Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

RailFans - once you meet them, friends for life

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Feb 26 16:07:11 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 4097151-0
Front Entrance - Outside;
Entry# 4111910-0
Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 4572221-0

JNKPE/Janakpur Dham (1 PFs)
     जनकपुर धाम

Track: Single Diesel-Line

Show ALL Trains
Janakpur Railway Station, Janakpur 45600, Nepal
State:


Zone: ???/???   Division: Janakpur Dham

No Recent News for JNKPE/Janakpur Dham
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 1
Number of Halting Trains: 0
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 5.0/5 (16 votes)
cleanliness - excellent (2)
porters/escalators - excellent (2)
food - excellent (2)
transportation - excellent (2)
lodging - excellent (2)
railfanning - excellent (2)
sightseeing - excellent (2)
safety - excellent (2)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 49 News Items  next>>
बिहार से नेपाल के बीच जल्द ट्रेन सेवा शुरू हो जाएगी। मधुबनी के जयनगर से नेपाल के कुर्था के बीच रेलवे ट्रैक के आमान परिवर्तन का कार्य पहले ही पूरा हो चुका है। अब इस पर ट्रेन चलाने के लिए मानक संचालन प्रणाली (एसओपी) तैयार हो गई है। बिहार से नेपाल के बीच ट्रेन चलाने के लिए नेपाल सरकार ने कोंकण रेलवे से दो डेमू ट्रेन की खरीदारी की है।
शुक्रवार को राज्यसभा में भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी की ओर से पूछे एक सवाल के जवाब में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस परियोजना पर विस्तार से जानकारी दी। रेल मंत्री ने सदन में बताया कि जयनगर (भारत) और कुर्था (नेपाल) के बीच आमान परिवर्तन परियोजना का कार्य 548 करोड़ की
...
more...
लागत से अक्टूबर, 2018 में ही पूरा हो चुका है। इस खंड पर परिचालन के लिए मानक परिचालन प्रक्रिया तैयार कर ली गई है। आमान परिवर्तन परियोजना के तहत भारत के जयनगर और नेपाल के कुर्था खंड का कार्य अक्टूबर, 2018 में पूरा होने के बाद नेपाल सरकार द्वारा कोंकण रेलवे निगम लिमिटेड से 1600 एचपी के डीजल-इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट डेमू रैक के 2 सेट खरीदे गए हैं। रेल मंत्री ने सदन को बताया कि परिचालन के लिए एसओपी तैयार कर ली गई है। नेपाल सरकार से टिप्पणी प्राप्त होने के बाद इस खंड पर गाड़ी परिचालन की तिथि तय कर ली जाएगी।
बथनाहा-विराटनगर रेललाइन का भी पहला चरण पूराएक अन्य प्रश्न के उत्तर में रेल मंत्री ने बताया कि 422 करोड़ की लागत से बन रहे जोगबनी-विराटनगर 18.6 किमी लंबी रेललाइन परियोजना को 2010-11 में स्वीकृति दी गई थी। जोगबनी की जगह बथनाहा से दो चरणों में शुरू हुआ। इसके पहला चरण का काम 2018 में पूरा कर लिया गया और इस मद में 286 करोड़ खर्च किए गए। बथनाहा- विराटनगर खंड में पहले चरण में बथनाहा से नेपाल कस्टम यार्ड (8 किमी ) पर रेललाइन का कार्य नवम्बर 18 में पूरा हो चुका है। 
बथनाहा कस्टम यार्ड और नेपाल कस्टम यार्ड में माल संबंधी सुविधाओं का विकास कार्य शुरू किया गया है। अब दूसरे चरण में नेपाल कस्टम यार्ड से विराटनगर (10.6 किमी) में कार्य शुरू हो गया है। फिलहाल, विराटनगर यार्ड के 1.8 किमी लम्बाई के लिए 59.34 एकड़ भूमि नवम्बर, 2019 में ही नेपाल सरकार को सौंप दी गई है। नेपाल सरकार की ओर से 11 ओवरहेड विद्युत लाइनों को अभी शिफ्ट किया जाना बाकी है। इस परियोजना को शीघ्र पूरा करने के लिए सरकार के स्तर पर सभी प्रयास किए जा रहे हैं।
Dec 12 2020 (10:12) भारत के जयनगर से नेपाल के जनकपुर तक ट्रेनों का परिचालन इस तिथि से (m.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
14181 views

News Entry# 428176  Blog Entry# 4810421   
  Past Edits
Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Baidehi/NR-BAIDE added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Khajuri/NR-KHAJU added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Inarwa/NR-INRWA added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Kurtha/KUTA added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Janakpur Dham/JNKPE added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 12 2020 (10:13)
Station Tag: Jaynagar/JYG added by Anupam Enosh Sarkar/401739
मधुबनी, जेएनएन। जयनगर-जनकपुर रेलखंड पर लंबे अरसे के बाद एक बार फिर सवारी गाड़ियों का परिचालन प्रारंभ होने की चर्चा से लोगों में खुशी का माहौल है। रेल परियोजना का काम करा रहे भारतीय कंपनी के अधिकारी की मानें तो आगामी 19 दिसंबर को विवाह पंचमी के दिन से जयनगर भाया जनकपुर कूर्था तक प्रथम चरण में 31 किलोमीटर के रेलखंड पर डेमू ट्रेन का परिचालन प्रारंभ किया जा सकता है। हालांकि, नेपाल रेलवे के अधिकारी इस बाबत कुछ भी बताने से परहेज़ कर रहे हैं। लेकिन, ट्रेन का परिचालन प्रारंभ होने की घोषणा कभी भी नेपाल रेल द्वारा किए जाने से इनकार नहीं किया जा सकता है। मां जानकी की धरती एवं धार्मिक नगरी जनकपुर के लिए एक बार फिर ट्रेन सेवा शुरू होने से लोगो में खुशी का माहौल है।
एक
...
more...
जोड़ी डेमू ट्रेन इनरवा स्टेशन पर परिचालन को खड़ी
इस रेलखंड पर सवारी गाड़ी परिचालन के लिए कोंकण रेलवे द्वारा एक जोड़ी डेमू ट्रेन नेपाल रेलवे को हस्तगत कराया जा चुका है, जो इनरवा स्टेशन पर खड़ी है। एक साल तक गाड़ियों के परिचालन के लिए भारतीय रेल के कर्मचारी की सेवा लेने के लिए भी बातचीत की जा चुकी है। नेपाल रेलवे ट्रेन परिचालन के लिए कर्मचारियों एवं अधिकारियों की भर्ती प्रक्रिया भी प्रारंभ कर चुकी है।
साढ़े छह वर्षों के बाद रेलखंड पर गाड़ियों का परिचालन
जयनगर-जनकपुर रेलखंड पर साढ़े छह वर्षो के बाद एक बार फिर सवारी गाड़ी का परिचालन प्रारंभ होने की खबर मात्र से दोनों देशों के सीमावर्ती इलाकों में खुशी की लहर है। मार्च 2014 में उक्त रेलखंड पर मेगा ब्लाक कर इरकान द्वारा जयनगर से बरदीबांस तक 65 किलोमीटर में निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया था। प्रथम चरण में जयनगर से कुरथा तक 31 किलोमीटर में निर्माण कार्य पूरा कर गाड़ियों का परिचालन प्रारंभ करने का लक्ष्य निर्धारित कर कार्यों को पूरा किया गया है। हालांकि, अभी भी कुछ कार्य पूरा नहीं होने के कारण भी परिचालन में विलंब होने की बात कही जा रही है, जिसे युद्ध स्तर पर पूरा किया जा रहा है। शुरुआत में 540 करोड़ की लागत से काम को पूरा किया जाना था, जो बढ़कर अब 819.10 करोड़ हो गया है।
पांच स्टेशन और तीन हाल्ट का हुआ निर्माण
जयनगर-कुर्था के बीच पांच स्टेशन और तीन हाल्ट का निर्माण कराया गया है। जयनगर, इनरवा, खजुरी, वैदेही एवं कूर्था को स्टेशन का दर्जा दिया गया है। जबकि, महिनाथपुर, परवाहा एवं जनकपुर को हाल्ट के रूप में विकसित किया गया है। जयनगर से कुरथा तक ट्रेन परिचालन प्रारंभ करने को लेकर भारतीय सुरक्षा एजेंसी, कस्टम समेत अन्य एजेंसी अपनी तैयारी पूरी कर चुके हैं। इरकॉन के सहायक प्रबंधक रवि सहाय ने बताया कि नेपाल रेलवे विवाह पंचमी के दिन से गाड़ियों का परिचालन प्रारंभ कर सकती है। उन्होंने बताया कि बचे हुए कार्यों को युद्धस्तर पर पूरा किया जा रहा है।
Oct 16 2020 (09:39) पोखरा काठमांडू और विराटनगर तक पहुंची रेल भारत-नेपाल संबंधों के लिए मील का पत्थर साबित होगी (m.jagran.com)
Commentary/Human Interest
INT/International
0 Followers
17944 views

News Entry# 421570  Blog Entry# 4748231   
  Past Edits
Oct 16 2020 (09:44)
Station Tag: Janakpur Dham/JNKPE added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:44)
Station Tag: Bardibas/NR-BRDS added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:44)
Station Tag: Jaynagar/JYG added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:43)
Station Tag: Biratnagar/BRTN added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:40)
Station Tag: Raxaul Junction/RXL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:40)
Station Tag: Jogbani/JBN added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:40)
Station Tag: New Jalpaiguri Junction/NJP added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Oct 16 2020 (09:40)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by Anupam Enosh Sarkar/401739
नई दिल्‍ली, जेएनएन। India-Nepal Relation तिब्बत के रास्ते नेपाल तक रेललाइन बिछाने की चीन की योजना के पीछे उसकी मंशा नेपाल में परिवहन ढांचा को विकसित करने के साथ ही अपना तंत्र मजबूत करना भी है। नेपाल के अनेक आर्थिक विशेषज्ञ यह जानना चाहते हैं कि नेपाल आखिर चीन को क्या निर्यात करेगा? क्या नेपाल सरकार ने यह अध्ययन कराया है कि कोलकाता पोर्ट से आने वाली वस्तुओं और चीन से तिब्बत होकर सड़क और भविष्य के रेल से आने वाली वस्तुओं के दाम एक जैसे रह पाएंगे।
रेल मार्ग का निर्माण करना केरुंग काठमांडू से कहीं ज्यादा आसान : आशंका तो पूरी यही है कि चीन के रास्ते आने वाला सामान महंगा ही होगा। अगर चीन केवल व्यापारिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए
...
more...
भारतीय सीमा तक रेल चाहता है, तो उसे नाथुला दर्रा वाले मार्ग पर विचार करना चाहिए। यहां केवल 300 किमी की दूरी पूरी कर जलपाईगुड़ी से तिब्बत सीमा तक पहुंचा जा सकता है। यहां की ऊंचाई भी चार हजार मीटर है, जहां से रेल मार्ग का निर्माण करना केरुंग काठमांडू से कहीं ज्यादा आसान है और इस पथ का नेपाल को भी लाभ होगा।
चीन सामरिक कारणों से भी भारत पर दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहा : अगर भारतीय सहयोग से नेपाल के पूर्व पश्चिम कॉरिडोर या फिर न्यू जलपाईगुड़ी से काकरभिट्टा रेलवे ट्रैक बन जाता है तो वह नेपाल के हित में भी है। वहीं नेपाल के कई अन्य विशेषज्ञ यह भी कहते हैं अगर चीन नेपाल के रास्ते भारत की सीमा तक आता है तो वह केवल व्यापार के लिए नहीं, बल्कि सामरिक कारणों से भी भारत पर दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहा है। अत: नेपाल सरकार को ऐसी स्थिति से बचना चाहिए और यह नेपाल के हित में भी नहीं है।
इससे नेपाल के ऊपर एक बड़ा कर्ज बोझ हो जाएगा। साथ ही भारत से रिश्ते खराब होने की भी पूरी आशंका है। वहीं उपमहाद्वीप के कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि तिब्बत के प्राकृतिक संसाधनों के साथ ही नेपाल के संसाधनों का भी चीन दोहन करेगा। इससे हिमालय के प्राकृतिक चक्र को नुकसान पहुंचेगा। पोखरा के आगे नेपाल तिब्बत सीमा पर यूरेनियम का भंडार होने की संभावना है, चीन इसका भी दोहन करना चाहता है।
नेपाल को रेलवे के विकास में सहयोग करना चाहिए : वर्तमान में नेपाल के तीव्र गति विकास के लिए नेपाल भारत आपसी संबंधों के लिए और भारत के खुद के सामरिक आर्थिक हितों के लिए नेपाल को रेलवे के विकास में सहयोग करना चाहिए। जयनगर जनकपुर बर्दीवास रूट को पथलैया तक विस्तार देना और इसे रक्सौल बीरगंज हेठौड़ा काठमांडू के बनने वाले रूट से जोड़ देना चाहिए। ईटहरी को पथलैया से और धनगढ़ी को काठगोदाम से यदि जोड़ दिया जाए तो नेपाल के तराई के रास्ते यह दिल्ली और पूवरेत्तर भारत की दूरी को काफी हद तक कम कर सकता है। विराटनगर को धरान और ईटहरी को काकरभिट्टा से ऐसे ही उत्तर प्रदेश की सीमा नौतनवा से भैरहवा और वहां से पोखरा या फिर रूपईडीहा नेपालगंज रोड होते नेपालगंज तक ट्रेन जा सकती है।
पोखरा काठमांडू और विराटनगर तक पहुंची रेल : बिहार सीमा के बथनाहा जोगबनी होते हुए विराटनगर तक रेलवे सेवा को विस्तार दिया जा रहा है। पोखरा काठमांडू और विराटनगर तक पहुंची रेल नेपाल भारत संबंधों के लिए मील का पत्थर होगी। यदि अकेले नेपाल का ईस्ट वेस्ट रेलवे प्रोजेक्ट ही केवल भारत के माध्यम से पूर्ण हो जाए तो मेची से महाकाली नदी तक विस्तृत नेपाल में सफर सस्ता और सुगम ही नहीं होगा, बल्कि इससे यात्र अवधि भी बहुत कम हो जाएगी। इतना ही नहीं, यदि इस दिशा में योजनाबद्ध तरीके से कार्य हो तो उत्तर पश्चिमी भारतीय राज्यों से असम की ओर जाने का न केवल वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध होगा, बल्कि इससे भारत नेपाल संबंधों को भी फिर से नई ऊंचाई पर ले जाया जा सकता है।
Sep 22 2020 (12:55) Konkan Railway delivers 2 DEMU train sets to Nepal (www.deccanherald.com)
New/Special Trains
KR/Konkan
0 Followers
19006 views

News Entry# 419205  Blog Entry# 4722430   
  Past Edits
Sep 22 2020 (12:55)
Station Tag: Kurtha/KUTA added by Covid break an reforming opportunity to IR/48335

Sep 22 2020 (12:55)
Station Tag: Jaynagar/JYG added by Covid break an reforming opportunity to IR/48335

Sep 22 2020 (12:55)
Station Tag: Janakpur Dham/JNKPE added by Covid break an reforming opportunity to IR/48335
Konkan Railway has successfully delivered two state-of-art 1600 HP DEMU train sets with modern amenities to the Department of Railway, Nepal, under the guidance of the Minister of Railways.
This is under the Indian Government’s Make in India policy and is a flagship export of India to find great visibility in Nepal, said a press release from L K Verma, Chief Public Relation Officer of Konkan Railway Corporation.
Konkan Railway Corporation Limited signed an agreement with the Department of Railway, Nepal, on May 10, 2019, to supply two 1600 HP DEMU train sets. These
...
more...
train sets have been manufactured at Integral Coach Factory, Chennai. Each train set has one diesel power car, one diesel trailer car and three trailer cars, including one with air-conditioning. The train sets have the latest AC-AC controlled propulsion system, he said.
Konkan Railway successfully delivered the train sets to Nepal against an order placed by Department of Railways, Nepal, for a value of Rs 52.46 crore. The trains were moved self-propelled from Jaynagar in India to Janakpur in Nepal by the Konkan Railway team.
The train sets were well received by the people of Nepal along the route and at Janakpur. They are planned to be used for passenger services between Jaynagar in India and Kurtha in Nepal.
Jun 03 2020 (16:59) भारत नेपाल के बदलते रिश्तों में जयनगर जनकरपुर और बथनाहा विराटनगर रेल परियोजना अधर में लटकी, पढ़े रिपोर्ट (www.allindianewsservices.com)
New Facilities/Technology
INT/International
0 Followers
24525 views

News Entry# 410138  Blog Entry# 4643546   
  Past Edits
Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Biratnagar/BRTN added by Jay K~/1814049

Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Biratnagar Custom Yard/NR-BNGCY added by Jay K~/1814049

Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Bathnaha/BTF added by Jay K~/1814049

Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Bardibas/NR-BRDS added by Jay K~/1814049

Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Janakpur Dham/JNKPE added by Jay K~/1814049

Jun 03 2020 (17:00)
Station Tag: Jaynagar/JYG added by Jay K~/1814049
भारत और नेपाल के बदलते रिश्तों के बीच दोनों देशों के बीच की रेल परियोजनाएं अधर में लटक गई है। भारत नेपाल के तराई क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए नेपाल से रोटी-बेटी का रिश्ता है। दो ऐसी परियोजनाएं जिसका इन्तजार लंबे समय से लोग कर रहे है। जयनगर जनकरपुर बर्दीवास रेल परियोजना के तहत जयनगर से जनकरपुर तक ट्रेन का इंतजार करते करते दो वर्ष बीत गए। जयनगर से जनकरपुर 34 किमी लंबे रेलखंड पर परियोजना दिसंबर 2018 में पूरी हो गई थी। पिछले साल बाढ़ में ट्रैक ध्वस्त होने के बाद मरम्मत कार्य भी पूरा कर लिया गया था। चेन्नई रेल फैक्ट्री से दो डेमू ट्रेनों की रैक पहुंच चुकी है लेकिन इस रेल परियोजना की शुरुवात कब होगी दोनों देशों के रेल अधिकारी भी कुछ कहने से बचते है। वही दूसरी रेल परियोजना बथनाहा विराटनगर रेल परियोजना भी अधर में लटकी है। इस परियोजना का शिलान्यास 2011...
more...
में किया गया था लेकिन 9 वर्ष बीतने के बाद भी एक किमी रेल नही चली। बथनाहा से नेपाल के बुधनगर तक रेल परियोजना 2018 में पूरी हो गयी थी। ट्रेनों का ट्रॉयल भी किया गया था। लेकिन 2 वर्ष बीतने के बाद भी ट्रेनों का परिचालन शुरू नही हो सका। अब देखना है कि दोनों रेल परियोजना दोनों देशों के बीच बदलते रिश्तों में कब तक लटकी रहेगी, दोनों देशों की सरकार इन दोनों रेल परियोनाओ को लेकर कब साथ आती है इसका इंतजार सभी को है।
Page#    Showing 1 to 20 of 49 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy