News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Thu Jan 18, 2018 14:02:46 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Thu Jan 18, 2018 14:02:46 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
Page#    2591 news entries  next>>
  
Yesterday (19:35)  एटा-कासगंज रेलवे लाइन के विस्तारीकरण की प्रक्रिया शुरू और एटा से बरहन तक होगा रेलवे लाइन विद्युतीकरण (www.livehindustan.com)
back to top
Rail BudgetNCR/North Central  -  

News Entry# 327221     
   Past Edits
Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Shahanagar Timarua/SWW added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Awa Garh/AWG added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Jawaharpur Kamsan Halt/JWK added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Etah/ETAH added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Shivwala Tehu/SWT added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Jalesar City/JSC added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Barhan Junction/BRN added by akshay123pratap/1451878

Jan 17 2018 (19:35)
Station Tag: Tundla Junction/TDL added by akshay123pratap/1451878
 
 
जनपद के लोगों की बहुप्रतीक्षित एटा-कासगंज रेलवे लाइन विस्तारीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके लिए वर्ष 2019 तक काम शुरू हो जाएगा। उससे पूर्व रेल विभाग को भूमि अधिग्रहण की सबसे जटिल प्रक्रिया पूर्ण करनी है। उसके बाद विस्तारीकरण कार्य वर्ष 2022 तक पूर्ण होने की संभावना है। हिन्दुस्तान से वार्ता करते हुए यह जानकारी स्टेशन अधीक्षक सीपी शर्मा ने दी है।
एटा रेल स्टेशन अधीक्षक सीपी शर्मा ने बताया कि एटा-कासगंज रेल लाइन विस्तारीकरण के लिए इलाहाबाद के चीफ आपरेटिंग मैनेजर डीके वर्मा एवं उनकी टीम ने 17 दिसंबर को एटा रेल स्टेशन का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान टीम ने रेलवे पुल से लेकर नगला गोकुल तक रेलवे की भूमि और वर्तमान रेलवे लाइन की स्थिति को देखा।
...
more...
टीम ने इस दौरान रेलवे पुल और गुरुकुल के पास चौड़ाई कम होने के बारे में भी बताया। उससे एटा रेल स्टेशन के प्रवेश और निकासी द्वार संकरे होने की बात कही। उन्होंने बताया कि एटा-कासगंज रेलवे लाइन विस्तारीकरण की प्रक्रिया वर्ष 2019 तक दिखाई देने लगेगी। एटा-कासगंज की ट्रेन संचालन के लिए स्टेशन पर अलग से प्लेटफार्म और यार्ड का निर्माण होगा। उसके लिए अलग से चार-पांच फुल लूपलाइन डाली जाएगी। उसके साथ ही एटा रेलवे स्टेशन का भी विस्तार होगा। एटा-कासगंज रेलवे लाइन कार्य शुरू करने से पूर्व जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी। उसके लिए रेल विभाग स्थानीय जिला प्रशासन के सहयोग से इस कार्य को पूर्ण करेगा। स्टेशन अधीक्षक ने बताया कि एटा-कासगंज रेल लाइन विस्तार वर्ष 2019 से शुरू होकर वर्ष 2022 तक पूर्ण होने की उम्मीद है। सनद रहे कि केंद्र सरकार के वर्ष 2016 के रेल बजट में एटा-कासगंज रेलवे लाइन विस्तारीकरण के लिए शामिल किया गया था। उसके बाद रेल विभाग ने सर्वे कार्य पूर्ण कराकर अग्रिम प्रक्रिया शुरू कर दी है।
जवाहर विद्युत तापीय परियोजना तक पड़ेगी डबल लाइन
एटा रेल स्टेशन अधीक्षक सीपी शर्मा ने बताया कि एटा-कासगंज रेलवे लाइन विस्तारीकरण प्रक्रिया के साथ-साथ मलावन तक एटा स्टेशन से दोहरी लाइन डाली जाएगी। उसके लिए भी भूमि अधिग्रहण के लिए रास्ते में पड़ने वाली जमीन मालिकों को रेल विभाग के नोटिस आना शुरू हो गए हैं। उन्होंने बताया कि परियोजना के लिए प्रतिदिन 5 से 7 कोयला की रैक आना प्रस्तावित है। उसके लिए अलग से डबल लाइन डाली जानी है। ताकि रैक आवागमन में कोई बाधा उत्पन्न न हो। इस कार्य की प्रक्रिया रेलवे ने शुरू कर दी है। इस कार्य भी वर्ष 2019 तक शुरू होना है।
एटा से बरहन तक होगा रेलवे लाइन विद्युतीकरण
स्टेशन अधीक्षक सीपी शर्मा ने बताया कि एटा-कासगंज रेलवे लाइन विस्तारीकरण, एटा-मलावन परियोजनास्थल तक कोयला रैक पहुंचाने के लिए एटा से बरहन तक रेलवे लाइन पर विद्युतीकरण का कार्य होगा। विद्युतचलित ट्रेन इंजन के माध्यम से ही कोयला की रैक परियोजनास्थल पर पहुंचाई जा सकेगी। रेल लाइन इलेक्ट्रीफाइड होने के साथ ही जनपद के अंतिम रेलवे हॉल्ट शिवाला टेहू पर दो अतिरिक्त फुल लूपलाइन डालकर स्टेशन बनाया जाएगा। उसी तरह जलेसर स्टेशन पर भी फुल लूप लाइन डाली जाएगी। इसी तरह अवागढ़ रेल स्टेशन पर दो लूप डाली जाएगी।
  
Yesterday (14:42)  पटना जंक्शन, पाटलिपुत्र और राजेंद्र नगर टर्मिनल का होगा सौंदर्यीकरण (www.bhaskar.com)
back to top
Rail BudgetECR/East Central  -  

News Entry# 327192     
   Past Edits
Jan 17 2018 (14:42)
Station Tag: Patliputra Junction/PPTA added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:42)
Station Tag: Rajendra Nagar Terminal (Patna)/RJPB added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:42)
Station Tag: Patna Junction/PNBE added by Neeraj Thakur~/1683616
 
 
पटना जंक्शन, राजेंद्र नगर टर्मिनल और पाटलिपुत्र जंक्शन का सौंदर्यीकरण होगा। इन तीनों स्टेशनों को प्राथमिकता के...
पटना जंक्शन, राजेंद्र नगर टर्मिनल और पाटलिपुत्र जंक्शन का सौंदर्यीकरण होगा। इन तीनों स्टेशनों को प्राथमिकता के आधार पर सुंदर एवं यात्री सुविधाओं से युक्त बनाया जाएगा। इन स्टेशनों का ऐसा लुक होगा कि आने वाले यात्रियों को परिसर में घुसते ही सुख की अनुभूति हो। इसके अलावा मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों के इर्द-गिर्द पुराने व अनुपयोगी इमारतों को तोड़ कर संवारने की भी योजना है। सोमवार को दानापुर मंडल सभागार में रेल अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान पूर्व मध्य रेल के अपर महाप्रबंधक अनूप कुमार ने इन योजनाओं पर चर्चा की। साथ ही दानापुर मंडल में चल रहे कार्यों के साथ भविष्य
...
more...
में होने वाले कार्य-योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की। दानापुर के डीआरएम रंजन प्रकाश ठाकुर की मौजूदगी में अपर महाप्रबंधक ने कहा कि एनटीपीसी बाढ़ के पूर्णतः चालू होने से पहले विस्तृत कार्य योजना बन जानी चाहिए। ताकि यात्री यातायात की सुगमता प्रभावित नहीं हो।
पूर्व मध्य रेल की निर्माण परियोजनाओं की ड्रोन से हो रही निगरानी
पटना | रेल परियोजनाओं को समय से पूरा करने के लिए पूर्व मध्य रेल में ड्रोन से निगरानी की जा रही है। खासतौर से वर्ष 2017-18 एवं 2018-19 में पूरी होने वाली परियोजनाओं की निगरानी पर पूर्व मध्य रेल का ज्यादा जोर है। ताकि निर्धारित समय-सीमा के अंदर इन परियोजनाओं को पूरा करने में मदद मिल सके। पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि वर्ष 2017-18 एवं 2018-19 में पूरी की जाने वाली लगभग 411 किलोमीटर लंबी नई रेल लाइन निर्माण, दोहरीकरण, आमान परिवर्तन परियोजनाओं की निगरानी भी ड्रोन कैमरे से की जा रही है। हर दो-तीन महीने के अंतराल पर ड्रोन के माध्यम से प्रत्येक निर्माण परियोजना के क्रियान्वयन की स्थिति की निगरानी एवं निर्माण कार्यों के सही अलाइनमेंट की हवाई वीडियो रिकार्डिंग की जा रही है।
बैठक में इन अहम योजनाओं पर हुई चर्चा
पटना-गया रेलखंड पर अनधिकृत रूप से बने करीब 45 अनधिकृत क्रॉसिंग बंद होंगे। इसके लिए अधिकारियों को जिला प्रशासन के सहयोग से बंद करने का विकल्प तलाशने का निर्देश दिया। संरक्षा से जुड़े रिक्त पदों पर तत्काल बहाली के लिए मुख्यालय से समन्वय स्थापित करने की बात कही गई।
पटना-मुगलसराय रेलखंड पर 110 किलोमीटर की जगह 130 किलोमीटर, दानापुर-पाटलिपुत्र रेलखंड पर 30 किलोमीटर की जगह 90 किलोमीटर प्रति घंटे और बख्तियारपुर- राजगीर रेलखंड पर 40 किलोमीटर की जगह 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनों का परिचालन पर जोर।
टिकट जांच कर्मचारियों के रेस्ट-रूमों में प्राथमिकता के आधार पर सुविधाएं मुहैया कराने, प्रोजेक्ट सक्षम के तहत उनका ट्रेनिंग कराने एवं राजधानी एक्सप्रेस के टिकट जांच कर्मियों को रेलवे बोर्ड के दिशा निर्देश के अनुरूप तत्काल नया ड्रेस मुहैया कराने की चर्चा।
दानापुर मंडल में पूर्णतः विद्युतीकृत हो जाने पर पारंपरिक रेकों की जगह मेमू रेक चलाने पर चर्चा हुई और सभी यात्री गाड़ियों में आरपीएमए यंत्र लगाने के लिए निर्देशित किया गया, ताकि गाड़ियों के परिचालन में सुधार हो।
इंजीनियरिंग विभाग को ट्रैक फेलियर के बाद मेंटेनेंस के लिए स्टैंडर्ड टाइम निर्धारित करने का निर्देश, ताकि किसी परिस्थिति में परिचालन को निर्धारित अवधि में ही सामान्य किया जा सके।
कोडरमा-गिरिडीह नई रेल लाइन परियोजना अंतर्गत 25 किलोमीटर लंबी कवाड़-महेश मुंडा रेलखंड परियोजना दानिया-रांची रोड दोहरीकरण परियोजना के अंतर्गत 10.5 किलोमीटर लंबी जोगेश्वर बिहार-कर्माहाट परियोजना टोरी-शिवपुर नई रेल लाइन परियोजना कोडरमा-रांची नई रेल लाइन परियोजना के अंतर्गत 63 किलोमीटर लंबी बरकाकाना-रांची रेलखंड परियोजना सहरसा-फारबिसगंज आमान परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत 59 किलोमीटर लंबी सहरसा-सरायगढ़ रेलखंड परियोजना सकरी-फारबिसगंज आमान परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत 91 किलोमीटर लंबी सकरी-निर्मली-झंझारपुर-लौकहा बाजार रेलखंड परियोजना निर्मली-सरायगढ़ कोसी ब्रिज ।
इन परियोजनाओं पर विशेष नजर
दानापुर मंडल सभागार में रेल अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान योजनाओं पर चर्चा करते पूर्व मध्य रेल के अपर महाप्रबंधक अनूप कुमार।
  
Yesterday (14:38)  अगले साल से सरायगढ-निर्मली के बीच दौड़ेगी ट्रेन (www.jagran.com)
back to top
Rail BudgetECR/East Central  -  

News Entry# 327191     
   Past Edits
Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Madhubani/MBI added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Darbhanga Junction/DBG added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Saraygarh/SRGR added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Nirmali/NMA added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Sakri Junction/SKI added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 17 2018 (14:38)
Station Tag: Jhanjharpur Junction/JJP added by Neeraj Thakur~/1683616
 
 
सहरसा। कोसी क्षेत्र में सबसे बडी रेल परियोजना कोसी रेल महासेतु का निर्माण कार्य चल रहा है। सरायगढ़-भपटियाही- निर्मली के बीच रेल निर्माण कार्य प्रगति पर है। कोसी क्षेत्र को दरभंगा मिथिलांचल से जोड़ने के लिए बनायी गयी कार्य योजना अब तक मूर्त रूप नहीं ले पाई है। कोसी नदी पर रेल महासेतु बनाकर दोनों ओर से एप्रोच पथ बनाकर उसे रेल मार्ग में परिवर्तित करना इस क्षेत्र के लोगों के लिए किसी सपने से कम नहीं है। लेकिन रेल महासेतु का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद इसके एप्रोच पथ पर मिट्टी भराई कार्य देख अब लोगों को लगने लगा है कि रेल महासेतु पर ट्रेन निकट भविष्य में दौड़ेगी। कोसी नदी पर करीब दो किलोमीटर बने रेल महासेतु का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। महासेतु पर रेल पटरी बिछा दी गयी है। ट्रैक लि¨कग का काम पूरा कर लिया गया है। रेल पुल को छोड़कर शेष भागों में...
more...
मिट्टी भराई का काम प्रगति पर है। इसके बाद रेल पटरी बिछायी जाएगी।
प्रधानमंत्री ने 6 जून 2003 को किया गया था शिलान्यास
तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 6 जून 2003 को निर्मली कॉलेज मैदान से सरायगढ़- निर्मली रेल लाइन बनाने के लिए कोसी रेल महासेतु की आधारशिला रखी थी। इसके निर्माण कार्य पर 324 करोड़ रूपये खर्च करने का लक्ष्य था। इसका निर्माण कार्य को वर्ष 2009 में ही पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित था। लेकिन रेल प्रशासनिक उदासीनता के कारण कोसी क्षेत्र की यह महत्वपूर्ण रेल परियोजना अधर में ही लटक गयी। रेल अधिकारियों की मानें तो निधि के अभाव में यह परियोजना लटकी रही। लेकिन इन दिनों रेल निर्माण विभाग इस दिशा में कार्य कर रही है। रेल पुल बनकर तैयार हो गया। सरायगढ़- निर्मली के बीच 22 किमी की दूरी में रेल महासेतु छोड़कर 8 छोटे- बड़े पुल बनकर तैयार है। एप्रोच पथ में मिट्टी भराई हो रही है। इसके बाद रेल पटरी बिछाने का काम होगा। इसके लिए सरायगढ में रेल स्लीपर पहुंचा दी गयी है।
दो किमी लंबे महासेतु में है 44 पाया
सरायगढ़- निर्मली के बीच कोसी नदी पर बने रेल महासेतु में 44 पाया का निर्माण किया गया है। पुल की लंबाई करीब दो किमी है। रेल महासेतु के दोनों ओर लोहे के गार्डर लगाए गए हैं।
जमीन अधिग्रहण का भी लटका था मामला
सरायगढ- निर्मली के बीच जमीन अधिग्रहण का मामला लटका हुआ था। करीब दो एकड़ जमीन का मामला सुलझा लिया गया है। जमीन की मुआवजा राशि सुपौल जिलाधिकारी को रेलवे ने भेज दी है।
अगले वित्तीय वर्ष में दौड़ेगी ट्रेन
सरायगढ़- निर्मली के बीच कोसी नदी पर रेल महासेतु बनकर तैयार है। पुल पर रेल पटरी भी बिछा दी गयी है। एप्रोच रेल पथ में निर्माण कार्य प्रगति पर है। अगले वित्तीय वर्ष 2018-19 में ट्रेन परिचालन करने का लक्ष्य निर्धारित है।
एके राय, मुख्य अभियंता, रेल निर्माण विभाग
  
Jan 13 2018 (09:17)  उपनगरीय रेल्वेसाठी ५० हजार कोटींचे प्रकल्प (www.loksatta.com)
back to top
Rail BudgetML/Mumbai Local  -  

News Entry# 326842     
   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
 
 
‘एमआरव्हीसी’कडून ‘एमयूटीपी-३ ए’ प्रकल्प योजना; रेल्वे बोर्ड अध्यक्षांसमोर सादरीकरण
वाढत जाणारी प्रवासी संख्या, वाढणाऱ्या लोकल फेऱ्या आणि उपनगरीय रेल्वे मार्गावर पडणारा ताण पाहता एमआरव्हीसीकडून (मुंबई रेल्वे विकास महामंडळ) मुंबई उपनगरीय रेल्वेसाठी एमयूटीपी-३ ए अंतर्गत ५० हजार कोटी किमतीचे प्रकल्प तयार करण्यात आले आहेत. त्याचे सादरीकरण शुक्रवारी रेल्वे बोर्ड अध्यक्ष अश्विनी लोहाणी यांच्यासमोर करण्यात आले. यामध्ये हार्बरवरील गोरेगावचा बोरिवलीपर्यंत विस्तार, कल्याण ते बदलापूर तिसरा आणि चौथा मार्ग यासह काही नवीन प्रकल्पांचा समावेश करण्यात आला आहे. त्याचप्रमाणे यापूर्वी एमयूटीपीत समावेश नसलेल्या आणि दोन जुन्या अशा सीएसएमटी ते पनवेल उन्नत जलद रेल्वे प्रकल्प, पनवेल ते विरार नवीन उपनगरीय रेल्वे मार्गाचाही समावेश करण्यात आल्याची माहिती मुंबई रेल्वे विकास महामंडळाकडून देण्यात आली.
सीएसएमटी
...
more...
स्थानकात मध्य रेल्वे, पश्चिम आणि एमआरव्हीसीच्या अधिकाऱ्यांची बैठक पार पडली. या बैठकीत प्रामुख्याने एमयूटीपी-३ अंतर्गत केल्या जाणाऱ्या प्रकल्पांवर चर्चा करण्यात आली. सध्या एमयूटीपी-३ अंतर्गत ठाणे ते दिवा पाचवा-सहावा मार्गाचे काम सुरू असून गोरेगावपर्यंत झालेली हार्बर रेल्वे प्रवाशांच्या सेवेत आलेली नाही.
एमयूटीपी ३-ए अंतर्गत जवळपास ४९ हजार ५२४ कोटी रुपयांचे विविध प्रकल्प तयार करण्यात आले आहेत. सध्या हार्बर गोरेगावपर्यंत बनली असून तिचा विस्तार बोरिवलीपर्यंत करण्यात येणार आहे. त्यामुळे बोरिवलीपर्यंतच्या प्रवाशांना मोठा दिलासा मिळणार आहे. बोरिवली आणि विरारमधीलही लोकल प्रवास सुकर करण्यासाठी पाचवा-सहावा मार्ग बांधण्यात येणार आहे. बोरिवलीपर्यंतच्या हार्बर विस्तारासाठी ८४६ कोटी रुपये आणि बोरिवली ते विरार पाचवा-सहावा मार्गासाठी दोन हजार २४१ कोटी रुपये खर्च अपेक्षित आहे. मध्य रेल्वेवरील कल्याण ते बदलापूर, आसनगावपर्यंतच्या प्रवाशांचा प्रवासही जलद आणि सुकर करण्यासाठी योजना आखण्यात आली आहे. कल्याण ते बदलापूरसाठी तिसरा आणि चौथा मार्ग, कल्याण ते आसनगावसाठी चौथा मार्गाची योजना असून त्यामुळे लांब पल्ल्याच्या गाडय़ांना स्वतंत्र मार्गही उपलब्ध होणार आहे. हार्बरवर लोकल फेऱ्या वाढवण्यासाठी सीबीटीसी प्रकल्प, स्थानकांत सुधारणा, लोकल गाडय़ांची दुरुस्ती इत्यादी प्रकल्पांचाही समावेश करण्यात आला आहे.
पश्चिम रेल्वे मार्गावर सध्या एक वातानुकूलित लोकल गाडी धावत असतानाच मुंबई उपनगरीय रेल्वेवर नवीन प्रकल्पांसाठी २१० वातानुकूलित लोकल गाडय़ा आणण्याचे नियोजन करण्यात आले आहे.
या नियोजनाची माहिती एमआरव्हीसी, पश्चिम आणि मध्य रेल्वेकडून रेल्वेमंत्री पीयूष गोयल यांना शुक्रवारी झालेल्या बैठकीत देण्यात आली.
त्यावेळी या लोकल गाडय़ांमध्ये प्रथम आणि द्वितीय श्रेणी अशी विभागणी करण्याचे सांगतानाच तिकीट दरही कमी आकारणी करण्याची सूचना केली आहे. सध्या धावत असलेल्या वातानुकूलित लोकल गाडीमध्येही अशा प्रकारची सुविधा देण्यात येते का, याची चाचपणी रेल्वेकडून केली जाणार असल्याचे अधिकाऱ्यांनी सांगितले.
.
एमयूटीपी ३ ए मधील महत्त्वाचे प्रकल्प
प्रकल्प खर्च
सीएसएमटी ते पनवेल जलद उन्नत मार्ग १२,३३१ कोटी
पनवेल ते विरार उपनगरीय रेल्वे मार्ग ७,०७२ कोटी
हार्बर विस्तार-गोरेगाव ते बोरिवली ८४६ कोटी
बोरिवली ते विरार ५ वा आणि ६ वा मार्ग २,२४१ कोटी
कल्याण ते आसनगाव चौथा मार्ग १,७९५ कोटी
कल्याण ते बदलापूर तिसरा आणि चौथा मार्ग १,४१४ कोटी
सीबीटीसी हार्बर मार्ग १,३९१ कोटी
१५ रेल्वे स्थानकांत सुधारणा ९४६ कोटी
प्रकल्पांचे सादरीकरण केल्यानंतर त्यात येणारे अडथळे, खर्च इत्यादीवर एमआरव्हीसी अधिकारी आणि रेल्वे बोर्ड अध्यक्ष अश्विनी लोहाणी यांच्यात चर्चा झाली. त्यामध्ये प्रकल्पांना गती देण्यासाठी संपूर्ण सहकार्य करण्यात येईल, असे आश्वासन लोहाणी यांच्याकडून देण्यात आले.
  
Jan 12 2018 (17:53)  मार्च तक हरहाल में चलेगी सहरसा-गढबरूआरी के बीच ट्रेनें (www.jagran.com)
back to top
Rail BudgetECR/East Central  -  

News Entry# 326819     
   Past Edits
Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Forbesganj Junction/FBG added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Saraygarh/SRGR added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Sakri Junction/SKI added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Laukaha Bazar/LKQ added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Supaul/SOU added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Nirmali/NMA added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Jhanjharpur Junction/JJP added by Neeraj Thakur~/1683616

Jan 12 2018 (17:53)
Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by Neeraj Thakur~/1683616
 
 
सहरसा। रेल निर्माण विभाग के चीफ इंजीनियर अशोक कुमार राय ने कहा कि मार्च 2018 तक हर हाल में सहरसा से गढबरूआरी के बीच बड़ी रेल लाईन पर ट्रेन का परिचालन शुरू हो जाएगा। उन्होंने गुरुवार को सहरसा रेल क्षेत्र में आमान परिवर्तन कार्य का निरीक्षण करते हुए प्रगति कार्य का जायजा लिया। चीफ इंजीनियर ने कहा कि केबल की कमी है जिस कारण सिग्नल का कार्य रूका हुआ है। लेकिन अन्य सभी कार्य इस रेल खंड में पूरा कर लिया गया है। केबल की आपूर्ति के लिए रेलवे बोर्ड से कहा गया है। शीघ्र ही केबल की आपूर्ति हो जाएगी। फुट ओवरब्रिज निर्माण कार्य भी पूरा किया जा रहा है।
रेल निर्माण विभाग रेल परिचालन निर्धारित लक्ष्य मुताबिक रेल सेवा शुरू
...
more...
करने के लिए कटिबद्ध है। आमान परिवर्तन कार्य में बालू की कमी के कारण भी समस्या आयी है लेकिन बंगाल से भी बालू की आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरी कोशिश यह है कि सुपौल तक रेल सेवा मार्च 18 तक बहाल हो जाए। इसके लिए गढबरूआरी-सुपौल के बीच 12 छोटे बडे़ पुल का निर्माण कार्य शुरू है। सरायगढ़ तक रेल सामग्री पहुंचा दी गयी है। पुल बनते ही रेल पटरी बिछाने का काम शुरू हो जाएगा। जिसके लिए रेल निर्माण विभाग पूरी तरह मुस्तैद है। सहरसा स्टेशन पर तीन नए प्लेटफार्म का निर्माण कार्य जारी है। 600 मीटर लंबे प्लेटफार्म का निर्माण कार्य किया जा रहा है। सहरसा से गढबरूआरी के बीच चल रहे आमान परिवर्तन कार्य पर करीब एक सौ करोड़ रूपये खर्च होंगे। सहरसा से गढबरूआरी तक मोटर ट्राली से निरीक्षण चीफ इंजीनियर ने किया। इसके बाद सडक मार्ग से सुपौल- सरायगढ़ तक रेल आमान परिवर्तन कार्य का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान चीफ इंजीनियर के साथ उप मुख्य अभियंता डीएस श्रीवास्तव, कार्यपालक अभियंता वाचस्पति उपाध्याय सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।
फारबिसगंज तक अगले वित्तीय वर्ष में चलेगी ट्रेन
सहरसा से गढबरूआरी के बीच ट्रेन सेवा बहाल हो जाने के बाद सुपौल- सरायगढ के बीच रेल सेवा का परिचालन किया जाएगा। वहीं फारबिसगंज तक सीधी रेल सेवा अगले वित्तीय वर्ष 2018-19 में शुरू हो जाएगा। फारबिसगंज- ललितग्राम के बीच कई जगहों पर आमान परिवर्तन कार्य चल रहा है।
ड्रोन से करायी जा रही फोटोग्राफी
रेल निर्माण विभाग सहरसा रेल खंड में चल रहे आमान परिवर्तन कार्यों की प्रगति की फोटोग्राफी के लिए ड्रोन से मदद ली जा रही है। सहरसा रेलखंड में ड्रोन से फोटोग्राफी करवायी गयी है। चीफ इंजीनियर एके राय ने कहा कि हरेक माह ड्रोन से आमान परिवर्तन कार्य की प्रगति की फोटोग्राफी करवायी जाएगी। जिससे यह पता चलेगा कि काम में क्या प्रगति हुई है।
रेल अस्पताल के पास बनेगा टिकट बु¨कग काउंटर
रेल यात्रियों की सुविधा के लिए पांच नंबर प्लेटफार्म की ओर से फुट ओवरब्रिज के पास ही टिकट बु¨कग काउंटर बनेगा। जिसके लिए जमीन चिन्हित कर ली गयी है। यात्रियों को प्लेटफार्म पर जाने से पहले ही पूरब हिस्सा में टिकट बु¨कग काउंटर बनाया जाएगा। ताकि यात्रियों को टिकट लेने में कोई परेशानी न हो।
कोसी इलाके में आमान परिवर्तन कार्यो की हुई समीक्षा
कोसी इलाके सहित आसपास चल रहे आमान परिवर्तन कार्य की प्रगति की समीक्षा की गयी। चीफ इंजीनियर एके राय ने आमान परिवर्तन कार्य की प्रगति की समीक्षा कर रेल निर्माण विभाग के अभियंताओं को कई निर्देश दिए। सकरी-निर्मली-भपटियाही, झंझारपुर- लोकहा बाजार, खगडिया-कुशेश्वर स्थान एवं हाजीपुर- वैशाली रेल खंड के बीच आमान परिवर्तन कार्य प्रगति पर है। भपटियाही-निर्मली रेल महासेतु का निर्माण कार्य भी चल रहा है। निर्मली-सरायगढ के बीच 2 एकड़ जमीन की समस्या थी। जिसे सलटाया जा रहा है। जमीन मामले में राशि सुपौल जिलाधिकारी को भेज दी गयी है।
Page#    2591 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.