Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Howrah Rajdhani - At 50, the Handsome King 👑 is still ruling the tracks superbly. - Somanko

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Oct 22 17:25:48 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Stream
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by 5 Years IRI~

Page#    Showing 1 to 5 of 15 news entries  next>>
  
Oct 10 (10:03) तेजस के बाद अब 50 स्टेशन और 150 ट्रेनों को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में सरकार (www.amarujala.com)
Other News
0 Followers
7697 views

News Entry# 392993  Blog Entry# 4453702   
  Past Edits
Oct 10 2019 (10:03)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by 5 Years IRI~/779488

Oct 10 2019 (10:03)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 5 Years IRI~/779488

Oct 10 2019 (10:03)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by 5 Years IRI~/779488

Oct 10 2019 (10:03)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by 5 Years IRI~/779488

Oct 10 2019 (10:03)
Train Tag: Lucknow Jn. - New Delhi IRCTC Tejas Express/82501 added by 5 Years IRI~/779488
केंद्र सरकार ने 50 रेलवे स्टेशनों और 150 ट्रेनों का निजीकरण करने की प्रक्रिया शुरू कीनीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने रेलवे बोर्ड चेयरमैन को लिखा पत्रकांत ने पत्र में 50 रेलवे स्टेशनों के निजीकरण को भी प्राथमिकता देने की बात कहीकेंद्र सरकार ने देश के रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों के निजीकरण के प्रयास तेज कर दिए हैं। देश की पहली निजी सेमी-हाई स्पीड ट्रेन तेजस को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हरी झंडी दिखा चुके हैं। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने 50 रेलवे स्टेशनों और 150 ट्रेनों का निजीकरण करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। विज्ञापननीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने रेलवे बोर्ड चेयरमैन विनोद कुमार यादव को एक पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने लिखा है, 'जैसा कि आप पहले से जानते हैं कि रेल मंत्रालय ने पैसेंजर ट्रेनों के संचालन के लिए निजी ट्रेन ऑपरेटरों का लाने का फैसला किया...
more...
है और पहले चरण में 150 ट्रेनों को इसके तहत लेने का विचार कर रहा है।'50 रेलवे स्टेशनों के निजीकरण के बारे में कांत ने कहा कि उन्होंने इसे लेकर रेल मंत्री से विस्तार में बातचीत कर चुके हैं और इस मामले को प्राथमिकता देने की जरूरत महसूस की गई। कांत ने कहा कि इन प्रोजेक्ट के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सदस्यों, इंजीनियरिंग रेलवे बोर्ड व सदस्य और ट्रैफिक रेलवे बोर्ड को एक समूह में शामिल होना होगा। 

18 Public Posts - Thu Oct 10, 2019

  
2017 views
Oct 10 (23:09)
5 Years IRI~   410 blog posts   31 correct pred (54% accurate)
Re# 4453702-19            Tags   Past Edits
Agree, along with some loss making trains or routes with low density of rail network

  
2011 views
Oct 10 (23:14)
kedarc68   256 blog posts
Re# 4453702-20            Tags   Past Edits
You have a very kind heart. But not all beggars are poor. Remember, its their business/profession/dhanda. Please ensure you are helping a poor beggar and not a beggar richer than you. Apart from being kind hearted, I see you are passionate about hungry beggars. Try feeding them instead of giving money. Just check their reactions then.
BTW I am rich enough to meet ends month to month, barely, even though I don't own anything but a mobile phone and a computer. But then without them, I would never turn to be a beggar.

  
2014 views
Oct 10 (23:23)
kedarc68   256 blog posts
Re# 4453702-21            Tags   Past Edits
manpower costs are more than that. 65-70% is a cosmetic figure which is also too high. why are fares for cattle/toilet/hopeless class not revised for past 30 years when it is now provided with comfort of cushioned seats, fans, speed of journey, free wifi, waiting halls, charging points for mobiles and toilet facilities all included in your ticket?

  
2022 views
Oct 10 (23:49)
kedarc68   256 blog posts
Re# 4453702-22            Tags   Past Edits
when every pay commission revises upward the salaries and pensions (every 5 years, apart from railways' own increments), why couldn't railways constitute an active fare commission? there is a whole lot of politics involved. railways is trying to simply reduce the burden (of salaries and pensions) with doing away from those classes of employees (posts) having negligent or nil revenue generation. Results are there for everyone to see -- stations where private parties are engaged to clean platforms and toilets are better than others. Trains where OBHS is, are cleaner than others. Now the axe is on Catering and TTEs. Now IRCTC is a full new entity with public investment, not only government. Erring staff will get demoted/transferred to a new place/department. TTEs are known to fill their pockets first, then serve authorized pax. They will be forced to work, hard. Else transfer to other duties with lesser remuneration when revenue...
more...
realization is better at private trains.
We'll get there. may take a few years though.

  
Rail News
1849 views
Oct 11 (11:29)
Atmathew80   22 blog posts
Re# 4453702-23            Tags   Past Edits
Instead of handing over existing trains to private operators, they should handover newlines in NE region (Assama,Tripura) for operation by Private agency and also Hill railway lines with tourist potential.
  
Sep 12 (10:09) सुशासन एक्सप्रेस के लिए सत्रह एलएचबी कोच आए, जल्द होंगे शुरू (www.patrika.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
4477 views

News Entry# 390810  Blog Entry# 4425254   
  Past Edits
Sep 12 2019 (10:10)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by 5 Years IRI~/779488

Sep 12 2019 (10:10)
Train Tag: Sushasan Express/11111 added by 5 Years IRI~/779488
Trains:  Sushasan Express/11111  
Stations:  Gwalior Junction/GWL  
ग्वालियर. ट्रेनों में यात्रियों को सभी सुविधाएं मिल सकें। इसके लिए रेलवे अब झांसी मंडल के ग्वालियर से चलने वाली सुशासन एक्सप्रेस में नए डिजाइन के एलएचबी लिंक हॉफमेन बुश कोच लगाने जा रही है। इन कोचों की विशेषता है कि पटरियों पर दौड़ते समय अंदर बैठे यात्रियों को ट्रेन के चलने की आवाज बहुत कम आती है। इसमें पावर ब्रेक भी लगाए गए हैं। इसके लिए एसी कोच पहले ही आ चुके हैं। अब एसी और स्लीपर कोच मिलाकर सत्रह कोच रेल डिब्बा कारखाना रायबरेली से तैयार होकर आ गए हैं। ट्रेन में आकर्षण नलों के साथ गेट और सीटें भी आधुनिक तरीके की लगाई गई हैं। रेलवे सूत्रों की माने तो एलएचबी कोच वाली इस ट्रेन को 14 सितंबर से चलाया जाएगा। झांसी मंडल में ग्वालियर से चलने वाली चंबल एक्सप्रेस के बाद अब यह दूसरी ट्रेन होगी। जिसमें एलएचबी को लगाए गए हैं। ग्वालियर से चंबल एक्सप्रेस को...
more...
दिसंबर 2018 में शुरू किया गया था।क्या होता है एलएचबीरिसर्च डिजाइन्स एंड स्टैंडर्ड ऑर्गनाइजेशन आरडीएसओ ने करीब दस साल पहले ऐसे कोच बनाए थे। जो आपस में टकरा न सकें। इन्हे लिंक हॉफमेन बुश एलएचबी कोच नाम दिया गया। इन टक्कर रोधी कोच का आलमनगर में सफर परीक्षण किया था। उसके बाद कोचों के डिजाइन में सुधार भी किया। एलएचबी कोचों और सीबीसी कपलिंग होने से ट्रेन के कोचों के पलटने और एक दूसरे पर चढऩे की गुंजाइश नहीं रहती है।जनरेटर कार का इंतजारसुशासन एक्सप्रेस में लगने के लिए एसी और स्लीपर कोच आ चुके हैं। इसमें अब ट्रेन के पीछे लगने वाले दो में से एक जनरेटर कार कोच का इंतजार है। इसके आने के बाद यह पूरी तैयार हो जाएगी। इसके बाद ग्वालियर से इस ट्रेन को चलाया जाएगा।सुशासन एक्सप्रेस के लिए एलएचबी स्लीपर और एसी कोचआ चुके हैं। इन कोचों के साथ ट्रेन को कब चलाया जाना है इसका फैसला मुख्यालय से होगा। संभवत: यह ट्रेन शनिवार से चल सकती है। मनोज कुमार सिंह, पीआरओ झांसी मंडल

1 Public Posts - Thu Sep 12, 2019

  
Rail News
1869 views
Sep 12 (11:29)
GOYALAK1996   23 blog posts
Re# 4425254-2            Tags   Past Edits
only ek dain hi chaliti h ye train kam se kam weekly 2,3 din to chalni chaiea ye train qki muradabad se mathura ke lea bs ye ek hi train h or wo bhi weekly 1 din jabki muradabad ek mandal h.

  
Rail News
1867 views
Sep 12 (12:25)
AK84~   2743 blog posts   2800 correct pred (75% accurate)
Re# 4425254-3            Tags   Past Edits
via Bhind kab se chalegi..Susasan Exp?

  
1852 views
Sep 12 (12:33)
Sp Sharma^~   7536 blog posts   3696 correct pred (83% accurate)
Re# 4425254-4            Tags   Past Edits
सप्ताह में 2 दिन कर देनी चाहिए इस ट्रेन को

  
1758 views
Sep 12 (16:17)
Its time 4 Singrauli Exp~   739 blog posts   1 correct pred (50% accurate)
Re# 4425254-5            Tags   Past Edits
Via bhind yah train to mushkil h ha purane rake se via bhind nayi train chala sakte h

  
1745 views
Sep 12 (17:28)
anupsinghbr   232 blog posts
Re# 4425254-6            Tags   Past Edits
भोपाल भिंड/ग्वालियर ट्रेन की कोई न्यूज हैं क्या?
  
Apr 28 (09:14) पहल / रेलवे जनरल कोच के यात्रियों को बायोमैट्रिक टोकन देगी, स्कैन करने पर ही एंट्री मिलेगी (www.bhaskar.com)
0 Followers
9111 views

News Entry# 381238  Blog Entry# 4303551   
  Past Edits
Apr 28 2019 (09:20)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by 5 Years IRI~/779488

Apr 28 2019 (09:20)
Station Tag: Chhatrapati Shivaji Maharaj Terminus/CSMT added by 5 Years IRI~/779488

Apr 28 2019 (09:20)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 5 Years IRI~/779488

Apr 28 2019 (09:20)
Train Tag: Pushpak Express/12533 added by 5 Years IRI~/779488
Dainik Bhaskar
रेलवे ने जनरल कोच में भीड़ कम करने और यात्रियों को परेशानी से निजात दिलाने के लिए योजना बनाई जितनी सीटें होंगी उतने ही टोकन जारी किए जाएंगे, ये यात्रियों को ट्रेन छूटने से 4 घंटे पहले मिलेंगे
सूरत.  जनरल कोच में भीड़ की वजह से यात्रियों को होने वाली परेशानियों को दूर करने के लिए रेलवे अब बायोमैट्रिक टोकन से एंट्री देगा। रेलवे इस व्यवस्था को जल्द लागू करने जा रहा है। रेलवे का कहना है कि इससे जनरल कोच में यात्रियों के बीच होने वाली खींचतान और पहले से पैसे लेकर लोगों
...
more...
को सीट देने वाले कुलियों और दूसरे कर्मचारियों पर लगाम लगेगी। बायोमेट्रिक टोकन टिकट निकालते समय ही यात्री को दे दिया जाएगा। यात्री को जनरल कोच के बाहर लगी स्कैनिंग मशीन पर यह टोकन स्कैन करना होगा। उसके बाद ही आपीएफ के जवान यात्री को डिब्बे में एंट्री देंगे।
 
ट्रेनों के जनरल कोच में जितनी सीटें होंगी उतने ही टिकट जारी किए जाएंगे। इस सुविधा को सबसे पहले सेंट्रल रेलवे पुष्पक एक्सप्रेस में लागू करेगी। पश्चिम रेलवे अब यह विचार कर रही है कि पहले इसे किस डिवीजन में शुरू किया जाए।
 
गर्मी में बेतहाशा भीड़ को नियंत्रित करना चुनौती : रेलवे के लिए सबसे बड़ी चुनौती गर्मी के सीजन में बेतहाशा भीड़ को नियंत्रित करना है। जितनी सीटें हैं, उतने ही बायोमैट्रिक टोकन दिए जाएंगे, तो बचे हुए यात्री कैसे यात्रा करेंगे? रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह काफी चुनौतीपूर्ण है, लेकिन इसे प्रायोगिक तौर पर शुरू करेंगे। रेलवे यात्रियों को इस सुविधा की आदत बनाने कोशिश करेगा। ज्यादा यात्री होंगे तो कोच बढ़ाने पर भी विचार किया जाएगा। 
टिकट के साथ ही यात्री को दे दिया जाएगा बायोमैट्रिक टोकन: पश्चिम रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि जनरल टिकट निकालते समय ही विंडो पर यात्री को एक बायोमैट्रिक टोकन दे दिया जाएगा। ट्रेन जब स्टेशन पर पहुंचेगी, तब यात्री को बायोमेट्रिक टोकन को कोच के बाहर लगी मशीन पर स्कैन करना होगा। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही यात्री को कोच के भीतर आरपीएफ के जवान एंट्री देंगे। इससे भीड़ कम होगी। 
 
 
भीड़ कम होने के साथ, कुलियों की मनमानी पर रोक

1 Public Posts - Sun Apr 28, 2019

  
Rail News
5644 views
Apr 28 (15:29)
⚡22222मुंबई राजधानी22221⚡~   5087 blog posts   317 correct pred (71% accurate)
Re# 4303551-2            Tags   Past Edits
Mujhe nahi lagta ye feasible step hoga, agar token system laagu hua toh wo bhi ek tarah se reservation hi hoga. Train saari full ho jayengi aur bichare general passengers ko train mein chaddne bhi nahi diya jayega

  
5403 views
Apr 29 (00:03)
Krishna Kushwaha Kishh Kush~   426 blog posts   124 correct pred (61% accurate)
Re# 4303551-3            Tags   Past Edits
Haa kitne pass ki majburi hoti he..gen me travel krnaa aur kayi ki to emergency hoti he...woh bechare kyaa krenge

  
5430 views
Apr 29 (00:07)
5 Years IRI~   410 blog posts   31 correct pred (54% accurate)
Re# 4303551-4            Tags   Past Edits
Yes, I seriously doubt that this implementation is feasible and practical.

  
5480 views
Apr 29 (00:12)
Saurabh®^~   17219 blog posts   167 correct pred (69% accurate)
Re# 4303551-5            Tags   Past Edits
Impractical..

  
5492 views
Apr 29 (00:14)
Obi Wan has taught you well~   3887 blog posts   1667 correct pred (73% accurate)
Re# 4303551-6            Tags   Past Edits
Might lead to riot like situations during festival time when far more people than normal travel.
It already leads to out of hand situations currently, like UR passengers blocking doors of reserved coaches etc.
  
Aug 19 2018 (07:26) दूरंतो एक्सप्रेस एक किमी तक बिना इंजन के दौड़ी, गार्ड ने हैंड ब्रेक खींचकर रोकी (www.bhaskar.com)
Other News
NCR/North Central
0 Followers
6339 views

News Entry# 351723  Blog Entry# 3727036   
  Past Edits
Aug 19 2018 (07:26)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by ramksharma~/779488

Aug 19 2018 (07:26)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by ramksharma~/779488

Aug 19 2018 (07:26)
Station Tag: Dabra/DBA added by ramksharma~/779488

Aug 19 2018 (07:26)
Train Tag: Hazrat Nizamuddin - Secunderabad Duronto Express/12286 added by ramksharma~/779488
डबरा.हजरत निजामुद्दीन से सिकंदराबाद जा रही दूरंतो एक्सप्रेस (12286) का इंजन शुक्रवार की रात डबरा और अनंत पैठ स्टेशन के बीच अचानक कोचों से अलग हो गया। इससे ट्रेन के 18 कोच एक किमी तक बिना इंजन के ही दौड़े। जैसे ही ट्रेन में सवार गार्ड को इंजन और कोचों के अलग होने की जानकारी लगी तो उसने आनन-फानन में हैंड ब्रेक खींचा, जिससे ट्रेन के कोच रुक गए। कुछ दूर ड्राइवर ने भी इंजन रोक दिया।करीब एक घंटे बाद इंजन और कोचों को जोड़कर दोबारा से ट्रेन को रवाना किया गया। इंजन और कोच के अलग होने से इस ट्रेन के पीछे आ रही गाड़ियों को रोकना पड़ा। इससे अन्य गाड़ियां भी करीब एक घंटा लेट हुईं। बताया गया कि दूरंतो एक्सप्रेस शुक्रवार की रात करीब 8:22 मिनट पर जैसे ही डबरा और अनंत पैठ के बीच पहुंची तभी खंभा नंबर 1190 के पास अचानक ट्रेन का इंजन कोचों से...
more...
अलग हो गया। इंजन अलग होते ही बोगियों से प्रेशर रिलीज हो गया। इससे गार्ड को इंजन से कोचों के अलग होने की जानकारी लग गई और उसने हैंड ब्रेक खींच दिया। इस कारण कोच 800 मीटर से एक किमी चलकर ही रुक गए। इसके साथ ही गार्ड ने तुरंत ही वॉकी-टॉकी से इंजन के ड्राइवर को भी जानकारी देकर हादसे से बचा लिया। इंजन से कोचों के अलग होने की इस घटना के बाद रेल विभाग अब इस मामले की जांच की बात कह रहा है। इंजन से अलग होते ही प्रेशर रिलीज होता है और रुक जाती हैं बोगियां: रेलवे के ड्राइवर के मुताबिक इंजन के अलग होते ही बोगियों से प्रेशर रिलीज हो जाता है। जिससे ट्रेन खुद व खुद धीमी होने लगती है। ट्रेन धीमी होते ही गड़बड़ी की आंशका के चलते गार्ड हैंड ब्रेक खींचकर सबसे पहले ट्रेन रोकते हैं। इससे ट्रेन रुक जाती है। इस घटना की जांच होगी :शुक्रवार की रात दूरंतो एक्सप्रेस में बोगियों से इंजन अलग हो गया था। 58 मिनट बाद इंजन को बोगियों से जोड़कर रवाना कर दिया गया था। इस पूरी घटना की जांच की जाएगी। -मनोज कुमार,पीआरओ, झांसी रेल मंडल

  
5857 views
Aug 19 2018 (07:49)
5 Years IRI~   410 blog posts   31 correct pred (54% accurate)
Re# 3727036-1            Tags   Past Edits
There should be some alarm/red lights in engine as well as with Guard's coach if something like this happens... not sure how does this work as of now
  
Aug 05 2018 (10:42) इन ट्रेनों के लिए किया जाता है लेट (www.bhaskar.com)
Other News
NCR/North Central
0 Followers
9180 views

News Entry# 349592  Blog Entry# 3686241   
  Past Edits
Aug 05 2018 (10:43)
Station Tag: Banmor/BAO added by ramksharma~/779488

Aug 05 2018 (10:43)
Station Tag: Dabra/DBA added by ramksharma~/779488

Aug 05 2018 (10:43)
Station Tag: Morena/MRA added by ramksharma~/779488

Aug 05 2018 (10:43)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by ramksharma~/779488

Aug 05 2018 (10:43)
Train Tag: Chhattisgarh Express/18238 added by ramksharma~/779488
इन ट्रेनों के लिए किया जाता है लेट छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस का ग्वालियर पहुंचने का समय 10.45 बजे है जबकि स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस 10. 59 बजे, गतिमान 11.16 बजे और एपी एक्सप्रेस के आने का समय 11.15 बजे है। यह तीनों गाड़ियां ग्वालियर पहले पहुंचे उसके लिए छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की सवारियों को कष्ट भोगना होता है। छत्तीसगढ़ को बानमोर और ग्वालियर के बीच रोका जाता है जबकि ग्वालियर में उस दौरान प्लेटफार्म क्रमांक तीन खाली रहता है। एक बार यह छत्तीसगढ़ लेट होती है तो फिर आगे भी यह गाड़ी लेट होती जाती है। डेली पेसेंजर को भी होती है परेशानी सुबह के समय डबरा के लिए रोजाना जाने वाले व्यापारी वर्ग के लिए छत्तीसगढ़ पहली और उपयोगी ट्रेन है। वह लोग नेट पर मुरैना और बानमोर का समय देखकर घर से निकलते हैं। उन्हें यह लगता है कि कहीं समय पर ट्रेन चली गई तो समय खराब होगा। छत्तीसगढ़ का...
more...
पांच दिन का शेड्यूल 21 जुलाई : छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस मुरैना सुबह 10 बजकर 25 मिनट पर पहुंची। 37 मिनट लेट थी। बानमोर भी यह 37 मिनट लेट थी, फिर भी उसे वहां पर 39 मिनट तक रोका गया। यह ट्रेन ग्वालियर एक घंटा लेट 11.45 पर पहुंची। 22 जुलाई : छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस मुरैना सुबह 9 बजकर 54 मिनट पर पहुंची। यहां ट्रेन 6 मिनट लेट थी, लेकिन ट्रेन ग्वालियर 11.41 मिनट पर पहुंची। रास्ते में इसको 56 मिनट रोका गया। 23 जुलाई : यह ट्रेन मुरैना सुबह 9 बजकर 58 मिनट पर पहुंची। 10 मिनट लेट थी। ट्रेन ग्वालियर 11 बजकर 23 मिनट पर पहुंची। रास्ते में इसे 38 मिनट रोका गया। 24 जुलाई : यह उस दिन डबरा तक सही समय चली। लेकिन उस दिन यह ट्रेन सोनागिर 11.50 पर पहुंची पर वहां से उसको 12.55 पर रवाना किया गया। मतलब उसे वहां पर एक घंटा पांच मिनट रोका गया। 25 जुलाई : छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस ट्रेन मुरैना समय से पहले 9 बजकर 42 मिनट पर पहुंची। अपने सही समय 9.50 पर चली। लेकिन ग्वालियर 27 मिनट लेट आई। इस ट्रेन को उस दिन बानमोर पर 27 मिनट रोका गया।
Page#    15 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy