Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Rockfort Express: திருச்சி அவனது கோட்டை, இரவில் சென்னை வரை வேட்டை, அவன் தான் மலைக்கோட்டை. - Vijay Baradwaj

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Mar 7 06:36:59 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search

News Posts by waitingforJBPGSATPURASF

Page#    Showing 1 to 5 of 104 news entries  next>>
अब मार्च में शुरू होगी पिपरिया-इटारसी लाइन, क्राॅसिंग पर केबल डालने ठेकेदार की फूली सांसें
बिजली ट्रैक पर इंजन ट्रॉयल को रेड सिग्नल
भाससे | जबलपुर।
विद्युतीकरण परियोजना के पहले चरण का काम पूरी तरह से फेल हो गया। पिपरिया-इटारसी रेल खण्ड को पहले जनवरी माह में चालू कर दिया जाना था। इसके बाद ठेका कंपनी को फरवरी का नया टारगेट
...
more...
दिया गया था, पर उसमें भी उसकी सांसें फूल गईं। रेल ट्रैक क्रॉसिंग पर अंडरग्राउंड केबल डालने के लिये कंपनी ने अपने हाथ खड़े कर लिए हैं। कंपनी की न के बाद बिजली ट्रैक पर इस माह होने वाली इंजन ट्रॉयल को भी रेड सिग्नल मिल गया। रेल इलेक्ट्रिकल आरई विभाग ने मार्च में बिजली से ट्रेनों को दौड़ाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं।
आरई जोन इलाहाबाद ने नए सिरे से विद्युतीकरण के काम में तेजी लाने के लिए छिवकी-जबलपुर-इटारसी के बीच काम को चार खंडों में बांट दिया है, जिससे इस परियोजना के काम में तेजी लाई जा सके। रेलवे बोर्ड ने इस काम के लिए 15 माह की अवधि निर्धारित की है। आरई विभाग के इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिये मार्च 2018 तक कार्य पूरा करने का टारगेट दिया है।
कहां से कब पूरा होगा कार्य
मानिकपुर-मझगवां 37 किमी मार्च 2017
मझगवां-सतना रीवा 84 किमी दिसंबर 2017
सतना-कटनी 98 किमी मार्च 2018
कटनी-जबलपुर 91 किमी जून 2017
जबलपुर-पिपरिया 178 किमी जुलाई 2017
पिपरिया-इटारसी 67 किमी मार्च 2017
चार खण्डों में बंटा प्रोजेक्ट
छिवकी (नैनी) से इटारसी के बीच सतना-रीवा, सतना-कटनी, कटनी-जबलपुर व जबलपुर इटारसी रेलखंड के विद्युतीकरण कार्य को वर्ष 2012-13 में मंजूरी दी गई थी, 653 रूट किमी तथा 1611 ट्रैक किमी जिसकी लागत लगभग 861 करोड़ 33 लाख रुपए है, के विद्युतीकरण कार्य की जिम्मेदारी चीफ प्रोजेक्ट डायरेक्टर को दी गई।

3 Public Posts - Fri Feb 17, 2017

6378 views
Feb 17 2017 (21:04)
m afzal   113 blog posts
Re# 2167575-4            Tags   Past Edits
Waiting for crs

6940 views
Feb 17 2017 (21:09)
m afzal   113 blog posts
Re# 2167575-5            Tags   Past Edits
I think CRS will done in shortly

Feb 17 2017 (21:27)
m afzal   113 blog posts
Re# 2167575-6            Tags   Past Edits
In pics coi mkp section already energised with 2.2 kv only section completed between ald to itarsi

7922 views
Feb 18 2017 (01:40)
Mula Ram C   21 blog posts
Re# 2167575-7            Tags   Past Edits
What is 2.2kV...
Which loco uses this voltage???

6929 views
Feb 18 2017 (06:17)
Aditya   5889 blog posts
Re# 2167575-8            Tags   Past Edits
it is for stopping theft
Sep 09 2016 (10:02) विमानों का रुख कर सकते हैं 2एसी के यात्री (naidunia.jagran.com)
IR Affairs
NR/Northern

News Entry# 279493   
  Past Edits
Sep 09 2016 (10:02AM)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by JBP SUKRI NEW train soon/886865
Stations:  New Delhi/NDLS  
नई दिल्ली। मामूली से फायदे के लिए रेलवे ने राजनीतिक के साथ-साथ वाणिज्यिक जोखिम भी मोल ले लिया है। वजह यह है कि राजधानी, दुरंतो और शताब्दी ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर स्कीम लागू होने से रेलवे को मात्र 500 करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई होगी।
ऐसे में रेलवे अफसर और परिवहन विशेषज्ञ भी इस फैसले पर अचरज जता रहे हैं। उनका कहना है कि यह स्कीम त्योहारों व गर्मियों में लंबी दूरी की प्रीमियम ट्रेनों में आरक्षण की बढ़ती मांग का फायदा उठाने के इरादे से लाई गई है।
लेकिन इससे नुकसान भी
...
more...
संभव है क्योंकि रेल यात्रियों का यह तबका विमानों का रुख भी कर सकता है। फिलहाल चौतरफा आलोचना को देखते हुए रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने कहा है कि स्कीम को प्रायोगिक तौर पर पेश किया गया है। कुछ समय बाद इसकी समीक्षा होगी। तब देखा जाएगा कि क्या जरूरी उपाय किए जा सकते हैं।
राजधानी, दुरंतो, शताब्दी के 2एसी किराये अब हवाई टिकटों के निकट
3एसी के यात्री बढ़ेंगे, लेकिन 2एसी में हो सकता है नुकसान
रेल अफसरों को भी समझ नहीं आ रहा स्कीम का औचित्य
रेलवे को इससे होगी सिर्फ 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त कमाई
अभी दिल्ली-मुंबई राजधानी का सेकेंड एसी का आधार किराया 2369 रुपये है। इसमें आरक्षण शुल्क (50 रुपये), सुपरफास्ट चार्ज (45 रुपये), सर्विस टैक्स (111 रुपये) तथा खानपान शुल्क (295 रुपये) को जोड़ने पर कुल किराया 2870 रुपये बनता है।
शुक्रवार से जब फ्लेक्सी फेयर स्कीम लागू होगी तो शुरू की 10 फीसद बर्थ को छोड़कर आगे की हर 10 फीसद बर्थ का आधार किराया बढ़कर क्रमशः 2606, 2843, 3080, 3317 और 3554 रुपये हो जाएगा। इसमें आरक्षण शुल्क, सुपरफास्ट शुल्क और कैटरिग शुल्क तो ऊपर दी गई निश्चित दरों के हिसाब से ही लगेगा।
परंतु सर्विस टैक्स फीसद के अनुसार लगने से आधार किराये के अनुसार बढ़ेगा और क्रमशः 122, 132, 143, 154 तथा 164 रुपये हो जाएगा। इसके परिणामस्वरूप शुरू की दस फीसद बर्थ के बाद अगली हर दस फीसद बर्थ का कुल किराया क्रमशः 3118, 3365, 3613 और अंततः 4108 रुपये हो जाएगा।
जानकारों के अनुसार इस किराये पर व्यस्त मौसम को छोड़ बाकी दिनों में हवाई जहाज के टिकट भी मिल जाते हैं। ऐसे में ट्रेन में प्रतीक्षा सूची का टिकट लेने के बजाय लोग हवाई सफर को तवज्जो देंगे। इस तरह फ्लेक्सी फेयर में शुरू की 40 फीसद बुकिंग पर ही सारा दारोमदार रहने की संभावना है।
वजह यह है कि इस स्तर तक अधिकतम बढ़ोतरी 26 फीसद ही है। जबकि इसके बाद की सीटों के लिए 35 और 43 फीसद अधिक राशि अदा करनी पड़ेगी।
जहां तक थर्ड एसी की बात है तो इस श्रेणी के किराये (सरचार्ज जोड़कर) भी 32 फीसद तक बढ़ गए हैं। हालांकि बेसिक फेयर में 40 फीसद तक बढ़ोतरी होगी। इसके बावजूद इन यात्रियों के भागने की ज्यादा संभावना नहीं है।
इसका कारण यह है कि दिल्ली से मुंबई के बीच राजधानी से सफर के लिए इन्हें अब भी ज्यादा से ज्यादा 2765 रुपये ही देने पड़ेंगे। इस दर पर हवाई जहाज का टिकट मिलने की संभावना बहुत कम है।
वैसे राजधानी, दुरंतो और शताब्दी में फ्लेक्सी फेयर लागू किए जाने से रेलवे बोर्ड के अनेक अफसर भी हैरत में हैं। एक अधिकारी ने कहा इसमें आर्थिक लाभ कम और राजनीतिक नुकसान ज्यादा है। डेढ़ गुना सुनते ही खराब लगता है।
यदि राजस्व जुटाना ही मकसद था तो सभी ट्रेनों और श्रेणियों में 10 फीसद की एकमुश्त बढ़ोतरी बेहतर रहती। बदनामी तो तब भी होती। लेकिन कम से कम अधिक राजस्व मिलने का संतोष तो होता।
- See more at: click here
Sep 01 2016 (12:43) CRS arriving to inspect new broad gauge track (thehitavada.com)
Rail Budget
WCR/West Central

News Entry# 278783   
  Past Edits
Sep 01 2016 (12:43PM)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by JBP SUKRI CRS Today/886865
Stations:  Jabalpur Junction/JBP  
All fingers are crossed as people belonging to all sections of society are eagerly waiting for arrival of Commissioner Railway Safety(CRS) for the final inspection of Jabalpur-Sukri-Manglea newly constructed broad gauge track. Reportedly, CRS is scheduled to visit Jabalpur for the much awaited inspection of the new track on September 2 and 3. If the set parameters of safety are found intact, the operation of broad gauge train may get started from September 4 or 5.
According to information, all speculations made on the much-awaited arrival of CRS for the inspection of new broad gauge in between Jabalpur-Sukri-Manglea, comes to end by virtue of confirmation made by sitting MP Rakesh Singh, who was informed by GM SECR about the scheduled arrival
...
more...
of CRS for the inspection of the new railway track. MP Rakesh Singh was informed by SECR GM Satyendra Kumar on phone. GM SECR Satyendra Kumar informed the sitting MP that CRS would visit Jabalpur on September 2 for the inspection of the new broad gauge track. The inspection would be carried out on September 2 and 3. According to set programme, the CRS would inspect the track on trolley on September 2 and would inspect the track on September 3 by train. Efforts initiated by sitting MP Jabalpur in view of public demand for gauge conversion between Jabalpur-Gondia seems to be working. As majority of the ambitious project is on verge of accomplishment is the outcome of continuous monitoring and follow-up by the sitting MP. As on May 18 2016 one review meeting was called upon by MP Jabalpur that was attended by GM SECR and top brass of SECR. Besides the review meeting, the top brass of SECR along with MP Singh and other carried out inspection of Jabalpur-Sukri-Manglea track converted as per set norm of broad gauge conversion. It was decided that the operation of train would get started from July 31 but due to reasons the operation of train could not get started. Meanwhile, if CRS gives green signal after inspection, operation of trains would start on Jabalpur-Sukri-Manglea from September.
Sep 22 2015 (06:04) नागपुर चली जाएंगी जबलपुर डिवीजन की तीनों छुकछुक ट्रेनें (naidunia.jagran.com)
Major Accidents/Disruptions
WCR/West Central

News Entry# 242182   
  Past Edits
Sep 22 2015 (6:04AM)
Station Tag: Nainpur Junction/NIR added by JBPNIRMEGABLOCK confirmed frm OCT12015/886865

Sep 22 2015 (6:04AM)
Station Tag: Balaghat Junction/BTC added by JBPNIRMEGABLOCK confirmed frm OCT12015/886865

Sep 22 2015 (6:04AM)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by JBPNIRMEGABLOCK confirmed frm OCT12015/886865

Sep 22 2015 (6:04AM)
Train Tag: Satpura Express (NG)/10002 added by JBPNIRMEGABLOCK confirmed frm OCT12015/886865
जबलपुर। लोगों के जेहन में छुकछुक ट्रेन के नाम से जगह बना चुकी छोटी लाइन की ट्रेनों को अलविदा कहने का समय नजदीक आ गया है। शहर से चलने वाली तीनों छोटी ट्रेनों को 1 अक्टूबर से हमेशा के लिए बंद कर दिया जाएगा और इन्हें नागपुर डिवीजन में भेज दिया जाएगा।
छोटी लाइन की विरासत को जिंदा रखने के लिए पश्चिम मध्य रेलवे ने जबलपुर से शिकारा तक हैरिटेज ट्रेन चलाने की घोषणा की थी, लेकिन इस प्रस्ताव पर अब तक कोई पहल नहीं हो सकी। ऐसे में 1 अक्टूबर के बाद छोटी लाइन का ट्रैक उखाड़ने काम शुरू हो जाने पर हैरिटेज ट्रेन का प्लान फाइलों में ही दफन हो जाएगा।
इंजनों
...
more...
को म्यूजियम में रखेगा बिलासपुर जोन
जबलपुर की तीनों छोटी ट्रेनों को नागपुर डिवीजन भेजने की तैयारी हो चुकी है। 30 सितम्बर को जबलपुर से नैनपुर और बालाघाट जाने वाली तीनों ट्रेन वापस जबलपुर नहीं आएंगी। इन्हें नागपुर डिवीजन में नागपुर से नागवीर स्टेशन के बीच चलाया जाएगा। 110 किमी के इस नैरोगेज ट्रैक में तीनों ट्रेनों के कोच दौड़ेंगे। जो कोच खराब हो चुके हैं उन्हें डिमेंटल कर दिया जाएगा। वहीं इनके कुछ इंजनों को बिलासपुर जोन अपने म्यूजियम में रखेगा।
110 किमी ट्रैक की लगेगी बोली
जबलपुर से नैनपुर और बालाघाट के बीच के ट्रैक को नीलाम करने की तैयारी भी शुरू हो गई है। जानकारी के मुताबिक जबलपुर से ग्वारिघाट के ट्रैक को रेलवे(नागपुर डिवीजन) खुद उखाड़ेगा ताकि ब्रॉडगेज के काम में किसी तरह की दिक्कत न आए। शेष ट्रैक (लगभग 110 किमी) को नीलाम किया जाएगा। बोली लगानी वाली पार्टी को एक निर्धारित सीमा के भीतर यह ट्रैक उखाड़ना होगा। ट्रैक में पड़ने वाले तकरीबन 60 से 70 बड़े रेल ब्रिजों को भी नीलाम किया जाएगा। इन्हें भी एक माह के भीतर डिस्मेंटल करने की योजना है।
ट्रैक की रखवाली करेंगे चौकीदार
रेलवे अधिकारियों को चोरी का डर भी सता रहा है। उन्हें डर है कि ट्रेनों का संचालन बंद होने के बाद ट्रैक से स्लीपर व अन्य सामग्री चोरी न हो जाएं। इसलिए इनकी रखवाली के लिए चौकीदारों को तैनात किया जाएगा।
1905 में शुरू हुई थी ट्रेन
जबलपुर से गोंदिया रेलमार्ग(छोटी लाइन) 1905 में शुरू हुआ। इस रेललाइन का नाम सतपुड़ा ब्रांच रखा गया। यह रेलमार्ग डालने के पीछे अंग्रेजों का मकसद यहां की बेशकीमती सागौन का परिवहन करना था।
- See more at: click here
Sep 19 2015 (09:38) रेलवे स्टेशन की गिट्टी में सीबीआई को मिली गडबड़ी (naidunia.jagran.com)
Crime/Accidents
WCR/West Central

News Entry# 241910   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
जबलपुर। पश्चिम मध्य रेलवे में इलेक्ट्रिफिकेशन लाइन के दौरान लगाए जा रहे पोल में गड़बड़ी सामने आने के बाद अब सीबीआई को ट्रैक पर बिछाई जा रही गिट्टी की गुणवत्ता में भी गड़बड़ी मिली है। सीबीआई ने शुक्रवार को नरसिंहपुर स्टेशन के पास लगे गिट्टी के स्टॉक को चेक किया, जिसमें रेलवे ट्रैक पर बिछाई जाने वाली गिट्टी निर्धारित आकार से कम मिली। दरअसल इन दिनों नरसिंहपुर के पास नई लाइन डाली जा रही है, जिसमेंगिट्टी बिछाने का काम चल रहा है। यह काम परफेक्ट स्टोन ग्रेशन को दिया गया है।
20 में 4 चेक किए, वो ही गड़बड़ः
सीबीआई
...
more...
के साथ रेलवे विजलेंस भी इस कार्रवाई का हिस्सा रही। इस दौरान जांच दल में 10 अधिकारी शामिल थे। इनमें 4 सीबीआई के, 4 विजलेंस और 2 विटनेस रहे। अधिकारियों ने नरसिंहपुर स्टेशन के पास लगे गिट्टी के स्टॉक को चेक किया। इसमें 20 स्टॉक लगाए गए हैं, जैसे ही 4 स्टॉक चेक किए गए। गड़बड़ी सामने आ गई। गिट्टी की निर्धारित सीमा और गुणवत्ता दोनों में गड़बड़ी मिली।
आज भी होंगे चेक
सुबह से शुरू हुई कार्रवाई देर शाम तक चलती रही। जांच के दौरान अभी 4 स्टॉक को ही चेक कर पाए। शनिवार को 16 स्टॉक चेक किए जाएंगे। रेल गिट्टी की गुणवत्ता का परीक्षण करने की जिम्मेदारी मंडल के इंजीनियरिंग विभाग के पीडब्ल्यूआई, एसएससी, सीनियर सेक्शन इंजीनियर और एडिशनल डिवीजन इंजीनियर के पास होती है। जब तक यह गिट्टी की गुणवत्ता से सहमत नहीं होते, स्वीकृति नहीं दी जाती। अब सीबीआई इन अधिकारियों की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं।
वर्जन...
नरसिंहपुर स्टेशन के पास बिछाए जा रहे ट्रैक में जो गिट्टी डाली जा रही है, उसकी गुणवत्ता में गड़बड़ी मिली है। सीबीआई ने गिट्टी के 4 स्टॉक को चेक किया, तब यह खामी सामने आई। शनिवार को शेष 16 स्टॉक की भी जांच होगी। इसकी गुणवत्ता की जांच जबलपुर मंडल के इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों के जिम्मे हैं। इनकी भूमिका की भी जांच की जाएगी।
मनीष सुरती, एसपी, सीबीआई, जबलपुर
- See more at: click here
Page#    104 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy