Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Mon Nov 19 16:43:37 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    347782 news entries  <<prev  next>>
  
अमर उजाला ब्यूरो करनाल। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की ओर से ग्रुप डी की लिखित परीक्षा के दूसरे दिन रविवार को भी ट्रेन व बस स्टैंड पर परीक्षार्थियों की भीड़ लगी रही। ट्रेन में चढ़ने के लिए परीक्षार्थियों में जमकर धक्का-मुक्की हुई। वहीं दूसरी ओर जीआरपी स्टेशन पर परीक्षार्थियों की वीडियो ही बनाती रही। बता दें इससे पहले एक परीक्षार्थी ने ट्रेन की खिड़की का शीशा पत्थर मारकर तोड़ दिया था। रविवार को भी 67 परीक्षा केंद्रों पर दो शिफ्ट में परीक्षा हुई। इस परीक्षा में 41456 परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी थी लेकिन दोनों शिफ्टों में 28459 परीक्षार्थियों ने ही परीक्षा दी। परीक्षा केंद्र पर तैनात पुलिस कर्मचारियों ने परीक्षार्थियों की चेकिंग कर उनके बैग, नाक के कोक कानों की बालियां सहित सामान उतरवा लिया और आईडी देखकर उन्हें परीक्षा केंद्र में एंट्री कराई। नकल रहित परीक्षा कराने के लिए तैनात की गई 15 फ्लाइंग स्क्वायड अधिकारियों तथा 8 रिजर्व फ्लाइंग...
more...
स्क्वायड अधिकारियों ने 67 परीक्षा केंद्रों का दौरा किया। इसके साथ ही गुप्तचर विभाग ने भी परीक्षा पर पूरी नजर रखी। पति व सास परीक्षा केंद्र के बाहर खिलाती रही बच्चों को।ग्रुप डी की परीक्षा देने महिलाएं भी आई हुई थी। इस लिए परीक्षा केंद्र में बैठी पत्नी पेपर दे रही थी और उनके पति व सास बच्चों को परीक्षा केंद्र के बाहर संभाल रहे थे। इसके साथ ही रहने की जगह न मिलने पर परीक्षार्थियों ने रेलवे स्टेशन व पार्क में रात गुजारी।............. हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा ग्रुप डी की लिखित परीक्षा के लिए 67 परीक्षा केंद्र बनाए हुए थे। सुबह व शाम दो सत्र में शांतिपूर्ण ढंग से परीक्षा हुई है। परीक्षा में 41456 परीक्षार्थियों को परीक्षा देने के लिए आना था लेकिन 28459 परीक्षार्थियों ने ही परीक्षा दी। सुशील मलिक, नोडल अधिकारी।
  
अमर उजाला ब्यूरो कुरुक्षेत्र। ग्रुप डी की परीक्षा में उमड़े अभ्यर्थियों की भीड़ के चलते रेलवे का सिस्टम ‘हाईजैक’ रहा। रविवार को उमड़ी अभ्यर्थियों की भीड़ के आगे रोडवेज से लेकर रेलवे विभाग की व्यवस्थाएं ठप रहीं। दिन के साथ-साथ रात को भी जहां हजारों अभ्यर्थियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं ठंड के बावजूद उन्हें रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड व पार्कों में एक चादर में रात बितानी पड़ी। रेलवे स्टेशन पर लगीं तीनों टिकट वेंडिंग मशीनें बंद रहीं। टिकट काउंटरों पर भी भीड़ के चलते अव्यवस्था का आलम रहा। बड़ी संख्या में अभ्यर्थी बिना टिकट ही ट्रेनों में सवार हुए। परीक्षा छूटने के भय में अभ्यर्थी बसों की छतों व ट्रेनों की खिड़कियों पर लटक कर सफर करने को मजबूर रहे। हालांकि परीक्षा शांतिपूर्ण ढंग से हुई। कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखने तथा परीक्षा का सुचारु रूप से संचालन करने के लिए परीक्षा केंद्रों के आसपास 200...
more...
मीटर की परिधि में धारा 144 लागू की गई, जिसके चलते परीक्षा के दौरान किसी भी व्यक्ति को परीक्षा केंद्र की 200 मीटर की परिधि में किसी भी प्रकार का हथियार, मोबाईल फोन, वाई-फाई यंत्र ले जाने की अनुमति नहीं दी दी गई। इतना ही नहीं परीक्षा केंद्रों के आसपास फोटो स्टेट की मशीनें भी बंद रखी गईं। वहीं परीक्षा के चलते केंद्रों के आसपास व पिपली-कुरुक्षेत्र रोड पर जाम के हालात बने रहे। 17522 अभ्यर्थियों ने दी परीक्षा रविवार को दोनों सत्रों में 17522 अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी। 28 हजार अभ्यर्थियों के लिए कुरुक्षेत्र में 46 व शाहाबाद में 5 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। सुबह के सत्र में 8714 और शाम के सत्र में 8808 अभ्यर्थी परीक्षा में बैठे।
एक ही कर्मी के जिम्मे वेंडिंग मशीनों की कमान, लगाए दो अलग टिकट काउंटर : गुप्ता
अभ्यर्थियों की भीड़ के चलते दो नए टिकट काउंटर लगाए गए। व्यवस्था को संभालने के लिए अन्य प्रबंध भी पूरे किए गए। ई-वेंडिंग मशीनें कॉन्ट्रेक्ट पर दी गई और तीनों मशीनों पर एक ही कर्मी तैनात किया हुआ है। उक्त कर्मी रात को भी ड्यूटी पर रहा। भीड़ ज्यादा होने के कारण मशीनों को सही रूप से नहीं चला पाया। - एनएन गुप्ता, अधीक्षक, रेलवे स्टेशन निजी काउंटरों का लिया सहारारेलवे स्टेशन की व्यवस्था छोटी पड़ी तो अभ्यर्थियों ने स्टेशन के बाहर निजी टिकट काउंटरों का सहारा लिया। हालांकि यहां भी उन्हें लंबी लाइनों में घंटों खड़े रहना पड़ा। हालात संभालने के लिए जीआरपी ने अंबाला से भेजी फोर्सरेलवे स्टेेशन पर हालात को संभालने के लिए स्थानीय पुलिस, जीआरपी थाना व आरपीएफ चौकी में तैनात पुलिस कर्मी रेलवे स्टेशन पर तैनात रहे। वहीं जीआरपी की अंबाला से भी फोर्स भेजी गई। इसके बावजूद बड़ी संख्या में अभ्यर्थी रेलवे लाइनों को क्रॉस करते व ट्रेनों के दोनों ओर खिड़कियों पर लटकते दिखे। टिकट लेने के लिए भी कई बार धक्कामुक्की तक की नौबत आई।
शांतिपूर्ण ढंग से निपटी परीक्षा : यादव सभी परीक्षा केंद्रों पर शनिवार व रविवार को परीक्षा शांतिपूर्ण एवं नकल रहित संपन्न हुई। परीक्षा को लेकर पुख्ता प्रबंध किए गए थे।
- अनिल कुमार यादव, एसडीएम एवं परीक्षा नोडल अधिकारी।
  
Today (07:30) तत्काल टिकट को लेकर आरक्षण काउंटर पर मारपीट व पथराव, मची अफरा तफरी (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
1193 views

News Entry# 369101  Blog Entry# 4019599   
  Past Edits
Nov 19 2018 (07:31)
Station Tag: Mirzapur/MZP added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Mirzapur/MZP  
मिर्जापुर। रेलवे स्टेशन के आरक्षण काउंटर पर रविवार को तत्काल टिकट लेने को लेकर दो पक्षों के बीच मारपीट हो गई। मामला बढ़ने पर एक पक्ष ने काउंटर परिसर में जमकर बवाल मचाते हुए पथराव कर तोड़फोड़ किया। जिससे वहां अफरा तफरी मच गई। लाइन में लगे लोग इधर उधर भागने लगे। घटना की जानकारी होते ही पहुंची आरपीएफ एवं जीआरपी ने दो लोगों को गिरफ्तार कर उनके रेलवे एक्ट के तहत विरुद्घ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। उन्हें रेलवे न्यायालय में सोमवार को पेश किया जाएगा। देहात कोतवाली क्षेत्र के राजपुर गांव निवासी सागर सिंह पुत्र वंशराज सिंह रविवार को मिर्जापुर रेलवे स्टेशन के आरक्षण काउंटर से तत्काल टिकट लेने के लिए लाइन में लगा हुआ था। इसी बीच रेलवे कालोनी में रहने वाला युवक मो. आमीर पुत्र रफीक भी टिकट लेने पहुंच गया। सागर से लाइन में आगे जाकर खड़ा हो गया। जिसका विरोध सागर ने जताया तो...
more...
आमीर ने कहा कि वह पहले आया था। इसलिए पहला नंबर मेरा है जबकि सागर का कहना था कि वह पहले आया था कि इसलिए उसका पहला नंबर है। इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। मामला बढ़ने पर मारपीट हो गई। एक पक्ष ने पथराव करना शुरू कर दिया जिससे काउंटर का शीशा टूट गया। पथराव शुरू होते ही वहां अफरा तफरी मच गई। यात्री उधर उधर भागने लगे। सूचना पर पहुंचे आरपीएफ कंपनी कंमांडर सुरेंद्र यादव एवं जीआरपी थानाध्यक्ष केदारनाथ मौर्या ने दो लोगों को गिरप्तार कर थाने ले आए। आरपीएफ कंपनी कंमांडर ने बताया कि सीसी टीवी का फुटेज देखने पर पता चला कि सागर पहले आया था जबकि आमीर बाद में आया है। दोनों के विरुद्घ रेलवे एक्ट के की विभिन्न धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर सोमवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा।
  
Today (07:29) चेन पुलिंग रोकने के लिए सेक्शन व ट्रेनें चिह्नित (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
1223 views

News Entry# 369100  Blog Entry# 4019597   
  Past Edits
Nov 19 2018 (07:29)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
ट्रेन में सफर के बीच में बेवजह जंजीर खींचना महंगा पड़ेगा। आरपीएफ ने रोक लगाने के लिए सख्ती बरतने की तैयारी शुरू कर दी है। जिसके तहत मंडल से गुजरने वाली ट्रेनों व जिन स्थानों पर ज्यादा चेन पुलिंग हो रही है, उन स्थानों को भी चिह्नित कर लिया है। साथ ही, सादा वर्दी में भी पुलिसकर्मियों को लगाया गया है, जो केवल चेन पुलिंग के मामलों पर ही नजर रखेंगे। मंडल के ललितपुर समेत अन्य स्टेशनों पर निगरानी के निर्देश भी दिए गए हैं। आपातकालीन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए ट्रेन की बोगियों में जंजीर दी जाती है, जिसे खींचकर कहीं भी ट्रेन को रुकवाया जा सकता है। आमतौर पर चेन पुलिंग तब की जाती है। जब कोई सहयात्री छूट जाए, ट्रेन में आग लग जाए, स्टेशन पर परिजन रह जाएं, बुजुर्ग या दिव्यांग यात्री साथ हो और उन्हें ट्रेन में बैठाने में अधिक वक्त लगे, अचानक बोगी में...
more...
किसी की तबीयत बिगड़ जाना, झपटमारी-चोरी, डकैती और छापेमारी व अन्य आपातकालीन स्थितियों के बीच चेन पुलिंग की जा सकती है। लेकिन, कुछ समय से बेवजह चेन पुलिंग के मामले सामने आ रहे हैं। लगातार हो रही चेन पुलिंग की घटनाओं को रेलवे ने गंभीरता से लिया है। जिसके तहत आरपीएफ ने ट्रेन नंबर 12616 जीटी एक्सप्रेस, 11057 दादर-अमृतसर एक्सप्रेस, 12447 यूपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, 15206 चित्रकूट एक्सप्रेस समेत बारह ट्रेनों को शामिल किया गया है। इसके अलावा, बीना से झांसी सेक्शन, बीना से ललितपुर, ललितपुर से झांसी, कोटरा से ग्वालियर, चित्रकूट से बदौसा और झांसी से कोटरा सेक्शन को चिह्नित किया गया है। यहां सबसे अधिक चेन पुलिंग के मामले सामने आ रहे हैं।ऐसे करती हैं कामअलार्म वाली जंजीरें ट्रेन के मुख्य ब्रेक पाइप से जुड़ी होती हैं। इस पाइप में हवा का दबाव होता है, जिससे ट्रेन रफ्तार में चलती है। मगर चेन पुलिंग के वक्त ये हवा बाहर निकल जाती है। हवा के दबाव में आई कमी के कारण ट्रेन की रफतार धीमी होती है, जिसके बाद लोको पायलट उसे रोकता है। पूर्व में ट्रेन की बोगियों की दीवारों पर हर तरफ जंजीर दी जाती थीं, मगर गलत इस्तेमाल होने के चलते रेलवे ने इनकी संख्या घटा दी। अब इन्हें हर बोगी के केवल बीच में दिया जाता है।लेट होती हैं ट्रेनेंबार-बार पांच मिनट के अंतराल पर किसी भी ट्रेन में वैक्यूम करने पर गाड़ियों के विलंब होने की पूरी संभावना बनी रहती है। ऐसे में जिस गाड़ी में वैक्यूम किया जाता है उसके बाद पीछे आ रही ट्रेनें पिट जाती हैं। इससे ट्रेनों की लेटलतीफी से यात्रियों को भी परेशानी होती है।
वाणिज्य विभाग तैयार करता है ब्योरा
अभी तक रेलवे एक्ट 1989 की धारा 141 के तहत चेन पुलिंग होने पर पकड़े जाने पर अधिकतम 1000 रुपये का जुर्माना या एक साल तक की कैद का प्रावधान है। आरपीएफ का जांच अधिकारी रेलवे के वाणिज्य विभाग को केस की डिटेल भेजकर होने वाले नुकसान का ब्योरा मांगता है। वाणिज्य विभाग ट्रेन कुल कितने मिनट लेट हुई। इससे रेलवे को कितना नुकसान हुआ, बकायदा इसका पूरा हिसाब बनाकर आरपीएफ को देता है।
चेन पुलिंग रोकने के लिए आरपीएफ की तरफ से अभियान छेड़ दिया गया है। जो भी चेन पुलिंग करते पकड़े जा रहे हैं उनको मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जा रहा है। साथ ही यात्रियों को जागरूक किया जा रहा है कि वे बेवजह चेन पुलिंग न करें।
सारिका मोहन
वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त
रेलवे सुरक्षा बल
  
सरधना में रेलवे लाइन की मांग
- रेलमंत्री से जल्द मुलाकात करेगा फादरों का एक प्रतिनिधिमंडल
सरधना। सरधना नगर की जनता के साथ ही अब चर्च प्रबंधन ने भी सरधना में रेलवे लाइन की मांग को तेज कर दिया हैं। फादर पाक्या नाथन ने बताया कि चर्च प्रबंधन की तरफ से रेलमंत्री को दो पत्र लिखे जा चुके हैं। जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल रेलमंत्री से समय लेकर इस संबंध में बातचीत करेगा। ऐतिहासिक नगरी और बेगम समरू की राजधानी सरधना में रेलवे लाइन की मांग अब तेज हो चली हैं। सरधना के
...
more...
व्यापारी संगठन और विकास समिति सरधना में रेलवे लाइन की मांग लंबे समय से उठती चली आ रही हैं। अब इस मांग को चर्च प्रबंधन का भी समर्थन मिल गया हैं। चर्च प्रबंधन के फादर पाक्या नाथन ने बताया कि नगर के लोगों से उनकी कई बार रेलवे लाइन के मुद्दे पर बात हो चुकी हैं। सरधना एक ऐतिहासिक नगर है और एक विश्व प्रसिद्घ चर्च यहां पर है। चर्च प्रबंधन की ओर से भी रेलमंत्री को अब तक दो पत्र लिखे जा चुके हैं। अब जल्द ही फादरों का एक प्रतिनिधिमंडल रेलमंत्री से मुलाकात करेगा और सरधना में रेलवे लाइन की मांग करेगा। जिससे सरधना व आसपास क्षेत्र की जनता के साथ ही चर्च में पर्यटकों को भी फायदा होगा। हालांकि विधायक संगीत सोम व मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट से सांसद डॉ. संजीव बालियान भी सरधना से होकर गुजरने वाली रेलवे लाइन के सर्वे होने के साथ ही रेल लाइन की मांग की वकालत कर चुके हैं।
Page#    347782 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy