Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Bookmark
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Jan 22 09:36:38 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    2736 news entries  next>>
  
Jan 09 (20:43) Rs 323 crore spent on Kotipalli-Narasapur railway line project since 2014 (timesofindia.indiatimes.com)
Rail Budget
SCR/South Central
0 Followers
4215 views

News Entry# 373557  Blog Entry# 4192115   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
VIJAYAWADA: The long-cherished dream of Kotipalli–Narasapur railway line project are progressing with fast pace as part of the targets fixed by the ministry of railways. In a press release, officials explain the project is being monitored during ‘Pragati’ meetings, a platform launched by Prime Minister Narendra Modi.Explaining the current status of the project, officials point that land acquisition is in process. Total land required stands as 908 acres and so far 276 acres of land has been handed in east Godavari and the remaining land acquisition is still under progress.The project was sanctioned in the year 2000-01 for a distance of 57km. The proposed alignment traverses through the important towns and villages of the very fertile Konaseema region connecting Magam, Amalapuram, Peruru, Pasarlapudi, Jaggannapeta and Razole towns. The detailed project report was sanctioned at an estimated cost of Rs 2,120 crores. The expenditure incurred on this project from 2014-19 to till...
more...
now is Rs 323 crores.The Kotipalli–Narsapur project covers Konaseema region of Andhra Pradesh as an alternative route connecting Visakhapatnam and Vijayawada, a branch line from Vijayawada–Bhimavaram–Nidadavole exists at present joining the main line from Chennai to Kolkata at Nidadavole. The line from Bhimavaram extends up to Narasapur.There has been persistent demand from Konaseema region of Andhra Pradesh, that this region to be connected with Railway line from Narasapur to Kakinada, out of which Kakinada – Kotipalli restoration of BG line is in operation. Now from Kotipalli to Narasapur portion of the Railway line is very essential to fulfill the above requirement.This route will become an alternate route connecting Visakhapatnam - Vijayawada Main line with the Konaseema region in Andhra Pradesh for the overall development. The project is planned for execution in 3 phases - Narsapur-Chinchinada, Kotipalli-Amalapuram and Amalapuram-Chinchinada and is slated to be completed by 2021.

  
2594 views
Jan 10 (12:14)
Mangalagiri~   512 blog posts
Re# 4192115-1            Tags   Past Edits
Need to be completed asap n should get electrified as trains from ns can be extended till CCT

  
2737 views
Jan 10 (12:23)
SRG*^~   40364 blog posts   229319 correct pred (77% accurate)
Re# 4192115-2            Tags   Past Edits
First diesel eh chestaaru electirificcation later but would make sense, since narsapur to BZA will be electrified by the time this gets completed.

  
1640 views
Jan 13 (01:45)
Konaseema Express~   110 blog posts   1 correct pred (50% accurate)
Re# 4192115-3            Tags   Past Edits
That clearance of trees for the bridge looks like an airport runway.
  
Nov 30 2018 (09:04) पीरपैंती-गोड्डा रेललाइन की जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया नहीं बढ़ी आगे (m.livehindustan.com)
Rail Budget
ER/Eastern
0 Followers
2495 views

News Entry# 370388  Blog Entry# 4054678   
  Past Edits
Nov 30 2018 (09:04)
Station Tag: Godda/GODDA added by amishkumar~/1702584

Nov 30 2018 (09:04)
Station Tag: Pirpainti/PPT added by amishkumar~/1702584
Stations:  Pirpainti/PPT   Godda/GODDA  
सामाजिक प्रभाव आकलन (एसआईए) नहीं होने से पीरपैंती-गोड्डा रेललाइन की जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पा रही है। तीन संस्थानों को प्रस्ताव भेजा गया है लेकिन अभी तक मात्र आद्री से प्रस्ताव मिला है। जिला प्रशासन ने पुन: रिमाइंडर भेजा है।रेलवे के उपमुख्य अभियंता से संशोधित प्रस्ताव मिलने के बाद प्रशासन ने सूबे की तीन संस्थान आद्री बिहार पटना, चन्द्रगुप्ता प्रबंधन संस्थान पटना और अनुग्रह नारायण सिन्हा बिहार को पत्र भेजकर सामाजिक प्रभाव आकलन के लिए शुल्क से संबंधित प्रस्ताव मांगा था। अभी तक केवल आद्री का प्रस्ताव प्रशासन को प्राप्त हुआ है।एडीएम राजेश झा राजा ने बताया कि बिना सामाजिक प्रभाव आकलन के जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया नहीं शुरू हो सकती है। संस्थानों से संपर्क कर शुल्क से संबंधित प्रस्ताव भेजने का आग्रह किया जाएगा। प्रस्ताव मिलने के बाद सामाजिक प्रभाव आकलन के लिए सबसे कम रेट वाले संस्थान का चयन किया जाएगा।इस परियोजना के लिए जिले में...
more...
81.292 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करना है। इसमें मजरोही मौजा की 1.813 एकड़, प्यालापुर मौजा की 20.969, रिफातपुर मौजा की 30.875, उदयपुर मौजा की 5.422 और परसबन्ना मौजा की 22.253 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करना है।
  
Nov 26 2018 (21:35) कोवाड़ से महेशमुंडा तक जल्द दौड़ेगी ट्रेन (www.prabhatkhabar.com)
Rail Budget
ECR/East Central
0 Followers
4708 views

News Entry# 370012  Blog Entry# 4044954   
  Past Edits
Nov 26 2018 (22:08)
Station Tag: Kawar/KWAR added by 🌠12337🚅শান্তিনিকেতন সুপারফাস্ট এক্সপ্রেস😍12338�^~/1826835

Nov 26 2018 (21:35)
Station Tag: Koderma Junction/KQR added by amishkumar~/1702584

Nov 26 2018 (21:35)
Station Tag: Giridih/GRD added by amishkumar~/1702584

Nov 26 2018 (21:35)
Station Tag: Maheshmunda Junction/MMD added by amishkumar~/1702584
गिरिडीह : गिरिडीह-कोडरमा रेल परियोजना पर रेलवे ने काम पूरा कर लिया है. इस लाइन पर कई बार ट्रेन  परिचालन कर ट्रायल भी किया जा चुका है. जल्द ही कोडरमा से लेकर महेशमुंडा तक ट्रेन परिचालन शुरू हो जायेगा.इसके लिए रेल मंत्रालय को ट्रेन परिचालन के लिए डीआरएम ने अनुमोदन पत्र भेजा है. उम्मीद है कि साल के अंत तक कोडरमा से लेकर महेशमुंडा (भाया कोवाड़) तक ट्रेन का परिचालन शुरू हो जायेगा. 1998 में हुआ था शिलान्यास : वर्ष 1998 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजयेपी ने गिरिडीह-कोडरमा रेल लाइन की आधारशीला रखी थी. लेकिन भूमि अधिग्रहण को लेकर कई बाधा आने से निर्माण कार्य को काफी देर से शुरू किया जा सका.    विद्युतीकरण कार्य भी हुआ शुरू : कोडरमा से गिरिडीह रेलवे लाइन तक रेलवे की ओर से विद्युतीकरण का काम भी किया जा रहा है.  सुबह से देर रात तक काम किया जा रहा है. नई लाइन शुरू हो जाने...
more...
से लोगों को काफी सहुलियत होगी.  रेलवे मंत्रालय से स्वीकृति मिलते ही कोवाड़ से मधुपुर (भाया महेशमुंडा) तक चलेगी ट्रेन मंत्रालय को भेजा गया है पत्र : डीआरएम पूर्व मध्य रेलवे धनबाद डीआरएम एके मिश्रा ने बताया कि कोडरमा-गिरिडीह रेल लाइन परियोजना का कार्य तकनीकी दृष्टि से पूर्ण हो चुका है. रेल मंत्रालय को ट्रेन परिचालन के लिए अनुमोदन पत्र भेज दिया गया है. स्वीकृति मिलते ही कोवाड़ से मधुपुर (भाया महेशमुंडा) तक ट्रेन का परिचालन शुरू हो जायेगा. कोडरमा-गिरिडीह के बीच पड़ने वाले स्टेशन व हॉल्टकोडरमा जंक्शन, कोडरमा स्टेशन, महेशपुर, नवलशाही हॉल्ट, नवलशाही स्टेशन, राकेश हॉल्ट, धनवार स्टेशन, रेंबा स्टेशन, धुरईटांड़ स्टेशन, जमुआ स्टेशन, चरघरा हॉल्ट, कोवाड़ स्टेशन, पचंबा के सलैया स्टेशन, न्यू गिरिडीह स्टेशन, महेशमुंडा स्टेशन व फुलजोरी हॉल्ट शामिल हैं.
  
Nov 26 2018 (08:18) सहरसा-सरायगढ़ बड़ी रेल लाइन मार्च तक (m.livehindustan.com)
Rail Budget
ECR/East Central
0 Followers
2372 views

News Entry# 369889  Blog Entry# 4042571   
  Past Edits
Nov 26 2018 (08:18)
Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by amishkumar~/1702584
Stations:  Saharsa Junction/SHC  
वर्षों से आवागमन की समस्या से जूझ रहे कोसीवासियों के लिए राहत भरी खबर है। सहरसा-सरायगढ़ बड़ी रेललाइन आमान परिवर्तन कार्य अगले साल मार्च में पूरा होगा।समस्तीपुर मंडल के डीआरएम आरके जैन ने कहा कि मार्च 2019 तक सहरसा-सरायगढ़ आमान परिवर्तन कार्य पूरा कराने के लिए लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। सहरसा में यार्ड री-मॉडलिंग का कार्य किया जा रहा है। इसे 31 दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। सहरसा से गढ़ बरूआरी तक ट्रैक बिछकर तैयार है। गढ़ बरूआरी से आगे ट्रैक पर ब्लास्ट गिराया जाएगा। बता दें कि सहरसा यार्ड में अभी सिग्नलिंग का काम चल रहा है। आमान परिवर्तन कार्य पूरा कराना प्राथमिकता में है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि 50 प्रतिशत से अधिक केबलिंग का काम पूरा कर लिया गया है। बचे कार्य को दस दिनों में पूरा करने की बात कही जा रही है। इसके बाद नन इंटरलॉकिंग का कार्य...
more...
होगा।गढ़ बरूआरी से ढाई किमी आगे पहली बार दौड़ी इंजन : शनिवार की शाम गढ़ बरूआरी से ढाई किमी आगे सुपौल लाइन की तरफ पहली बार इंजन चली। इंजन पुल नंबर - 19 तक चली। स्लीपर बिछी ट्रैक पर इंजन को दौड़ते देख लोगों की भीड़ जुट गई। रेल निर्माण विभाग के अधिकारियों की मानें तो शीघ्र इस ट्रैक पर पहली बार ब्लास्ट लेकर मालगाड़ी चलेगी। गुड्स ट्रेन से ट्रैक पर ब्लास्ट गिराया जाएगा। गढ़ बरूआरी-सुपौल के बीच पांच में से चार पुल के नीचे का स्ट्रक्चर बनकर तैयार हो गया है। गार्टर सहित अन्य कार्य चल रहा है। एक पुल के निर्माण कार्य में हाथ लगा है। सुपौल - सरायगढ़ के बीच एक बड़े पुल सहित अन्य छोटे पुल का काम चल रहा है।बंगाली बाजार ढाला से आगे लगा इलेक्ट्रॉनिक लिफ्टिंग बैरियर : शहर के बंगाली बाजार रेलवे ढाला से आगे इलेक्ट्रॉनिक लिफ्टिंग बैरियर लगाया गया है। इसकी खासियत यह है कि बैरियर को गेटमैन नहीं गिराएगा वह स्वीच दबाते गिर जाएगा।25 दिसंबर 2016 को बंद हुआ था सहरसा-सुपौल रेललाइन: आमान परिवर्तन कार्य को लेकर 25 दिसंबर 2016 को सहरसा-सुपौल रेलखंड पर मेगा ब्लॉक लिया गया था। मेगा ब्लॉक लेकर मार्च 2017 में सहरसा-गढ़ बरूआरी 16.5 किलोमीटर में आमान परिवर्तन कार्य पूरा कर लेने की बात कही गयी थी। इससे पूर्व अलग-अलग चरणों में सुपौल से आगे फारबिसगंज तक मेगा ब्लॉक लिया गया। सरायगढ़ और उससे आगे निर्मली, सकरी, लौकहा जाने वाली रूट बाढ़ और भूकंप की विभीषिका के कारण बंद हो गयी थी।
  
Oct 27 2018 (19:32) रेल मंत्री पीयूष गोयल बोले- राजनीतिक हथियार था रेल बजट, इसलिए कर दिया खत्म (m.navbharattimes.indiatimes.com)
Rail Budget
0 Followers
1969 views

News Entry# 366899  Blog Entry# 3944264   
  Past Edits
Oct 27 2018 (19:33)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by Saurabh®~/1294142
Stations:  New Delhi/NDLS  
नई दिल्ली
केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को बताया कि क्यों मोदी सरकार ने अलग रेल बजट की दशकों पुरानी परंपरा को खत्म कर दिया। उन्होंने कहा कि रेल बजट का इस्तेमाल चुनाव जीतने के लिए होता था और इसे रोकने के लिए यह फैसला किया गया।
5वें इंडिया आइडियाज कॉन्क्लेव में रेलमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समावेशी और टिकाऊ विकास के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की प्रतिष्ठा बढ़ाने वाली योजनाओं पर फोकस कर रहे हैं।
उन्होंने
...
more...
आगे कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे की कार्यप्रणाली बदल दी है। हमने राजनीतिक दखलअंदाजी रोकने के लिए अलग रेलवे बजट को खत्म कर दिया। हमने उन चीजों को प्राथमिकता देनी शुरू की जो भारत के लिए अच्छा है ना कि केवल राजनीतिक वर्ग के लिए।'
रेल मंत्री ने चुनावों में रेल बजट के इस्तेमाल को लेकर कहा, 'पिछले 65 सालों में हर रेलवे बजट राजनीतिक हथियार के रूप में आया। इनपर चुनाव लड़े गए और वादे किए गए।'
उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में अधिक फोकस सुरक्षा, यात्री सुविधा और निवेश पर रिटर्न पर रहा।
Page#    2736 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy