Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Thu Apr 26, 2018 13:31:26 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
Page#    22146 news entries  <<prev  next>>
  
Apr 19 2018 (05:37)  टिटलागढ़ की तरह हादसा, 10 किमी पीछे लुढ़का मालगाड़ी का गार्ड केबिन (mnaidunia.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSECR/South East Central  -  

News Entry# 334623     
   Past Edits
Apr 19 2018 (05:37)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Aaditya^~/1421836

Apr 19 2018 (05:37)
Station Tag: Jaithari/JTI added by Aaditya^~/1421836
Stations:  Bilaspur Junction/BSP   Jaithari/JTI  
 
 
बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि
टिटलागढ़ की तरह निगोरा से जैतहरी के बीच बुधवार शाम अचानक एक मालगाड़ी का गार्ड केबिन (ब्रेकयान) अलग होकर 10 किमी पीछे लुढ़क गया। यह घटना कपलिंग टूटने के कारण हुआ। आनन- फानन लुढ़कते ब्रेकयान को रोका गया। घटना के बाद जोन व मंडल कार्यालय में हड़कंप मचा हुआ है। यदि पीछे से कोई दूसरी ट्रेन आती तो बड़ा हादसा हो सकता था।
कटनी खंड पर स्थित निगोरा से जैतहरी के बीच 10 किमी का फासला है। जैतहरी की तरफ का हिस्सा ढाल है। बुधवार को मालगाड़ी (बीओबीआरएनएमटी ) जैतहरी
...
more...
साइडिंग में अनलोडिंग के बाद निगोरा की तरफ बढ़ने लगी। वह निगोरा पहुंच चुकी थी तभी कपलिंग टूटी और गार्ड केबिन अलग हो गया। ब्रेकयान के अलग होते ही ढाल की वजह पीछे लुढ़कने लगा। जिसे देखकर ब्रेकयान में तैनात गार्ड के होश उड़ गए। लेकिन मदद के लिए आवाज लगाने के अलावा उसके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। इधर ब्रेकयान को छोड़कर मालगाड़ी आगे बढ़ गई। वाकी-टॉकी से गार्ड लगातार घटना की सूचना देता रहा। लेकिन उसे किसी तरह की मदद नहीं मिली। हालांकि घटना के बाद स्टेशन में हड़कंप मच गया। स्टेशन मास्टर से लेकर अन्य कर्मचारी लुढ़कते ब्रेकयान को रोकने के लिए संपर्क साधते रहे। लेकिन बीच में एक भी स्टेशन या कर्मचारियों की ड्यूटी नहीं होने के कारण ब्रेकयान के पहिए नहीं थमे। ढाल खत्म होने के बाद ब्रेकयान जैतहरी में किसी तरह रुका। इसके बाद ही गार्ड व अन्य कर्मचारियों ने राहत की सांस ली। बाद में ब्रेकयान को मालगाड़ी से जोड़ा गया। इसके बाद ही मालगाड़ी गंतव्य के लिए रवाना हुई। इसे बड़ी चूक माना जा रहा है। साथ ही हादसा टलने की बात भी कही जा रही है। आमतौर पर मालगाड़ी या कोचिंग ट्रेन के रवाना होने के बाद पीछे का सिग्नल ग्रीन होता है और पीछे से ट्रेन आगे बढ़ती है। यह मालगाड़ी दस किमी आगे बढ़ चुकी थी। इसके बाद ब्रेकयान का पीछे लुढ़का है। यदि पीछे कोई ट्रेन आती रहती है तो उस स्थिति में दुर्घटना हो सकती थी।
सतर्कता अभियान के दौरान चूक, सकते में अफसर
मालगाड़ी की इस घटना के बाद जोन व मंडल के अफसर सकते में हैं। दरअसल टिटलागढ़ की घटना के बाद रेलवे बोर्ड ने सभी जोन मुख्यालय को आदेश देकर संरक्षा जागरूकता अभियान चलाने के लिए कहा है। लेकिन इस घटना के बाद यही माना जा सकता है कि यहां अभियान को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। जबकि इस खंड में अमूमन चढ़ाव की वजह से ट्रेनों के आगे बढ़ने में दिक्कत आती है। कपलिंग ज्यादा जोर की वजह से टूटने की बात कही जा रही है।
रेलवे बोर्ड का खौफ, मामले को दबाने की कोशिश
रेलवे बोर्ड से साफ निर्देश है कि संरक्षा में चूक बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लेकिन यहां लगातार अनदेखी हो रही है। बड़ी लापरवाही होने की वजह से इस दबाने की कोशिश की जा रही है। इस घटना की पुष्टि और विस्तृत जानकारी लेने के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ डॉ. प्रकाशचंद्र त्रिपाठी से संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। यही स्थिति पीआरओ रतन बसाक की थी। इसके बाद सीनियर पीआरओ संतोष कुमार से संपर्क किया गया। उन्होंने फोन रिसीव किया। लेकिन इस संबंध में कोई जानकारी नहीं होने और पता कर बताने की बात कही।
टिटलागढ़ में हुई थी घटना
टिटलागढ़ में अहमदाबाद- पुरी एक्सप्रेस में कर्मचारियों की लापरवाही के चलते बिना इंजन के करीब 15 किमी लुढक गई। उस समय यात्री मौजूद थे। इस घटना ने रेलवे की संरक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी। लापरवाह कर्मचारियों को संस्पेड भी किया गया। बाद में रेलवे बोर्ड इस घटना को गंभीरता से लिया। साथ ही सभी जोन को सतर्क रहकर संरक्षा से जुड़े कार्यों को करने के निर्देश दिए। अफसरों को ऐसे कार्यों की नियमित निगरानी करने के लिए बोर्ड ने आदेश दिया है।
  
Apr 19 2018 (05:20)  स्टेशन के सकरुलेटिंग एरिया में आग (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 334613     
   Past Edits
Apr 19 2018 (05:20)
Station Tag: Varanasi Junction/BSB added by Aaditya^~/1421836
Stations:  Varanasi Junction/BSB  
 
 
हाल में हुई घटनाएं 1’ 2014 में सिटी स्टेशन के सिग्नल गोदाम में लगी आग1’ 2018 में सिटी स्टेशन के सिग्नल गोदाम में लगी आग1’ सैरयां डॉट पुल पर लकड़ी के स्लीपर में लगी आग
Click here to enlarge image
जासं, वाराणसी : अगलगी की घटना को लेकर जिले में स्थित कोई भी सरकारी विभाग गंभीर नहीं है। इसी का नतीजा हुआ कि बुधवार को रेलवे के सकरुलेटिंग एरिया में आग लग गई। इस दौरान वहां अफरातफरी मच गई। संयोग था कि वक्त रहते दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे और आग पर काबू
...
more...
पा लिया। 1बताते हैं कि सकरुलेटिंग एरिया में स्थित डाक घर के परिसर में बैंक का जेनरेटर रखा है। आशंका जताई जा रही है कि ओवरलोड के चलते जेनरेटर में चिंगारी निकलने लगी थी। चूंकि परिसर में साफ-सफाई की उचित व्यवस्था नहीं रहती है। जेनरेटर के नीचे कचरा पड़ा था। साथ ही जेनरेटर का रख-रखाव भी ठीक नहीं होने से उसमें से भी तेल का रिसाव हो रहा था। इसलिए ओवरलोड के दौरान निकली चिंगारी ने आग का रूप धारण कर लिया। देखते ही देखते पूरा जेनरेटर धूं-धूं करते हुए जल उठा। अफरातफरी के बीच अफसरों ने अग्नि शमन विभाग को फोन किया। मौके पर दमकल संग पहुंचे कर्मचारियों ने पहले बिजली का कनेक्शन काटा और फिर आग पर काबू पाया। घटना सुबह 11.15 बजे घटित होने की बात बताई जा रही है।कैंट स्टेशन परिसर में आग से जलकर राख हुआ जनरेटर सेट
  
Apr 18 2018 (09:18)  Jharkhand : जब रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के आगे दौड़ने लगे चार हाथी रहे थे चार हाथी, ट्रेन ने मार दी टक्कर (www.prabhatkhabar.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSER/South Eastern  -  

News Entry# 334544     
   Past Edits
Apr 18 2018 (09:19)
Station Tag: Jharsuguda Junction/JSG added by Aaditya^~/1421836

Apr 18 2018 (09:19)
Station Tag: Chakradharpur/CKP added by Aaditya^~/1421836

Apr 18 2018 (09:18)
Station Tag: Panpali/PNPL added by Aaditya^~/1421836

Apr 18 2018 (09:18)
Station Tag: Bagdihi/BEH added by Aaditya^~/1421836
 
 
चक्रधरपुर : झारखंड-ओड़िशा बाॅर्डर पर स्थित चक्रधरपुर-झारसुगुड़ा रेल मंडल से 30 किलोमीटर दूर रविवार की रात ट्रेन की टक्कर से चार हाथियों की मौत हो गयी. बागडीही और पानपाली स्टेशन के बीच हुई इस दुर्घटना के कारण ट्रेनों का परिचालन काफी देर तक बाधित रहा. ट्रैक से हाथियों के शवों को हटाने के बाद रेल यातायात फिर से शुरू हो गया है.
दरअसल, बागडीही और पानपाली रेलवे स्टेशन के बीच काफी घना जंगल है. इस क्षेत्र में हाथी लगातार विचरण करते रहते हैं. रविवार की रात जैसे ही ट्रेन इस इलाके से गुजरी, ट्रैक पर चार हाथी आ गये. इनमें से दो छोटे और दो बड़े थे. सभी हाथी ट्रेन के आगे-आगे दौड़ने लगे. इसी दौरान ट्रेन ने पीछे से उन्हें टक्कर
...
more...
मार दी और सभी हाथियों की मौत हो गयी.
  
Apr 18 2018 (07:17)  ब्रेक जाम होने से 18 मिनट खड़ी रही मूरी एक्सप्रेस (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 334541     
   Past Edits
Apr 18 2018 (07:17)
Station Tag: Khairahi/KHRY added by Aaditya^~/1421836
Stations:  Khairahi/KHRY  
 
 
जासं, सोनभद्र : जम्मूतवी से चलकर हटिया को जाने वाली मूरी एक्सप्रेस का ब्रेक मंगलवार की सुबह करीब पौने सात बजे जाम हो गया। इससे गाड़ी खैराही रेलवे स्टेशन के आगे खड़ी हो गई। करीब 18 मिनट के बाद चालक और गार्ड ने ब्रेक ठीक करके ट्रेन को आगे बढ़ाया। अगर समय रहते इस पर ध्यान न दिया गया होता तो बड़ी घटना हो सकती थी। 1 जम्मूतवी से चलकर हटिया तक जाने वाली मूरी एक्सप्रेस सुबह 6.47 बजे खैराही रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी। स्टेशन से गाड़ी आगे बढ़ रही थी तभी स्लीपर कोच के एस-4 बोगी के नीचे ब्रेक से चिंगारी निकलने लगी। जब तक लोग कुछ समझते तब तक गाड़ी स्टेशन से आगे बढ़ गई। हालांकि तत्काल इसकी सूचना स्टेशन मास्टर एएन तिवारी ने विभागीय वाकी-टाकी की मदद से ट्रेन के चालक को दी। इस पर तत्काल गाड़ी रोकी गई और ट्रेन का चालक गार्ड के साथ उक्त...
more...
बोगी के पास पहुंचा तो पता चला कि ब्रेक शू जाम है। इस पर उसे तत्काल ठीक किया गया और फिर गाड़ी को आगे बढ़ाया गया। स्टेशन अधीक्षक के मुताबिक गाड़ी को 18 मिनट के बाद यानी 7.06 बजे रवाना किया गया।जासं, सोनभद्र : जम्मूतवी से चलकर हटिया को जाने वाली मूरी एक्सप्रेस का ब्रेक मंगलवार की सुबह करीब पौने सात बजे जाम हो गया। इससे गाड़ी खैराही रेलवे स्टेशन के आगे खड़ी हो गई। करीब 18 मिनट के बाद चालक और गार्ड ने ब्रेक ठीक करके ट्रेन को आगे बढ़ाया। अगर समय रहते इस पर ध्यान न दिया गया होता तो बड़ी घटना हो सकती थी। 1 जम्मूतवी से चलकर हटिया तक जाने वाली मूरी एक्सप्रेस सुबह 6.47 बजे खैराही रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी। स्टेशन से गाड़ी आगे बढ़ रही थी तभी स्लीपर कोच के एस-4 बोगी के नीचे ब्रेक से चिंगारी निकलने लगी। जब तक लोग कुछ समझते तब तक गाड़ी स्टेशन से आगे बढ़ गई। हालांकि तत्काल इसकी सूचना स्टेशन मास्टर एएन तिवारी ने विभागीय वाकी-टाकी की मदद से ट्रेन के चालक को दी। इस पर तत्काल गाड़ी रोकी गई और ट्रेन का चालक गार्ड के साथ उक्त बोगी के पास पहुंचा तो पता चला कि ब्रेक शू जाम है। इस पर उसे तत्काल ठीक किया गया और फिर गाड़ी को आगे बढ़ाया गया। स्टेशन अधीक्षक के मुताबिक गाड़ी को 18 मिनट के बाद यानी 7.06 बजे रवाना किया गया।
  
Apr 17 2018 (06:34)  दुर्घटना के बाद इंजन में लगी आग से मची खलबली (mnaidunia.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSECR/South East Central  -  

News Entry# 334461     
   Past Edits
Apr 17 2018 (06:34)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Aaditya^~/1421836
Stations:  Bilaspur Junction/BSP  
 
 
बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि
हाथी की चपेट में आने के बाद मेल एक्सप्रेस के क्षतिग्रस्त इंजन से तेज धुआं के साथ आग भी लगी। इस घटना के बाद हड़कंप मच गया। आनन- फानन में आरपीएफ ने फायर फाइटर से इसे काबू किया। इसके बाद भी इंजन चालू होने की स्थिति में नहीं था। लिहाजा दूसरा इंजन लगाकर ट्रेन को रवाना किया गया।
घटना के बाद इंजन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था। बैटरी कवर तक फेंका गया। करीब एक घंटे तक ट्रेन घटनास्थल पर खड़ी रही। इसके बाद किसी तरह मरम्मत कर धीमी रफ्तार
...
more...
में जामगा रेलवे स्टेशन तक ट्रेन को लाया गया। स्टेशन में आकर ट्रेन जैसे ही खड़ी हुई, इंजन से धुआं उठने लगा। इंजन के केबिन में धुआं भर गया। इससे चालक व सहायक नीचे उतर गए। स्टेशन के अधिकारी व कर्मचारी भी स्टेशन में लगी फायर फाइटर मशीन लेकर पहुंचे। यात्री भी इससे सकते में आ गए थे। हालांकि उन्हें परेशान न होने की बात कही गई। इसके बावजूद कुछ यात्री नीचे उतरकर ट्रेन से दूर जाकर खड़े हो गए। करीब दो घंटे 20 मिनट की मशक्कत के बाद स्थिति सामान्य हुई। लेकिन इसके बाद इंजन चलने की स्थिति में नहीं थी। लिहाजा ऐसी स्थिति में दूसरे इंजन की व्यवस्था गई। इसके बाद ही ट्रेन बिलासपुर की ओर बढ़ी। यह ट्रेन सुबह 11 बजे बिलासपुर पहुंची। जबकि यहां इसके पहुंचने का समय सुबह सात बजे है।
टल गया हादसा, दहशत में यात्री
पहले हाथी का टकराना और इसके आग व तेज धुएं से यात्री दहशत में नजर आए। दोनों स्थिति में जानमाल का खतरा था। दरअसल जिस समय यह हादसा हुआ ट्रेन 120 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से बढ़ रही थी। इस बीच अचानक झुंड पटरी पर आ गया। यदि संयम खोकर चालक अपातकालीन ब्रेक लगा देता तो ट्रेन पलट भी सकती थी। ऐसे में यात्रियों की जान भी जा सकती थी। यदि सयम पर आग को काबू नहीं किया गया होता तब आगजनी हो सकती थी।
ट्रेनें लेट पहुंची, यात्री बेहाल
इस घटना के चलते हावड़ा से आने वाली ट्रेनें देरी से पहुंची। सुबह सात बजे पहुंचने वाली हावड़ा- मुंबई मेल एक्सप्रेस सुबह 11 बजे बजे, हावड़ा- पुणे आजाद हिंद एक्सप्रेस 9 बजे की जगह 9.30 बजे , ज्ञानेश्वर सुपरडीलक्स सुबह 9.25 की जगह सुबह 10.50 बजे, हावड़ा- अहमदाबाद एक्सप्रेस सुबह 11.40 बजे की जगह दोपहर दो बजे, कविगुरु एक्सप्रेस सुबह 11 बजे की जगह सुबह 12.10 बजे बिलासपुर पहुंची।
पहले भी हो चुकी है घटना
घटनास्थल एसईआर का है। लेकिन यह बिलासपुर रेल मंडल से जुड़ा हुआ है। मंडल के स्टेशनों में कार्यरत रेल कर्मचारियों ने बताया कि वहां हाथियों की ट्रेन से कटकर मरने की यह पहली घटना नहीं है। पहले भी इस तरह घटना होती रहती है। जंगली क्षेत्र होने के साथ- साथ हाथी प्रभावित एरिया भी है। इसके कारण झुंड में हाथियों का मूवमेंट रहता है।
Page#    22146 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.