Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

तो क्या हुआ , जो एक ट्रेन निकल गयी तुम्हारी, जिंदगी के ट्रैक मे अगली ट्रेन भी आएगी। - karthik

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sat Sep 19 15:04:46 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Jai Ho ™

Page#    Showing 1 to 5 of 2112 news entries  next>>
नेपाल रेलवे के विकास में अब इंडियन रेलवे (Indian Railway) भी मदद कर रहा है. कोंकण रेलवे ने नेपाल रेलवे को दो आधुनिक डेमू ट्रेन सेट मुहैया कराई है. नेपाल पहुंचते ही स्थानीय लोगों इसका स्वागत भी किया. ...
more...
नई दिल्ली. भारत-नेपाल के बीच ना सिर्फ सांस्कृतिक और धार्मिक प्रगाढ़ता का संबंध लंबे समय से रहा है बल्कि व्यापारिक,आर्थिक और सामरिक क्षेत्र में भी भारत हमेशा नेपाल की मदद करता आया है. नेपाल रेलवे के विकास में भी अब भारतीय रेलवे भागीदार बन रहा है. कोंकण रेलवे ने नेपाल रेलवे को दो आधुनिक डेमू ट्रेन सेट मुहैया कराई है. भारतीय रेलवे की उत्पादन इकाई, इंटेग्रेटेड कोच फैक्ट्री चेन्नई में इन डेमू ट्रेनों का डिजाइन और निर्माण किया गया है. इन दो स्टेशनों के बीच चलेगी ये ट्रेनें भारत के जयनगर से नेपाल के कुर्था के बीच इन दोनों ट्रेनों का संचालन किया जायेगा. 34 किमी लंबी इस रेल लिंक को इरकॉन द्वारा तैयार किया गया है. इंडिया नेपाल डेवलोपमेन्ट पार्टनरशिप प्रोग्राम के तहत भारत सरकार के वित्तीय अनुदान से इस रेलवे लिंक को तैयार किया गया है. इन दो ट्रेन सेटों के लिए दोनों देशों ने किया था करारनेपाल को दो आधुनिक डेमू ट्रेन देने के लिए नेपाल के रेलवे विभाग और कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने 15 मई 2019 को करार किया था. यह भी पढ़ें: BS-IV डीजल वाहनों के रजिस्ट्रेशन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी, जानिए क्या आपको मिलेगा फायदा? लोगों में दिखा उत्साह जब नेपाल में पहली बार भारतीय रेल पहुंची तो जनकपुर रेलवे स्टेशन पर लोगों में उत्साह देखने को मिला. हजारों की संख्या में लोग स्टेशन और आसपास के इलाके में घंटों से खड़े होकर रेल का भव्य स्वागत किया. रेल के स्टेशन पहुंचते ही लोगों ने ताली और सीटी बजाकर स्वागत किया. लोगों ने खुशी में रेल के साथ सेल्फी भी ली. nepalindian railway

नई दिल्ली. भारत-नेपाल के बीच ना सिर्फ सांस्कृतिक और धार्मिक प्रगाढ़ता का संबंध लंबे समय से रहा है बल्कि व्यापारिक,आर्थिक और सामरिक क्षेत्र में भी भारत हमेशा नेपाल की मदद करता आया है. नेपाल रेलवे के विकास में भी अब भारतीय रेलवे भागीदार बन रहा है. कोंकण रेलवे ने नेपाल रेलवे को दो आधुनिक डेमू ट्रेन सेट मुहैया कराई है. भारतीय रेलवे की उत्पादन इकाई, इंटेग्रेटेड कोच फैक्ट्री चेन्नई में इन डेमू ट्रेनों का डिजाइन और निर्माण किया गया है. इन दो स्टेशनों के बीच चलेगी ये ट्रेनें भारत के जयनगर से नेपाल के कुर्था के बीच इन दोनों ट्रेनों का संचालन किया जायेगा. 34 किमी लंबी इस रेल लिंक को इरकॉन द्वारा तैयार किया गया है. इंडिया नेपाल डेवलोपमेन्ट पार्टनरशिप प्रोग्राम के तहत भारत सरकार के वित्तीय अनुदान से इस रेलवे लिंक को तैयार किया गया है. इन दो ट्रेन सेटों के लिए दोनों देशों ने किया था करारनेपाल को दो आधुनिक डेमू ट्रेन देने के लिए नेपाल के रेलवे विभाग और कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने 15 मई 2019 को करार किया था. यह भी पढ़ें: BS-IV डीजल वाहनों के रजिस्ट्रेशन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी, जानिए क्या आपको मिलेगा फायदा? लोगों में दिखा उत्साह जब नेपाल में पहली बार भारतीय रेल पहुंची तो जनकपुर रेलवे स्टेशन पर लोगों में उत्साह देखने को मिला. हजारों की संख्या में लोग स्टेशन और आसपास के इलाके में घंटों से खड़े होकर रेल का भव्य स्वागत किया. रेल के स्टेशन पहुंचते ही लोगों ने ताली और सीटी बजाकर स्वागत किया. लोगों ने खुशी में रेल के साथ सेल्फी भी ली.
(प्रवीण धींगरा) काेराेना ने जहां पूरी दुनिया में आतंक मचा रखा है, वहीं इस आपदा काे अवसर में बदलने के प्रयास भी हाे रहे हैं। लॉकडाउन के दौरान बंद हुई ट्रेनों काे नए रूप में पटरी पर लाने के लिए ऐसा ही एक प्रयास रेलवे ने ‘जीराे बेस्ड टाइम टेबल’ बनाने का किया है। रेलवे ने ट्रेनों में बड़े बदलाव की तैयारी मार्च के आखिरी सप्ताह में लॉकडाउन लगने के साथ ही शुरू कर ली थी।
रेलवे बोर्ड के कोचिंग डायरेक्टरेट अब तक 756 ट्रेनों में बदलाव के 56 आदेश जारी कर चुके हैं। इनमें 214 ट्रेनों को कुछ स्टेशनों के बीच रद्द किया गया तो 70 ट्रेनों को अब पटरी पर नहीं लाया जाएगा। ये सब आदेश नए टाइम टेबल से
...
more...
लागू हाे जाएंगे। आने वाले दिनों में यह सूची और बड़ी हो सकती है, जब कई जोन के प्रस्तावों को मंजूरी दी जाएगी।
रेलवे में लंबे समय से घाटे काे कम करने के प्रयास चल रहे थे। ऐसे में जब मार्च में पूरे देश में ट्रेनों काे रोका गया तो रेलवे बोर्ड ने सभी जोन को जीरो बेस्ड टाइम टेबल के तहत चार प्रमुख बदलाव की तैयारी करने को कहा और इसके प्रस्ताव भी मंगवाए। सभी जाेन से आए प्रस्तावों पर चर्चा के बाद बोर्ड का कोचिंग डायरेक्टरेट आदेश जारी कर रहा है।
इन चार बड़े बदलाव पर मंगाए थे प्रस्ताव
जानिए...कितनी ट्रेनों में क्या बदलाव
कम दूरी की 121 ट्रेनें होंगी बंद
देश की राजधानी दिल्ली, हरियाणा, उत्तरप्रदेश के छोटे व बड़े शहरों को जोड़ने वाली कम दूरी की 121 पैसेंजर ट्रेनों को उत्तर रेलवे ने बंद करने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। उत्तर रेलवे के मुताबिक इसके अलावा 16 मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें भी बंद की जा सकती है
काठमांडू, एएनआइ। भारत और नेपाल के बीच सीमा विवाद के बीच आज भारत नेपाल को एक सौगात देने जा रहा है। भारत और नेपाल के बीच अब जल्द रेल सेवा शुरू होने जा रही है। इसके तहत आज भारत, नेपाल को दो जोड़ी रेल इंजन और कोच की सौगात देने जा रहा है। यह ट्रेन बिहार के जयनगर से नेपाल के कुर्था तक जाएगी। भारत आज भारत के बिहार में जयनगर और नेपाल जनकपुर में कुर्था के बीच रेलवे कनेक्शन को पुनर्जीवित करने के लिए इंजन और कोच सहित रेलवे के दो सेट शुक्रवार को नेपाल को सौंपे जाएंगे। बता दें कि इस रूट पर पैसेंजर ट्रेनों के साथ मालगाड़ियां भी चलेंगी।

रेलवे
...
more...
विभाग के महानिदेशक बलराम मिश्रा ने कहा कि यह सेट 18 सितंबर को दोपहर बाद भारत के कोंकण रेलवे द्वारा नेपाल को दिया जाएगा। बलराम मिश्रा ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि कल शाम यह भारत के जयनगर पहुंचा। यह नेपाल के जनकपुर के कुर्था तक जाएगा। उन्होंने बताया कि अब तक हमने किसी भी तकनीकी या अन्य मुद्दे का सामना नहीं किया है।


अधिकारी ने आगे कहा कि नेपाली रेलवे के अधिकारी गुरुवार को जनकपुर पहुंच गए हैं। भारत की कोंकण कंपनी से खरीदे गए रेलवे के नए सेट के शुक्रवार दोपहर करीब 3 बजे जनकपुर सब-स्टेशन पर डॉक करने की उम्मीद है। चूंकि नेपाल में अपने गंतव्य पर पहुंचने के लिए रेल निर्धारित है, विभिन्न बिंदुओं पर सुरक्षा, जिसके माध्यम से यात्रा की जाएगी।

मिश्रा ने आगे कहा, आज हम सिर्फ रेल सेट सौंपेंगे। कोई अन्य औपचारिक या किसी भी तरह के कार्यक्रम नहीं हैं, लेकिन कोंकण रेलवे के अधिकारी भी आज ही पहुंचेंगे। कंपनी की तकनीकी टीम इसे नेपाल तक पहुंचाने के लिए रेल चला रही है।नेपाल के रेलवे विभाग ने 84,65,000 में कोंकण रेलवे से रेल इंजन और कोच की खरीद की है। शुक्रवार को यह जनकपुर पहुंचेगी और फिर वापस भारत के जयनगर के लिए अपनी यात्रा शुरू करेगी।

नेपाल की नई साजिश

नेपाल सरकार ने पिछले दिनों नेपाल का एक नया नक्शा घोषित किया है। इस नक्शे में भारत के हिस्से वाले लिंपियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को नेपाल का भू-भाग बताया गया है। यही नहीं नेपाल अब इस विवादित नक्‍शे को अपने सिक्‍कों पर भी अंकित कराने जा रहा है। पड़ोसी मुल्क नेपाल के शिक्षा मंत्रालय ने सीमाओं से संबंधित एक पुस्तक जारी की है। जिसका अनावरण शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री गिरिराज मणि पोखरेल ने किया है।

Rail News
5706 views
Yesterday (22:59)
Still Waiting for Vaccine 🙁🙁
Harsh12345ER^~   9365 blog posts
Re# 4719654-1            Tags   Past Edits
Konsa Border dispute chal raha hi 😂😂
Naksha banane se jagah nepal mein nahi aayega
Yesterday (22:25) भारत से तनाव के बीच नेपाल की ओर बिहार से नए रेलवे ट्रैक पर दौड़ेगी रेल, आज सफल ट्रायल (hindi.oneindia.com)
New Facilities/Technology
INT/International
0 Followers
4666 views

News Entry# 418876  Blog Entry# 4719649   
  Past Edits
Sep 18 2020 (22:25)
Station Tag: Madhubani/MBI added by Jai Ho ™/718732
Stations:  Madhubani/MBI  
मधुबनी। पिछले कई महीनों से भारत को तिरछी आंखें दिखा रहे नेपाल के लिए बिहार के मधुबनी से नई रेल दौड़ेगी। नए रेलवे ट्रैक पर इस रेल का आज सफल ट्रायल हुआ। यह रेल जयनगर से जनकपुर होते हुए नेपाल के बर्दिवास तक जाएगी।
जानकारी के अनुसार, एक डीएमयू ट्रेन जयनगर से नेपाल के लिए बने नए रेलवे ट्रैक पर गुरुवार को रवाना की गई। उस ट्रेन में पांच डिब्बे थे। इस ट्रेन में कुछ रेलवे अधिकारी भी गए। मीडिया को बताया गया कि, ट्रेन शाम को वापस लौटेगी। रेलवे अधिकारियों ने ट्रेन के संचालन और पटरियों की स्थिति की जांच भी की है। अब नेपाल के नेता, रेलवे अधिकारी और भारतीय अधिकारी यह फैसला लेंगे कि ट्रेन का संचालन किस दिन
...
more...
से शुरू किया जाए।
भारत नेपाल के बीच नई ट्रेन चलना लोगों के लिए बड़ा राहतभरा कदम माना जा रहा है। रेलवे की ओर से कहा गया है कि, इस ट्रेन से लोगों का आना-जाना अब शुरू हो सकेगा और लोग अपने रिश्तेदारों से मिलने दोनों देशों में आ-जा सकेंगे। हालांकि, काफी लोग इस बात से भौंचक्के भी हैं कि, एक तरफ नेपाल हमारे इलाकों को अपना बताता है, तो कभी वह भारतीय सेना की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए अपने सैनिकों की बटालियन तैनात करता है। वहीं दूसरी ओर, नेपाली अपनी रोजी-रोटी के लिए सदियों से भारत पर निर्भर रहे हैं।
नई रेल कब से चलेगी, इस बारे में अभी अधिकारिक घोषणा नहीं हुई, लेकिन मधुबनी के जयनगर से नेपाल के लिए नई ट्रेन का संचालन नवरात्री से होने की संभावना है। यह ट्रेन 9 स्टेशनों पर रुकेगी। 5 हॉल्ट और 142 पुलों से होते हुए जयनगर से नेपाल जाएगी। ऐसा कहा जा रहा है कि, इस ट्रेन का रूट- जयनगर, इनरवा, खौजली, वेदही, कुर्था, सिंघराही, पिपराही, विजलपुरा और बर्दीवास से होते हुए होगा।
प्राइवेट ट्रेन चलाने वाली कंपनी खुद तय करेगी किराया, सरकार और रेलवे का नहीं होगा कोई दखल

नई दिल्ली: रेल सुविधाओं में बढोतरी के लिए मोदी सरकार ने देश के कई रूट्स पर प्राइवेट ट्रेनें चलाने का ऐलान किया था। जिसके लिए रेलवे ने अब आवेदन भी मांगे हैं। साथ ही संचालकों को आकर्षित करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत रेल संचालन कंपनियां खुद प्राइवेट ट्रेनों का किराया तय कर सकेंगी। इसमें सरकार का कोई दखल नहीं होगा।
फ्लाइट
...
more...
जैसे होंगे नियम
एक रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा है कि निजी कंपनियों को ये आजादी रहेगी कि वो अपने हिसाब से यात्रियों से किराया वसूल सकेंगी। जिस रूट पर बस और विमान सेवा पहले से ही है, तो वहां पर ध्यान रखना होगा कि किराया ज्यादा ना हो। इसके अलावा इस किराए पर सरकार का किसी तरह का दखल नहीं होगा। ऐसे ही नियम फ्लाइट्स में भी रहते हैं, जहां कंपनियां अपने हिसाब से किराया वसुलती हैं।
कई कंपनियां दिखा रहीं दिलचस्पी
वीके यादव ने बताया कि एल्सटॉम, बॉम्बार्डियर इंक, जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड और अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड समेत कई कंपनियां ने इस प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है। अगर सब कुछ योजना के हिसाब से रहा तो ये प्रोजेक्ट अगले 5 साल में 7.5 बिलियन डॉलर का निवेश ला सकता है। अभी 151 ट्रेनों के माध्यम से 109 ओरिजिन डेस्टिनेशन पर यात्री ट्रेनें चलाने का प्लान है। इसके अलावा दिल्ली और मुंबई स्टेशन के निजीकरण पर भी विचार किया जा रहा है।
क्या है चिंता की बात?
एक रिपोर्ट के मुताबिक ढाई करोड़ से ज्यादा लोग रोजाना ट्रेनों से यात्रा करते हैं। रेलवे में यात्रा आरामदायक तो है ही, साथ ही ये काफी सस्ती भी पड़ती है। देश का गरीब तबका इस पर ज्यादा निर्भर है। ऐसे में लोगों को डर है कि अगर प्राइवेट कंपनियों ने अपनी मनमानी शुरू कर दी, तो किराया बहुत ज्यादा महंगा हो जाएगा। ऐसे में गरीब और मध्यम वर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। वहीं रेलवे के अलावा उनके पास कोई ऑप्शन भी नहीं है, क्योंकि बस और फ्लाइट इसकी तुलना में महंगे हैं।

Rail News
4746 views
Yesterday (22:19)
Pinkyrisky
Pinky~   47 blog posts
Re# 4719645-1            Tags   Past Edits
Very good step...By Government of India
Page#    2112 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy