News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sun Jul 23, 2017 00:24:40 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sun Jul 23, 2017 00:24:40 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   

News Posts by विश्व नाथ*

Page#    Showing 1 to 5 of 3552 news entries  next>>
  
Jan 18 2017 (21:18)  इंदौर-पटना ट्रेन दुर्घटना में बड़ा खुलासा, ISI ने इस तरह लिखी 164 लोगों के मौत की दास्तान (www.prabhatkhabar.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 291566     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Rura/RURA added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Ghorasahan/GRH added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Raxaul Junction/RXL added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Adapur/ADX added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Chauradano/CAO added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Bapudham Motihari/BMKI added by विश्व नाथ*^/31233

Posted by: विश्व नाथ*  3552 news posts
पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ ने कानपुर रेल हादसे की साजिश रची थी. यह खुलासा नेपाल व मोतिहारी पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पकड़े गये आइएसआइ एजेंट मोती पासवान ने किया है. मंगलवार को आइएसआइ के कुल छह एजेंटों को गिरफ्तार किया गया. इनमें तीन को नेपाल व तीन को मोतिहारी पुलिस ने पकड़ा. गिरफ्तार एजेंटों में एक आदापुर बखरी के मोती पासवान ने खुलासा किया है कि कानपुर में ट्रैक का फिश प्लेट खोल कर ट्रेन को दुर्घटनाग्रस्त कराया गया था. फिश प्लेट उसने खुद खोला था. कुछ और भी साथ थे. इसके लिए नेपाल के ब्रजकिशोर गिरि ने उसे आदेश दिया था. ब्रजकिशोर दुबई में बैठे समसूल होदा से गाइड होता है. इस खुलासे के बाद एटीएस व रॉ के अधिकारी मोतिहारी के लिए रवाना हो चुके हैं. बुधवार को वे मोतिहारी पहुंचेंगे.21 नवंबर, 2016 की आधी रात...
more...
को कानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस बेपटरी हो गयी थी, जिससे 164 यात्री मारे गये थे.आइएसआइ के एजेंटों ने ही घोड़ासहन में ट्रैक पर आइइडी लगाया था. गिरफ्तार एंजेटों का आका नेपाल का समसूल होदा है. फिलहाल वह दुबई में छुपा हुआ है. पूर्वी चंपारण के एसपी जितेंद्र राणा ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि समसुल का साथी ब्रजकिशोर गिरि उर्फ बाबा को नेपाल पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार किया. उसकी गिरफ्तारी के बाद नेपाल पुलिस ने शंभु उर्फ लड्डू व मुजाहिद्दीन अंसारी को पकड़ा. नेपाल पुलिस की जानकारी पर मोतिहारी पुलिस ने रक्सौल गम्हरिया से उमाशंकर पटेल, आदापुर झिटकहिया के मुकेश यादव व आदापुर बखरी के मोती पासवान को गिरफ्तार किया है. समसुल होदा के इशारे पर काम करनेवाले गजेंद्र शर्मा व राकेश यादव की तलाश में छापेमारी की जा रही है. दोनों आदापुर बखरी के हैं.

एसपी के अनुसार, समसुल होदा आइएसआइ के इशारे पर भारत में हमला करने के फिराक में था. इसके लिए उसने नेपाल व उसके सीमावर्ती इलाकों के युवाओं को संगठन से जोड़ने की जिम्मेवारी नेपाल के ब्रजकिशोर गिरि को सौंपी. इस दौरान घोड़ासहन में ट्रैक को उड़ाने के लिए उसने लक्ष्मीपुर पोखरिया के दीपक राम व अरुण कुमार को तीन लाख रुपये का लालच दिया. दोनों ने ट्रैक पर आइइडी तो लगाया, लेकिन उसे ब्लास्ट नहीं करा पाये. घटना के बाद दोनों नेपाल गये.

जुबैर व शफीक ने फोटो देख मोती को पहचाना था

मोतिहारी. पाक आतंकी संगठन के लिए जुबैर व शफीक भी काम करते हैं. दिल्ली में एटीएस ने कुछ दिन पहले दोनों को गिरफ्तार किया था. उनके मोबाइल में मोती पासवान का फोटो था. पूछताछ में दोनों ने फोटो दिखा कहा कि इसी ने कानपुर में ट्रैक का फिश प्लेट खोला था. इस खुलासे के बाद जांच एजेंसियों के कान खड़े हुए. मोतिहारी व नेपाल पुलिस से संपर्क किया गया.
  
Jan 18 2017 (16:30)  असफल होने पर अरुण राम व दीपक राम को नेपाल में बुलाकर हत्या कर दी (epaper.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsECR/East Central  -  

News Entry# 291536   Blog Entry# 2131566     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (16:30)
Station Tag: Ghorasahan/GRH added by विश्व नाथ*^/31233

Posted by: विश्व नाथ*  3552 news posts
घोड़ासहन के पश्चिमी सिग्नल के समीप 01 अक्टूबर 16 को रेलवे ट्रैक को बम से उड़ाने के प्रयास में असफल होने पर अरुण राम व दीपक राम को नेपाल में बुलाकर हत्या कर दी गयी। दोनों युवक आदापुर थाने के लक्ष्मीपुर पोखरिया गांव के निवासी थे। आईईडी विस्फोट की जिम्मेवारी दोनों युवकों को दी गयी थी। दोनों युवकों की लापरवाही से विस्फोट नहीं हो सका तो दोनों को सजा ए मौत दी गयी। दोनों आपस में चाचा भतीजा थे। सफल विस्फोट करने के लिए दस लाख रुपये दिये गये थे। विस्फोट नहीं होने के बाद दोनों को फोन कर नेपाल बुलाया गया और 27 दिसम्बर को हत्याकांड को अंजाम दिया गया। दोनों के पॉकेट से बरामद आईडी के आधार पर पहचान हुई। चाचा-भतीजे की हत्या को अंजाम देने के बाद महागढ़ी माई नगरपालिका के सेमरा तेगछिया के निवासी बृजकिशोर गिरि अपनी ससुराल पर्सा जिले के बिजबनिया गढैया में अजय गिरि के...
more...
यहां छिपकर रहने लगा। छापेमारी अभियान का नेतृत्व कर रहे नेपाल के डीएसपी चक्रराज जोशी के अनुसार इस मामले में पर्सा व बारा जिला के पुलिस टीम ने अपराधियों की खोज में छापेमारी की। छापेमारी के दौरान बदमाशों के साथ मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में बृजकिशोर गिरि को पैर में गोली लगी। नेपाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उसके निशानदेही पर कलेया के मुजाहिदीन अंसारी व शंभू गिरि उर्फ लड्ड को भी नेपाल पुलिस ने गिरफ्तार किया। जख्मी बृजकिशोर को वीरगंज के नारायणी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। तीनों बदमाशों की नेपाल में गिरफ्तारी के बाद भारतीय पुलिस वहां पूछताछ के लिए गयी थी तो मोती पासवान का सुराग मिला। मोती पासवान की गिरफ्तारी के बाद कानपुर बम ब्लास्ट का खुलासा हुआ।बृजकिशोर गिरि का है आतंकी कनेक्शन: नेपाल का बृजकिशोर गिरि का आतंकी संगठन से कनेक्शन है। नेपाली बदमाशों से पूछताछ के आधार पर भारतीय पुलिस ने आदापुर थाने के गम्हरिया रक्सौल के उमाशंकर पटेल उर्फ राजू पटेल, मुकेश यादव व मोती पासवान को भारतीय पुलिस ने गिरफ्तार किया। मोती पासवान ने पूछताछ में खुलासा किया है कि बृजकिशोर गिरि का दुबई के शमसुल होदा से कनेक्शन है। शमसुल ने बृजकिशोर गिरि को रेलवे ट्रैक पर बम प्लांट करने के लिए उमाशंकर पटेल को 20 लाख रुपये व बम प्लांट करने में शामिल सभी सदस्यों को स्कॉर्पियो देने का प्रलोभन दिया। उमाशंकर पटेल ने अरुण राम, दीपक राम, मुकेश यादव, गजेन्द्र शर्मा, राकेश यादव,मुजाहिदीन अंसारी व शंभू गिरि को मिलाकर एक टीम बनायी। घोड़ासहन रेल ट्रैक पर आईईडी फिट कर अरुण राम व दीपक राम को ब्लास्ट करने की जिम्मेवारी दी गयी थी। यह ब्लास्ट उस समय करना था जब क ोई यात्री ट्रेन गुजरने वाली हो। 01 अक्टूबर 16 को ब्लास्ट करना था। ऐसी चर्चा है कि अरुण व दीपक का विस्फोट करने का हृदय स्वीकार नहीं किया। वह दोनों युवक ब्लास्ट नहीं कर सके। जब ब्लास्ट नहीं हुआ तो इसकी सूचना बृजकिशोर गिरि को मिली, तो वह आक्रोशित हो गया। उमाशंकर पटेल को फोन पर कई तरह की धमकी दी। शीघ्र रुपये वापस करो नहीं तो अंजाम खराब होगा। फोन का रेकाडिंग भारतीय पुलिस के पास उपलब्ध है। इसी बातचीत के दौरान कानपुर में भी बम प्लांट करने की बात का खुलासा हुआ था। फिर नयी योजना बनी और मोती पासवान को कानपुर में बम प्लांट करने के लिए बुलाकर ले जाया गया। कानपुर हादसे के बाद बृजकिशोर गिरि जब लौट कर नेपाल आया तो दीपक व अरुण को बुलकार हत्या कर दी।

  
3210 views
Jan 18 2017 (17:42)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 2131566-1            Tags   Past Edits
Aatankiyon ki kayra paddhati- "Karo ya maro"!
  
ईदौर-पटना और सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस ट्रेनें आतंकी साजिश की वजह से दुर्घटनाग्रस्त हुई थीं। इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ सामने आया है। नेपाल और सउदी अरब में बैठे एजेंटों की मदद से आईएसआई ने इसे अंजाम दिया। मोतिहारी से तीन युवकों की गिरफ्तारी के बाद यह सनसनीखेज खुलासा हुआ है। बिहार एटीएस समेत कई एजेंसियां जांच में जुटी हैं। पूर्वी चंपारण के एसपी जितेन्द्र राणा ने मंगलवार को बताया कि सीमा से पकड़े गए मोती लाल पासवान से कई महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है। कानपुर ट्रेन हादसे में मोती सक्रिय रूप से शामिल था। इससे पहले पूर्वी चंपारण में भी उसने ट्रैक उड़ाने की साजिश रची थी। इस आतंकी साजिश का खुलासा घोड़ासहन में 1 अक्टूबर को रेलवे ट्रैक पर मिले बम की तहकीकात के दौरान हुआ है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक कुछ माह पूर्व घोड़ासहन के पास एक प्रेशर कुकर बम मिला था। इसे भी रेलवे ट्रैक को...
more...
उड़ाने के लिए लाया गया था। इसकी जिम्मेदारी उमाशंकर, दीपक और अरुण नाम के तीन युवकों को आईएसआई के नेपाल में बैठे एजेंट ने अपने शार्गिदों के जरिए दी थी। हालांकि घटना से ठीक पहले युवकों को गलती का एहसास हुआ और उन्होंने वारदात को अंजाम नहीं दिया। इसके बाद तीनों ने अपना मोबाइल बंद कर लिया और वहां से चले गए। गिरफ्तार युवकों ने किया खुलासा: जितेंद्र राणा ने बताया कि रेलवे ट्रैक पर मिले बम के अनुसंधान के दौरान पुलिस ने मोती लाल , मुकेश और उमाशंकर को गिरफ्तार किया गया है। मोती ने पुलिस को बताया कि घोड़ासहन में ट्रैक उड़ाने के लिए नेपाल के बृजकिशोर गिरि को 20 लाख रुपये दिए गए थे। दुबई में बैठे आईएसआई एजेंट शमशुल होदा ने यह प्लान किया था। ट्रैक उड़ाने का काम उमाशंकर के अलावा दीपक और अरुण को दिया गया था। घोड़ासहन में घटना नहीं होने के बाद मोती को कानपुर में बम प्लांट करने के लिए बुलाया गया। इसके लिए उसे दो लाख मिले। कानपुर में कामयाबी के बाद मोती इंदौर व बाद में दिल्ली गया। वहां से नेपाल चला गया। काफी दिनों बाद वह अपने गांव पहुंचा। देखें ।
बॉर्डर से पकड़े गए अपराधियों के बारे में जानकारी देते मोतिहारी एसपी जितेन्द्र राणा।
घोड़ासहन में सफल नहीं होने पर आईएसआई के एजेंट ने अपने लोगों के जरिए युवकों को नेपाल बुलवाया। उमाशंकर तो नहीं गया पर दीपक व अरुण खाने-पीने के नाम पर वहां चले गए। राजफाश न हो इसके लिए दोनों की आईएसआई एजेंट ने हत्या करवा दी।
एसपी के मुताबिक मोती ने कानपुर हादसे के मामले में दिल्ली से गिरफ्तार जियाउर और जुबैर की तस्वीर से पहचान की है। बताया कि दोनों उसके साथ कानपुर की घटना में शामिल थे। मोती से पूछताछ के लिए एनआईए, रॉ और आईबी की टीम मोतिहारी आ चुकी है। वहीं नेपाल में उसके तीन साथी बृजकिशोर गिरी, मुजाहिदीन अंसारी और शंभू गिरि को गिरफ्तार किया गया है। इनकी गिरफ्तारी के बाद ही मोती और उसके दो साथी पकड़े गए हैं।
नवंबर16 को हुआ था इंदौर-पटना ट्रेन हादसा 149 की मौत हुई थी
ट्रेन हादसों की साजिश में शमशुल होदा नामक के आईएसआई एजेंट की भूमिका सामने आई है। वह नेपाल की नागरिकता ले चुका है। उसने नेपाल के आईएसआई एजेंट का संपर्क बृजकिशोर गिरी उर्फ परमेश्वर गिरी से कराया था। परमेश्वर, नेपाल में बैठे आईएसआई एजेंट और भारत के बेरोजगार युवकों के बीच कड़ी है। परमेश्वर ने ही मोती और उसके साथियों को आतंकी घटनाओं के लिए तैयार किया था। नेपाल में आईएसआई के लिए काम कर रहे एजेंट के नाम का खुलासा गिरफ्तार युवक नहीं कर पा रहे।
दिसंबर 16 को हुआ था सियालदह-अजमेर ट्रेन हादसा, 95 जख्मी हुए थे
  
बीते दिनों कानपुर में हुई ट्रेन दुर्घटनाओं में आइएसआइ की संलिप्तता थी। आइएसअाइ ने बिहार के घाड़ासहन में भी ट्रेन को उड़ाने की साजिश रची थी, जो नाकाम रही। यह सनसनीखेज खुलासा बिहार पुलिस ने मंगलवार को किया।बिहार पुलिस के इस खुलासे के बाद उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम बिहार के मोतिहारी पहुंच चुकी है। यह टीम गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ करेगी।उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए रेल हादसों व पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन स्टेशन के पास इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आइईडी) लगाने की साजिश के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ थी। बीते दिन मोतिहारी पुलिस के हत्थे चढ़े तीन शातिर अपराधियों ने यह स्वीकर किया।बताते चलें कि इंदौर से पटना जा रही ट्रेन इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस पिछले साल 20 नवंबर में दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। इसमें 142 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद कानपुर में ही रूरा के पास अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी।
गिरफ्तार
...
more...
अपराधियों में शामिल मोती पासवान ने बताया कि दुबई के अप्रवासी नेपाली कारोबारी शमशुल होदा ने उसे ट्रेन को दुर्घटनाग्रस्त करने की जिम्मेवारी सौंपी थी। घोड़ासान में 01 अक्तूबर को ट्रेन दुर्घटना के टल जाने पर के बाद उसने कानपुर में इंदौर-पटना तथा अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस को उड़ाने की जिम्मेवारी दी थी। मोती के अनुसार शमशुल आइएसआइ के लिए काम करता है। उसके नेटवर्क में कई बड़े आतंकवादी भी हैं।
ट्रेन हादसा : जब बूढ़ी मां की छड़ी ने बचा ली पूरे परिवार की जान...जानिए
मोती पासवान ने बताया कि कानपुर में 20 नवंबर 2016 को हुए रेल हादसे की साजिश आइएसआइ ने रची थी। उसे अंजाम देने में उसके साथ ऑर भी लोग थे। उनमें से दो जुबैर व जियायुल दिल्ली में पकड़े जा चुके हैं। पूर्वी चंपारण के एसपी जितेन्द्र राणा के समक्ष उसने दोनों की तस्वीर देखकर पहचान की।
मोती ने बताया कि कानपुर से पहले पूर्वी चंपारण जिले के घोड़ासहन स्टेशन के पास रेल ट्रैक व चलती ट्रेन को उड़ाने की साजिश भी आइएसआइ ने रची थी। इसके लिए नेपाल में गिरफ्तार ब्रजकिशोर गिरी ने आदापुर निवासी अरुण व दीपक राम को तीन लाख रुपये दिए थे।
अजमेर-सियालदह एक्स. दुर्घटनाग्रस्त, हेल्पलाइन नंबर जारी
मोती के अनुसार अरुण व दीपक राम ने आइईडी लगाने के बाद भी रिमोट का बटन नहीं दबाया। इस कारण विस्फोट नहीं हो सका और विध्वंसात्मक कार्रवाई की साजिश नाकाम हो गई थी। मोती ने साफ किया कि घटना को अंजाम नहीं देने के कारण नेपाल बुलाकर ब्रजकिशोर ने अरुण व दीपक की हत्या कर शव को फेंक दिया था।
दाउद की भी संलिप्तता से इंकार नहीं
पूर्वी चंपारण के एसपी जितेंद्र राणा ने पकड़े गए मोती पासवान, उमाशंकर प्रसाद व मुकेश यादव के बारे में बताया कि उनके आइएसआइ से लिंक के प्रमाण मिले हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो की टीम सभी से पूछताछ कर चुकी है। रॉ व एनआइए को इस आशय की सूचना भेजी गई है। एसपी ने इस साजिश के पीछे दाउद इब्राहिम का हाथ होने की आशंका से भी इंकार नहीं किया।
एसपी ने बताया कि इस सिलसिले में तीन लोग नेपाल में भी गिरफ्तार किए गए हैं। उनमें नेपाल के कलेया निवासी ब्रजकिशोर गिरी, शंभू उर्फ लड्डू और मोजाहिर अंसारी शामिल हैं। नेपाल पुलिस से जो जानकारी आई है, उसमें बताया गया है कि आइएसआइ ने बिहार में विध्वंसात्मक कार्रवाई का जिम्मा ब्रजकिशोर गिरी को दे रखा था और उसे इसके लिए 30 लाख रुपये भी दिए गए थे।
रेल राज्यमंत्री ने कहा, पूछताछ जारी
रेलवे राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि मोतीहारी से गिरफ्तार अपराधियों का पुखरायां ट्रेन हादसे में भी हाथ था। उनसे पूछताछ की जा रही है।
  
Jan 17 2017 (22:09)  इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसा बम धमाके से हुआ, ISI की थी साजिश! (www.livehindustan.com)
News Entry# 291468   Blog Entry# 2130705     
   Tags   Past Edits
Jan 17 2017 (22:10)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 17 2017 (22:10)
Station Tag: Ghorasahan/GRH added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 17 2017 (22:10)
Train Tag: Indore - Rajendranagar Express (via Sultanpur)/19313 added by विश्व नाथ*^/31233

Posted by: विश्व नाथ*  3552 news posts
कानपुर के पास पुखरायां में 20 नवंबर को इंदौर पटना एक्सप्रेस दुर्घटना एक आतंकी संगठन आईएसआई की साजिश थी। भारत-नेपाल सीमा पर गिरफ्तार मोती पासवान ने पूछताछ में यह खुलासा किया है बम विस्फोट से ट्रेन हादसा हुआ। मोतिहारी एसपी जितेन्द्र राणा ने मंगलवार को बताया कि कानपुर ट्रेन हादसे में मोती सक्रिय रूप से शामिल था।एसपी ने बताया कि घोड़ासहन में 01 अक्तूबर 2016 को रेलवे ट्रैक से बरामद आईईडी के मामले में मोती पासवान, मुकेश शर्मा व उमाशंकर पटेल को आदापुर से गिरफ्तार किया गया है। मोती ने खुलासा किया है कि बम प्लांट का नेतृत्व दुबई में बैठे शमशुल ने किया था। नेपाल के बृजकिशोर गिरि को 20 लाख रुपये देकर घोड़ासहन में बम प्लांट की जिम्मेवारी दी गई थी। घोड़सहन में असफल होने पर मोती को कानपुर में बम प्लांट करने के लिए ले जाया गया। इसके लिए उसे दो लाख रुपये मिले। कानपुर में सफल होने...
more...
के बाद इंदौर और उसके बाद दिल्ली गया। दिल्ली के बाद वह नेपाल में भी कुछ दिनों तक छिपकर रहा।

7 posts - Tue Jan 17, 2017 - are hidden. Click to open.

  
2823 views
Jan 18 2017 (09:37)
Guest: 52ad97b9   show all posts
Re# 2130705-9            Tags   Past Edits
aaye din accidents ho rahe hain kya sab mei bomb blast hua sarkar ki ke kaam karne ke tareeqe per hansi aa rahi hai
Page#    3552 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.