Disclaimer   
News Super Search
 ♦ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Thu May 25, 2017 01:24:26 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Thu May 25, 2017 01:24:26 IST
Advanced Search
Trains in the News    Stations in the News   
Page#    19519 news entries  <<prev  next>>
  
May 23 2017 (05:44)  ट्रेनों के मार्ग परिवर्तन से यात्री परेशान (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNER/North Eastern  -  

News Entry# 303267     
   Tags   Past Edits
May 23 2017 (05:44)
Station Tag: Raja Talab/RTB added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
इलाहाबाद : पूवरेत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के राजा तालाब स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य सोमवार से शुरू होने पर यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ी। इसके चलते कई ट्रेनों का मार्ग बदला गया है। 25 मई तक यह व्यवस्था रहेगी। 1टेनों के रूट में हुए इस परिवर्तन से जगह-जगह रेलवे स्टेशनों पर इंतजार कर रहे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।इलाहाबाद : पूवरेत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के राजा तालाब स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य सोमवार से शुरू होने पर यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ी। इसके चलते कई ट्रेनों का मार्ग बदला गया है। 25 मई तक यह व्यवस्था रहेगी। 1टेनों के रूट में हुए इस परिवर्तन से जगह-जगह रेलवे स्टेशनों पर इंतजार कर रहे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
  
May 22 2017 (19:24)  Train services affected as job aspirants go berserk at NJP (www.assamtribune.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNFR/Northeast Frontier  -  

News Entry# 303251     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (19:24)
Station Tag: New Jalpaiguri Junction/NJP added by 12085 Dibrugarh Guwahati Shatabdi 12086~/1329476

Posted by: Avadh Assam Express The Tragedy King~  395 news posts
GUWAHATI, May 21 - Long-distance train services to and from Assam and the North Eastern region were disrupted severely today after a huge group of aspiring job candidates rampaged through the New Jalpaiguri (NJP) railway station this morning and destroyed railway property worth lakhs of rupees.
Senior officials at the Northeast Frontier Railway (NFR) headquarters at Maligaon here told The Assam Tribune that operation of almost all long-distance trains to and from the region were affected for many hours due to the rampage and violence at NJP.
The NJP station falls under the
...
more...
Katihar Division of NF Railway.
Thousands of young job aspirants from different parts of Bihar and West Bengal had gathered at different places in North Bengal for Grade D posts exams, which were held by the West Bengal Government on May 19.
Since yesterday, the candidates had converged at various railway stations in the North Bengal area to head back to their respective destinations.
Thousands of such candidates were at the NJP station this morning when heavy showers came and many of the job aspirants tried to board the Avadh Assam Express, which was, at that time, waiting at Platform No.1 of the station.
When RPF and GRP personnel tried to bring order and prevent the job aspirants from boarding the train in such large numbers, the youths went berserk and started to target railway property, NFR officials said.
They not only damaged the engine and AC compartments of the Avadh Assam Express but also caused massive damage to the entire NJP station.
Additional forces, including Army and BSF personnel from a military special train, which was also at the station, were deployed but the mob fury continued.
NFR officials, however, added that no passengers were hurt in the violence.
“The job candidates targeted only railway property. They did not cause any trouble to the passengers,” said an official.
Railway authorities finally arranged a special train to ferry the thousands of job aspirants and the situation calmed only after an announcement to that effect was made through the public address system.
NFR officials said almost all trains to and from the Northeast, including the Rajdhani Express, were controlled at different places due to the incident at NJP.
“Most of the trains are running late by many hours. However, all the services have been restored and train running is expected to be normal by tomorrow morning,” said an official.
NFR authorities have blamed the West Bengal Government for not issuing an advisory regarding the Grade D recruitment.
“Generally, local authorities and the state government always issue advisory whenever such exams or other events are planned. That allows us to make arrangements for special trains. However, the West Bengal Government did not do so and the railway authorities were, therefore, caught unawares,” said an NFR
  
May 22 2017 (08:16)  रात 8.21 बजे स्टेशन में हुआ ब्लैक आउट, मची अफरा-तफरी (www.prabhatkhabar.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSER/South Eastern  -  

News Entry# 303226     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (08:17)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जमशेदपुर : टाटानगर रेलवे स्टेशन में रविवार की रात 8.21 बजे अचानक बिजली सप्लाइ ठप होने से अफरा-तफरी मच गयी. यात्री अपने- अपने सामानों को सुरक्षित करने लगे. इस दौरान प्लेटफॉर्म पर लगी डिजिटल घड़ी और सूचना पट की लाल रोशनी यात्रियों का सहारा बनी. इधर आरपीएफ और जीआरपीएफ जवान तत्काल सक्रिय हो गये. हालांकि कोई अप्रिय घटना नहीं घटी. तकनीकी कारणों से अचानक बिजली सप्लाई ठप हुई. चार मिनट बाद लाइन आने पर स्थिति सामान्य हुई.
  
May 22 2017 (07:58)  लापरवाही ने जोखिम में डाल दीं हजारों जिंदगी (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 303225     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जागरण संवाददाता, उन्नाव : लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपर फास्ट एक्सप्रेस डिरेल होने के मामले में प्राथमिक तौर पर रेल प्रशासन की लापरवाही सामने आ गई। ट्रेनों को पास कराने में लापरवाही और सुरक्षा बंदोबस्त में चूक हजारों यात्रियों की जान पर बन सकती थी, इसे देखते हुए रेलवे अधिकारियों ने मामले की जांच के आदेश दे दिए इधर टेक्निकल टीम ने जांच शुरू कर दी है।1 शुरुआती छानबीन में कॉशन देकर ट्रेन को न निकालने की चूक सामने आई है। हालांकि टीमें दूसरे कारणों के साथ साजिश आदि होने की आशंका को भी ध्यान में रखकर जांच कर रही हैं। 1उन्नाव रेलवे स्टेशन के डाउन ट्रैक के प्लेटफार्म नंबर तीन के ट्रैक की मरम्मत का काम बीते तीन दिनों से चल रहा था। इसको देखते हुए ट्रेनों को कॉशन देकर ही निकाला जाना चाहिए। रेल प्रशासन का दावा है कि ऐसा हो भी रहा था लेकिन रविवार को जब हादसा...
more...
हुआ तो उसकी हकीकत कुछ और ही निकली। जिसकी शिकार लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपरफास्ट एक्सप्रेस बनी। ट्रेन को कॉशन न देकर ऐसे ही निकालना हादसे का एक कारण हो सकता है। 1रेलवे के सीपीआरओ नीरज शर्मा का कहना है कि ट्रैक मेंटीनेंस के बाद भी कॉशन न दिया जाना गंभीर विषय है। इसको देखते हुए जांच के आदेश दिए गए हैं। 1रेल सेफ्टी अधिकारियों के साथ पहुंची रिलीफ ट्रेन : एडीआरएम एसके सापरा, सीनियर डीएससी सत्यप्रकाश सहित रेलवे सेफ्टी के अधिकारी घटना की सूचना के बाद मौके पहुंचे। जहां एक्सीडेंट रिलीफ ट्रेन (एआरटी) की टीम ने कोचों को पटरी पर वापस लाने का काम शाम से ही शुरू कर दिया। इस बीच कानपुर से लखनऊ जाने वाली ट्रेनें को उन्नाव स्टेशन के पांच नंबर ट्रैक से गुजारने के प्रबंध किए गए हैं। 1जागरण संवाददाता, उन्नाव : लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपर फास्ट एक्सप्रेस डिरेल होने के मामले में प्राथमिक तौर पर रेल प्रशासन की लापरवाही सामने आ गई। ट्रेनों को पास कराने में लापरवाही और सुरक्षा बंदोबस्त में चूक हजारों यात्रियों की जान पर बन सकती थी, इसे देखते हुए रेलवे अधिकारियों ने मामले की जांच के आदेश दे दिए इधर टेक्निकल टीम ने जांच शुरू कर दी है।1 शुरुआती छानबीन में कॉशन देकर ट्रेन को न निकालने की चूक सामने आई है। हालांकि टीमें दूसरे कारणों के साथ साजिश आदि होने की आशंका को भी ध्यान में रखकर जांच कर रही हैं। 1उन्नाव रेलवे स्टेशन के डाउन ट्रैक के प्लेटफार्म नंबर तीन के ट्रैक की मरम्मत का काम बीते तीन दिनों से चल रहा था। इसको देखते हुए ट्रेनों को कॉशन देकर ही निकाला जाना चाहिए। रेल प्रशासन का दावा है कि ऐसा हो भी रहा था लेकिन रविवार को जब हादसा हुआ तो उसकी हकीकत कुछ और ही निकली। जिसकी शिकार लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपरफास्ट एक्सप्रेस बनी। ट्रेन को कॉशन न देकर ऐसे ही निकालना हादसे का एक कारण हो सकता है। 1रेलवे के सीपीआरओ नीरज शर्मा का कहना है कि ट्रैक मेंटीनेंस के बाद भी कॉशन न दिया जाना गंभीर विषय है। इसको देखते हुए जांच के आदेश दिए गए हैं। 1रेल सेफ्टी अधिकारियों के साथ पहुंची रिलीफ ट्रेन : एडीआरएम एसके सापरा, सीनियर डीएससी सत्यप्रकाश सहित रेलवे सेफ्टी के अधिकारी घटना की सूचना के बाद मौके पहुंचे। जहां एक्सीडेंट रिलीफ ट्रेन (एआरटी) की टीम ने कोचों को पटरी पर वापस लाने का काम शाम से ही शुरू कर दिया। इस बीच कानपुर से लखनऊ जाने वाली ट्रेनें को उन्नाव स्टेशन के पांच नंबर ट्रैक से गुजारने के प्रबंध किए गए हैं। 1
  
May 22 2017 (07:55)  ट्रेनें रद होने से सेंट्रल पर यात्री परेशान (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 303224     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (07:55)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जागरण संवाददाता, कानपुर : उन्नाव में लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपरफास्ट एक्सप्रेस (22121) के डिरेल होने के बाद कई ट्रेनें रद कर दी गईं तो कुछ का मार्ग बदल दिया गया। अचानक ट्रेनें रद होने से सेंट्रल स्टेशन पर यात्री परेशान रहे। मेमू न चलने से दैनिक यात्रियों ने लखनऊ जाने को दूसरा विकल्प तलाशा। देर शाम तक जो ट्रेनें रवाना भी हुईं, उनमें खचाखच भीड़ रही। 1वरुणा में बैठे रह गए यात्री, रद हो गई ट्रेन : सेंट्रल स्टेशन पर खड़ी वरुणा एक्सप्रेस में कई यात्री बैठे थे। इसी बीच उसके रद होने की सूचना प्रसारित हुई। ट्रेन रद होने की जानकारी मिलते ही सुलतानपुर जाने के लिए बैठे रामकिशोर स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के पास पहुंचे। छूटते ही बोले - यह क्या तरीका है। अचानक ट्रेन क्यों रद कर दी। वास्तविकता की जानकारी होने के बाद बोले - सुलतानपुर के लिए कोई दूसरी ट्रेन है? जवाब में न सुनते...
more...
ही बोल पड़े कि परिवार के साथ अब कहां जाऊं? आखिरकार उन्होंने बस से जाने का निर्णय लिया। 1कंट्रोल रूम में यात्रियों की भीड़1हादसे की जानकारी होते ही स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के अलावा कई अधिकारी छुट्टी के बाद भी स्टेशन पहुंच गए। ट्रेनों के बाबत जानकारी लेकर सूचना प्रसारित कराने का काम कर रहे थे, तभी दर्जनों यात्री पहुंच गए। सभी ट्रेनों के बाबत जानकारी चाह रहे थे। 1परिवार के साथ लोग हुए परेशान 1सबसे ज्यादा परेशानी उनको उठानी पड़ी, जो परिवार के साथ ट्रेन पकड़ने आए थे। वरुणा और प्रतापगढ़ इंटरसिटी रद होने से सैकड़ों यात्रियों के लिए परेशानी खड़ी हो गई। परिवार व बच्चों के साथ आए लोग बस अड्डे की तरफ चल दिए। 1प्लेटफार्म फुल, आउटर पर ट्रेनें1हादसे के बाद सेंट्रल स्टेशन के सभी प्लेटफार्मो पर ट्रेनें खड़ी हो गईं। कई ट्रेनें आउटर व उससे पहले ही रोक दी गईं। ट्रेनों में बैठे यात्रियों के नीचे उतर आने से प्लेटफार्म पर तिल रखने की जगह नहीं बची। 1सेंट्रल से रवाना की मेडिकल टीम : हादसे की जानकारी मिलते ही सेंट्रल स्टेशन से आनन-फानन में रेस्क्यू टीम रवाना की गई। मेडिकल वैन उन्नाव को कूच कर गई। 1जागरण संवाददाता, कानपुर : उन्नाव में लोकमान्य तिलक टर्मिनल एसी सुपरफास्ट एक्सप्रेस (22121) के डिरेल होने के बाद कई ट्रेनें रद कर दी गईं तो कुछ का मार्ग बदल दिया गया। अचानक ट्रेनें रद होने से सेंट्रल स्टेशन पर यात्री परेशान रहे। मेमू न चलने से दैनिक यात्रियों ने लखनऊ जाने को दूसरा विकल्प तलाशा। देर शाम तक जो ट्रेनें रवाना भी हुईं, उनमें खचाखच भीड़ रही। 1वरुणा में बैठे रह गए यात्री, रद हो गई ट्रेन : सेंट्रल स्टेशन पर खड़ी वरुणा एक्सप्रेस में कई यात्री बैठे थे। इसी बीच उसके रद होने की सूचना प्रसारित हुई। ट्रेन रद होने की जानकारी मिलते ही सुलतानपुर जाने के लिए बैठे रामकिशोर स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के पास पहुंचे। छूटते ही बोले - यह क्या तरीका है। अचानक ट्रेन क्यों रद कर दी। वास्तविकता की जानकारी होने के बाद बोले - सुलतानपुर के लिए कोई दूसरी ट्रेन है? जवाब में न सुनते ही बोल पड़े कि परिवार के साथ अब कहां जाऊं? आखिरकार उन्होंने बस से जाने का निर्णय लिया। 1कंट्रोल रूम में यात्रियों की भीड़1हादसे की जानकारी होते ही स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के अलावा कई अधिकारी छुट्टी के बाद भी स्टेशन पहुंच गए। ट्रेनों के बाबत जानकारी लेकर सूचना प्रसारित कराने का काम कर रहे थे, तभी दर्जनों यात्री पहुंच गए। सभी ट्रेनों के बाबत जानकारी चाह रहे थे। 1परिवार के साथ लोग हुए परेशान 1सबसे ज्यादा परेशानी उनको उठानी पड़ी, जो परिवार के साथ ट्रेन पकड़ने आए थे। वरुणा और प्रतापगढ़ इंटरसिटी रद होने से सैकड़ों यात्रियों के लिए परेशानी खड़ी हो गई। परिवार व बच्चों के साथ आए लोग बस अड्डे की तरफ चल दिए। 1प्लेटफार्म फुल, आउटर पर ट्रेनें1हादसे के बाद सेंट्रल स्टेशन के सभी प्लेटफार्मो पर ट्रेनें खड़ी हो गईं। कई ट्रेनें आउटर व उससे पहले ही रोक दी गईं। ट्रेनों में बैठे यात्रियों के नीचे उतर आने से प्लेटफार्म पर तिल रखने की जगह नहीं बची। 1सेंट्रल से रवाना की मेडिकल टीम : हादसे की जानकारी मिलते ही सेंट्रल स्टेशन से आनन-फानन में रेस्क्यू टीम रवाना की गई। मेडिकल वैन उन्नाव को कूच कर गई। 1
  
May 22 2017 (07:47)  Examinees ransack New Jalpaiguri station on being denied residential arrangements (indianexpress.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNFR/Northeast Frontier  -  

News Entry# 303221   Blog Entry# 2286956     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (07:47)
Station Tag: New Jalpaiguri/NJPS added by Rail Fanning~/718429

Posted by: Rail Fanning~  145 news posts
Irate examinees on Sunday went on the rampage at New Jalpaiguri railway station ransacking the station master’s office, damaging an engine and two AC coaches and trying to set fire to the station, after being denied arrangements to stay overnight at the station. NF Railway Area Manager Parthasarathi Shil said over one lakh examinees from Bihar had arrived in Siliguri on Saturday to appear for the examinations for the Group-D posts conducted by the West Bengal government at various centres in north Bengal. They were on their way back home from New Jalpaiguri junction. However, no trains were available for the return journey Saturday, Shil said.
Examinees approached the station master on Saturday night and demanded arrangements for them to stay overnight
...
more...
at the station. However, they were allegedly chased away by the RPF, sources said. Agitated candidates went on rampage the following morning. They ransacked several platforms and the station master’s office, burnt tyres on the tracks, held up the Awadh-Assam express and damaged its engine and two AC coaches and tried to set fire to the station, Shil said.
The RPF together with the NJP police brought the situation under control. Several passengers, however, sustained injuries, the sources said. Shil said the damage to railway property was estimated at Rs one crore. The RPF has lodged an FIR against the agitators. Several superfast and long distance trains were held up as a result. These included Awadh-Assam express and Sealdah-Kamakhya express, sources said.
Agitation subdued at around 11 am Sunday after the Railways made arrangements for a special train to transport the examinees to Bihar, Shil said. Meanwhile, NJP Railway Passengers Welfare Committee President Dipak Mohanty alleged that the situation would not have taken an ugly turn had proper arrangements been made at the station for the examinees to stay.

  
1116 views
May 22 2017 (07:50)
Rail Fanning~   2641 blog posts
Re# 2286956-1            Tags   Past Edits
It was mentioned that damage to railway property was estimated to be Rs. 1 crore and the RPF had lodged an FIR against the agitators.
What is the point of FIR when the candidates have all gone back to the home state ? In the whole bargain, railways has lost so much money through damage to its property. It is quite sad to see people having no care whatsoever and consider everything as their own property !

  
1037 views
May 22 2017 (08:16)
S V Iyer*^~   13623 blog posts   12348 correct pred (64% accurate)
Re# 2286956-2            Tags   Past Edits
If this is how the recruits are to be then IR doesnt need auvh staff. Jinke naam pe FIR farj hua hai..seedha reject kar daalo.
Reason: Inappropriate behaviour.
  
May 22 2017 (07:44)  55 मिनट विलंब से चली थी एलटीटी एक्सप्रेस (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/Disruptions

News Entry# 303220     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (07:44)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

May 22 2017 (07:44)
Train Tag: Lucknow - Mumbai LTT AC SF Express/22122 added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
प्रतापगढ़ इंटरसिटी व शटल आज निरस्त 1प्रतापगढ़ : उन्नाव रेल दुर्घटना के कारण प्रतापगढ़ आने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस व शटल ट्रेन को रविवार को निरस्त कर दिया गया। ऐसे में सोमवार को इंटरसिटी कानपुर और शटल ट्रेन लखनऊ नहीं जाएगी। नई दिल्ली से पुरी जाने वाली नीलांचल को बदले रूट कानपुर से वाया इलाहाबाद चलाया गया।1एटीएस टीम छानबीन में जुटी1लखनऊ : मुंबई से लखनऊ आ रही लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस के उन्नाव में पटरी से उतर जाने के वजहों की छानबीन एटीएस टीम कर रही है। पुलिस मुख्यालय ने इस घटना में किसी भी यात्री के घायल न होने का दावा किया है।
Click here to enlarge image
जागरण
...
more...
संवाददाता, उन्नाव : दोपहर में कानपुर से लगभग 55 मिनट विलंब से यह ट्रेन लखनऊ के लिए चली थी। गंगाघाट, मगरवारा रेलवे स्टेशन से रनथ्रू निकलने के बाद उन्नाव पश्चिमी केबिन के पहले सिग्नल न मिलने से रफ्तार धीमी हो गई। इसी बीच सिग्नल मिला तो लोको पायलट 30 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से उन्नाव स्टेशन की तरफ बढ़ा। 1इंजन के पीछे लगे लगेज यान व कोच बी-1 प्लेटफार्म के अंतिम छोर पर पहुंचने वाले ही थे तभी अचानक तेज धमाके की आवाज के साथ ट्रेन के लहराने से यात्री सहम गए। कुछ गड़बड़ होने के अंदेशे से लोको पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक लिया लेकिन तब तक इंजन और उसके पीछे के दो कोच को छोड़ पीछे की 11 बोगियां पटरी से उतरकर प्लेटफार्म की दीवार से टकराते हुए उसी पर टिक गईं। हादसे को देखकर दूसरी ट्रेनों की प्रतीक्षा में खड़े यात्रियों में भगदड़ मच गई। 1इधर ट्रेन में रुकते ही उस पर सवार यात्री भी बाहर की तरफ भागे और कुछ ही मिनट में पूरी ट्रेन खाली हो गई। काफी देर तक अफरा-तफरी की स्थिति रही। कुछ ही देर बाद राहत कार्य शुरू हुआ। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी तथा एडीआरएम एसके सपरा ने मौके पर पहुंचकर जानकारी ली। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ नीरज शर्मा ने बताया कि ट्रैक मेंटीनेंस के दौरान ट्रेन को कॉशन देकर निकाला जाना चाहिए था। ऐसा क्यों नहीं किया गया है, इसकी जांच के आदेश दे दिए गए हैं। ट्रैक बहाल करने को टीमें लगी हैं।1उन्नाव में लोकमान्य तिलक टर्मिनल ट्रेन डिरेल होने के बाद कुछ इस तरह से तोड़ा प्लेटफार्म।
  
May 22 2017 (07:42)  एसी में कूलिंग कम ट्रेन आधा घंटा लेट (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 303219     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (07:42)
Station Tag: Allahabad Junction/ALD added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जासं, इलाहाबाद : गोरखपुर से मुंबई जाने वाली गोरखपुर-लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस (15018) में एसी के कूलिंग कम करने पर ट्रेन 30 मिनट तक इलाहाबाद जंक्शन पर खड़ी रही। ट्रेन करीब दो घंटे लेट प्लेट प्लेटफार्म नंबर नौ पर शाम को 6.23 मिनट पर पहुंची। ट्रेन पहुंचने पर रेलवे की तकनीकी टीम ने एस को चेक किया। वह कूलिंग कम कर रहा था। ट्रेन का ठहराव आधे घंटे था। एसी ठीक करने के कारण ट्रेन आधा घंटे अतिरिक्त स्टेशन पर खड़ी रही। 7.25 मिनट पर ट्रेन अपने गंतव्य के लिए रवाना होगी।1मुर्गा-मीट की अवैध दुकान की शिकायत: पूरा मनोहरदास, अकबरपुर में रहने वाली राहिला बेगम ने पुलिस अधिकारियों और नगर आयुक्त को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत की है कि उनके मकान की एक दुकान में अवैध रूप से मुर्गा और मीट की बिक्री की जा रही है। इससे किसी भी दिन हंगामा हो सकता है। गयासुद्दीन की प}ी राहिला का कहना है...
more...
कि मुर्गे का कटा हुआ मांस फेंके जाने से घर के सभी लोग बीमार हो रहे हैं। राहिला का आरोप है कि काजी सरवत हुसैन से दुकान हटाने को कहा गया तो वह धमकी दे रहा है।1पांच से चलेगी कार्यशाला : प्रयाग संगीत समिति में ग्रीष्मकालीन कार्यशाला पांच जून से शुरू होगी।जासं, इलाहाबाद : गोरखपुर से मुंबई जाने वाली गोरखपुर-लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस (15018) में एसी के कूलिंग कम करने पर ट्रेन 30 मिनट तक इलाहाबाद जंक्शन पर खड़ी रही। ट्रेन करीब दो घंटे लेट प्लेट प्लेटफार्म नंबर नौ पर शाम को 6.23 मिनट पर पहुंची। ट्रेन पहुंचने पर रेलवे की तकनीकी टीम ने एस को चेक किया। वह कूलिंग कम कर रहा था। ट्रेन का ठहराव आधे घंटे था। एसी ठीक करने के कारण ट्रेन आधा घंटे अतिरिक्त स्टेशन पर खड़ी रही। 7.25 मिनट पर ट्रेन अपने गंतव्य के लिए रवाना होगी।1मुर्गा-मीट की अवैध दुकान की शिकायत: पूरा मनोहरदास, अकबरपुर में रहने वाली राहिला बेगम ने पुलिस अधिकारियों और नगर आयुक्त को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत की है कि उनके मकान की एक दुकान में अवैध रूप से मुर्गा और मीट की बिक्री की जा रही है। इससे किसी भी दिन हंगामा हो सकता है। गयासुद्दीन की प}ी राहिला का कहना है कि मुर्गे का कटा हुआ मांस फेंके जाने से घर के सभी लोग बीमार हो रहे हैं। राहिला का आरोप है कि काजी सरवत हुसैन से दुकान हटाने को कहा गया तो वह धमकी दे रहा है।1पांच से चलेगी कार्यशाला : प्रयाग संगीत समिति में ग्रीष्मकालीन कार्यशाला पांच जून से शुरू होगी।
  
May 22 2017 (07:35)  मेगा ब्लॉक के चलते कल कई ट्रेनें होंगी प्रभावित (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 303217     
   Tags   Past Edits
May 22 2017 (07:35)
Station Tag: Babugarh/BBO added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

May 22 2017 (07:35)
Station Tag: Hapur Junction/HPU added by TATA ROU JAT Exp Till Katra As Lauh Shakti Exp😊^~/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जासं, हापुड़ : हापुड़-बाबूगढ़ सेक्शन के पुल संख्या-58 पर गार्डर लगाने का काम मंगलवार को होगा। यह काम पांच घंटे तक बंद रखा जाएगा। रेलवे अफसरों ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। मेगा ब्लॉक (कई घंटे रेलवे मार्ग बाधित रहना) के चलते एक्सप्रेस ट्रेनों का मार्ग बदला जाएगा और कुछ पैसेंजर ट्रेनों को रोककर चलाया जाएगा। ऐसे में यात्रियों को बेहद कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है।1रेल पटरियों पर हो रहे हादसों को रोकने के लिए रेलवे द्वारा पटरियों की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर शुरू कर दिया गया है। इसके अलावा रेलवे के पुलों की भी मरम्मत की जा रही है। इस काम के तहत मंगलवार को मुरादाबाद मंडल के हापुड़-बाबूगढ़ सेक्शन के बीच स्थित पुल संख्या-58 पर गार्डर लगाने का काम किया जाएगा। इस काम को सफल बनाने के लिए पांच घंटे तक ट्रेनों का संचालन प्रभावित रहेगा। ट्रेनों का संचालन प्रभावित होने के कारण यात्रियों को...
more...
परेशानी का सामना भी करना पड़ेगा। 1पांच घंटे मार्ग बंद होने के कारण काठगोदाम से चलकर दिल्ली की ओर जाने वाली उत्तर संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को मुरादाबाद से वाया टपरी के रास्ते गाजियाबाद भेजा जाएगा। इसके अलावा मुरादाबाद-दिल्ली पैसेंजर को भी करीब आधा घंटा तक मुरादाबाद और गढ़मुक्तेश्वर के बीच रोककर चलाया जाएगा। ऐसे में इन ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को कठिनाई हो सकती है। इसके अलावा इंटरसिटी एक्सप्रेस, फैजाबाद एक्सप्रेस, शहीद एक्सप्रेस को थोड़ी देर के लिए मुरादाबाद से हापुड़ के बीच रोककर चलाया जाएगा। स्टेशन अधीक्षक एमआर मीणा ने बताया कि शनिवार को भी पुल संख्या-58 पर मेगा ब्लॉक लिया गया था। इसके चलते अवध-असम एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन किया गया।जासं, हापुड़ : हापुड़-बाबूगढ़ सेक्शन के पुल संख्या-58 पर गार्डर लगाने का काम मंगलवार को होगा। यह काम पांच घंटे तक बंद रखा जाएगा। रेलवे अफसरों ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। मेगा ब्लॉक (कई घंटे रेलवे मार्ग बाधित रहना) के चलते एक्सप्रेस ट्रेनों का मार्ग बदला जाएगा और कुछ पैसेंजर ट्रेनों को रोककर चलाया जाएगा। ऐसे में यात्रियों को बेहद कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है।1रेल पटरियों पर हो रहे हादसों को रोकने के लिए रेलवे द्वारा पटरियों की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर शुरू कर दिया गया है। इसके अलावा रेलवे के पुलों की भी मरम्मत की जा रही है। इस काम के तहत मंगलवार को मुरादाबाद मंडल के हापुड़-बाबूगढ़ सेक्शन के बीच स्थित पुल संख्या-58 पर गार्डर लगाने का काम किया जाएगा। इस काम को सफल बनाने के लिए पांच घंटे तक ट्रेनों का संचालन प्रभावित रहेगा। ट्रेनों का संचालन प्रभावित होने के कारण यात्रियों को परेशानी का सामना भी करना पड़ेगा। 1पांच घंटे मार्ग बंद होने के कारण काठगोदाम से चलकर दिल्ली की ओर जाने वाली उत्तर संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को मुरादाबाद से वाया टपरी के रास्ते गाजियाबाद भेजा जाएगा। इसके अलावा मुरादाबाद-दिल्ली पैसेंजर को भी करीब आधा घंटा तक मुरादाबाद और गढ़मुक्तेश्वर के बीच रोककर चलाया जाएगा। ऐसे में इन ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को कठिनाई हो सकती है। इसके अलावा इंटरसिटी एक्सप्रेस, फैजाबाद एक्सप्रेस, शहीद एक्सप्रेस को थोड़ी देर के लिए मुरादाबाद से हापुड़ के बीच रोककर चलाया जाएगा। स्टेशन अधीक्षक एमआर मीणा ने बताया कि शनिवार को भी पुल संख्या-58 पर मेगा ब्लॉक लिया गया था। इसके चलते अवध-असम एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन किया गया।
  
May 22 2017 (07:22)  Assam: Two derailments, 1 shutdown after Railways ignored safety warning (indianexpress.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNFR/Northeast Frontier  -  

News Entry# 303212   Blog Entry# 2287548     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: rdb*^  129327 news posts
Assam line in operation after corrective steps taken: Railways
WARNING OF “catastrophic disaster”, the Commissioner of Railway Safety (CRS) concluded in the middle of 2015 that the Lumding-Silchar broad-gauge link in Assam, a key arterial track in the Northeast, posed a “danger to travelling public”.
This was the first red flag. Documents examined by The Indian Express show that at least three other senior Railway officials cited the safety warning to raise objections over the line. But the Railway Ministry opened the line to passenger trains in November that year. Just four months
...
more...
later, the line had to be shut for three months following two back-to-back derailments of passenger trains amid landslides and rainfall — there were no casualties.
The line was re-opened in August 2016, after some corrective measures were taken, and the track has been in operation since then.
When contacted, H K Jaggi, general manager, Northeast Frontier Railway Construction Organisation (NFRCO), which built the line, said, “There were derailments due to slippage in the ghat section, which is common. The line has been functioning without any incident for over a year now. Now we have identified 14 locations for patrolling… instrumentation in many places has also been done.”
The link has 79 major and 340 minor bridges, and 21 tunnels. In his report, submitted in July 2015, S Nayak, the CRS, wrote: “Having inspected the Broad Gauge line…and having various technical discussions with Railway officials including detailed correspondences made with Railway Administration, I am of the opinion that the newly converted BG single line between New Haflong-Ditokcherra-Badarpur-Silchar can’t be opened for passenger traffic without danger to travelling public…”
The clearance by CRS, a statutory safety regulator under the Civil Aviation Ministry, is mandatory for opening any line for passenger operations.
On April 19, 2016, eight months after the CRS report, the Chief Bridge Engineer shut the line for two days for passenger trains, citing safety issues. On April 23, the Poorvottar Sampark Kranti Express from New Delhi to Silchar derailed between Ditokcherra and Banderkhal. On April 26, the train, on its return leg, derailed between Mahur and Phiding.
The 210-km section provides subsequent connectivity to Manipur on one side and Mizoram on the other. Lumding and Silchar were originally connected by a metre gauge line. The broad gauge project started around 1997, as part of a Rs 3,500-crore National Project. However, around 52 km of the new line was diverted through a geologically challenging stretch in the hills of the Indo-Burma range.
Stressing that any corrective measure would only bring “limited relief”, Nayak’s report stated: “The stability of the formation, tunnels, bridges, need to be holistically reviewed by a team of experts in geo-technology and structural engineering both in-house and from outside to formulate Action Plan for immediate short term and long term satisfactory performance… any failure in the critical section [New Haflong-Ditokcherra hill section] has potential for a catastrophic disaster, Railway Administration is urged to consider every possible risk and systematically address its mitigation.”
Following the CRS verdict, the NFRCO sent a letter to the Railway Board claiming that Nayak’s observations had been complied with. But this letter, sent within a week after the CRS report was received, did not include the consent of two key officials concerned — the Chief Bridge Engineer and the Chief Track Engineer.
On July 29, 2015, records show, the Railway Board sanctioned the opening of the line by “condoning” some of the relatively minor issues flagged by the CRS, such as non-standard length of sleeper and non-provision of “catch-siding and slip siding”.
Then came the second and third red flags. The then general manager of Northeast Frontier Railway, R S Virdi, refused to open the line stating that the CRS stipulations had not been fully complied with. R K Gupta, who succeeded Virdi, refused to move on the line, too, citing the same reason.
Following Gupta’s departure in October, the line was opened after a safety certificate was obtained from the new zonal general manager, based on a report from the NFRCO, which asserted that stipulations laid down by the CRS had been complied with.
However, within a few months, a fourth red flag came up, this time from the Chief Bridge Engineer of the Northeast Frontier Railway, Alok Kumar Verma.
In January 2016, in an internal note to the general manager, Verma wrote: “…the conditions for stability are most unfavourable and there is a serious threat to the safety of trains from the instability of the bridges, tunnels and high cuttings/embankments which together comprise 90 per cent of the route length… Unfortunately, geology has been cursorily dealt with in deciding the location and alignment….”
Officials told The Indian Express that the old meter gauge line was on the Meghalaya Plateau, where the tracks had “a solid footing”. Parts of the new “diverted alignment”, between New Haflong and Ditokcherra, is on an area mainly formed of shale, the soft sedimentary rock formed from consolidated mud or clay, they said.
When contacted, V K Gupta, the then Railway Board Member (Engineering), who is credited with completing the gauge conversion, denied that safety issues were overlooked.
“It never happens that the CRS says the line is unsafe and the Railways overrules it. The CRS might make certain observations, but they are complied with following which the lines are opened,” he said.
“The general manager signs the safety certificate and it carries signatures of at least 25 other senior officials of the zonal railways. If point A has to be connected with point B, many things can come in the way, be it folds, be it faults,” said Gupta.
“The area in question sees rainfall for six months during which time there might be landslides and other things. But there is a difference between a line being structurally unsafe and routine maintenance issues. The old meter gauge line used to be shut for months,” he said.
Official sources claimed that the Railway Ministry was “in a hurry” to open the line because the Assam assembly elections were due in April 2016, but Gupta denied this charge. Incidentally, after his retirement from service in 2016, Gupta was appointed as an advisor to Railway Minister Suresh Prabhu.
Speaking to The Indian Express, Aditya Kumar Mittal, who succeeded Gupta as Railway Board Member (Engineering), said, “The matter you are referring to happened much before I took charge, but I can tell you generally that the Himalayas have an unpredictable geology and there can be surprises. But that’s a natural phenomenon everywhere. Now if you see, the line is functional without any problems.”

  
523 views
May 22 2017 (13:38)
a2z~   817 blog posts
Re# 2287548-1            Tags   Past Edits
There can never be any compromise with the quality of work (Construction, Operation as well as maintenance) in IR. Any compromise means accident, loss of lives, breakdown of services, huge financial losses etc.
Lumding-Silchar G/C, Kashmir valley Rly project etc are the burning examples which speak loudly of the losses of undue hurry normally shown to complete projects as soon as possible.
Page#    19519 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site