Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Purulia Express: লালপাহাড়ীর দ‍্যাশে যাবি? চিন্তা কিসের লো? বিকাল বেলা হাওড়া থেকে পুরুল্যা এক্সপেরেস পাবি। - Dip

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Aug 9 14:17:07 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 414038
Jul 13 (15:38) यूपी : नदी उफनाने पर रेलवे पुल से पहले खड़ी हो जाएंगी ट्रेनें (www.livehindustan.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
11104 views

News Entry# 414038  Blog Entry# 4668301   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
बारिश में नदियों का पानी रेलवे पुल पर भरने से होने वाली दुर्घटनाएं अब टाली जा सकेंगी। रेलवे ने प्रयागराज मंडल के 10 प्रमुख नदियों के पुलों पर वाटर लेवल मॉनीटरिंग सिस्टम लगाया है। इसकी इंटेलीजेंस फील्ड डिवाइस 5-5 मिनट के अंतराल पर जलस्तर की रिपोर्ट देगी।रेलवे अफसरों ने बताया कि नदियों के ओवरफ्लो होने पर पानी ट्रैक पर भरता है तो तत्काल मॉनीटरिंग सिस्टम से सिग्नल रेड हो जाएगा। इससे उस ट्रैक से निकलने वाली ट्रेन पहले ही रुक जाएगी।इन पुलों पर लगा सिस्टम
कानपुर में गंगा पुल, प्रयागराज मंडल के यमुना, टोंस और सोन नदी के पुल, आगरा मंडल में यमुना पुल, झांसी मंडल के चंबल, यमुना कालपी, बागिन, यमुना साउथ बैंक और बेतवा नदी के 2 पुल।
इस
...
more...
तरह सिस्टम काम करेगा
जलस्तर मापने का उपकरण (डब्ल्यूएलएमआई) निरंतर अल्ट्रासोनिक तरंगें भेजता है, जो नदी के पानी के ऊपर से लौटती हैं। अल्ट्रासोनिक तरंगों को उपकरण तक वापस आने में लगने वाले समय से जल स्तर की सटीक जानकारी होती। उपकरण इसकी तुलना पूर्व निर्धारित संदर्भित पानी के खतरे के स्तर से करता है। इसके बाद इंटेलीजेंट फील्ड डिवाइस (आईएफडी) के साथ जल स्तर मापने वाला उपकरण संचार करता है। इसके बाद हर पुल के जलस्तर का डाटा केंद्रीय सर्वर तक पहुंचता है। इसमें हर 5 मिनट में जल स्तर की रिकार्डिंग होती है। इसके जरिए ट्रेन संचालन तय होगा। नदियों का पानी ट्रैक के लिए खतरे के निशान से जैसे ही ऊपर जाएगा, वैसे ही सिग्नल रेड हो जाएगा और ट्रेन पुल के पहले खड़ी हो जाएगी।    ब्रिज वाटर लेवल सिस्टम लगने से बारिश में पुलों पर ट्रेन संचालन पूरी तरह से सुरक्षित होगा। चालक को पहले से पता होगा कि पुल के ट्रैक पर कितना पानी है। इससे तय कर सकेगा कि किस गति से ट्रेन निकालनी है या फिर रोकनी है।
- अमित मालवीय, पीआरओ, एनसीआर

Rail News
9588 views
Jul 13 (16:04)
sanjay07   811 blog posts
Re# 4668301-1            Tags   Past Edits
Very Good News - If Implemented

Rail News
2575 views
Jul 19 (10:31)
Abdus
colossal_wreck_^~   7714 blog posts
Re# 4668301-2            Tags   Past Edits
Even in 100 years of connectivity of ALD-NYN via this particular bridge there has never been an instance when water level reached so much so that rail traffic is ever threatened, even road which is 40 fts below is never effected , how however in worst case scenario the road may be closed for safety purpose and in order to drown the rail bridge, the water or flood should have engulfed entire Allahabad

2481 views
Jul 19 (10:35)
Saurabh®
Saurabhdubey_86^~   21074 blog posts
Re# 4668301-3            Tags   Past Edits
Along with nyn bridge (which is at very good height &this mechanism is not needed) 10 different bridge sites also chosen.

1979 views
Jul 19 (13:03)
Abdus
colossal_wreck_^~   7714 blog posts
Re# 4668301-4            Tags   Past Edits
That is exactly what I meant
Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy