Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Fri Jan 20, 2017 23:37:37 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Fri Jan 20, 2017 23:37:37 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
Page#    274758 news entries  next>>
  
Today (22:38)  Procedure for Refund/Cancellation of PRS and UTS tickets Booked through PoS Machine (pib.nic.in)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 291746     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  124811 news posts
With a view to facilitate convenient booking of reserved and unreserved tickets by passengers through cashless modes of payment viz. Credit/Debit cards even at the ticket booking counters, it has been decided to install 10,000 POS (Point of Sale) (Swpie) machines at the PRS (Passenger Reservation System) and UTS counters (including Suburban stations). Following procedure is proposed with regard to cancellation of the tickets booked through POS machines.
1. Cancellation cum refund procedure for UTS/PRS tickets booked using SBI POS for payment:
Refund of PRS/UTS tickets shall be done using the offline process as
...
more...
detailed below:
i) The offline process of refund shall be followed in case of tickets booked using SBI POS for payment which means that the refund amount shall be credited to the account of card holder without any need to swipe his card at the time of cancellation at the counter.
ii) The customer can approach to any counter anywhere for cancellation of ticket booked from SBI POS. Needless to mention that PRS ticket can be cancelled only at any PRS/PRS cum UTS counter and UTS ticket shall be cancelled only at any UTS/PRS cum UTS counter.
iii) The print of cancelled PRS ticket would have a message indicating that “Electronic Refund” for the information of the customer. The customer may also be informed verbally or through information board that the refund shall be credited to the account of card holder within 7 days.

2. IRCTC customer care dealing with the refund issues of e-tickets is entrusted with the responsibility to address refund related complaints of tickets issued using POS. IRCTC shall coordinate with SBI, CRIS and concerned Zonal Railways to monitor the processing of refunds on daily basis and to resolve the issues/complaints in expeditious manner.

3. Cancellation cum refund procedure for PRS tickets issued from POS of other banks.
There are around 75 POS machines which were operational at different locations of Indian Railways prior to awarding contract for installing 10,000 POS machines to SBI. The refund is processed through online method in this POS machines, wherein, the customer needs to swipe his credit/debit card at the POS machine at the time of cancellation of the ticket and the due refund amount as fed by the booking/reservation clerk is credited to the account of the card holder. However, this process of refund is possible only at locations having POS machines. At non POS locations, the Ticket Deposit Receipt (TDR) is issued to affect the refund. This procedure shall continue till further advice. However, the refund of the ticket issued using SBI POS shall not be processed by swiping the card on non SBI POS. While cancelling the ticket, the system shall prompt the booking clerk about the POS (SBI or other bank) which was used at the time of booking and advise the booking clerk not to swipe the card.
***
AKS/MKV/AK/SK

(Release ID :157554)
  
Today (22:37)  Ministry of Railways Signs Joint Venture Agreement with the Govt. of Jharkhand (pib.nic.in)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 291745     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  124811 news posts
A Joint Venture Agreement was signed today i.e. 20th January, 2017 between Ministry of Railways and Government of Jharkhand for developing railway infrastructure in the State.
● This Joint Venture agreement for development of Railway Infrastructure will
○ Provide active representation to States in the Planning and Implementation of Railway Infrastructure Projects
...
more...
Speed up the Development of Railway Projects on state’s priority
○ Generate more financial resources through participation of State & other stakeholders in the project specific subsidiaries
● Government of Jharkhand has initially identified 3 projects viz., Namkum - Kandra, Giridih - Parasnath-Madhuban, Tori - Chatra Rail Line covering a length of 222 km at a cost of Rs. 2150 Crore for taking up through the proposed JV Company after establishing their viability, bankability and financial closure.
● Governments of Kerala, Andhra Pradesh, Karnataka, Maharashtra, Odisha, Haryana, Chhattisgarh and Gujarat have already signed JV agreement with Ministry of Railways.
● Government of Jharkhand with 51% equity is the 9th State which had agreed to form a Joint Venture Company with the Ministry of Railways.
● The present railway network density in Jharkhand is 17.64 Km per 100 square Km which is the best in India and way above the national average of 2.01 Km per 100 square Km.
● Signing of these JVs will go a long way in developing infrastructure in the State of Jharkhand.
● The average outlay to Jharkhand in Railway Budget was Rs.1544.3 crore during 2014-15 to 2016-17 which is an increase of 238% over the average outlay of 457.2 crore during 2009-10 to 2013-14.

BACKGROUND:
● Indian Railways has been playing a major role in national integration by connecting the remotest places and bringing people closer to each other. Railways receive a large number of demands for network expansion as a Railway line acts as an engine of growth for the area it serves.
● Railways have a large shelf of ongoing New Line, Gauge Conversion and Doubling projects needing about Rs 3.86 lakh crores to complete. We have been trying to meet the aspirations of public within limited availability of funds.
● To expedite the projects, Railways have been trying to mobilize resources through other than Gross Budgetary Support. Towards this mission, 10 State Governments have till now agreed to share the cost of 41 ongoing projects ranging from 25% to 67% of the project cost. Some States are providing land free of cost in addition to sharing of construction cost.
● In view of the growing demands for Railway Lines in various States and huge requirement of funds to execute them, Hon’ble Minister for Railways has taken an initiative for setting up of Joint Ventures with States for focused project development, resource mobilization, land acquisition, project implementation and monitoring of critical rail projects.
***
AKS/MKV/AK
(Release ID :157555)
  
Today (20:18)  मैनपुरी पैसेंजर का इंजन करहल स्टेशन पर फेल (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNCR/North Central  -  

News Entry# 291744     
   Tags   Past Edits
Jan 20 2017 (20:18)
Station Tag: Agra Cantt./AGC added by Rkschauhan/926260

Jan 20 2017 (20:18)
Station Tag: Mainpuri/MNQ added by Rkschauhan/926260

Jan 20 2017 (20:18)
Station Tag: Etawah Junction/ETW added by Rkschauhan/926260

Posted by: Rkschauhan  99 news posts
आगरा-इटावा, मैनपुरी पैसेंजर ट्रेन के ऊपर से काला साया दूर होने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को ट्रेन पर एक बार फिर से संकट आ गया, जब ट्रेन करहल स्टेशन पर पहुंची। ट्रेन यहां रुकने के बाद आगे नहीं जा सकी। कारण ट्रेेन का इंजन फेल हो गया। जिसके चलते ट्रेन में सवार यात्रियों को भारी दिक्कत का समाना करना पड़ा। दूसरे दिन भी ट्रेन के वापस न आने से यह ट्रेन अप व डाउन में रद्द रही।
बुधवार को आगरा-इटावा मैनपुरी पैसेंजर रात साढ़े नौ बजे आगरा से इटावा स्टेशन पहुंची और यहां से 9 बजकर 35 मिनट पर मैनपुरी के लिए रवाना हुई। ट्रेन आधे घंटे बाद करहल स्टेशन पहुंची और जब ड्राइवर ने ट्रेन को आगे बढ़ाया
...
more...
तो इंजन फेल हो गया। इसकी जानकारी तुरंत ड्राइवर ने इटावा व मैनपुरी स्टेशन को दी। मौके पर टीम पहुंची और इंजन को ठीक करने के प्रयास किए, लेकिन इंजन ठीक नहीं हो सका।
दूसरा इंजन न होने के कारण ट्रेन को करहल स्टेशन पर ही आगे की यात्रा के लिए रद्द कर दिया गया। ऐसे में मैनपुरी तक की यात्रा के लिए ट्रेन में सवार यात्रियों के सामने समस्या खड़ी हो गई कि रात के समय में वह आगे का सफर कैसे पूरा करें। दूसरे दिन दोपहर तक किसी इंजन के करहल स्टेशन पर न पहुंचने से यह पैसेंजर ट्रेन वहीं पर खड़ी रही। जिसके चलते गुरुवार को मैनपुरी से इटावा-आगरा के लिए जाने वाली पैसेंजर रद्द रही। वहीं डाउन में भी यह ट्रेन दूसरा रैक न होने के कारण रद्द रही।
गुरुवार शाम टूण्डला से रिलीफ ट्रेन मैनपुरी ट्रैक पर भेजी गई और इसके बाद खराब इंजन के साथ मैनपुरी पैसेंजर को खींचकर टूण्डला ले जाया गया। मालूम हो कि अभी मैनपुरी ट्रेेन को चले हुए मुश्किल से 20 दिन का समय ही बीता है और इस बीच ट्रेन न सिर्फ कई बार रद्द हो चुकी है बल्कि अन्य दिनों में भी अपने समय से नहीं चली है। ऐसे में ट्रेन में यात्रा करने के लिए स्टेशन पहुंचने वाले यात्रियों का अब इस ट्रेन से भरोसा ही उठता जा रहा है।
  
Today (19:43)  Rail link plan with Bhutan, Myanmar, Bangladesh, Nepal: Suresh Prabhu (www.news18.com)
News Entry# 291743     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Jayashree ❖ Amita*^  35121 news posts
Darjeeling (WB): The Centre is mulling linking neighbouring countries like Bhutan, Myanmar, Bangladesh and Nepal through the railways.
This was announced here today by Railway Minister Suresh Prabhu at a programme where an agreement was signed between the Indian Railways and UNESCO.
"We have neighbouring countries like Bangladesh, Bhutan, Myanmar and Nepal. We have a very cordial relationship with them. We want to increase railway connectivity with these countries. We are trying to develop it," Prabhu told reporters.
"If
...
more...
a circuit can be made connecting these neighbouring countries, it will increase interaction, tourism, trade, employment and connectivity," he added.
Prabhu said work was on to connect all the eight state capitals of the north-east, so that the tourism potential of the region gets a boost.
Horticulture, floriculture, handicraft of the region would get a bigger market after the state capitals are connected with the rest of the country, the railway minister said, adding that he would visit Sikkim and Arunachal Pradesh in the next two days.
Prabhu said investments of Rs 3-3.5 lakh crore would be made in the railways while the amount had been Rs 35,000-40,000 crore a year earlier. This will bring development in the functioning of the railways, he added.
  
Today (19:06)  किऊल-जमालपुर पैसेंजर का इंजन फेल (www.livehindustan.com)
back to top
ER/Eastern  -  

News Entry# 291742     
   Tags   Past Edits
Jan 20 2017 (19:06)
Station Tag: Dhanauri/DNRE added by Rahul K😎🚂/965197

Posted by: Rahul K😎🚂  27 news posts
किऊल से जमालपुर आ रही डाउन पैसेंजर ट्रेन का इंजन गुरुवार की सुबह धनौरी स्टेशन पर फेल हो गया। यह ट्रेन तीन घंटे तक धनौरी में रुकी रही, जिससे यात्री परेशान रहे। 3 घंटे बाद इंजन बदले जाने पर टे्रन जमालपुर पहुंची। इस कारण यह ट्रेन भागलपुर सुबह साढ़े 10 बजे नहीं जा सकी। भागलपुर जाने वाले यात्रियों की भीड़ स्टेशन पर लगी रही। पूछताछ केेंद्र पर यात्रियों की भीड़ लगी रही। दिन के दो बजे तक स्टेशन पर यात्री शोर शराबा करते रहे। प्रभारी स्टेशन अधीक्षक इंदू कुमार ने बताया कि सुबह करीब 11 बजे सूचना मिली कि धनौरी स्टेशन पर पैसेंजर ट्रेन का इंजन फेल हो गया है। इंजन फेल होने पर लोको विभाग को सूचना दे दी गई थी, लेकिन समय पर खाली इंजन नहीं मिलने की सूरत में इंजन को करीब दो घंटे बाद भेजा गया।
रद्द
...
more...
रही ब्रह्मपुत्र मेल: लंबी दूरी की टे्रनों का विलंब से चलना जारी है। रेल प्रशासन ने गुरुवार को दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली ब्रह्मपुत्र मेल का परिचालन रद्द कर दिया। ट्रेन रद्द होने की सूरत में कई टिकट वापस कराने लिए काउंटर पर भीड़ लगी रही। विलंब से चल रही हैं लंबी दूरी की ट्रेनें : दिल्ली व कोलकाता से जमालपुर आने वाली ट्रेनों का विलंब से चलना जारी है। गुरुवार को अप में गरीबरथ एक्सप्रेस 14 घंटे, अप भागलपुर-अजमेरशरीफ एक्सप्रेस 20 घंटे, अप फरक्का एक्सप्रेस 6 घंटे, अप सियालदह वाराणसी एक्सप्रेस 3 घंटे, अप बांका-राजेंद्रनगर इंटरसिटी 1 घंटा विलंब से जमालपुर पहुंची। जबकि डाउन में ब्रह्मपुत्र मेल 12 घंटे, नई दिल्ली-भागलपुर सप्ताहिकी सुपरफास्ट एक्सप्रेस 10 घंटे, डाउन फरक्का एक्सप्रेस 11 घंटे, डाउन गरीबरथ एक्सप्रेस 16 घंटे, डाउन विक्रमशिला एक्सप्रेस 10 घंटे, डाउन अमरनाथ- भागलपुर एक्सप्रेस 10 घंटे विलंब से चल रही थी।
  
Today (18:56)  लांग रूट की ट्रेनों के रिजर्वेशन में सहूलियत, लाखों को होगा फायदा (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human Interest

News Entry# 291740     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: OM SAI RAM~  32 news posts
भारतीय रेलवे ने यात्रियों को बड़ी खुशखबरी देते हुए लांग रूट की ट्रेनों के रिजर्वेशन में बड़ी सहूलियत दी है। इससे लाखों को फायदा होगा। अब लांग रूट की ट्रेनों में भी कम दूरी का रिजर्वेशन कराया जा सकेगा। 50 साल से रेलवे ने इस पर पाबंदी लगा रखी थी। इसके चलते यात्रियों को मन मसोसकर जनरल क्लास में सफर करना पड़ता था।
रेलवे ने अब यह पाबंदी हटा ली है। इस बाबत सर्कुलर भी जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि लंबी दूरी की मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों में उन यात्रियों को टिकट नहीं मिलता था, जो कम दूरी के स्टेशनों की यात्रा करना चाहते थे।
मसलन,
...
more...
शताब्दी एक्सप्रेस में लखनऊ से कानपुर के लिए रिजर्वेशन की सुविधा यात्रियों को नहीं थी। इससे यात्रियों को सेकंड क्लास में पैसेंजर ट्रेनों या फिर मेमू ट्रेनों से सफर करना पड़ता था। लेकिन अब यह प्रतिबंध खत्म हो गया है। रेलवे बोर्ड की ओर से गत पांच जनवरी को इस बाबत सर्कुलर जारी किया जा चुका है।
  
होशंगाबाद. प्रतिभूति कागज कारखाना (एसपीएम) में तैयार नोट का कागज लेने रवाना हुई विशेष ट्रेन शुक्रवार शाम को फैक्ट्री के बाहर ही ट्रैक से उतर गई। यह सिंगल ट्रैक होशंगाबाद स्टेशन से एसपीएम के लिए नेशनल हाईवे को क्रास करके बनाया गया है। इस हादसे की वजह से हाईवे का यातायात भी रुक गया। ट्रेन की बोगी को ट्रैक पर चढ़ाने के लिए इंजीनियरों की टीम मौके पर पहुंच गई है। सुधार कार्य शुरू कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि इस बार 500 से अधिक 100 के नोट का कागज देवास भेजा जाना था। देवास में इन दिनों 100 रुपए का नोट अधिक मात्रा में छापा जा रहा है। नोटबंदी के बाद से यहां से विशेष ट्रेन नोट का कागज लेकर कई बार रवाना हो चुकी है लेकिन यह पहली बार है जब टे्रन ट्रैक से उतर गई। सूत्रों के अनुसारहोशंगाबाद एसपीएम में 24 घंटे की तीन शिफ्ट...
more...
में कर्मचारी काम कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद से कर्मचारियों-अधिकारियों के अवकाश पर अभी तक रोक लगी हुई है। एसपीएम की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। इसके बावजूद ट्रेन का ट्रैक से उतरने को बड़ी लापरवाही माना जा रहा है। इस ट्रेन को मिला है विशेष पास प्रतिभूति कागज कारखाना (एसपीएम) में उत्पादित नोट पेपर को देवास पहुंचाने के लिए ट्रेन को विशेष पास देने की व्यवस्था की गई है। स्टेशन से मिली जानकारी के अनुसार होशंगाबाद स्टेशन से एसपीएम मिल तक सिंगल ट्रैक है। एसपीएम से रवाना होने के बाद इस विशेष ट्रेन को रास्ते में कहीं भी नहीं रोका जा रहा है। इस सुपरफास्ट विशेष ट्रेन में सुरक्षाकर्मियों की भी तैनाती की गई है।
  
Today (18:47)  लेट एक्सप्रेस बनी लिंक एक्सप्रेस (www.bhaskar.com)
back to top
Other NewsNCR/North Central  -  

News Entry# 291738   Blog Entry# 2133990     
   Tags   Past Edits
Jan 20 2017 (18:49)
Train Tag: Gwalior - Indore Express/11126 added by SMILER/77823

Jan 20 2017 (18:48)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by SMILER/77823

Jan 20 2017 (18:48)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by SMILER/77823

Jan 20 2017 (18:48)
Train Tag: Etawah - Gwalior - Jhansi Link Express/11802 added by SMILER/77823

Jan 20 2017 (18:48)
Train Tag: Jhansi - Gwalior - Etawah Link Express/11801 added by SMILER/77823

Jan 20 2017 (18:48)
Train Tag: Jhansi - Gwalior - Etawah Link Express/11801 added by SMILER/77823

Posted by: SMILER  82 news posts
ग्वालियर डीबी स्टार
ग्वालियर-इंदौर एक्सप्रेस को झांसी नहीं ले जाने के फेर में तत्कालीन डीआरएम एसके अग्रवाल ने नया रास्ता खोजकर लिंक एक्सप्रेस को आनन-फानन में चलाने का प्रस्ताव इलाहाबाद मुख्यालय पहुंचाया था। रेलवे बोर्ड के अफसरों को भी लिंक एक्सप्रेस बीच के रास्ते के रूप में नजर आई। आनन-फानन में ट्रेन को चलाने का फैसला लिया गया।
यह ट्रेन जब से झांसी-ग्वालियर-इटावा के बीच दौड़ना शुरू हुई, तब से लेकर अभी तक बहुत कम ऐसे मौके आए हैं, जब यह ट्रेन टाइम से पहुंची हो। ट्रेन की लेटलतीफी का सबसे बड़ा खामियाजा
...
more...
यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। कुछ यात्रियों की शिकायत पर डीबी स्टार टीम ने मामले की पड़ताल की। टीम ने इस लिंक एक्सप्रेस की टाइमिंग का रिकॉर्ड चेक किया, तो पता चला कि पिछले चार दिनों में यह ट्रेन चार घंटे तक देरी से ग्वालियर आई है। इसके चलते ग्वालियर से बनकर इंदौर जाने वाली इंदौर एक्सप्रेस भी लेट हो जाती है।
ट्रेन लेट होने के मामले की जांच कराएंगे
 कोहरे का असर भारतीय रेलवे के संचालन पर पड़ रहा है। अधिकांश ट्रेनें लेट चल रही हैं, इसी कारण लिंक एक्सप्रेस भी लेट हो रही है। यदि किसी और कारण से लिंक एक्सप्रेस लेट हो रही होगी, तो हम परीक्षण कराएंगे, जिससे भविष्य में ट्रेन सही वक्त पर ग्वालियर पहुंच सके। मनोज सिंह, जनसंपर्क अधिकारी रेल मंडल झांसी
अब तो लेट एक्सप्रेस बन गई
 सोचा था कि झांसी से आने वाली लिंक एक्सप्रेस का फायदा यात्रियों को मिलेगा। इसका लाभ तो कम हुआ, बल्कि ठीक उलट लिंक एक्सप्रेस लेट आने से यात्रियों को दिक्कतें होने लगी हैं। पहले ट्रेन के चलने का इंतजार और फिर इंदौर लेट पहुंचने का इंतजार करना पड़ रहा है। कई बार जरूरी काम तक छूट जाते हैं। रेल मंडल को इस ओर ध्यान देना चाहिए ताकि यात्रियों की समस्या का समाधान हो सके। वीके पालीवाल, यात्री
100 टिकट भी नहीं बिकते
रेलवे ने आनन-फानन में जिस लिंक एक्सप्रेस को चलाया है। उसके औसतन प्रतिदिन 100 टिकट भी ग्वालियर स्टेशन से नहीं बिकते। रात्रि में टाइम होने और उस पर एक से चार घंटे तक लेट होने की वजह से यात्री ट्रेन का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। अधिकांश यात्री बिना टिकट सफर करते रहते हैं। जबकि ट्रेन में नौ कोच जुड़े होते हैं। जिनकी क्षमता 800 यात्रियों की है।
ग्वालियर से इटावा 35 टिकट प्रतिदिन औसतन
ग्वालियर से भिंड 50 टिकट प्रतिदिन औसतन
इटावा से ग्वालियर 12 टिकट प्रतिदिन औसतन
भिंड से ग्वालियर 20 टिकट प्रतिदिन औसतन
झांसी से चलाते हैं लेट
यह ट्रेन झांसी से ग्वालियर के लिए 17:25 बजे चलना चाहिए। वहां ट्रेनों का दबाव अधिक होने के कारण लिंक एक्सप्रेस को लेट छोड़ा जाता है। ज्यादातर शताब्दी एक्सप्रेस को निकालने की कोशिश होती है। इस वजह से ट्रेन लेट होती जाती है।
पिछले दिनों कब-कब लेट आई
13 जनवरी-1.50 घंटे 15 जनवरी-1.25 घंटे
16 जनवरी-1.00 घंटे 17 जनवरी-3.12 घंटे
इंदौर के लिए चार कोच
झांसी-इटावा लिंक एक्सप्रेस के चार कोच इंदौर एक्सप्रेस (ट्रेन नंबर 11126 अप) में जोड़े जाते हैं। शेष ट्रेन को इटावा के लिए रवाना कर दिया जाता है। जब तक ट्रेन नहीं आती, तब तक प्लेटफॉर्म क्रमांक चार पर इंदौर एक्सप्रेस को रोककर रखा जाता है। इस ट्रेन का ग्वालियर से इंदौर के लिए छूटने का वक्त शाम 19:30 बजे का है। यह ट्रेन अक्सर 8:30 बजे के बाद ही रवाना होती है। यहां से लेट चलने के कारण ट्रेन इंदौर भी लेट पहुंच रही है।
..तब तक खड़े रहते हैं यात्री
रेलवे में एसी कोच को लेकर नियम है। ट्रेन चलने के 15 मिनट पहले एसी कोच खोले जाते हैं, जिससे गर्मी के मौसम में ठंडक और सर्दी में कोच के अंदर गर्मी बनी रहे। लिंक एक्सप्रेस के लेट होने से प्लेटफॉर्म क्रमांक चार पर खड़ी इंदौर एक्सप्रेस के एसी कोच में आरक्षण कराने वाले यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर ही खड़ा रहना पड़ता है। जब ट्रेन झांसी से ग्वालियर आ जाती है, तब एसी कोच के गेट खोले जाते हैं।

  
Today (19:04)
Ankj   178 blog posts
Re# 2133990-1            Tags   Past Edits
Is poori train ko JHS- INDB kr dena chahiye aur GWL- INDB ek alag train chalana chahiye...waise bhi Gwl se Indb do trains ki jarurat hai...

  
437 views
Today (20:26)
IRI~   475 blog posts   313 correct pred (69% accurate)
Re# 2133990-2            Tags   Past Edits
Gwl-indb double decker!

  
176 views
Today (22:11)
Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~   553 blog posts   51 correct pred (77% accurate)
Re# 2133990-3            Tags   Past Edits
Bhai isi saajish ki vajah se to jhs intentionally late kar raha hai jhs-etw ko... Ab GWL wale hi esa bolne lagenge to yahi to railway chah raha hai ki jo virodh tha use majboori me badal den...

  
3 views
Today (23:36)
Ankj   178 blog posts
Re# 2133990-4            Tags   Past Edits
JHS divisonal h.q. hone ka fayeda uthata hai...
  
पाकिस्तान से आई मालगाड़ी में एक किलोग्राम हेरोइन पकड़ी गई है। यह मालगाड़ी बुधवार को पाकिस्तान से आई थी। मालगाड़ी के डिब्बों की जांच करते हुए सीमा शुल्क विभाग ने सफेद कपड़े में लिपटी हेरोइन को मालगाड़ी के प्रेशर सिलेंडर के बीच में बरामद किया। पाकिस्तान से मालगाड़ी में हेरोइन बरामदगी का 2017 का यह पहला मामला है।  Sponsored Links You May Like Have you tried Aqua Tummy Smoothening Swimwear? Zivame   by Taboola  बता दे, भारत-पाकिस्तान के बीच रेल व्यापार पिछले तीन पांच वर्षों से तड़प रहा है। पाकिस्तान से मालगाड़ी में आने वाली हेरोइन की खेपों के सिलसिला तेज हुआ तो पंजाब ही नहीं बल्कि देश के व्यापारी रेल माध्यम से व्यापार करने के बजाए सड़क माध्यम को चुना। सीमा शुल्क विभाग ने पकड़ी एक किलो हेरोइन
सीमा
...
more...
शुल्क विभाग ने पकड़ी एक किलो हेरोइन PC: File Photo ​सीमेंट का कारोबार रेल की पटरियों से छिन कर अटारी बार्डर स्थिति एंटीग्रेटिड चेक पोस्ट (आईसीपी) पर चला गया। तेरह माह बाद एक बार फिर पाकिस्तान से आई मालगाड़ी में हेरोइन मिली है।
इससे संकेत मिल रहे हैं कि पाकिस्तानी तस्कर भारत-पाकिस्तान के बीच चल रही मालगाड़ी को नशे के लिए दोबारा इस्तेमाल करने के लिए ट्रायल में एक किलो हेरोइन भेजी है। यही सोच खुफिया विभाग की भी है।
कस्टम कमिश्नर कैप्टन संजय गहलोत ने कहा कि सीमा शुल्क विभाग पूरी तरह से चौकस है। पाकिस्तान से आने वाली समझौता एक्सप्रेस और मालगाड़ी दोनों की सघन जांच की जाती है। कई चरणों में जांच प्रक्रिया के बाद विभाग क्लीन चिट देता है।

  
660 views
Today (18:48)
★★★★12355 Archana Exp★★★★   4649 blog posts   12 correct pred (100% accurate)
Re# 2133960-1            Tags   Past Edits
good job

  
650 views
Today (18:50)
Abhishek Jaiswal   44116 blog posts   18267 correct pred (69% accurate)
Re# 2133960-2            Tags   Past Edits
itni security ke bawjood himmat kaise hoti hai inki ye sb karne ki.

  
625 views
Today (18:53)
Jayashree ❖ Amita*^   11657 blog posts   97110 correct pred (77% accurate)
Re# 2133960-3            Tags   Past Edits
Kahi na kahi ..koi na koi ..ek dusre se jarur mile hote hai ..thats why it happens.

  
619 views
Today (18:55)
Abhishek Jaiswal   44116 blog posts   18267 correct pred (69% accurate)
Re# 2133960-4            Tags   Past Edits
haan mam, bina mili bhagat k possible nhi hai. agar citizen aware rhe to inka kaam bahut hi jaade muskil ho but mili bhagat se kaafi err hoti hai.
  
Today (18:43)  Rail link plan with Bhutan, Myanmar, Bangladesh, Nepal: Suresh Prabhu (www.india.com)
back to top
NFR/Northeast Frontier  -  

News Entry# 291735     
   Tags   Past Edits
Jan 20 2017 (18:43)
Station Tag: Darjeeling/DJ added by Rahul K😎🚂/965197

Posted by: Rahul K😎🚂  27 news posts
Darjeeling (WB), Jan 20: The Centre is mulling linking neighbouring countries like Bhutan, Myanmar, Bangladesh and Nepal through the railways. This was announced here today by Railway Minister Suresh Prabhu at a programme where an agreement was signed between the Indian Railways and UNESCO. “We have neighbouring countries like Bangladesh, Bhutan, Myanmar and Nepal. We have a very cordial relationship with them. We want to increase railway connectivity with these countries.
We are trying to develop it,” Prabhu told reporters. “If a circuit can be made connecting these neighbouring countries, it will increase interaction, tourism, trade, employment and connectivity,” he added. Prabhu said work was on to connect all the eight state capitals of the north-east, so that the tourism potential of
...
more...
the region gets a boost.
Horticulture, floriculture, handicraft of the region would get a bigger market after the state capitals are connected with the rest of the country, the railway minister said, adding that he would visit Sikkim and Arunachal Pradesh in the next two days. Prabhu said investments of Rs 3-3.5 lakh crore would be made in the railways while the amount had been Rs 35,000-40,000 crore a year earlier. This will bring development in the functioning of the railways, he added.
Page#    274758 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site