Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

इस मंज़िल पर मिलने वाले, उस मंज़िल पर दोस्त बन जाते हैं

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Nov 27 11:58:44 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

BPHB/Bhilai Power House (3 PFs)
     भिलाई पावर हाउस

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
Garage Road, Sector 1, Bhilai
State: Chhattisgarh

Elevation: 311 m above sea level
Zone: SECR/South East Central   Division: Raipur

No Recent News for BPHB/Bhilai Power House
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 109
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 3.9/5 (71 votes)
cleanliness - excellent (9)
porters/escalators - good (9)
food - good (9)
transportation - good (9)
lodging - good (8)
railfanning - good (9)
sightseeing - good (9)
safety - good (9)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 61 News Items  next>>
Nov 03 (11:51) Bhilai पावर हाउस रेलवे प्लेटफार्म में तरस रहे मुसाफिर गरमा-गरम नाश्ता को (www.patrika.com)
Commentary/Human Interest
SECR/South East Central
0 Followers
3123 views

News Entry# 469129  Blog Entry# 5111270   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Stations:  Bhilai Power House/BPHB  
भिलाई. ट्रेन में सफर करने वाले मुसाफिरों को पावर हाउस रेलवे प्लेटफार्म में नास्ता के लिए तरस जाना पड़ता है। कोरोना महामारी के बाद से ही यात्री पावर हाउस रेलवे स्टेशन में ट्रेन खड़ी होते साथ ही उतरकर गरमा-गरम नाश्ता तलाशने के बाद निराश होकर लौट जाते हैं। यहां अब दूथ के आयटम मिलना शुरू हो रहा है। यात्री चाहते हैं कि स्टेशन में कम से कम चाय और नाश्ता मिलना चाहिए। जिससे ट्रेन का इंतजार करने वाले और ट्रेन खड़ी होने पर मुसाफिरों को इसका फायदा मिले।लोकल और स्पेशल एक्सप्रेस दौड़ रही पावर हाउस रेलवे स्टेशन में हर दिन करीब आधा दर्जन से अधिक लोकल दुर्ग और रायपुर के मध्य दौडऩे के दौरान यहां ठहरती है। इसके अलावा 17 से अधिक स्पेशल ट्रेन भी यहां रुकती है। जिसमें आने व जाने वाली दुर्ग-पुरी, अहमदाबाद-पुरी, जयपुर पुरी, इंटरसिटी समेत अन्य एक्सप्रेस शामिल हैं।स्टेशन के बाहर मिलता है नाश्ता और भोजन पावर...
more...
हाउस रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-एक और दो दोनों में ही कम से कम दो-दो कैंटीन की जरूरत है। स्टेशन में मुसाफिरों को नाश्ता, चाय, पानी, चाकलेट के लिए प्लेटफार्म से बाहर जाना पड़ता है। जिससे ट्रेन के छूट जाने का डर बना रहता है। यह चीजें प्लेटफार्म के भीतर ही मिल जाए तो मुसाफिरों के लिए राहत हो। पावर हाउस रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक-एक से बाहर निकलने पर नाश्ता के साथ-साथ भोजन भी मिलता है। मुसाफिर चाहते हैं कि चाय-नाश्ता और भोजन उनको सीट तक लाकर दिया जाए। अकेले सफर करने वाले स्टेशन में उतरना पसंद नहीं करते। इससे उनके सामान के चोरी होने की आशंका बनी रहती है।लंबे समय से की जा रही मांग कोरोना महामारी के बाद पावर हाउस रेलवे स्टेशन के दोनों ही प्लेटफार्म में अब मुसाफिरों को नाश्ता मिले। लंबे समय से यह मांग की जा रही है। हर दिन पावर हाउस रेलवे स्टेशन से करीब पांच हजार मुसाफिर विभिन्न ट्रेनों में सफर के लिए चढ़ते हैं।हर दिन बिक रही 1.5 लाख की टिकट पावर हाउस रेलवे स्टेशन से हर दिन करीब 1.5 लाख रुपए टिकट बिकती है। यहां से हजारों मुसाफिर सफर करते हैं। जिनके लिए अब तक रेलवे ने चाय, नाश्ता का इंतजाम नहीं है। रेलवे स्टेशन में नई कैंटीन शुरू हो जाए तो लंबी दूरी तक सफर करने वालों को राहत मिल जाए।
Sep 20 (06:50) पावर हाउस रेलवे स्टेशन से भिलाई नगर रेलवे स्टेशन तक सड़क गायब (www.naidunia.com)
Other News
SECR/South East Central
0 Followers
6201 views

News Entry# 465269  Blog Entry# 5070456   
  Past Edits
Sep 20 2021 (06:50)
Station Tag: Bhilai Power House/BPHB added by Adittyaa Sharma/1421836

Sep 20 2021 (06:50)
Station Tag: Bhilai/BIA added by Adittyaa Sharma/1421836
Stations:  Bhilai Power House/BPHB   Bhilai/BIA  
भिलाई । शहर की हर सड़क जाम है। सड़क बड़ी परेशानी बन चुकी है, पर प्रशासनिक लापरवाही देखिए, जो सड़क 30 साल पहले बननी शुरू हुई थी, वह आधे अधूरे में ही गायब हो गई। सड़क के अवशेष कहीं-कहीं नजर जरुर आते हैं, पर पावर हाउस स्टेशन से लेकर भिलाई नगर निगम तक रेलवे ट्रेक के समानांतर जाने वाली यह सड़क लगभग गायब हो चुकी है।
बता दें कि साडा कार्यकाल में इस सड़क की योजना बनी थी। जीई रोड़ पर बढ़ते यातायात के दबाव को देखते हुए भविष्य की प्लानिंग के तहत इस सड़क का काम शुरू हुआ था। सड़क भिलाई नगर रेलवे स्टेशन से लेकर पावर हाउस रेलवे स्टेशन तक रेलवे ट्रेक के समानंतर बनाया जाना था, कुछ जगहों
...
more...
पर सड़क बन भी चुकी थी। सन् 1989 में तत्कालीन मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन होते ही सड़क का काम भी रुक गया। कलांतर में इस सड़क के ज्यादातर हिस्से पर रसूखदारों का कब्जा हो गया। इस सड़क का अवशेष कहीं कहीं नजर आता है।
बताया जा रहा है कि साडा के मास्टर प्लान के तहत जीई रोड पर यातायात दबाव को कम करने के लिए यह योजना बनी थी। हालांकि उस समय भी जीई रोड पर यातायात का दबाव नहीं था, पर दबाव बढ़ने की संभावना के मद्देनजर रेलवे ट्रेक के समानांतर सड़क का काम शुरू हुआ था। तब भजन सिंह निरंकारी साडा के अध्यक्ष हुआ करते थे। उन्हीं की पहल पर सड़क की योजना बनी थी।
रेलवे ट्रक के समानांतर बनने वाली इस सड़क के अवशेष भिलाई नगर रेलवे स्टेशन के पास स्थित वाहन डिपो, प्रियदर्शनी नगर, सुपेला सर्कस मैदान के पास स्थित बस्ती के सामने, आकाश गंगा व सब्जी मंडी के पीछे तथा शिवनाथ काम्पलेस में कहीं कहीं नजर आते हैं। बाकी जगहों पर पूरी की पूरी सड़क ही गायब हो गई है। सड़क पर बड़ी बड़ी बिल्डिंग बन चुकी है। चंद्रा मौर्या अंडरब्रिज के पास तो सड़क पर बकायदा गेट लगाकर इसे बंद कर दिया गया है। जिसका मामला हाल ही में कांग्रेसजनों ने उठाया है।
रेलवे ट्रेक के समानांतर सड़क को फिर अस्तित्व में लाने के लिए सन् 2018 में कुछ सामाजिक संगठनों ने तत्कालीन आयुक्त केएल चौहान से मांग की थी। उन्होंने इस सड़क की तलाश कर कब्जा मुक्त कराने का आश्वासन दिया था। इसके लिए टीम बनाई गई थी। इस बीच केएल चौहान का तबादला हो गया, और सड़क की तलाश अधूरी रह गई। श्रमिक नेता प्रभुनाथ मिश्रा कहते हैं कि सड़क से पावर हाऊस से भिलाई नगर जाने वालों तथा भिलाई नगर से पावर हाउस आने वालों को बड़ी राहत मिलती, पर साडा के कुछ भ्रष्ट नेताओं व अधिकारियों ने सड़क की सारी जमीनें बेच डाली।
अशोक द्विवेदी, अपर आयुक्त नगर निगम भिलाई ने कहा कि इस संदर्भ में सन 2018 में जानकारी मिली थी। इस सड़क से संबंधित सारी जानकारी भिलाई निगम के अधीक्षण अभियंता यूके धूलेंद्र के पास है। उनसे जानकारी मांगी जाएगी।
Jun 22 (10:38) अब अप-डाउन में राहत:103 दिन बाद 4 जुलाई से पटरी पर लौट रही इंटरसिटी (www.bhaskar.com)
New/Special Trains
SECR/South East Central
0 Followers
24971 views

News Entry# 456869  Blog Entry# 4992090   
  Past Edits
Jun 22 2021 (10:38)
Station Tag: Bhilai Power House/BPHB added by Saurabh®/1294142

Jun 22 2021 (10:38)
Train Tag: Itwari - Bilaspur SF InterCity Special/08258 added by Saurabh®/1294142

Jun 22 2021 (10:38)
Train Tag: Bilaspur - Itwari SF InterCity Special/08257 added by Saurabh®/1294142
बिलासपुर से इतवारी जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस 103 दिन बाद पटरी पर लौटेगी। कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए ट्रेन को 22 मार्च से रद्द कर दिया गया था। अब इसे 4 जुलाई से चलाने का फैसला किया गया है। यह ट्रेन हर दिन चलेगी। इससे नागपुर जाने और वहां से आने वालों को एक सीधी ट्रेन मिल सकेगी। अभी तक लंबी दूरी की ट्रेनें चल रही हैं, इनमें आरक्षण के लिए दिक्कतें होती हैं। साथ ही अधिकांश ट्रेनों की भिलाई पावर हाउस में फिलहाल स्टापेज नहीं है। इन दोनों ट्रेनों के चलने से नागपुर आने-जाने वालों को सुविधा होगी। इसी तरह गेवरारोड से इतवारी तक पैसेंजर ट्रेन 3 जुलाई से चलाई जाएगी।
ट्रेन बिलासपुर से दोपहर 3.50 को निकलेगी। यह ट्रेन
...
more...
शाम 6.35 को दुर्ग पहुंचेगी और पांच मिनट रुकने के बाद अपने गंतव्य की ओर रवाना हो जाएगी। रात 10.55 बजे इतवारी पहुंचेगी। इसी तरह इतवारी से यह ट्रेन सुबह 6.15 को छूटेगी। सुबह 10.25 को यह ट्रेन दुर्ग पहुंचेगी। दो मिनट रुकने के बाद यह भिलाई पावर हाउस के लिए आगे रवाना होगी।
पैसेंजर ट्रेन रात 11.06 बजे पहुंचेगी पावर हाउस
गेवरारोड से इतवारी जाने वाली पैसेंजर ट्रेन 3 जुलाई से और इतवारी से बिलासपुर के लिए 4 जुलाई से पुन: शुरू हो रही है। गेवरा रोड से यह ट्रेन शाम 6.05 बजे निकलेगी। रात 10.56 को भिलाई, रात 11.04 बजे पावर हाउस और रात 11.40 को दुर्ग पहुंचेगी। दूसरे दिन सुबह 4.30 बजे यह ट्रेन इतवारी पहुंचेगी। इसी तरह इतवारी से लौटते समय यह ट्रेन वहां से रात 11.55 बजे बिलासपुर के लिए रवाना होगी।

Rail News
19594 views
Jun 22 (12:17)
Arvind Chaurasiya
Arvind.Chaurasiya^~   2348 blog posts
Re# 4992090-1            Tags   Past Edits
103 din baad kaise?

19836 views
Jun 22 (12:39)
Saurabh®
Saurabhdubey_86^~   26557 blog posts
Re# 4992090-2            Tags   Past Edits
yes, galat likha hai. 400 se jyada din ho gaye.

Rail News
17991 views
Jun 22 (13:17)
NDLS♥️♥️♥️♥️
IMKRS~   1954 blog posts
Re# 4992090-3            Tags   Past Edits
SECR bs start krdiya wahi kaafi h as secr freight p priority bahut jyada deta h
May 10 (12:36) बड़ी उपलब्धि:रेलवे ने फिर उच्च क्षमता वाले रेलपांत की रखी डिमांड, यूआरएम में उत्पादन हुआ शुरू (www.bhaskar.com)
New Facilities/Technology
SECR/South East Central
0 Followers
22256 views

News Entry# 451268  Blog Entry# 4958880   
  Past Edits
May 10 2021 (12:36)
Station Tag: Bhaili/BALI removed by Saurabh®/1294142

May 10 2021 (12:36)
Station Tag: Bhilai Power House/BPHB removed by Saurabh®/1294142

May 10 2021 (12:36)
Station Tag: Bhilai/BIA added by Saurabh®/1294142

May 10 2021 (12:36)
Station Tag: Bhilai Power House/BPHB added by Saurabh®/1294142

May 10 2021 (12:36)
Station Tag: Bhaili/BALI added by Saurabh®/1294142
Stations:  Bhilai/BIA  
भारतीय रेलवे ने बीएसपी से एक बार फिर उच्च क्षमता वाले आर-260 ग्रेड रेल्स की डिमांड रखी है जिसका इस्तेमाल पुराने रेल्स को निकालकर को नए रेल्स बिछाने में किया जाएगा। बीएसपी के यूनिवर्सल रेलवे (यूआरएम) में इस स्पेशल ग्रेड के रेल का उत्पादन भी शुरू हो गया है।
भारतीय रेलवे ने छोटी रेलपांत के साथ-साथ सामान्य रेलपांत का इस्तेमाल अब लगभग बंद ही कर दिया है। अब वह बीएसपी के एक्सक्लूसिव उत्पाद आर-260 ग्रेड के रेल्स का ही इस्तेमाल कर रहा है। बीते वर्ष 30 जून को इस ग्रेड के रेल्स के पहले खेत की सप्लाई खन्ना बंजारी (मध्यप्रदेश) में की गई थी। उसके बाद वित्त वर्ष 2020 21 समाप्त होते तक करीब 12000 टन आर-260 ग्रेड रेल्स की सप्लाई की
...
more...
गई। इस वर्ष भी रेलवे ने बीएसपी के नए ग्रेड के रेल की डिमांड की है। जिसके बाद अप्रैल के दूसरे पखवाड़े से उत्पादन भी शुरू कर दिया गया है। बीएसपी प्रबंधन भारतीय रेलवे की समय-समय पर मिलने वाली डिमांड को समय पर पूरा करने प्रयासरत है।
बीएसपी में उत्पादों की इसलिए भी बढ़ रही डिमांड
जानिए, यूरोपियन नॉर्म्स से भी बेहतर हमारी रेल्सभारतीय रेलवे द्वारा निर्धारित नॉर्मस् के तहत इस विशेष स्टील में हाइड्रोजन की मात्रा 1.6 पीपीएम तक रखना आवश्यक है। जबकि यूरोपियन नॉर्म्स में हाइड्रोजन की मात्रा 2.5 पीपीएम तक रखा जा सकता है। इस कड़े टेक्नीकल स्पेसिफिकेशन को प्राप्त करने स्टील मेकिंग से लेकर रोलिंग प्रक्रिया तक बेहद कड़े प्राचलिक अनुशासन का पालन करना जरूरी है। इस ग्रेड में वेनेडियम एलॉय स्टील की आवश्यकता होती है।
बदल गया यूरोपियन स्टैंडर्ड, क्वालिटी भी बदली गई
रेल्स की क्वालिटी को सर्टिफाई करने यूरोपियन स्टैंडर्ड का पालन किया जाता है। इसमें भी काफी ग्रेड्स होते हैं। बीते साल तक बीएसपी यूरोपियन में स्टैंडर्ड के यूआईसी -60 के तहत यूटीएस-90 ग्रेड की रेल्स सप्लाई कर रहा था। हाल ही में यूरोपियन स्टैंडर्ड में भी बदलाव आया है। अब 60-ई-1 स्टैंडर्ड रेल्स की क्वालिटी का पैमाना हो गया है।
रेल मिल में भी नए ग्रेड का उत्पादन, कर रहे हैं अपग्रेड
भारतीय रेलवे द्वारा बीएसपी के नए ग्रेड आर-260 की बढ़ती डिमांड को देखते हुए प्रबंधन ने उसके उत्पादन बढ़ाने की तैयारी भी शुरू कर दी है। अभी तक इस ग्रेट की रेल्स का उत्पादन यूआरएम में ही हो रहा है। उसकी योजना अब इस ग्रेड के रेल्स का उत्पादन रेल मिल में भी करने की है। इसके लिए रेल मिल में जरूरी अपग्रेड किए जा रहे हैं। इस पर अभी काम जारी है। जल्द अपग्रेड होने के बाद रेल मिल में भी उत्पादन शुरू होगा।
वेनेडियम युक्त एलॉय स्टील से किया जाता है निर्माण
आर-260 ग्रेड रेल्स का निर्माण वेनेडियम युक्त एलॉय स्टील से किया जाता है। जिससे इसे उच्च क्षमता प्रदान की जा सके। आर-260 ग्रेड रेल्स 550 एमपीए का न्यूनतम यील्ड हासिल होता है। इस प्रकार इस ग्रेड के रेल्स से उच्चतम यील्ड क्षमता प्राप्त होती है। इसी प्रकार आर-260 ग्रेड रेल्स के निर्माण के लिए अत्यधिक शुद्ध इस्पात की जरूरत होती है जिसमें कुल ऑक्सीजन की एक निर्धारित मात्रा होना आवश्यक है।
रेलवे ने पिछले साल 10 लाख टन रेल्स की खरीदी की थी
बीते वर्ष भारतीय रेलवे ने बीएसपी से करीब 10 लाख टन रेल्स की खरीदी की थी। जिसमें से करीब साढे 7 लाख टन रेल्स का उत्पादन यूआरएम में किया गया था। बाकी के ढाई लाख टर्न रेल का उत्पादन रेल मिल में हुआ। इस बार भी लगातार उत्पादन किया जा रहा है।
Apr 27 (13:43) यात्रा रद्द करने वालों की संख्या बढ़ी:दुर्ग और पावर हाउस स्टेशन से गुजर रहीं 28 एक्सप्रेस ट्रेनें, 20% यात्री ही कर रहे सफर (www.bhaskar.com)
Commentary/Human Interest
SECR/South East Central
0 Followers
15593 views

News Entry# 449940  Blog Entry# 4948829   
  Past Edits
Apr 27 2021 (13:43)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Saurabh®/1294142

Apr 27 2021 (13:43)
Station Tag: Bhilai Power House/BPHB added by Saurabh®/1294142
दुर्ग और पावर हाउस रेलवे स्टेशन से इन दिनों 28 एक्सप्रेस ट्रेनें गुजर रही हैं। कोविड के कारण इसमें यात्रियों की संख्या में करीब 80 फीसदी कमी आई है। साथ ही यात्रा रद्द करने वालों की संख्या भी बढ़ी है। पिछले सप्ताह दुर्ग से 2223 लोगों ने यात्रा रद्द की है तो पावर हाउस से 3305 लोगों ने। हालांकि इस दौरान पावर हाउस से 2070 लोगों ने और दुर्ग से 1722 लोगों ने रिजर्वेशन कराया है। इसमें सबसे में अधिक यात्रियों की संख्या सारनाथ एक्सप्रेस और साउथ बिहार की है।अफसरों के मुताबिक दुर्ग और पावर हाउस रेलवे स्टेशन से पहले दैनिक यात्री और लंबी दूरी के साथ अन्य यात्रियों को मिलाकर हर दिन लगभग 8 से 10 हजार यात्री सफर करते थे। इन दिनों इनकी संख्या घटकर 2 से साढ़े ढाई हजार के करीब रह गई है। हालांकि बाहर से आने वालों की संख्या सैकड़ों में रह गई है। लोगों के...
more...
लिए यात्रा का एकमात्र साधन होने की वजह से इस निरंतर चलाई जा रही है।यह 28 ट्रेनें दुर्ग और पावर हाउस से गुजर रहींसूरत-पुरी एक्सप्रेस, समता एक्सप्रेस, साउथ बिहार एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, राजधानी एक्सप्रेस, जम्मूतवी एक्सप्रेस, हैदराबाद-रक्सौल एक्सप्रेस, सिकंदाराबाद-दरभंगा एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति, सिकंदराबाद एक्सप्रेस, ओखा-हावड़ा एक्सप्रेस, पोरबंदर-हावड़ा एक्स., लोकमान्य तिलक हावड़ा एक्सप्रेस, गांधीधाम-पुरी एक्सप्रेस, अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस (व्हाया विजयनगरम), अहमदाबाद-पुरी एक्स. (व्हाया संबलपुर), मंबई-हावड़ा एक्सप्रेस, दुर्ग-पुरी एक्स., जनशताब्दी एक्स., पुणे-सांतरागाझी एक्सप्रेस, लोकमान्य तिलक-हटिया एक्सप्रेस, लोकमान्य तिलक-विशाखापटनम एक्सप्रेस, अमरकंटक एक्सप्रेस, सारनाथ एक्सप्रेस, अंबिकापुर एक्सप्रेस, अमहदाबाद-हावड़ा एक्सप्रेस, गीतांजलि एक्सप्रेस, वेनगंगा एक्सप्रेस।
80% खाली चल रही है, फिर भी लोगों के लिए एकमात्र साधन
सीनियर डीसीएम डॉ. विपिन वैष्णव ने बताया कि लॉकडाउन में 80 फीसदी यात्री कम हुए हैं। लॉकडाउन के पहले हर दिन 8 से 10 हजार लोग एक-एक स्टेशन से चढ़ा करते थे। अभी उनकी संख्या दो से ढाई हजार हो गई है। चूंकि लोगों के आने-जाने का एकमात्र साधन ट्रेन ही है। इसे देखते हुए यात्रियों की सुविधा के लिए ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। जरूरतमंद ही इसमें सफर कर रहे हैं।
Page#    Showing 1 to 20 of 61 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy