Disclaimer   
Forum Super Search
 ♦ 
×
HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Search
  Go  
Full Site Search
  Search  
 
Sun Apr 23, 2017 19:47:19 ISTHomeTrainsΣChainsAtlasPNRForumGalleryNewsFAQTripsLoginFeedback
Sun Apr 23, 2017 19:47:19 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
Filters:

Blog Posts by Rajesh Rai
Page#    7 Blog Entries  
  
Rail News
0 Followers
1789 views
Other NewsWCR/West Central  -  
Jun 03 2016 (23:24)   सांसद को फ्लाइट पकड़नी थी, दौड़ा दी स्पेशल ट्रेन,बीना स्टेशन पर एक स्पेशल ट्रेन आई, जिसने 1 घंटे 30 मिनट में उन्हें भोपाल पहुंचा दिया
 

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5483 news posts
Entry# 1879203   News Entry# 269977         Tags   Past Edits
बीना में खड़ी स्पेशल ट्रेन से रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा को भोपाल जाना था। लेकिन वह इस ट्रेन से नहीं गए। चूंकि इस ट्रेन को भोपाल वापस आना ही था, तो सांसद पूनम इसी से आ गईं। यह मात्र एक संयोग था। - रमेश चंद्रा, महाप्रबंधक, पश्चिम-मध्य रेलवे जोन•मंगलवार को एक रेलवे ओवर ब्रिज के उद्‌घाटन कार्यक्रम के लिए मध्य प्रदेश के बीना पहुंची
थीं पूनम महाजन
•प्रोग्राम सात बजे खत्म हुआ। 9:30 पर पूनम की भोपाल से मुंबई की फ्लाइट थी
•बीना
...
more...
स्टेशन पर एक स्पेशल ट्रेन आई, जिसने 1 घंटे 30 मिनट में उन्हें भोपाल पहुंचा दिया•एजेंसियां, भोपाल
महाराष्ट्र से बीजेपी की लोकसभा सांसद पूनम महाजन को समय पर फ्लाइट पकड़ाने के लिए रेलवे ने एक स्पेशल ट्रेन चला दी। पूनम तीन दिन पहले मंगलवार को मध्य प्रदेश के बीना में रेलवे के एक कार्यक्रम में पहुंची थी। यह कार्यक्रम शाम को सात बजे खत्म हुआ।
 वहीं पूनम की फ्लाइट भोपाल से 9:30 बजे थी। बीना से भोपाल की दूरी 139 किलोमीटर है। पूनम की फ्लाइट छूट न जाए इसलिए शाम सात बजे बीना से पूनम को लेकर एक स्पेशल ट्रेन भोपाल रवाना हुई। यह ट्रेन केवल 90 मिनट में भोपाल पहुंच गई। इस ट्रेन को रास्ता देने के लिए रूट की कई रेग्युलर ट्रेनों को विभिन्न स्टेशनों पर रोका गया। रेलवे नियमों के तहत किसी भी सांसद के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रावधान नहीं है। इस मामले पर पश्चिम-मध्य रेलवे जोन के महाप्रबंधक रमेश चंद्रा ने बताया, 'सांसद पूनम (पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रमोद महाजन की बेटी) को नियमों के खिलाफ जाकर कोई वीआईपी सुविधा
नहीं दी गई है।

1 posts are hidden.

  
1059 views
Jun 04 2016 (21:20)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1879203-2            Tags   Past Edits
public ke saath dokha

2 posts are hidden.

  
1952 views
Jun 11 2016 (15:38)
rajeevame~   2352 blog posts   76 correct pred (67% accurate)
Re# 1879203-5            Tags   Past Edits
Public ke saath insaaf hi kab hota hain. Bechara MANGO man.

1 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1242 views
IR Affairs
May 06 2016 (18:21)   रेलवे का फैसला, बड़ा होगा आरक्षित टिकट का साइज
 

Optimus Prime~   384 news posts
Entry# 1836054   News Entry# 267034         Tags   Past Edits
अब पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम के तहत मिलने वाले आरक्षित टिकट 15.6 सेमी लंबा और 9.6 सेमी चौड़ा होगा।
पटना। रेलवे ने अब आरक्षित टिकट के साइज को बढ़ाने का फैसला किया है। यह केवल काउंटर से लिए गए आरक्षित टिकटों पर ही लागू होगा। बढ़े टिकट के आकार पर रेलवे विज्ञापन देगा जो कमाई का एक साधन होगा। विज्ञापन देने वाली कंपनी को ही इस टिकट की छपाई की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। इसे पूरी तरह कलरफुल लुक दिया जा सकता है।
टिकट की साइज बढऩे से यात्रियों को हेल्पलाइन नंबर स्पष्ट
...
more...
नजर आएंगे। अभी इन नंबरों पर विज्ञापन प्रिंट होने के कारण यात्रियों को जानकारी नहीं मिल पाती थी। टिकट के नीचे की तरफ रैंडम नंबर, विंडो नंबर, कैटरिंग शिकायत,इंक्वायरी नंबर व पैसेंजर सिक्योरिटी नंबर होते हैं ताकि यात्री मुसीबत में हो या खानपान की क्वालिटी ठीक नहीं हो तो वह संबंधित नंबर पर डॉयल कर अपनी शिकायत दर्ज कराा सकते हैं। अब पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम के तहत मिलने वाले आरक्षित टिकट 15.6 सेमी लंबा और 9.6 सेमी चौड़ा होगा। वर्तमान में यह 12.7 सेमी लंबा और 7.2 सेमी चौड़ा होता है। पहले से यह 64 फीसदी अधिक बड़ा होगा।
बढ़े हुए स्पेस का उपयोग विज्ञापन से कवर करेगा। इस संबंध में रेलवे बोर्ड की ओर से सभी जोनल मुख्यालय को पत्र भेजकर बढ़े स्पेस का उपयोग विज्ञापन से भरने को कहा है। पीआरएस टिकट के 30 फीसद क्षेत्र में यात्रियों से संबंधित सूचनाएं प्रकाशित होंगी जबकि शेष बचे 70 फीसद स्पेस में विभिन्न कंपनियों का विज्ञापन होगा। इससे रेलवे की आमदनी भी बढ़ेगी। विज्ञापन के लिए जोन मुख्यालयों को स्वतंत्र छोड़ दिया गया है,जिससे राजस्व संग्रह उनके खाते में ही
जाएगा।
रेल यात्रियों के मुताबिक मौजूदा टिकट को ही आकार की वजह से संभालकर रखना आसान नहीं होता। अगर इसका आकार 64 फीसदी ज्यादा होगा तो इसे अपनी जेब या पर्स में संभालकर रख पाना संभव नहीं होगा। यानि नए आकार के टिकट को मोड़तोड़ कर ही रखना होगा। पीआरएस टिकट का साइज बढ़ाने का सबसे बड़ा नुकसान पर्यावरण को होगा। टिकट का साइज बढ़ाने की वजह से टिकट में कागज की खपत करीब 64 फीसदी ज्यादा होगी यानि बड़े आकार के
टिकट के लिए पेपर बनाने के लिए ज्यादा पेड़ काटने होंगे।

2 posts are hidden.

  
1534 views
May 07 2016 (08:47)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1836054-3            Tags   Past Edits
More tree cutting. Khatarnak soch hai towards environmental responsibility.

1 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
2109 views
Commentary/Human Interest
May 06 2016 (01:33)   अब 64% बड़ा होगा आपका रेल टिकट, PRS टिकट साइज बढ़ाने का फैसला
 

Vaibhav Agarwal*^   1403 news posts
Entry# 1834340   News Entry# 266903         Tags   Past Edits
रेलवे ने अब पीआरएस टिकट का साइज बढ़ाने का फैसला लिया है. पीआरएस वो टिकट है जो पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम के तहत आते हैं और इनको स्टेशन और आरक्षण केंद्रों पर जारी किया जाता है.
लंबाई और चौढ़ाई दोनों होंगी बड़ी
नए फैसले के मुताबिक अब पीआरएस टिकट 15.6 सेंटीमीटर लंबा और 9.6 सेंटीमीटर चौड़ा होगा. मौजूदा पीआरएस टिकट की लंबाई 12.7 सेंटीमीटर और चौड़ाई 7.2 सेंटीमीटर होती है. इसका सीधा सा मतलब ये हुआ कि अब रेलवे के पीआरएस टिकट का साइज 64 फीसदी ज्यादा होगा.
बढ़े
...
more...
हुए स्पेस पर होगा विज्ञापन
भारतीय रेलवे ने पीआरएस टिकट का साइज बढ़ाने का फैसला इसलिए नहीं लिया है कि इससे यात्रियों को कोई सुविधा होगी. बल्कि ये फैसला इसलिए लिया गया है कि इससे बढ़े हुए आकार पर विज्ञापन छापकर पैसे कमाए जा सकें. रेलवे बोर्ड ने जोनल रेलवे को भेजे गए अपने आदेश में कहा है कि बड़े आकार के टिकट पर यात्री के टिकट के डिटेल पहले की तरह ही रहेगी लेकिन बाकी बचे स्पेस में जोनल रेलवे अलग-अलग विज्ञापन छापकर पैसे कमा सकती हैं.
पीआरएस टिकट के पीछे वाले हिस्से में 30 फीसदी जगह पर यात्रियों के लिए निर्देश छापे जाएंगे तो वहीं 70 फीसदी जगह पर विज्ञापन छापे जाएंगे. कुल मिलाकर रेलवे ने अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए पीआरएस टिकट का साइज बढ़ा दिया है.
यात्रियों को हो सकती है असुविधा
रेलवे ने भले ही अपनी आमदनी बढ़ाने के इरादे से पीआरएस टिकट का साइज बढ़ा दिया हो लेकिन बड़े आकार के टिकट को संभालकर जेब रखना आसान नहीं होगा. रेल यात्रियों के मुताबिक मौजूदा टिकट को ही आकार की वजह से संभालकर रख पाना आसान नहीं होता है, ऐसे में अगर इसका आकार 64 फीसदी ज्यादा होगा तो इसको अपनी जेब या पर्स में संभालकर रख पाना संभव नहीं होगा. यानी नए आकार के टिकट को मोड़तोड़ कर ही रखना होगा.
ज्यादा कागज यानी काटे जाएंगे ज्यादा पेड़
पीआरएस टिकट का साइज बढ़ाने का दूसरा बड़ा घाटा पर्यावरण का नुकसान है. टिकट का साइज बढ़ाने की वजह से रेलवे टिकट में कागज की खपत तकरीबन 64 फीसदी ज्यादा बढ़ जाएगी. इसका मतलब ये हुआ कि बढ़े हुए आकार के टिकट के लिए पेपर बनाने के लिए धरती पर ज्यादा पेड़ काटे जाएंगे.

2 posts are hidden.

  
1826 views
May 06 2016 (08:38)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1834340-3            Tags   Past Edits
nahi aisa nahi hona chahiye,isse behatar hai ki sms ke dwara diya jaye

3 posts are hidden.
  
रेलवे के इस पीक सीजन में पैसेंजर्स को एक्चुअल से तीन से पांच गुना ज्यादा किराया चुकाना पड़ रहा है। जिस स्लीपर क्लास का नॉर्मल किराया 265 रुपए लगता है, प्रीमियम तत्काल में उसके पांच गुना ज्यादा यानी 1000 रुपए तक चुकाने पड़ सकते हैं। इसी तरह भोपाल एक्सप्रेस में 1500 का एसी टिकट 4500 रुपए में और पुष्पक एक्सप्रेस में 2300 का टिकट 7200 रुपए में यानी तीन गुना कीमत पर मिल रहा है। कई मामलों में तो प्रीमियम तत्काल का टिकट एयर फेयर से भी ज्यादा है। जानिए देश के 7 शहरों से dainikbhaskar.com की रिपोर्ट...
ऐसे पड़ रहा आपकी जेब पर असर
एक
...
more...
उदाहरण से समझें-अगर आप भोपाल से दिल्ली के लिए भोपाल एक्सप्रेस में सोमवार शाम साढ़े चार बजे प्रीमियम तत्काल में टिकट बुक कराने जाते तो किसी भी कैटेगरी में तीन गुना तक किराया देना पड़ता। IInd एसी का टिकट तो आपको सोमवार की एअर इंडिया की फ्लाइट से भी महंगा पड़ता।नीचे की टेबल में देखिए आपकी जेब पर कितना असर डाल रहा है प्रीमियम तत्काल...
क्लास नॉर्मल किराया प्रीमियम तत्काल का किराया (रुपए में) प्रीमियम तत्काल में अवेलेबल सीटें
स्लीपर 395 1153 32
IIIrd AC 1040 2921 5
IInd AC 1480 4456 3
सीटों की संख्या घटने पर ये किराया और बढ़ता जाता है। वहीं एअर इंडिया की सोमवार रात की फ्लाइट से जाने के लिए उन्हें 3679 रुपए ही खर्च करने पड़रहे थे।
(आगे की स्लाइड्स में देखें irctc और air india की वेबसाइट पर कितना था फेयर)
प्रीमियम तत्काल में पैसेंजर्स को कैसे ज्यादा देने पड़े पैसे?
केस : 1
- ग्वालियर के मयंक अग्रवाल कहते हैं- झेलम एक्सप्रेस का ग्वालियर से जम्मू का टिकट 430 रुपए में मिलता है। लेकिन तत्काल प्रीमियम में मुझे तीन गुना रेट देने पड़े। रेलवे को कम से कम स्लीपर क्लास के पैसेंजर्स को तत्काल प्रीमियम के दायरे से बाहर रखना चाहिए।
केस : 2
- लखनऊ-मुंबई पुष्पक एक्सप्रेस में अगर नॉर्मल स्लीपर का किराया 605 रुपए है तो प्रीमियम तत्काल में यह 1855 रुपए में मिल रहा है। इसी ट्रेन में सेकेंड एसी का नॉर्मल किराया अगर 2310 रुपए है तो प्रीमियम तत्काल में इसके रेट 7200 रुपए तक जा रहे हैं।
- इसी तरह गोरखपुर से लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस में 2540 रुपए का सेकेंड एसी का टिकट 5500 रुपए में मिल रहा है।
- हुसैन गंज के रहने वाले पीके सक्सेना का कहना है कि रेलवे लोगों की मजबूरियों का फायदा उठाकर पैसा वसूल रहा है जबकि सुविधा के नाम पर जीरो है। प्रीमियम तत्काल के बहाने रेलवे सीटों को बचाकर रख लेता है।
केस : 3
- पैसेंजर सर्वेश शर्मा बताते हैं- मुझे अर्जेंट में ग्वालियर से भोपाल जाना था। तमिलनाड़ु एक्सप्रेस में सीट नहीं मिली। लेकिन तत्काल प्रीमियम में 265 रुपए का टिकट 1000 रुपए से ज्यादा के रेट पर मिला। यानी पांच गुना ज्यादा।
केस : 4
- रांची के इम्प्लॉयमेंट ऑफिस में काम करने वाले सतीश श्रीवास्तव बताते हैं, ''रेल से सफर करने में वेटिंग लिस्ट बड़ी प्रॉब्लम है। इस कारण अर्जेन्ट जर्नी करने वालों को या तो तत्काल प्रीमियम में बढ़ा हुआ फेयर देना पड़ता है या फिर एजेंटों की मनमानी चलती है।''
केस : 5
- इंदौर के पैसेंजर महेश पुरोहित के मुताबिक, मैंने दिल्ली का टिकट इंदौर से ट्रेन छूटने के 4 घंटे पहले प्रीमियम तत्काल में करवाया था। इसका किराया मुझे पांच गुना यानी 425 रुपए की बजाय 2050 रुपए में लेना पड़ा।
केस : 6
- रघुवीर सिंह को 29 अप्रैल को रायपुर से वाराणसी जाना था। ट्रेन में तत्काल कोटे की सीटें फुल हो चुकी थीं, इस वजह से उन्हें प्रीमियम तत्काल कोटे में टिकट लेनी पड़ी। टिकट उन्हें 1850 रुपए की पड़ी, जबकि रायपुर से वाराणसी का नार्मल किराया 415 रुपए ही है।
क्या है प्रीमियम तत्काल?
- डायनामिक फेयर प्राइसिंग पॉलिसी के तहत प्रीमियम तत्काल कोटा अक्टूबर 2014 में शुरू किया गया था।
- यह टिकट ट्रेन का चार्ट बनने से पहले तक बुक कराया जा सकता है।
- यह सिर्फ ऑनलाइन बुक होता है। इसके कैंसलेशन पर रिफंड नहीं मिलता।
- नॉर्मल तत्काल में स्लीपर किराए पर दूरी के हिसाब से 90 से 175 रुपए ज्यादा लगते हैं। IIIrd AC में इसका चार्ज 250 से 300 रुपए और IInd AC में ये नॉर्मल किराए का 300 से 400 रुपए ज्यादा होता है।
- प्रीमियम तत्काल के रेट कम होती सीटों के हिसाब से बढ़ जाते हैं। लिहाजा दो से पांच गुना तक ज्यादा चार्ज देना पड़ता है।
- कम होती सीटों के साथ 20-20% रेट बढ़ता जाता है।

1 posts are hidden.

  
916 views
May 03 2016 (13:11)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1830597-2            Tags   Past Edits
premium tatkal ke naam per railway loot raha hai passeger ko..

  
905 views
May 03 2016 (13:12)
Vote for Durg HumSafar Vs BSP Rajdhani^~   80550 blog posts   5096 correct pred (78% accurate)
Re# 1830597-3            Tags   Past Edits
meri hi line copy + paste ?

28 posts are hidden.
  
★  Rail News
0 Followers
3177 views
Rail BudgetECoR/East Coast  -  
Feb 05 2016 (11:08)   Naveen Seeks Nod for Rail Plans of Backward Regions
 

SER Antyodaya Era^~   9 news posts
Entry# 1730214   News Entry# 256143         Tags   Past Edits
Stating that a large part of Odisha still remained untouched by the Railways, Chief Minister Naveen Patnaik on Thursday demanded that these backward regions should be connected with the national network by sanctioning projects proposed by the State Government.
In a letter to Railway Minister Suresh Prabhu, the Chief Minister said two most important lines to connect the backward regions of Odisha are Jeypore-Malkangiri (going up to Bhadrachalam in Andhra Pradesh) and Jeypore-Nabarangpur.
The preliminary survey for these two lines had been done by the Railways and as these fall in Left Wing
...
more...
Extremist-affected backward and tribal areas, the rate of return was low. The State Government has given consent to bear 25 per cent of construction cost for Jeypore-Malkangiri line and 50 per cent construction cost along with free land for Jeypore-Nabarangpur line.
This contribution bridges the viability gap of both the projects as the revised RoR has increased to 17 per cent and 19 per cent respectively, which are higher than 14 per cent cut off fixed by the Railway Ministry, he said and requested Prabhu to sanction the projects.
The Chief Minister demanded that the Sambalpur-Berhampur new line via Phulbani and Rayagada-Gopalpur rail link for which survey has been sanctioned should be declared as national projects. He requested the Railway Minister to extend the eastern dedicated freight corridor from Dankuni to Berhampur to ensure seamless movement of freight between the upcoming ports on Odisha coast including the Paradip Port and the vast northern and central hinterlands of the country.
Naveen also requested that Rail Vikash Nigam Limited (RVNL) should be asked to complete the Angul-Dubri-Sukinda and Haridaspur-Paradip rail links within the targeted timelines. Though SPVs have been formed for the two projects, the performance of RVNL is far from satisfactory, he said.
The Chief Minister said Mass Rapid Transit System (MRTS) should be introduced in Cuttack and Bhubaneswar, which are being developed as a Twin City and as per the comprehensive development plan (CDP) prepared by IIT, Kharagpur, the population will cross 2.7 million by 2021.
He said growth in different geographic areas of the State now called for a reorganisation of administrative structure of East Coast Railway (ECoR). He requested the Railway Minister to establish new divisional headquarters at Rayagada, Jajpur-Keonjhar Road and Rourkela by extending the jurisdiction of ECoR to include Banspani-Padapahar section, Bhadrak-Lakhmanath section in Khurda road division and Jharsuguda-Barsuan-Kiriburu, Rourkela-Nuagaon and Jharsuguda-Himagiri section in Sambalpur division.
The Chief Minister reiterated the demand of the State for a package of `5000 crore in the Railway Budget 2016-17.

27 posts are hidden.

  
704 views
Feb 05 2016 (18:23)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1730214-28            Tags   Past Edits
What's crime in asking for it. Many zones are state based zones

  
1012 views
Feb 05 2016 (19:00)
SER Antyodaya Era^~   6591 blog posts   7884 correct pred (74% accurate)
Re# 1730214-29            Tags   Past Edits
That's right. I also agree with you. Like Gujarat is completely in WR zone. Kerela is completely in SR. Odisha can also be fully under ECoR.

4 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
2232 views
New Facilities/Technology
Feb 05 2016 (10:35)   IRCTC New Rule Will be In Effect from 15th Feb 2016
 

🚇Admin Proud Indian 🚅🚃🚃🚃🚃🚃   91 news posts
Entry# 1730343   News Entry# 256140         Tags   Past Edits
As you can see IRCTC is trying their level best to challenge the motives of agents trying to sell tickets on much higher margin. They have now introduced a new rule that will limit the users to book number of tickets per month.

4 posts are hidden.

  
818 views
Feb 05 2016 (18:24)
Rajesh Rai   7 blog posts
Re# 1730343-5            Tags   Past Edits
i cant understand why irctc flowing crocodile tears, if he really wants to control over agents booking then he may do one thing. in personal irctc id while booking, first name of the passenger should come as id holders name by default. so that all fake ids created will automatically become useless. further creating a new id should require at least 4 hour to acitave. i suggest irctc to try this formula

4 posts are hidden.
  
General Travel
0 Followers
413 views
Mar 10 2015 (18:00)  
 

Rajesh Rai   7 blog posts
Entry# 1392546            Tags   Past Edits
8455347125 Date of Journey: Fri Apr 24, 2015 Class: Sleeper - SL (Total Seats available for this Class/Quota: Avbl 80)
Latest Status as of: Today (5:59PM)
Passenger 1: Waitlist# 7 (Booking Status: W/L 16,PQWL)
Page#    7 Blog Entries  

ARP (Advanced Reservation Period) Calculator

Reservations Open Today @ 8am for:
Trains with ARP 10 Dep on: Wed May 3
Trains with ARP 15 Dep on: Mon May 8
Trains with ARP 30 Dep on: Tue May 23
Trains with ARP 120 Dep on: Mon Aug 21

  
  

Rail News

New Trains

Site Announcements

  • Entry# 2175399
    Feb 23 2017 (01:22PM)


    There has recently been a lot of frustration among RFs when their Station Pics, Loco Pics, Train Pics get rejected because the "number is not showing", "shed is not visible", the loco/train is at a distance, Train Board is too small, "better pic available", etc. . To address this issue, effective tomorrow, ALL...
  • Entry# 2165159
    Feb 15 2017 (09:53AM)


    A minor update, but may impact many members: Hereafter, FMs will be able to delete invalid Red Flags on Imaginary trains. Red Flags can be removed by FMs, only against specific complaints filed against the blog. This does not give all members the right to complain against EVERY single red flag they...
  • Entry# 2155798
    Feb 08 2017 (11:40AM)


    -@all members: As of recently, there has been a trend whereby minor name updates of Trains/Stations - whether such and such regional name should be there or not, whether the train should be called "Abc Express" or "Abc Superfast Express", etc. are threatening to take over the majority of Timeline entries. Also,...
  • Entry# 2147631
    Feb 01 2017 (11:05AM)


    A new experimental feature is being introduced called BotD - "Blog of the Day". The rules are: . 1. Replies are not eligible - only the Top Blog. 2. ONLY Blogs posted today (the day of the vote) are eligible. 3. Every member has ONE vote. In the course of the day, you may keep...
  • Entry# 2136570
    Jan 23 2017 (12:25AM)


    Several new features have been introduced recently to the Forum, and we are forever striving to make Member experience here more productive and satisfying. With the recent introduction and success of the new FM System, it has been observed that small groups of highly involved and enthusiastic members are far more...
  • Entry# 2134907
    Jan 21 2017 (02:46PM)


    It has been over 2 weeks since the appointment of the current batch of FMs and 750 Complaints have been handled so far. It gives me immense pleasure in congratulating them for running the team diligently, professionally, competently and above all, without a shred of controversy or bias. The FM position...
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Mobile site