादाबाद मंडल के सीनियर डीसीएम विवेक शर्मा ने बिना टिकट यात्रा करने वालों के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं।ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्जdemo picइसके चलते सीएमआई रुड़की अजय तोमर के नेतृत्व में अधिकारियों ने शुक्रवार को अमृतसर-हावड़ा एक्सप्रेस, देहरादून-दिल्ली जनशताब्दी एक्सप्रेस, हरिद्वार-पुरी एक्सप्रेस, देहरादून-बांद्रा एक्सप्रेस, अमृतसर-हरिद्वार एक्सप्रेस, श्रीगंगानगर एक्सप्रेस, अहमदाबाद मेल, चंडीगढ़-लखनऊ एक्सप्रेस व अमरनाथ एक्सप्रेस सहित...
more...
अन्य ट्रेनों में चेकिंग अभियान चलाया। इस दौरान अधिकारियों ने अलग-अलग ट्रेनों में यात्रा कर रहे सात पुलिस कर्मियों समेत 40 यात्रियों को पकड़ लिया।यात्री बिना टिकट आराम से ट्रेनों के स्लीपर क्लास में यात्रा कर रहे थे। पहले तो पुलिस कर्मियों ने रेल अधिकारियों पर रौब दिखाने का प्रयास किया, लेकिन उनकी एक नहीं चली, बाद में उन्होंने जुर्माना भरा। अधिकारियों ने बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्रियों से मौके पर 16,150 रुपये का जुर्माना वसूला है।   आगे पढ़ेंट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज.social-poll {margin:0px auto;width:300px;} .social-poll .poll-wrapper {box-sizing: border-box;}
  
इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि
इंदौर-जगन्नााथपुरी हमसफर एक्सप्रेस लोकप्रियता और बुकिंग की दृष्टि से लिंगमपल्ली (हैदराबाद) हमसफर एक्सप्रेस को पीछे छोड़ रही है। हालांकि लिंगमपल्ली हमसफर 26 मई को पहले सफर पर रवाना होगी लेकिन ट्रेन में इतनी ज्यादा बुकिंग नहीं हो पाई है। इसकी असल वजह ट्रेन का इंदौर से रवाना होने का समय लोगों को पसंद न आना। पहले माना जा रहा था कि इस ट्रेन को इंदौर-पुणे के यात्री भी मिलेंगे लेकिन ट्रेन के पुणे पहुंचने का समय भी सुविधाजनक नहीं है।
इंदौर-लिंगमपल्ली ट्रेन शनिवार सुबह 7 बजे चलकर रात 2.45
...
more...
बजे पुणे और रविवार दोपहर 1.45 बजे लिंगमपल्ली पहुंचाएगी। वापसी में यह रविवार रात 9.20 बजे लिंगमपल्ली से चलकर सोमवार सुबह 7.50 बजे पुणे पहुंचेगी और 7.55 बजे चलकर मंगलवार रात 1.35 बजे इंदौर आएगी। ट्रेन का इंदौर से सुबह निकलना यात्रियों के लिए असुविधाजनक है।
इंदौर-लिंगमपल्ली-इंदौर की स्थिति
- 19316 इंदौर-लिंगमपल्ली हमसफर में 26 मई को 557, 2 जून को 583, 9 जून को 583, 16 जून को 588, 23 जून को 588 और 30 जून को 588 बर्थ उपलब्ध हैं।
- इस ट्रेन में इंदौर से लिंगमपल्ली के यात्रियों का कोटा ही 588 बर्थ का है यानी 16 से 30 जून तक यात्रियों ने ट्रेन में एक बर्थ भी बुक नहीं कराई है।
- इसी ट्रेन में इंदौर से पुणे के बीच 26 मई को 152, 2 जून को 167, 9 जून को 179, 16-23 और 30 जून को 180-180 बर्थ खाली हैं।
- वापसी में 19315 लिंगमपल्ली-इंदौर हमसफर में 27 मई से 1 जुलाई तक 650 से ज्यादा बर्थ खाली हैं। हालांकि इन्हीं तारीखों में पुणे से इंदौर आने वाले यात्रियों के लिए 28 मई को 56, 4 जून को 87, 11 जून को 95, 18 जून को 98, 25 जून को 101 और 2 जुलाई को 104 बर्थ खाली हैं। इन तारीखों में पुणे से इंदौर आने वाले यात्रियों ने काफी बुकिंग कराई हैं।
पुरी हमसफर का सकारात्मक पहलू
पुरी हमसफर हर मंगलवार दोपहर 12.40 बजे इंदौर से चलकर बुधवार सुबह 5.20 बजे दुर्ग, 6 बजे रायपुर और सुबह 7.55 बजे बिलासपुर, शाम 6 बजे भुबनेश्वर होते हुए रात 7.55 बजे पुरी पहुंचती है। वापसी में ट्रेन बुधवार रात 11.55 बजे पुरी से चलकर रात 1.30 बजे भुबनेश्वर, गुरुवार सुबह 11.50 बजे बिलासपुर, दोपहर 2.15 बजे रायपुर, 3.25 बजे दुर्ग होते हुए शुक्रवार सुबह 11.25 बजे इंदौर आती है। इंदौर से दुर्ग, रायपुर और बिलासपुर आने-जाने वाले यात्रियों के लिहाज से ट्रेन का समय बहुत अच्छा है। कमोबेश वापसी में ट्रेन का समय यात्रियों को ज्यादा रास आ रहा है और छत्तीसगढ़ के शहरों से इंदौर की बुकिंग कुछ तारीखों में वेटिंग को छू गई है और कुछ तारीखों में बहुत कम बर्थ बाकी हैं।
इंदौर-पुरी-इंदौर ट्रेन की स्थिति
- ट्रेन नंबर 19317 से इंदौर से पुरी जाने वाले यात्रियों के लिए 731 बर्थ का कोटा है। 29 मई को जाने वाली ट्रेन में 483, 5 जून को 600, 12 जून को 629, 19 जून को 686 और 26 जून को 684 बर्थ खाली हैं।
- इंदौर-पुरी ट्रेन में नागपुर, रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर जाने वाले यात्रियों के 29 जून को 110, 5 जून को 209, 12 जून को 253, 19 जून को 286 और 26 जून को 272 बर्थ खाली हैं।
- वापसी में 19318 से पुरी से इंदौर आने वाले यात्रियों के लिए 23 मई को 468, 30 मई को 473, 6 जून को 583, 13 जून को 560, 20 जून को 598 और 27 जून को 607 बर्थ खाली हैं।
- इसी ट्रेन में 24 मई को रायपुर से इंदौर आने वाली ट्रेन में वेटिंग लग गई है। 31 मई को 6, 7 जून को 61, 14 जून को 98, 21 जून को 101 और 28 जून को 114 बर्थ ही बाकी हैं यानी रायपुर से इंदौर आने वाले यात्रियों को यह ट्रेन आकर्षित करने में कामयाब रही है।
टाइम टेबल बदलने को कहा
यह बात सही है कि इंदौर-लिंगमपल्ली हमसफर ट्रेन का समय सुविधाजनक नहीं है जबकि इंदौर-पुरी हमसफर एक्सप्रेस का यात्रा समय भी घटाया जा सकता है। रेलवे अफसरों को दोनों ट्रेनों का समय घटाने को कहा है। उम्मीद है कि अगस्त में लागू होने वाले नए टाइम टेबल में दोनों का समय कम हो जाएगा।
- नागेश नामजोशी, पूर्व सदस्य, रेलवे पैसेंजर एमिनिटीज कमेटी

10 posts - Wed May 23, 2018 - are hidden. Click to open.

3 posts - Thu May 24, 2018 - are hidden. Click to open.

  
810 views
Yesterday (17:18)
deepakrashikendra~   1452 blog posts
Re# 3443493-14            Tags   Past Edits
19315 first trip only 7 seats booked so far from Lingampalli to Indore
Day 27-5-2018 3-6-2018 10-6-2018 17-6-2018 24-6-2018
Availability 0648 0649 0653 0652 0655

  
731 views
Yesterday (17:34)
Aaditya^~   7894 blog posts   16558 correct pred (79% accurate)
Re# 3443493-15            Tags   Past Edits
Flop Show Is Begins😂😂

  
734 views
Yesterday (17:39)
venki~   1876 blog posts
Re# 3443493-16            Tags   Past Edits
Lingapalli to Indore will get good demand once people knows about it. In IRCTC search from Hyd to Pune/Panvel its not showing up. Many people dont know about this train. Wait for 3-4 months surely gets good demand.

  
586 views
Yesterday (20:31)
deepakrashikendra~   1452 blog posts
Re# 3443493-18            Tags   Past Edits
Lingampalli should not be the Terminating stn for Humsafar Category higher fare Train.
700 Seats quota from Lingampalli to Indore is too much .
Simple point is WR/ RB introduced it under Political pressure without proper planning.
Govt Dropped Rail budget citing political interference.Now more political intrefere is seen from Powerful Members of Parliament.
Earlier
...
more...
at least discussion was happening in Lokshabha during Railbudget.
Indore ,Gorakhpur,Ghajipur, got Lion Share in last 4 Year .
Agartala got its due ,as new line got commission.

  
355 views
Yesterday (23:37)
pkgayatri803   73 blog posts
Re# 3443493-19            Tags   Past Edits
Kash Chandigarh to Shri jaghanath puri and Dwarka ji ke liya train chala to railway ko bahut fayada hoota.
Wese well done Indore.
  
May 24 (14:59) जैन तीर्थ यात्रियों को पारसनाथ से हावड़ा पहुंचाएगी डबलडेकर (m.jagran.com)
New/Special Trains
ER/Eastern
0 Followers
3153 views

News Entry# 338157  Blog Entry# 3448435   
  Past Edits
May 24 2018 (15:06)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by YELLOW ARMY💛^~/1490219

May 24 2018 (14:59)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by YELLOW ARMY💛^~/1490219

May 24 2018 (14:59)
Station Tag: Parasnath/PNME added by YELLOW ARMY💛^~/1490219

May 24 2018 (14:59)
Train Tag: Howrah-Dhanbad AC Double Decker Express/12385 added by YELLOW ARMY💛^~/1490219
तापस बनर्जी, धनबाद : अगर आप डबलडेकर में सफर करना चाहते हैं तो यह खबर आपके लिए ही है। रेलवे ने पारसनाथ से हावड़ा के बीच इस ट्रेन को चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। हावड़ा से डबलडेकर का एक कोच यहां लाया गया है जिससे ट्रायल किया जा रहा है। रेलवे के विभागीय सूत्रों का कहना है ट्रायल सफल रहा है। हालांकि डबलडेकर के कोच की बनावट अन्य ट्रेन से अलग होने के कारण धनबाद से पारसनाथ के बीच कुछ स्टेशन के प्लेटफॉर्म और उनके शेड में आंशिक संशोधन करना होगा जिसके बाद ही इस ट्रेन का परिचालन शुरू हो सकेगा। रेलवे ने इसके परिचालन के लिए टाइम टेबल तय करने की भी प्लानिंग शुरू कर दी है।
...
more...
भारतीय रेल की पहली डबलडेकर हावड़ा से धनबाद के बीच चली थी। अधिक किराया और यात्री अनुकूल समय नहीं होने के कारण इसे तवज्जो नहीं मिली। बाद में इस ट्रेन को छठ स्पेशल के रूप में भी चलाने का प्रयास हुआ पर कामयाबी नहीं मिली। अब धनबाद रेल मंडल इस ट्रेन को पारसनाथ से हावड़ा के बीच चलाने की कोशिश कर रहा है। डिविजन से भेजे गए प्रस्ताव के आधार पर ही इसका ट्रायल शुरू हुआ है।
जैन तीर्थ यात्रियों को मिल जाएगा बेहतर विकल्प
पारसनाथ जैन तीर्थ यात्रियों का प्रमुख स्थल है जहां देश के विभिन्न हिस्से के साथ-साथ विदेशों से भी तीर्थ यात्री आते हैं। उन यात्रियों को हावड़ा तक पहुंचने के लिए सीधी ट्रेन नहीं होने से विकल्प तलाशना पड़ता है। इस रूट की ज्यादातर ट्रेनों में लंबी प्रतीक्षा सूची के कारण परेशानी होती है। डबलडेकर सेवा शुरू होने से इसका स्थायी समाधान हो जाएगा। साथ ही हावड़ा से पारसनाथ पहुंचने के लिए भी बेहतर विकल्प मिल सकेगा।
समय व यात्री अनुकूल रहा तभी मिलेगी तरजीह
धनबाद-हावड़ा डबलडेकर सिर्फ इसलिए फ्लॉप रही क्योंकि उसके आगमन और प्रस्थान का समय यात्री अनुकूल नहीं था। पारसनाथ से हावड़ा के बीच शुरू होनेवाली डबलडेकर के लिए रेलवे को मशक्कत करनी होगी। समय का निर्धारण पैसेंजर फ्रेंडली करना होगा तभी उसे तरजीह मिलेगी।

  
604 views
Yesterday (22:36)
Sumit808~   574 blog posts   2438 correct pred (76% accurate)
Re# 3448435-2            Tags   Past Edits
Finally the unused rake will run once again. Good news
  
Yesterday (20:45) Indian Railways Uses American Machine To Fix, Replace Tracks; Save Times, Effort (www.ndtv.com)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
861 views

News Entry# 338292  Blog Entry# 3452980   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Moradabad:  The Indian Railways is employing American machinery to repair and fix damaged tracks in a few minutes. This machine is not only helping save a lot of time, but has also simplified the job of the maintenance staff.The Northern Railway used this machine to successfully replace the railway track in Moradabad. The officials are now excited to use it to repair and replace damaged tracks across the country.The Harsco Rail, a global supplier for railway track maintenance and construction, had earlier provided the TRT track renewal machine to replace old tracks by Southern Railway and now it is being used by its Northern counterpart.With the help of this machine, only 30 engineers and maintenance staff can replace 400 metres of railway track in...
more...
just one hour. CommentsThe super-modern technology of the TRT machine has so far been used to change at least 100 kilometres of track, Sanjiv Garg, deputy chief engineer, told ANI."The procedure that usually takes days to replace tracks can now be done within minutes with the help of this machine. Our dependence on workforce has also gone down," Mr Garg added.
Page#    319318 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.