Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

RailFans never grow old

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Nov 27 07:35:30 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Large Station Board;
Entry# 736612-0
Large Station Board;
Entry# 1942230-0

FDK/Faridkot (3 PFs)
ਫਰੀਦਕੋਟ     फरीदकोट

Track: Construction - Single-Line Electrification

Show ALL Trains
National Highway 15, Faridkot
State: Punjab

Elevation: 204 m above sea level
Zone: NR/Northern   Division: Firozpur

No Recent News for FDK/Faridkot
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 43
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: NaN/5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 10 of 10 News Items  
Aug 20 (17:59) फिरोजपुर, भटिंडा के लिए प्रयागराज से मिलेगी ट्रेन (www.livehindustan.com)
New/Special Trains
NCR/North Central
0 Followers
71204 views

News Entry# 462404  Blog Entry# 5046387   
  Past Edits
Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Guwahati/GHY added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Patliputra Junction/PPTA added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Pt. DD Upadhyaya Junction (Mughalsarai)/DDU added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Rohtak Junction/ROK added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Bhiwani Junction/BNW added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Hisar Junction/HSR added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Sirsa/SSA added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Faridkot/FDK added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Agartala/AGTL added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Bathinda Junction/BTI added by Adittyaa Sharma/1421836

Aug 20 2021 (17:59)
Station Tag: Prayagraj Junction (Allahabad)/PRYJ added by Adittyaa Sharma/1421836
रेलवे प्रयागराज के रास्ते पंजाब के फिरोजपुर कैंट से अगरतला के बीच ट्रेन शुरू करने जा रहा है। फिरोजपुर से यह ट्रेन 30 अगस्त एवं अगरतला से दो सितंबर से शुरू होगी।
उत्तर मध्य रेलवे के सीपीआरओ डॉ. शिवम शर्मा के मुताबिक गाड़ी संख्या 04494 फिरोजपुर कैंट से प्रत्येक सोमवार दोपहर 1:25 बजे चलेगी। फरीदकोट, भटिंडा, सिरसा, हिसार, भिवानी, रोहतक, नई दिल्ली होकर अगली सुबह 8:00-8:10 बजे प्रयागराज जंक्शन पहुंचेगी। यहां से पंडित दीन दयाल उपाध्याय, पाटलिपुत्र, गुवाहाटी होकर बुधवार की रात 11 बजे अगरतला पहुंचेगी। वापसी में गाड़ी संख्या 04493 अगरतला से प्रत्येक गुरुवार दोपहर तीन बजे चलेगी और शनिवार सुबह 4:00-4:05 बजे प्रयागराज एवं रात 10:40 बजे फिरोजपुर कैंट पहुंचेगी। 22 कोच की इस ट्रेन में स्लीपर के सात, एसी
...
more...
थ्री के छह, एसी टू, सामान्य श्रेणी के चार कोच लगेंगे।
Mar 20 (21:37) फरीदकोट को फुट ओवरब्रिज व एक्सप्रेस ट्रेनों की मिली सौगात (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
9756 views

News Entry# 446316  Blog Entry# 4913782   
  Past Edits
Mar 20 2021 (21:37)
Station Tag: Faridkot/FDK added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Faridkot/FDK  
प्रदीप कुमार सिंह, फरीदकोट आजादी से पूर्व लाहौर-दिल्ली रेलवे लाइन पर स्थित फरीदकाट रेलवे स्टेशन अब बड़ा व मार्डन रेलवे स्टेशन है। रेलवे द्वारा फरीदकोट स्टेशन को मार्डन बनाने के साथ यहां पर वह सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई है, जो कि यहां के रोजमर्रा के यात्रियों की जरूरत के अनुकूल है। 1902 में फरीदकोट रेलवे स्टेशन बना था और इस रेलवे स्टेशन को 2006 में मार्डन रेलवे स्टेशन बनाया गया। मार्डन रेलवे स्टेशन बनने के बाद स्टेशन पर आधुनिक सभी सुविधाएं रेलवे द्वारा मुहैया करवाई गई है। फरीदकोट रेलवे स्टेशन से होकर प्री कोविड़ तक 26 रेलगाड़ियां अप-डाऊन करती थी, जिसमें आठ पैसेंजर रेलगाड़ियां जबकि शेष एक्सप्रेस व मेल गाड़ियां थी। बाबा फरीद पैंसेजर सोसायटी के सरपरस्त सुरेन्द्र गुप्ता व प्रधान साजन शर्मा ने बताया कि निश्चित रूप से फरीदकोट रेलवे स्टेशन मार्डन रेलवे स्टेशन है। यहां पर यात्रियों की साहूलियत के लिए सभी सुविधाएं...
more...
उपलब्ध है। आजादी के बाद निरंतर इस रेलवे स्टेशन का विकास हुआ है। गत वर्ष रेलवे स्टेशन पर मल्टी पर्पज फुट ओवरव्रिज की सुविधा रेलवे द्वारा मुहैया करवाई गई, यह सभी श्रेणी व आयुवर्ग के लोगों के लिए बेहद उपयोगी है। रेलवे द्वारा 10 अप्रैल 2021 तक प्री कोविड़ वाली सभी ट्रेनों को चलाने का फैसला किया गया है, आशा है कि दस अप्रैल तक 90 फीसदी ट्रेनें रेलवे ट्रैक पर लौट आएगी, ऐसा होने से यात्रियों को सुविधा होगी। ट्रेनों का परिचालन सामान्य करने के लिए रेलवे द्वारा रैकों को इधर से उधर भेजने का काम शुरू कर दिया गया है। इनसेट स्टेशन पर सभी सुविधाएं उपलब्ध : एसबी शर्मा फरीदकोट के स्टेशन अधीक्षक एसबी शर्मा ने बताया कि फरीदकोट रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की जरूरत व सुविधा के अनुरूप सभी सुविधाएं उपलब्ध है। इसके अलावा रेलवे द्वारा निरंतर अपनी आधुनिक तकनीकों की मदद से यात्रियों को सुरक्षित यात्रा प्रदान करने का प्रयास किया जा रहा है।
Dec 30 2020 (11:09) रेल फ्रेट कारिडोर से गुजरी पहली मालगाड़ी, पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय जंक्शन पर हुई मानीरिंग (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
16962 views

News Entry# 430888  Blog Entry# 4828149   
  Past Edits
Dec 30 2020 (11:10)
Station Tag: Faridkot/FDK added by Rhythms of Rail/100643

Dec 30 2020 (11:10)
Station Tag: Sonbhadra/SBDR added by Rhythms of Rail/100643

Dec 30 2020 (11:10)
Station Tag: Mirzapur/MZP added by Rhythms of Rail/100643
Stations:  Faridkot/FDK   Mirzapur/MZP   Sonbhadra/SBDR  
Select Language
डेडिकेट फ्रेट कारिडोर कारपोरेशन की तैयार रेलवे लाइन पर पहली मालगाड़ी मंगलवार की देर शाम पीडीडीयू जंक्शन से होते हुए गुजरी। ट्रेन का स्थानीय जंक्शन पर ठहराव न होने के कारण अधिकारियों ने मानीटरिंग की और उसे आगे के लिए रवाना कर दिया।
चंदौली, जेएनएन। डेडिकेट फ्रेट कारिडोर कारपोरेशन की तैयार रेलवे लाइन पर पहली मालगाड़ी मंगलवार की देर शाम पीडीडीयू जंक्शन से होते हुए गुजरी। ट्रेन का स्थानीय जंक्शन पर ठहराव न होने के कारण अधिकारियों ने मानीटरिंग की और उसे आगे के लिए रवाना कर दिया। जीवनाथपुर रूट
...
more...
डायवर्जन से 15 सौ मीटर की मालगाड़ी इलाहाबाद व मुंबई हावड़ा रूट के लिए अलग हुई। मालगाड़ी पंजाब के मुल्लापुर से 4811 टन चावल व फरीदकोट से 4582 टन गेहूं लेकर निकली है। चावल बिहार के वासलीपुर जाएगा, तो वहीं गेहूं मीरजापुर व सोनभद्र में उतरेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से दिल्ली से उद्घाटन किया। इसके साथ ही कानपुर देहात के न्यू भाऊपुर जंक्शन से लांग हाल मालगाड़ी किसानों का माल लादकर रवाना हो गई। फ्रेट कारीडोर पर चलने वाली पहली 60070/60020 मालगाड़ी पर नौ हजार 399 टन चावल व गेहूं लादा गया है। रेलवे की इस उपलब्धि से किसानों का अनाज समय से पहुंचेगा। हरियाणा से पश्चिम बंगाल के बीच बन रहे 1839 किलोमीटर लंबे डेडीकेटेड फ्रेट कारीडोर का भाऊपुर (कानपुर) से खुर्जा (बुलंदशहर) तक का 351 किमी का हिस्सा तैयार है। दादरी में ईस्टर्न और वेस्टर्न में डीएफसी का कार्य चल रहा है। ईस्टर्न डीएफसीसी का विस्तार लुधियाना से शुरू होकर अंबाला, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, खुर्जा, अलीगढ़, इटावा, कानपुर, प्रयागराज, मुगलसराय, सोननगर, गोमोह, अंडाल, दानकुनी तक होगा। Prakash Veer Shastri Birth Anniversary : बीएचयू के वीर ने सबसे पहले संसद में अनुच्‍छेद 370 हटाने का लाया था प्रस्ताव यह भी पढ़ें दो मालगाड़ी को जोड़कर चलाई जा रही एक लांग हाल रेलवे ट्रेनों के समयबद्ध परिचालन को लेकर काफी सजग है। एक साथ दो मालगाडिय़ों को जोड़कर एक लांग हाल मालगाड़ी चलाई जा रही है। तीन जोन व तीन मंडलों के समन्वय से यह कार्य हो पाया है। दो रूट पर कटने वाली रेल लाइन से मालगाडिय़ां अलग हो जाती हैं। रेलवे इसे अपनी बड़ी उपब्लधि मान रहा है। शक्तिशाली इंजन बना है सहारा वाराणसी में सड़क खोदाई करने पर डीएम ने जताई नाराजगी, क्षेत्रीय अवर अभियंता को नजर रखने का आदेश यह भी पढ़ें भारतीय रेलवे व यूरोपियन कंपनी एलेस्ट्रोम के साथ मिलकर मधेपुरा फैक्ट्री में बना देश का सबसे शक्तिशाली इंजन सहारा बना हुआ है। 750 मीटर रैक के बाद दूसरा इंजन लगाया जा रहा है। 12 हजार हार्सपावर क्षमता का इंजन है। दुर्घटना की स्थिति में खुद ही इमरजेंसी ब्रेक लग जाएगा। रेलवे की यह एक बड़ी उपलब्धि रेलवे की यह एक बड़ी उपलब्धि है। इसका सबसे अधिक लाभ व्यापारियों को होगा। किसानों का अन्न भी समय से पहुंचेगा। वाराणसी के लंका में वध के लिए ले जाए जा रहे नौ गोवंश बरामद, दो गिरफ्तार यह भी पढ़ें राजेश कुमार, डिप्टी प्रोजेक्ट मैनेजर, डीएफसीसी   शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप
चंदौली, जेएनएन। डेडिकेट फ्रेट कारिडोर कारपोरेशन की तैयार रेलवे लाइन पर पहली मालगाड़ी मंगलवार की देर शाम पीडीडीयू जंक्शन से होते हुए गुजरी। ट्रेन का स्थानीय जंक्शन पर ठहराव न होने के कारण अधिकारियों ने मानीटरिंग की और उसे आगे के लिए रवाना कर दिया। जीवनाथपुर रूट डायवर्जन से 15 सौ मीटर की मालगाड़ी इलाहाबाद व मुंबई हावड़ा रूट के लिए अलग हुई। मालगाड़ी पंजाब के मुल्लापुर से 4811 टन चावल व फरीदकोट से 4582 टन गेहूं लेकर निकली है। चावल बिहार के वासलीपुर जाएगा, तो वहीं गेहूं मीरजापुर व सोनभद्र में उतरेगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से दिल्ली से उद्घाटन किया। इसके साथ ही कानपुर देहात के न्यू भाऊपुर जंक्शन से लांग हाल मालगाड़ी किसानों का माल लादकर रवाना हो गई। फ्रेट कारीडोर पर चलने वाली पहली 60070/60020 मालगाड़ी पर नौ हजार 399 टन चावल व गेहूं लादा गया है। रेलवे की इस उपलब्धि से किसानों का अनाज समय से पहुंचेगा। हरियाणा से पश्चिम बंगाल के बीच बन रहे 1839 किलोमीटर लंबे डेडीकेटेड फ्रेट कारीडोर का भाऊपुर (कानपुर) से खुर्जा (बुलंदशहर) तक का 351 किमी का हिस्सा तैयार है। दादरी में ईस्टर्न और वेस्टर्न में डीएफसी का कार्य चल रहा है। ईस्टर्न डीएफसीसी का विस्तार लुधियाना से शुरू होकर अंबाला, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, खुर्जा, अलीगढ़, इटावा, कानपुर, प्रयागराज, मुगलसराय, सोननगर, गोमोह, अंडाल, दानकुनी तक होगा।

दो मालगाड़ी को जोड़कर चलाई जा रही एक लांग हाल
रेलवे ट्रेनों के समयबद्ध परिचालन को लेकर काफी सजग है। एक साथ दो मालगाडिय़ों को जोड़कर एक लांग हाल मालगाड़ी चलाई जा रही है। तीन जोन व तीन मंडलों के समन्वय से यह कार्य हो पाया है। दो रूट पर कटने वाली रेल लाइन से मालगाडिय़ां अलग हो जाती हैं। रेलवे इसे अपनी बड़ी उपब्लधि मान रहा है।
शक्तिशाली इंजन बना है सहारा

भारतीय रेलवे व यूरोपियन कंपनी एलेस्ट्रोम के साथ मिलकर मधेपुरा फैक्ट्री में बना देश का सबसे शक्तिशाली इंजन सहारा बना हुआ है। 750 मीटर रैक के बाद दूसरा इंजन लगाया जा रहा है। 12 हजार हार्सपावर क्षमता का इंजन है। दुर्घटना की स्थिति में खुद ही इमरजेंसी ब्रेक लग जाएगा।
रेलवे की यह एक बड़ी उपलब्धि
रेलवे की यह एक बड़ी उपलब्धि है। इसका सबसे अधिक लाभ व्यापारियों को होगा। किसानों का अन्न भी समय से पहुंचेगा।

राजेश कुमार, डिप्टी प्रोजेक्ट मैनेजर, डीएफसीसी
 
शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप
Copyright ©2020 Jagran Prakashan Limited.
Active:2,76,990
Death:1,47,913
फरीदकोट, [प्रदीप कुमार सिंह]। नए रंग-रूप व कलेवर में 108 साल पुरानी पंजाब मेल पटरी पर लौट आई है। फिरोजपुर से मुंबई के मध्य चलने वाली यह रेलगाड़ी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश व महाराष्ट्र राज्य के विभिन्न महत्वपूर्व स्टेशनों से होकर गुजरती है। इस रेलगाड़ी के नियमित रूप से एक बार फिर चलने से आम यात्रियों के अलावा इस रूट पर पड़ने वाले सैन्य व बीएसएफ स्टेशनों के जवानों के साथ उनके परिवारों ने भी राहत की सांस ली है।
सेना, बीएसएफ जवानों व परिवारों ने जताई खुशी,  कंफर्म टिकट कंफर्म वाले ही कर सकेंगे यात्रा
कोरोना
...
more...
काल से पहले इस रेलगाड़ी में कुल 24 डिब्बे लगते थे, जो कि घटकर अब 22 रह गए है। पहले यह ट्रेन सामान्य कोचों के रैक वाली होती थी, लेकिन अब इसमें एलएचएस कोचों का रैक लगाया गया है। इससे पहले के मुकाबले कोच आधुनिक तकनीक व सुख-सुविधाओं से युक्त है। यही नहीं पहले के कोचो के मुकाबले एलएचएस कोच सवा दो मीटर तक लंबे है, जिससे कोचों में अतिरिक्त वर्थ भी लगाए गए है। इससे यात्रियों को ज्यादा सीटों की उपलब्धत होंगी। हालांकि फिलहाल कोरोना महामारी के कारण रेलवे द्वारा यात्रियों की सुरक्षा के लिए जनरल बाेगी नहीं लगाए जा रहे, क्योंकि इनमें यात्रियों की भीड़ होने से कोरोना महामारी के प्रसार होने की आशंकाहै।

फरीदकोट रेलवे स्‍टेशन पर खड़ी पंजाब मेल एक्‍सप्रेस।                                               जागरण
फरीदकोट रेलवे स्टेशन के अधीक्षक एसबी शर्मा ने बताया कि ट्रेन का अप-डाऊन नियमित रूप से अब शुरु हो गया है, पंजाब मेल ट्रेन में केवल आरक्षित टिकट करने वालों को ही ही परमिशन दी गई है। उन्होंने कहा कि यात्री समय से पहले स्टेशन पर पहुंचे।    
जिनका टिकट कंफर्म होगा वहीं कर सकेंगे यात्रा
लगभग ढ़ाई सौ दिनों बाद पटरी लौटी पंजाब मेल के विभिन्न श्रेणियों में उन्हीं यात्रियों को यात्रा की परमिशन दी जाएगी, जिनकी टिकट कंफर्म होगी। वेटिंग टिकट वालों को ट्रेन में अगले आदेश तक यात्रा करने की स्वीकृत नहीं दी जाएगी। ट्रेन के कोच में अटेंडेंट की सुविधा उपलब्ध है, जिससे यात्रियों को कोई परेशानी न हो, इसके अलावा आरक्षित सीटों के ही यात्रियों के ट्रेन  में चलने की स्वीकृत मिलने से उन यात्रियों की समस्या भी खत्म हो गई, जो कि आम दिनों में रेलवे से यह शिकायत करते रहते थे कि उनकी सीट पर कोई और यात्री आकर बैठ गया।
चोरी की आशंका भी हुई कम
ट्रेन में आरक्षित श्रेणी के ही यात्रियों के यात्रा करने से ट्रेन में होने वाली चोरी की आशंका भी कम हो गई है, क्योंकि ट्रेन में यात्रा अब वहीं यात्री कर सकेंगे जिनके टिकट आरक्षित होंगे, ऐसे में वह यात्री ट्रेन में चढ़ नहीं सकेंगे, जिन्होंने गैर आरक्षित टिकट ले रखी है या फिर टिकट ही नहीं ली है। इससे बीच रास्ते में यात्रियों के सामान की चोरी होने की आशंका कम होगी, यहीं नहीं ट्रेन में चल रहे सुरक्षा कर्मियों को भी यात्री व गैर यात्री की पहचान करने में सहुलियत होगी।
बाबा फरीद पैसेंजर सेवा सोसाइटी ने जताया अभार
बाबा फरीद पैंसेंजर सेवा सोसाइटी के प्रधान साजन शर्मा व सरपरस्त सुरेंद्र गुप्ता ने कहा कि पंजाब मेल ट्रेन दिल्ली-मुंबई आवागमन के लिए फिरोजपुर, फरीदकोट, कोटकपूरा, बठिंडा व आसपास के हिस्सों के यात्रियों के लिए पहली पसंद है। यहीं नहीं इन जगहों के सैन्य व बीएसएस स्टेशनों के जवानों व उनके परिवारों को इस ट्रेन के चलने से बड़ी सुविधा मिली है। शर्मा ने कहा कि रेल प्रशासन से मांग करते है कि इस रूट पर चलने वाली सभी ट्रेनों की बहाली की जाए जिससे सेना व आम यात्रियों को राहत मिले, जो कि बसों में बेवजह समय व पैसा ज्यादा खर्च करने को मबजूर है। पंजाब मेल चलाए जाने का सोसाइटी ने रेलमंत्री का आभार जताया है।
Dec 01 2020 (12:32) 108 साल पुरानी पंजाब मेल 255 दिन बाद 1 दिसंबर से लौटेगी ट्रैक पर, 1912 में हुआ था सफर शुरू (www.jagran.com)
IR Affairs
NR/Northern
0 Followers
27939 views

News Entry# 426721  Blog Entry# 4797586   
  Past Edits
Dec 01 2020 (12:32)
Station Tag: Faridkot/FDK added by Saurabh®/1294142

Dec 01 2020 (12:32)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Saurabh®/1294142

Dec 01 2020 (12:32)
Train Tag: Punjab Mail COVID - 19 Special/02138 added by Saurabh®/1294142

Dec 01 2020 (12:32)
Train Tag: Punjab Mail COVID - 19 Special/02137 added by Saurabh®/1294142
कोरोना महामारी के कारण लगे लाकडाउन के बाद से बंद पंजाब मेल ट्रेन 255 दिन के बाद 1 दिसंबर को ट्रैक पर लौटेगी। यह ट्रेन पंजाब की सबसे पुरानी ट्रेन है। इसकी शुरुआत जून 1912 में हुई थी।
फरीदकोट [प्रदीप कुमार सिंह]। 255 दिन बाद 108 साल पुरानी पंजाब मेल ट्रेन (Punjab mail train) 1 दिसंबर से ट्रैक पर लौट रही है। कोरोना महामारी के कारण यह ट्रेन बंद की गई थी। एक दिसंबर को यह ट्रेन मुंबई से फिरोजपुर के लिए रवाना होगी, जबकि तीन दिसंबर को यह फिरोजपुर से मुंबई के लिए रवाना होगी, इसके साथ ही यह ट्रेन अपने पूूर्ववत समय के अनुरूप नियमित रूप से चलनी शुरू हो जाएगी। रेलवे द्वारा पंजाब मेल में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिर
...
more...
रिजर्वेशन बुकिंग शुरू कर दी गई है। लंबे समय के बाद रेलवे ट्रैक पर लौट रही यह ट्रेन एलएचएस कोच के साथ अपने नए रंग रूप में भी लोगों के सामने होगी। 
फरीदकोट रेलवे स्टेशन पर मार्च महीने के तीसरे सप्ताह से यात्री रेलगाड़ियों का आवागमन ठप है। लंबे अर्से बाद रेलवे द्वारा एक दिसंबर से पंजाब मेल के साथ ही साप्ताहिक रेलगाड़ी अमृतसर-अजमेर एक्सप्रेस भी शुरू की जा रही है, जिसकी रिजर्वेशन बुकिंग शुरू हो गई। पंजाब मेल के चलने से आम यात्रियों के अलावा सेना के जवानों व अधिकारियों को विशेष रूप से लाभप्रद होगी।

वर्तमान समय में फिरोजपुर-दिल्ली रेलवे लाइन पर एक दिसंबर से चलने वाली पंजाब मेल पहली रेलगाड़ी होगी। फिरोजपुर से लेकर मुंबई तक अनेक सैन्य छावनी हैंं, जिससे सेना के जवानों के आवागमन में यह विशेष रूप आरामदायक ट्रेन है। इसके अलावा फिरोजपुर, फरीदकोट, कोटकपूरा व बठिंडा के लोगों के दिल्ली आवागमन में अब तक यह बहुत ही उपयोगी ट्रेन रही है, ट्रेन के चलने से अधिकारी व व्यापारी वर्ग को भी राहत पहुंचेगी।

फिरोजपुर मंडल रेलवे के सीनियर डीओएम सुधीर कुमार ने बताया कि पंजाब मेल के संचालन को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई है। उन्होंने बताया कि यह ट्रेन मुंबई की है, इसलिए इस ट्रेन के चलाए जाने पर फैसला मुंबई को ही लेना था। ट्रेन में आरक्षित श्रेणी के ही यात्री यात्रा कर सकेंगे। यात्रियों के लिए रिजर्वेशन खोल दिया गया है। उन्होंने बताया कि ट्रेन का समय पूर्ववत रहेगा।
1 जून 1912 को पहली बार चली थी पंजाब मेल

एक जून, 1912 से अपने सफर पर अनवरत चलने वाली पंजाब मेल 108 साल की हो गई है। बल्लार्ड पियर से पेशावर के मध्य शुरू हुई यह ट्रेन आजादी के बाद से अब तक फिरोजपुर कैंट रेलवे स्टेशन से मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल के लिए चल रही है। 108 साल पुरानी फिरोजपुर मंडल रेलवे की यह पहली रेलगाड़ी बन गई है। यह ट्रेन आजादी के पहले से अब तक पूरी तरह से सफलतापूर्वक चल रही है। ट्रेन अपनी सेवा व सुविधा के लिए अब भी यात्रियों की पहली पसंद है। समय-समय पर जरूरत के अनुरूप ट्रेन में यात्री सुविधाओं व तकनीकों का बदलाव होता रहता है।

यह ट्रेन विशेष रूप से ब्रिटिश अधिकारियों, सिविल सेवकों और उनके परिवारों को मुंबई से दिल्ली और फिर ब्रिटिश भारत के उत्तर-पश्चिमी सीमांत प्रांत तक ले जाने के लिए चलाई गई थी। 1914 में इसका शुरुआती स्टेशन बदलकर विक्टोरिया टर्मिनल कर दिया गया, जिसे अब छत्रपति शिवाजी के नाम से जाता है। आजादी के बाद यह फिरोजपुर से छत्रपति शिवाजी टर्मिनल मुंबई के मध्य चल रही है।
1930 में आम यात्रियों के लिए पंजाब मेल में लगे डिब्बे

शुरूआती दिनों में यह कोयले के इंजन व लकड़ी वाले कोचों से चलती थी। तब इसे पंजाब लिमिटेड के नाम से जाना जाता था। आजादी से पहले यह पेशावर, लाहौर, अमृतसर, दिल्ली, आगरा, इटारसी के बीच 2496 किलोमीटर का सफर तय करती थी। शुरू में इसे केवल अंग्रेजों के लिए चलाया जाता था, लेकिन 1930 में इसमें आम जनता के लिए भी डिब्बे जोड़े गए। एक जून 1913 से यह गाड़ी भाप इंजन के जरिए चलाई जाने लगी।
यह गाड़ी उस समय 2496 किलोमीटर की दूरी 47 घंटों में पूरी करती थी। गाड़ी में छह डिब्बे होते थे। इनमें से तीन सवारी, तीन डाक के लिए होते थे। इसमें 96 यात्रियों को ले जाने की क्षमता थी। गाड़ी के हर डिब्बे में दो शायिकाएं होतीं थीं। उच्च श्रेणी के यात्रियों के लिए बनीं इन शायिकाओं में खानपान, शौचालय, स्नानघर की व्यवस्था होती थी। गाड़ी में गोरे साहबों के सामान और उनके नौकरों के लिए अलग डिब्बे की व्यवस्था होती थी। देश में नियुक्ति पर आने वाले अंग्रेज अधिकारी मुंबई पहुंचने के बाद इसी गाड़ी से अपने तैनाती स्थलों तक जाते थे।
1945 में लगा एसी कोच
पंजाब मेल में 1945 में पहली बार वातानुकूलित डिब्बे जोड़े गए। इसमें एसी फ‌र्स्ट, एसी सेकेंड, एसी थर्ड के कुल आठ डिब्बे, 12 स्लीपर क्लास व चार जनरल क्लास के डिब्बे लगाए जाते हैं, जिनकी कुल संख्या 24 डिब्बों की हो जाती है। अब यह गाड़ी मुंबई से फिरोजपुर छावनी स्टेशन तक जाती है और 1930 किलोमीटर का सफर 34 घंटे 15 मिनट में पूरा करती है। पंजाब मेल प्रसिद्ध फ्रंटियर मेल से भी 16 साल पुरानी है।
Page#    Showing 1 to 10 of 10 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy