Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
Search Trains
 ↓ 
×
DOJ:
Dep:
SunMonTueWedThuFriSat
Class:
2SSLCCEx3AFC2A1A3EEA
Type:
 

Train Details
Words:
LHB/ICF:
Pantry:
In-Coach Catering/Pantry Car
Loco:
Reversal:
Rake Reversal at Any Stn
Rake:
RSA:
With RSA
Inaug:
 to 
# Halts: to 
Trvl Time: to  (in hrs)
Distance: to  (in kms)
Speed: to  (in km/h)

Departure Details
Include nearby Stations:      ONLY this Station:
Dep Between:    
Dep PF#:
Reversal:
Rake Reversal at Dep Stn

Arrival Details
Include nearby Stations:      ONLY this Station:
Arr Days:
SunMonTueWedThuFriSat
Arr Between:    
Arr PF#:
Reversal:
Rake Reversal at Arr Stn

Search
4-month Availability Calendar
  Go  

Gujarat Mail - as good as Undhiyu

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Jul 3 01:06:26 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

12069/Raigarh - Gondia Jan Shatabdi Express
     रायगढ़ - गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस

RIG/Raigarh --> G/Gondia Junction

Latest News
(You need to double-check/verify this info yourself)
▪️ Departure on 22.03.20 is cancelled▪️रायगढ-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस में एक एसी चेयरकार कोच की अस्थयी सुविधा रायगढ से 27 जनवरी से 31 मार्च, 2020 तक प्रदान की जा रही है.
Sat Mar 21, 2020 (06:12PM)
Pantry/Catering
✕ Pantry Car
✓ On-board Catering
✓ E-Catering
Updated: Jul 01 2019 (15:29) by x-under SW-x
Dep:
Arr:
RSA - Rake Sharing
No RSA. PM at G/SECR.
Rating: 5.0/5 (46 votes)
cleanliness - excellent (8)
punctuality - excellent (8)
food - excellent (7)
ticket avbl - excellent (7)
railfanning - excellent (8)
safety - excellent (8)
ICF Rake

Rake/Coach Position

  0
  L
  1
D15
  2
D14
  3
D13
  4
 C3
  5
 C2
  6
 C1
  7
D12
  8
D11
  9
D10
 10
 D9
 11
 D8
 12
 D7
 13
 D6
 14
 D5
 15
 D4
 16
 D3
 17
 D2
 18
 D1
News
PNR
Forum
Time-Table
Availability
Fare Chart
Map
Arr/Dep History
Trips
Gallery
ΣChains
X/O
Timeline
Train Pics
Tips

Train News

Page#    45 News Items  next>>
बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।
रायगढ़ से गोंदिया जाने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस में सफर करने वाले कुछ यात्री इतनी जल्दी रेलवे स्टेशन पहुंच गए कि उन्हें गेट के बाहर करना पड़ा। दरअसल सभी को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही यात्रा की अनुमति थी। इसके लिए उन्हें डेढ़ घंटे पहले स्टेशन पहुंचने के निर्देश थे। लेकिन वे सुबह छह बजे ही पहुंच गए। जबकि इस समय तक जांच करने वाले कर्मचारी ही नहीं पहुंचे थे। उनके आने के बाद जांच हुई। इसके बाद यात्री ट्रेन में सवार हुए। पहले दिन बिलासपुर से 92 यात्रियों ने सफर किया।
...
more...
कोरोना का संक्रमण खत्म नहीं हुआ है। इसके बावजूद इसलिए ट्रेन चलाई जा रही है ताकि लोगों की परेशानी खत्म हो जाए। हालांकि अभी सभी ट्रेनें पटरी पर नहीं आई हैं। केवल देश में 200 ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। जनशताब्दी एक्सप्रेस इन्हीं ट्रेनों में से एक है। इसके चलने की जानकारी करीब 10 दिन पहले आम कर दी गई थी ताकि यात्री रिजर्वेशन करा सके। रायगढ़ से लेकर गोंदिया तक 394 यात्रियों ने रिजर्वेशन कराया था। इसमें अकेले बिलासपुर से 92 यात्री थे। इन सभी की जोनल स्टेशन में जांच होनी थी। इसे देखते हुए रेलवे ने तैयारियां भी की थी। प्रवेश के लिए चिंहित गेट क्रमांक दो पर ही इनकी जांच की व्यवस्था थी। इसके मद्देनजर ही डेढ़ घंटे पहले उपस्थिति दर्ज कराने कहा गया था। इस लिहाज से यात्रियों को सुबह सात बजे तक पहुंचना था। लेकिन कुछ यात्रियों को सफर करने की इतनी जल्दबाजी थी कि सुबह छह बजे पहुंच गए। उस समय थर्मल स्क्रीनिंग स्टाफ ही नहीं पहुंचा था। हालांकि रेलवे के कुछ कर्मचारी पहुंच गए थे। जब उन्होंने यात्रियों को प्लेटफार्म के अंदर देखा तो कुछ देर के लिए हड़बड़ा गए। उन्होंने यात्रियों को समझाया कि बिना प्लेटफार्म में प्रवेश की अनुमति नहीं है। इसलिए यात्री बाहर चले गए और जांच करने वाले कर्मचारियों के आने का इंतजार करने लगे। सुबह सात बजे जांच शुरू हुई। इसके बाद यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग हुई। उन्हें बताया गया कि ट्रेन प्लेटफार्म पांच पर आएगी। आरपीएफ ने उन्हें प्लेटफार्म पर पहुंचने का रास्ता बताया। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म में बैठे और ट्रेन के आने का इंतजार करने लगे।
पहले ही दिन ट्रेन 35 मिनट लेट पहुंची
रायगढ़-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस का बिलासपुर पहुंचने का समय सुबह 8.40 बजे थी। लेकिन यह ट्रेन पहले ही दिन 35 मिनट विलंब से पहुंची। ट्रेन सुबह 9.15 बजे प्लेटफार्म पांच पर आई। ट्रेन की इस लेटलतीफी को लेकर यात्री कहते रहे कि अभी लाइन खाली है और जोन में केवल एक ट्रेन चली। उसे भी रेलवे समय पर नहीं चला सकी।
फिजिकल डिस्टेंस दरकिनार, सभी सीटों पर बुकिंग
जनशताब्दी एक्सप्रेस में फिजिकल डिस्टेंस का उल्लंघन नजर आया। रेलवे ने हर कोच की सभी सीटों की बुकिंग कर रही है। हालांकि यात्री संख्या कम थी। लेकिन जिस कोच में पर्याप्त यात्री थे वे सभी एक- दूसरे जुड़े ही बैठे नजर आए। जबकि संक्रमण को देखते हुए इसका पालन अनिवार्य है। शहर के हर स्थानों पर इसका पालन कराया जा रहा है। लेकिन ट्रेनों में रेल प्रशासन ने इसे दरकिनार कर दिया है। इसके चलते यात्री सहमे भी नजर आए। सभी मास्क लगाए हुए थे।
तीन स्टाल खुले
ट्रेनों के साथ- साथ स्टाल भी बंद करा दिए गए थे। जनशताब्दी समेत दो अन्य ट्रेनों के परिचालन को देखते हुए रेलवे ने स्टालों को खोलने का आदेश दिया। इसी के तहत प्लेटफार्म चार- पांच पर सोमवार को तीन स्टाल को खोले गए। लेकिन ग्राहकी बेहद कम रही। स्टाल बंद हुए इतना अधिक समय गुजर गया कि एक स्टाल की चॉबी गुम गई थी। ऐसी स्थिति में लाइसेंसी को स्टाल का ताला तोड़ना पड़ा। कर्मचारी सुबह से स्टाल की सफाई में जुटे हुए थे। ट्रेन के पहुंचने से पहले सामान जमाया गया। लेकिन यात्री खाने- पीने की चीजें खरीदने से संकोच करते नजर आए।
ट्रेन का नंबर बदलना भूल गए
10 दिन पहले ही तय हो गया था कि जनशताब्दी एक्सप्रेस चलेगी। रेलवे का दावा था कि उनकी तैयारी पूरी हो गई। लेकिन जब ट्रेन बिलासपुर पहुंची तो एक गलती सामने आ गई। हालांकि इसे किसी ने ध्यान नहीं दिया। दरअसल जनशताब्दी एक्सप्रेस में बोर्ड लगा था। उसमें नंबर ही नहीं बदले गए थे। ट्रेन 02069/02070 नंबर से चलनी है। लेकिन सोमवार को ट्रेन में 12070/12069 नंबर बोर्ड लगा हुआ था। यह लापरवाही है। लेकिन इसे नजर अंदाज कर दिया गया।
ट्रेन से उतरे 94 यात्री, जांच के बाद निकले बाहर
जनशताब्दी एक्सप्रेस से 94 यात्री उतरे। इनमें रायगढ़, खरसिया, सक्ती, बारद्वार समेत अन्य स्टेशनों से चढ़े हुए यात्री थे। इनके उतरते ही एनाउंसमेंट हुआ कि यात्री गेट क्रमांक चार से ही बाहर जाएंगे। इस सूचना के साथ ही आरपीएफ ने उन्हें बाहर निकलने का रास्ता बताया। लेकिन उससे पहले जांच कराने के लिए कहा गया। यात्रियों की जांच के लिए चौड़े ब्रिज में बूथ बनाए गए थे। रैंप में यात्रियों को लाइन में खड़ा कराया गया। इसके बाद बारी- बारी उनकी जांच हुई। फिर उन्हें बाहर जाने की अनुमति मिली।
इतने यात्रियों ने की सफर
रायगढ़ - 134
खरसिया - 51
सक्ती - 18
बाराद्वार - 11
चांपा - 45
नैला - 22
अकलतरा - 21
बिलासपुर - 92
बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।
रायगढ़ से गोंदिया जाने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस में सफर करने वाले कुछ यात्री इतनी जल्दी रेलवे स्टेशन पहुंच गए कि उन्हें गेट के बाहर करना पड़ा। दरअसल सभी को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही यात्रा की अनुमति थी। इसके लिए उन्हें डेढ़ घंटे पहले स्टेशन पहुंचने के निर्देश थे। लेकिन वे सुबह छह बजे ही पहुंच गए। जबकि इस समय तक जांच करने वाले कर्मचारी ही नहीं पहुंचे थे। उनके आने के बाद जांच हुई। इसके बाद यात्री ट्रेन में सवार हुए। पहले दिन बिलासपुर से 92 यात्रियों ने सफर किया।
...
more...
कोरोना का संक्रमण खत्म नहीं हुआ है। इसके बावजूद इसलिए ट्रेन चलाई जा रही है ताकि लोगों की परेशानी खत्म हो जाए। हालांकि अभी सभी ट्रेनें पटरी पर नहीं आई हैं। केवल देश में 200 ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। जनशताब्दी एक्सप्रेस इन्हीं ट्रेनों में से एक है। इसके चलने की जानकारी करीब 10 दिन पहले आम कर दी गई थी ताकि यात्री रिजर्वेशन करा सके। रायगढ़ से लेकर गोंदिया तक 394 यात्रियों ने रिजर्वेशन कराया था। इसमें अकेले बिलासपुर से 92 यात्री थे। इन सभी की जोनल स्टेशन में जांच होनी थी। इसे देखते हुए रेलवे ने तैयारियां भी की थी। प्रवेश के लिए चिंहित गेट क्रमांक दो पर ही इनकी जांच की व्यवस्था थी। इसके मद्देनजर ही डेढ़ घंटे पहले उपस्थिति दर्ज कराने कहा गया था। इस लिहाज से यात्रियों को सुबह सात बजे तक पहुंचना था। लेकिन कुछ यात्रियों को सफर करने की इतनी जल्दबाजी थी कि सुबह छह बजे पहुंच गए। उस समय थर्मल स्क्रीनिंग स्टाफ ही नहीं पहुंचा था। हालांकि रेलवे के कुछ कर्मचारी पहुंच गए थे। जब उन्होंने यात्रियों को प्लेटफार्म के अंदर देखा तो कुछ देर के लिए हड़बड़ा गए। उन्होंने यात्रियों को समझाया कि बिना प्लेटफार्म में प्रवेश की अनुमति नहीं है। इसलिए यात्री बाहर चले गए और जांच करने वाले कर्मचारियों के आने का इंतजार करने लगे। सुबह सात बजे जांच शुरू हुई। इसके बाद यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग हुई। उन्हें बताया गया कि ट्रेन प्लेटफार्म पांच पर आएगी। आरपीएफ ने उन्हें प्लेटफार्म पर पहुंचने का रास्ता बताया। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म में बैठे और ट्रेन के आने का इंतजार करने लगे।
पहले ही दिन ट्रेन 35 मिनट लेट पहुंची
रायगढ़-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस का बिलासपुर पहुंचने का समय सुबह 8.40 बजे थी। लेकिन यह ट्रेन पहले ही दिन 35 मिनट विलंब से पहुंची। ट्रेन सुबह 9.15 बजे प्लेटफार्म पांच पर आई। ट्रेन की इस लेटलतीफी को लेकर यात्री कहते रहे कि अभी लाइन खाली है और जोन में केवल एक ट्रेन चली। उसे भी रेलवे समय पर नहीं चला सकी।
फिजिकल डिस्टेंस दरकिनार, सभी सीटों पर बुकिंग
जनशताब्दी एक्सप्रेस में फिजिकल डिस्टेंस का उल्लंघन नजर आया। रेलवे ने हर कोच की सभी सीटों की बुकिंग कर रही है। हालांकि यात्री संख्या कम थी। लेकिन जिस कोच में पर्याप्त यात्री थे वे सभी एक- दूसरे जुड़े ही बैठे नजर आए। जबकि संक्रमण को देखते हुए इसका पालन अनिवार्य है। शहर के हर स्थानों पर इसका पालन कराया जा रहा है। लेकिन ट्रेनों में रेल प्रशासन ने इसे दरकिनार कर दिया है। इसके चलते यात्री सहमे भी नजर आए। सभी मास्क लगाए हुए थे।
तीन स्टाल खुले
ट्रेनों के साथ- साथ स्टाल भी बंद करा दिए गए थे। जनशताब्दी समेत दो अन्य ट्रेनों के परिचालन को देखते हुए रेलवे ने स्टालों को खोलने का आदेश दिया। इसी के तहत प्लेटफार्म चार- पांच पर सोमवार को तीन स्टाल को खोले गए। लेकिन ग्राहकी बेहद कम रही। स्टाल बंद हुए इतना अधिक समय गुजर गया कि एक स्टाल की चॉबी गुम गई थी। ऐसी स्थिति में लाइसेंसी को स्टाल का ताला तोड़ना पड़ा। कर्मचारी सुबह से स्टाल की सफाई में जुटे हुए थे। ट्रेन के पहुंचने से पहले सामान जमाया गया। लेकिन यात्री खाने- पीने की चीजें खरीदने से संकोच करते नजर आए।
ट्रेन का नंबर बदलना भूल गए
10 दिन पहले ही तय हो गया था कि जनशताब्दी एक्सप्रेस चलेगी। रेलवे का दावा था कि उनकी तैयारी पूरी हो गई। लेकिन जब ट्रेन बिलासपुर पहुंची तो एक गलती सामने आ गई। हालांकि इसे किसी ने ध्यान नहीं दिया। दरअसल जनशताब्दी एक्सप्रेस में बोर्ड लगा था। उसमें नंबर ही नहीं बदले गए थे। ट्रेन 02069/02070 नंबर से चलनी है। लेकिन सोमवार को ट्रेन में 12070/12069 नंबर बोर्ड लगा हुआ था। यह लापरवाही है। लेकिन इसे नजर अंदाज कर दिया गया।
ट्रेन से उतरे 94 यात्री, जांच के बाद निकले बाहर
जनशताब्दी एक्सप्रेस से 94 यात्री उतरे। इनमें रायगढ़, खरसिया, सक्ती, बारद्वार समेत अन्य स्टेशनों से चढ़े हुए यात्री थे। इनके उतरते ही एनाउंसमेंट हुआ कि यात्री गेट क्रमांक चार से ही बाहर जाएंगे। इस सूचना के साथ ही आरपीएफ ने उन्हें बाहर निकलने का रास्ता बताया। लेकिन उससे पहले जांच कराने के लिए कहा गया। यात्रियों की जांच के लिए चौड़े ब्रिज में बूथ बनाए गए थे। रैंप में यात्रियों को लाइन में खड़ा कराया गया। इसके बाद बारी- बारी उनकी जांच हुई। फिर उन्हें बाहर जाने की अनुमति मिली।
इतने यात्रियों ने की सफर
रायगढ़ - 134
खरसिया - 51
सक्ती - 18
बाराद्वार - 11
चांपा - 45
नैला - 22
अकलतरा - 21
बिलासपुर - 92
बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।
रायगढ़ से गोंदिया जाने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस में सफर करने वाले कुछ यात्री इतनी जल्दी रेलवे स्टेशन पहुंच गए कि उन्हें गेट के बाहर करना पड़ा। दरअसल सभी को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही यात्रा की अनुमति थी। इसके लिए उन्हें डेढ़ घंटे पहले स्टेशन पहुंचने के निर्देश थे। लेकिन वे सुबह छह बजे ही पहुंच गए। जबकि इस समय तक जांच करने वाले कर्मचारी ही नहीं पहुंचे थे। उनके आने के बाद जांच हुई। इसके बाद यात्री ट्रेन में सवार हुए। पहले दिन बिलासपुर से 92 यात्रियों ने सफर किया।
...
more...
कोरोना का संक्रमण खत्म नहीं हुआ है। इसके बावजूद इसलिए ट्रेन चलाई जा रही है ताकि लोगों की परेशानी खत्म हो जाए। हालांकि अभी सभी ट्रेनें पटरी पर नहीं आई हैं। केवल देश में 200 ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। जनशताब्दी एक्सप्रेस इन्हीं ट्रेनों में से एक है। इसके चलने की जानकारी करीब 10 दिन पहले आम कर दी गई थी ताकि यात्री रिजर्वेशन करा सके। रायगढ़ से लेकर गोंदिया तक 394 यात्रियों ने रिजर्वेशन कराया था। इसमें अकेले बिलासपुर से 92 यात्री थे। इन सभी की जोनल स्टेशन में जांच होनी थी। इसे देखते हुए रेलवे ने तैयारियां भी की थी। प्रवेश के लिए चिंहित गेट क्रमांक दो पर ही इनकी जांच की व्यवस्था थी। इसके मद्देनजर ही डेढ़ घंटे पहले उपस्थिति दर्ज कराने कहा गया था। इस लिहाज से यात्रियों को सुबह सात बजे तक पहुंचना था। लेकिन कुछ यात्रियों को सफर करने की इतनी जल्दबाजी थी कि सुबह छह बजे पहुंच गए। उस समय थर्मल स्क्रीनिंग स्टाफ ही नहीं पहुंचा था। हालांकि रेलवे के कुछ कर्मचारी पहुंच गए थे। जब उन्होंने यात्रियों को प्लेटफार्म के अंदर देखा तो कुछ देर के लिए हड़बड़ा गए। उन्होंने यात्रियों को समझाया कि बिना प्लेटफार्म में प्रवेश की अनुमति नहीं है। इसलिए यात्री बाहर चले गए और जांच करने वाले कर्मचारियों के आने का इंतजार करने लगे। सुबह सात बजे जांच शुरू हुई। इसके बाद यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग हुई। उन्हें बताया गया कि ट्रेन प्लेटफार्म पांच पर आएगी। आरपीएफ ने उन्हें प्लेटफार्म पर पहुंचने का रास्ता बताया। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म में बैठे और ट्रेन के आने का इंतजार करने लगे।
पहले ही दिन ट्रेन 35 मिनट लेट पहुंची
रायगढ़-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस का बिलासपुर पहुंचने का समय सुबह 8.40 बजे थी। लेकिन यह ट्रेन पहले ही दिन 35 मिनट विलंब से पहुंची। ट्रेन सुबह 9.15 बजे प्लेटफार्म पांच पर आई। ट्रेन की इस लेटलतीफी को लेकर यात्री कहते रहे कि अभी लाइन खाली है और जोन में केवल एक ट्रेन चली। उसे भी रेलवे समय पर नहीं चला सकी।
फिजिकल डिस्टेंस दरकिनार, सभी सीटों पर बुकिंग
जनशताब्दी एक्सप्रेस में फिजिकल डिस्टेंस का उल्लंघन नजर आया। रेलवे ने हर कोच की सभी सीटों की बुकिंग कर रही है। हालांकि यात्री संख्या कम थी। लेकिन जिस कोच में पर्याप्त यात्री थे वे सभी एक- दूसरे जुड़े ही बैठे नजर आए। जबकि संक्रमण को देखते हुए इसका पालन अनिवार्य है। शहर के हर स्थानों पर इसका पालन कराया जा रहा है। लेकिन ट्रेनों में रेल प्रशासन ने इसे दरकिनार कर दिया है। इसके चलते यात्री सहमे भी नजर आए। सभी मास्क लगाए हुए थे।
तीन स्टाल खुले
ट्रेनों के साथ- साथ स्टाल भी बंद करा दिए गए थे। जनशताब्दी समेत दो अन्य ट्रेनों के परिचालन को देखते हुए रेलवे ने स्टालों को खोलने का आदेश दिया। इसी के तहत प्लेटफार्म चार- पांच पर सोमवार को तीन स्टाल को खोले गए। लेकिन ग्राहकी बेहद कम रही। स्टाल बंद हुए इतना अधिक समय गुजर गया कि एक स्टाल की चॉबी गुम गई थी। ऐसी स्थिति में लाइसेंसी को स्टाल का ताला तोड़ना पड़ा। कर्मचारी सुबह से स्टाल की सफाई में जुटे हुए थे। ट्रेन के पहुंचने से पहले सामान जमाया गया। लेकिन यात्री खाने- पीने की चीजें खरीदने से संकोच करते नजर आए।
ट्रेन का नंबर बदलना भूल गए
10 दिन पहले ही तय हो गया था कि जनशताब्दी एक्सप्रेस चलेगी। रेलवे का दावा था कि उनकी तैयारी पूरी हो गई। लेकिन जब ट्रेन बिलासपुर पहुंची तो एक गलती सामने आ गई। हालांकि इसे किसी ने ध्यान नहीं दिया। दरअसल जनशताब्दी एक्सप्रेस में बोर्ड लगा था। उसमें नंबर ही नहीं बदले गए थे। ट्रेन 02069/02070 नंबर से चलनी है। लेकिन सोमवार को ट्रेन में 12070/12069 नंबर बोर्ड लगा हुआ था। यह लापरवाही है। लेकिन इसे नजर अंदाज कर दिया गया।
ट्रेन से उतरे 94 यात्री, जांच के बाद निकले बाहर
जनशताब्दी एक्सप्रेस से 94 यात्री उतरे। इनमें रायगढ़, खरसिया, सक्ती, बारद्वार समेत अन्य स्टेशनों से चढ़े हुए यात्री थे। इनके उतरते ही एनाउंसमेंट हुआ कि यात्री गेट क्रमांक चार से ही बाहर जाएंगे। इस सूचना के साथ ही आरपीएफ ने उन्हें बाहर निकलने का रास्ता बताया। लेकिन उससे पहले जांच कराने के लिए कहा गया। यात्रियों की जांच के लिए चौड़े ब्रिज में बूथ बनाए गए थे। रैंप में यात्रियों को लाइन में खड़ा कराया गया। इसके बाद बारी- बारी उनकी जांच हुई। फिर उन्हें बाहर जाने की अनुमति मिली।
इतने यात्रियों ने की सफर
रायगढ़ - 134
खरसिया - 51
सक्ती - 18
बाराद्वार - 11
चांपा - 45
नैला - 22
अकलतरा - 21
बिलासपुर - 92
No. 348 04-10-2019
bsp
राष्ट्रीय त्योहारों मे भीड को ध्यान में रखते जनशताब्दी एवं हसंदेव एक्सप्रेस में एक अस्थायी अतिरिक्त कोच की सुविधा।
राष्ट्रीय त्योहारों मे भीड को ध्यान में रखते जनशताब्दी एवं हसंदेव एक्सप्रेस में एक अस्थायी अतिरिक्त कोच की सुविधा।
बिलासपुर
...
more...
- 03 अक्टूबर,2019
दशहरा एवं दिपावली त्योहारों में रायपुर एवं कोरबा के बीच यात्रियों गाडियों में होने वाली अतिरिक्त भीड़़़ को ध्यान में रखते हुए रेलवे प्रशासन द्वारा 12070/12069 गोंदिया-रायगढ-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस एवं 18803/18804 रायपुर-कोरबा-रायपुर हसंदेव एक्सप्रेस में एक एक चेयरकार की अस्थायी अतिरिक्त कोच की सुविधा प्रदान की जा रही है।
इस अस्थायी कोच की विस्तृत जानकारी इस प्रकार है :-
ट्रेन के जिस कोच में आप सफर कर रहे हैं अगर उसमें गंदगी है तो एक एसएमएस करें। चंद मिनटों में ही हाउस कीपिंग कर्मचारी आपके सामने हाजिर होंगे। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे प्रशासन ने जोन की 22 जोड़ी ट्रेनों में ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग प्रणाली की सुविधा शुरू की है।
ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग प्रणाली के तहत गाड़ियों में यात्रियों को उपलब्ध कराई गई सेवाओं में सुधार करने के लिए और स्वच्छ हालत में कोच परिसर को रखने के लिए प्रत्येक गाड़ियों में सफाई कर्मचारी की नियुक्ति की गई है। ये कर्मचारी यात्रा के दौरान ट्रेन के साथ और ट्रेन मार्ग में सफाई के लिए एक निश्चित यूनीफार्म में सफाई सामग्रियों के साथ उपलब्ध रहेंगे। इसके बेहतर प्रबंधन के लिए
...
more...
रेलवे के अधिकारियों द्वारा इसकी मॉनिटरिंग तथा सभी डिवीजन से काउंसलिंग कराई जा रही है। बिलासपुर से शुरू होने वाली सभी गाड़ियों में यात्रियों की सफाई संबंधित शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही एवं निराकरण हेतु एसएमएस एवं वेब आधारित शिकायत सुविधा शुरू की गई है। सुविधा का लाभ सुबह 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक मिलेगा। इसके लिए यात्रियों को CLEANइन ट्रेनों में शुरू है ये सुविधा
बिलासपुर से रवाना होने वाली 18237/38 छत्तीसगढ़ एक्स., 18234/33 नर्मदा एक्स., 18255/56 इंटरसिटी एक्सप्रेस, व 18239/40 शिवनाथ एक्स., 18251/52 बिलासपुर-चेन्नई एक्सप्रेस, 12849/50 बिलासपुर-पुणे एक्स., 22815/16 बिलासपुर-एर्नाकुलम एक्स., 22843/44 बिलासपुर-पटना एक्स., 18243/44 बिलासपुर-भगत की कोठी एक्स., 18245/46 बिलासपुर-बीकानेर एक्स.। रायपुर रेल मंडल के दुर्ग से प्रारंभ होने वाली 12853/54 अमरकंटक एक्स., 12823/24, संपर्क क्रांति एक्स., 18201/02 नौतनवा एक्स., 18203/04 बेतवा एक्स., 18205/06 दुर्ग-नौतनवा एक्सप्रेस, 18207/08 दुर्ग-अजमेर एक्स., 12549/50 जम्मूतवी एक्स., 18213/14 जयपुर एक्सप्रेस, 18215/16 जम्मूतवी एक्स., 22807 दुर्ग-निजामुद्दीन हमसफर एक्स., 08791 दुर्ग-जम्मूतवी स्पेशल एक्स., 18241/18242 दुर्ग- अंबिकापुर एक्स. व गोंदिया से प्रारंभ होने वाली 12069/70 जनशताब्दी एक्सप्रेस में ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग सुविधा दी जा रही है।
Page#    45 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy