Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

पश्चिम रेलवे की शान, पश्चिम सुपरफास्ट एक्सप्रेस मेरी जान - Abdul Rehman

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed May 27 19:13:57 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Stream
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Vcpl Jbp

Page#    Showing 1 to 5 of 1418 news entries  next>>
  
पलपल संवाददाता, जबलपुर. पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर रेल मंडल के न्यू कटनी जंक्शन स्थित टीआरएस डिपो में अनुशासन को दरकिनार करते हुए गुंडों, मवालियों की तरह अपने मातहत स्टाफ को पीटने वाले असिस्टेंट डिवीजनल इलेक्ट्रिकल इंजीनियर (एडीईई) का पमरे मुख्यालय तबादला कर दिया गया है, वहीं सीनियर सेक्शन इंजीनियर (एसएसई) को हेल्पर के साथ मारपीट करने के आरोप में फोर्स लीव पर भेजते हुए जांच शुरू कर दी है.
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों कटनी के टीआरएस शेड में घटी दो अलग-अलग घटनाओं को palpalindia.com ने प्रमुखता से प्रकााशित करते हुए यहां अफसरों की अनुशासनहीनता व उद्दंडता को प्रमुखता से सामने लाया था, वहीं दूसरी तरफ वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन (डबलूसीआरईयू) द्वारा एनकेजे में मातहतों के साथ जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा
...
more...
मारपीट किये जाने की घटना की शिकायत डीआरएम से लेकर तमाम संबंधित आला अधिकरियों से की थी. साथ ही हेल्पर ने जीआरपी थाना में भी मारपीट किये जाने की रिपोर्ट लिखाई थी.
आला अफसरों ने मामले को गंभीरता से लिया की कार्रवाई
पमरे प्रशासन ने इस घटना को काफी सीरियस लेते हुए तत्काल एडीईई सुनील कुमार चंदेल जिस पर एसएसई आरएस वर्मा के साथ मारपीट का आरोप लगा है, का तत्काल तबादला एईई (लोको) मुख्यालय में कर दिया गया है, जबकि सुनील कुमार चंदेल के स्थान पर राम नारायण को एडीईई (टीआरएस) एनकेजे स्थानांतरित किया गया है. वहीं अनुभव मिश्रा नामक हेल्पर के साथ मारपीट करते वाले एसएसई को छुट्टी पर भेजते हुए जांच शुरू कर दी गई है.
  
जबलपुर. पश्चिम मध्य रेल प्रशासन कोरोना वायरस के संक्रमण से अपने रेल कर्मियों को बचाने हेतु निरन्तर प्रयासरत है. जिसके तहत जरूरी ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों को मास्क, सैनिटाइजर, साबुन आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के साथ ही नित नये-नये उपाय किये जा रहे हैं. जिसमें जगह-जगह (कार्यालयों/डिपो) हैंड्स फ्री वॉश बैसिन लगाया जा रहा है, ताकि इसका उपयोग करने वाला हर कर्मचारी संक्रमण से सुरक्षित रह सके.
कोरोना महामारी के इस विकट परिस्थिति में भारतीय रेल द्वारा मालगाडिय़ों एवं पार्सल एक्सप्रेस गाडिय़ों का संचालन जारी रखा गया है तथा देश के विभिन्न शहरों में फंसे प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह नगर भेजने के लिए श्रमिक स्पेशल गाडिय़ां चलाई जा रही हैं, जो बड़ी संख्या में पश्चिम मध्य रेल से होकर गुजर
...
more...
रही हैं. जिसके लिए जरूरी ड्यूटी वाले विभिन्न विभागों के कर्मचारी कार्य पर आ रहे हैं.
सीएंडडबलू, डीजल शेड में हो रहा हैंडस-फ्री फुट आपरेटेड सेनिटाइजर मशीन
इस स्थिति में रेलवे कर्मचारियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए कैरिज एवं वैगन विभाग एवं डीजल शेड द्वारा हैंड्स-फ्री वॉश बेसिन, सोप डिस्पेंसर एवं हैंड्स-फ्री फुट ऑपरेटेड सेनिटाइजर मशीन का निर्माण किया गया है, जिन्हें सभी विभागों, विभिन्न स्टेशनों, रनिंग रूमों, लॉबी एवं कार्यालयों, कैरिज एवं वैगन, रनिंग कर्मचारियों, रेल सुरक्षा बल, आरक्षण कार्यालयों, मण्डल कार्यालय एवं अन्य विभागों में लगाया गया है. इस प्रकार की वाश-बेसिन में पैर से पेडल दबाकर हाथ धोने का प्रावधान है, जिससे साबुन या नल को हाथ से छूने की आवश्यकता नहीं पड़ती इससे संक्रमण की संभावना नहीं रहती है.
पुराने पुर्जों से बनाई गई है मशीन: श्रीमती दीक्षित
इस संबंध में मुख्य जन संपर्क अधिकारी, पश्चिम मध्य रेल, श्रीमती प्रियंका दीक्षित ने बताया कि रेलवे द्वारा इस हैंड्स-फ्री वाश-बेसिन के निर्माण में मात्र पुराने पुर्जों एवं मरम्मत सामग्री का प्रयोग किया गया है. जिससे इन्हें कम लागत एवं कम समय में बनाया गया है. तकनीकी संशोधन के अंतर्गत कोच में लगने वाले फ्लशर वाल्व का प्रयोग करके हैंड्स फ्री वाश-बेसिन बनाई गयी है, जिससे वायरस संक्रमण रोकने में मदद मिल रही है.
  
जबलपुर. पश्चिम मध्य रेल द्वारा कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए हर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं, जिसमें जरूरी ड्यूटी पर लगाये गए रेलकर्मियों के लिए फेस मास्क, सैनिटाइजर, दस्ताने, साबुन आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करना आवश्यक कार्यों में से एक है.
मुख्य जन सम्पर्क अधिकारी, पश्चिम मध्य रेल, श्रीमती प्रियंका दीक्षित ने जानकारी देते हुए बताया कि पश्चिम मध्य रेल के तीनों मण्डलों जबलपुर, भोपाल, कोटा के रेलकर्मियों द्वारा अपने रेलकर्मी साथियों को कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए अपने घरों में फेस मास्क बनाने का काम किया जा रहा है.
इस
...
more...
कठिन समय में मास्क तैयार कर रहे अपने साथी रेल कर्मियों की प्रेरणा से दूसरे रेलवे कर्मचारी भी मास्क बनाने में जुट गए हैं. इसी तारतम्य में डीजल शेड इटारसी, विद्युत लोको शेड इटारसी, वाणिज्य विभाग, यांत्रिक, इंजीनियरिंग, टीआरओ, परिचालन, विद्युत, डीजल शेड, न्यू कटनी जंक्शन आदि विभागों के महिला और पुरुष रेल कर्मियों द्वारा मास्क बनाने का काम निरंतर जारी है.
जिसके परिणामस्वरूप अब तक भोपाल मण्डल द्वारा 29925 मास्क,जबलपुर मण्डल द्वारा 3917 मास्क एवं कोटा मण्डल द्वारा 2500 मास्क बनाकर उपलब्ध कराये गये. इस प्रकार अब तक पश्चिम मध्य रेलवे द्वारा कुल 71542 फेस मास्क बनाये जा चुके हैं. आगे भी इसी तरह रेलकर्मियों द्वारा मास्क बनाने का कार्य निरंतर जारी रहेगा.
इसके अतिरिक्त पश्चिम मध्य रेल के तीनों मण्डलों जबलपुर, भोपाल, कोटा के रेल कर्मियों द्वारा सैनिटाइजर बनाने का भी काम जारी है. अब तक इनके द्वारा 8424 लीटर सैनिटाइजर तैयार कर इंजीनियरिंग, यांत्रिक, टीआरडी, टीआरओ, आरपीएफ, परिचालन, मेडिकल, संकेत एवं दूर संचार, वाणिज्य आदि विभागों को दिये गये. रेल कर्मियों की इस लगन और निष्ठा के साथ काम करने के फलस्वरूप कोरोना योद्धा रेल कर्मियों के लिए पर्याप्त मात्रा में मास्क एवं सैनिटाइजर उपलब्ध हो रहे हैं और इससे कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में मदद भी मिल रही हैं.
  
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे ने एक मई से 3,276 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से करीब 42 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य स्थानों तक पहुंचाया है. आधिकारिक डेटा के मुताबिक कुल 2,875 ट्रेनों को रद्द किया गया जबकि 401 चलाई जा रही हैं. शीर्ष पांच राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों जहां से अधिकतम ट्रेनें चलाई गई हैं वे गुजरात (897), महाराष्ट्र (590), पंजाब (358), उत्तर प्रदेश (232) और दिल्ली (200) हैं.
श्रमिक स्पेशल ट्रेंने मुख्यत: राज्यों के अनुरोध पर चलाई जा रही हैं, जो प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों तक भेजना चाहते हैं. भारतीय रेलवे जहां प्रत्येक ट्रेन को चलाने में आ रहे कुल खर्च का 85 प्रतिशत उठा रहा है वहीं शेष 15 प्रतिशत किराये के रूप में राज्यों द्वारा वसूला
...
more...
जा रहा है.
कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर विनाशकारी प्रभावी पड़ा है साथ ही लाखों प्रवासी मजदूरों की आजीविका पर भी. शहरों से पैदल ही अपने गांवों को लौट रहे प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा करीब दो महीने तक सुर्खियों में रही. सड़क दुर्घटना में अनेक की मौत भी हुई.
भारतीय रेलवे ने यह भी बताया कि रेल मार्गों पर ट्रैफिक की समस्या, जो 23 और 24 मई को दिखा था,वह अब खत्म हो गया. यह भीड़-भाड़ बिहार और उत्तर प्रदेश तक जाने वाले मार्गों पर दो तिहाई से ज्यादा रेल ट्रैफिक के एक जगह मिलने के कारण और स्वास्थ्य प्रोटोकॉल की वजह से टर्मिनल की देरी से मंजूरी मिलने की वजह से हुई. रेलवे ने बताया, राज्य सरकारों के साथ सक्रिय परामर्श के जरिए और सफर के लिए अन्य व्यावहारिक मार्गों की तलाश कर यह मामला सुलझा लिया गया है.
  
May 25 (20:16) एमपी के इटारसी में श्रमिकों ने अपना ही नाश्ता लूटा (www.palpalindia.com)
0 Followers
550 views

News Entry# 409240  Blog Entry# 4636859   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
इटारसी. मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले के इटारसी रेलवे स्टेशन पर सोमवार 25 मई की दोपहर श्रमिक स्पेशल से यात्रा कर रहे श्रमिकों ने बांटने के लिए प्लेटफार्म पर लाया गया नाश्ता लूट लिया. कुछ देर प्लेटफार्म पर अफरा-तफरी का माहौल बना रहा.
मिली जानकारी के अनुसार, मुम्बई से उत्तर प्रदेश की ओर जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन के श्रमिकों के लिए नाश्ता रेलवे कर्मचारी प्लेटफार्म पर लेकर पहुंचे थे. यह नाश्ता इस गाड़ी के श्रमिकों को ही बांटा जाना था, मगर श्रमिकों में धैर्य नहीं रहा और उन्होंने नाश्ते को ही लूट लिया. यह नाश्ता उन्हीं के हिस्से का था. इससे प्लेटफार्म पर हंगामे की स्थिति बन गई.
इटारसी
...
more...
राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) के प्रभारी भगवत सिंह चौहान ने आईएएनएस को बताया कि स्टेशन पर नाश्ता मुम्बई से आकर उत्तर प्रदेश की ओर जाने वाली श्रमिक स्पेशल के यात्रियों के लिए ही रखा था. एक एक व्यक्ति को बांटा जा रहा था, तभी कुछ यात्रियों को लगा कि ट्रेन चल न दे तो वे नाश्ते को खुद लेकर चल दिए. यह उन्हीं के लिए नाश्ता था और वे ले गए. इस पर कोई आपराधिक प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है. ज्ञात हो कि इससे पहले जबलपुर में श्रमिक स्पेशल के यात्रियों द्वारा एक हॉकर काउंटर को तोड़कर उससे पानी, शीतलपेय और बिस्कुट आदि के पैकेट लूट लिए थे.
Page#    1418 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy