Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Western Railway :- Dil Bole Baar Baar WR. WR - Abdul Rehman

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Mon May 25 15:41:02 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Stream
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Jayashree ❖ Amita^

Page#    Showing 1 to 5 of 48476 news entries  next>>
  
Today (15:34) False message on trains brings thousands of migrants to Bengaluru's Palace Grounds (www.thenewsminute.com)
0 Followers
9 views

News Entry# 409235  Blog Entry# 4636759   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
On Friday, scores of migrants who had registered to return home received a message, stating that a train would be leaving from Bengaluru to Puri in Odisha on Saturday.
Uncertainty lingered in the air at Palace Grounds in Bengaluru where thousands of migrant workers from Odisha had been gathering since Saturday morning, as they awaited details about their impending journey back home. The lockdown had left many of them in the lurch with no work or money, forcing them to take the decision to return to their native state.
On Friday, scores of
...
more...
migrants who had registered to return home, received a message on their phones, informing them that a train would be leaving from Bengaluru to Puri in Odisha on Saturday. The message was received by many migrant workers who had registered to go back home – and was forwarded on WhatsApp to hundreds of others. However, it turned out that the message was an ‘error’ – there was no train waiting for the migrants, only chaos as thousands of people gathered.
“I live with three others from my native town in Bengaluru and we were working here as construction workers. When we got to know that there was an opportunity to go back, we decided to register. We did not want to take any risks and packed up our things last night itself and came after we got the message,” 31-year-old Suvendu, a native of Bhubaneswar in Odisha, told TNM.
As per reports, two trains were scheduled, one with a carrying capacity of 1500 was heading to Manipur and another heading to Odisha could take 1600 people. Those who were supposed to travel on these trains were to report at Palace Grounds to undergo a medical examination following which they’d be taken to railway stations. However, according to sources, due to an error with the Seva Sindhu portal, over 9000 people who had registered with the portal were sent messages telling them to report to Palace Grounds on Saturday morning.
TNM has read the message that the Odisha natives received, typed in Odia. It said, “Train to Kendrapara/Cuttack on May 23. Reach Gate number (x) Palace Grounds, Ballari grounds. Ticket cost Rs 1,000. One person will be given permission to travel after showing this message. Carrying e-pass is compulsory. – Karnataka Government.” The message sender was MOBKAR – Mobile Karnataka. This message was then forwarded by desperate migrant workers to their friends.
According to Lekha Adavi of the Alternative Law Forum (ALF) in Bengaluru, those who had received the message were told that they would be allotted seats on a first-come-first-serve basis, and so many reached Palace Grounds on Friday night itself.
She explained that traffic police had set up registration desks within the premises earlier in the day. However, even though many of them were registered, they were not provided further information on the time of departures or other details.
As scores waited patiently inside, thousands of others were lining up outside the gates of Palace Grounds on Saturday.
Soon, many people received another message from the same sender, this time typed in English: “Today (23.5.20) and Tomorrow’s (24.5.20) trains to Odisha are full… It is requested not to come to Bangalore until further information. All are requested to cooperate by not coming to Bangalore. Thank you.”
However, it was late. Many had already vacated their accommodations, hoping they could get on the trains. The second message left them with no place to turn to.
Both these messages are believed to be from Karnataka’s Seva Sindhu portal, that is the central point for coordinating migrants’ travel.
“We vacated our room and managed to collect about Rs 2,000 amongst ourselves to take auto rickshaws to reach here. We came all the way from Devanahalli, only to be told that the trains are full. We have nothing now, no money, no food and no place to stay. The officials are also not telling us what is happening or what we need to do,” said 28-year-old Kageshwar Nayak, a native of Kendrapara district in Odisha.
Twenty-year-old Charan has been living near Kamakshipalya in Bengaluru with his mother, sister and uncle. While his mother is a labourer, he is a student. He and his family are among those who are uncertain what to do next: to stay back in Bengaluru, where there is no work left, or return to Odisha, where cyclone Amphan has left a trail of destruction.
“We don’t know what it means to go home, or how bad the situation is with the cyclone. We don’t want to stay here anymore. We came here to build a livelihood for ourselves, but even that has gone now. I am studying here. But with how the situation has been, my mother feels it is better that we go back,” said Charan.
Charan’s family and others have been scrambling to get more information on their journey. “One day, they say that people from Odisha are great, and the next day, they abandon us without any help,” he added.
Lekha, too, had been trying to get more information as to what was going on. “There has been a lot of confusion. We don’t know where most of these people will be staying tonight, as they all don’t have the financial or logistical means to go elsewhere. Earlier in the day, officials said that they would look into the issue, but so far, there has not been any word on what is happening,” Lekha added.
As they waited for an official announcement, the migrant workers were left stranded without a place to stay or even food and other basic necessities. Volunteers and NGOs came forward to provide water, biscuits, medicines and other amenities.
“Just a few days ago, the state government was praising workers like us from Odisha and other places. Now they are doing this and not giving us any information and treating us like this,” said Kageshwar.
Many continued to remain on the Palace Grounds the entire Saturday night. Some alleged that police assaulted them for staying back on the ground.
  
Today (15:29) आज चेन्नई, घाटकेसर और बेंगलुरु से आएगी ट्रेन (www.livehindustan.com)
0 Followers
23 views

News Entry# 409233  Blog Entry# 4636755   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
चेन्नई, घाटकेसर और बेंगलुरु से सोमवार को अलग-अलग श्रमिक स्पेशल ट्रेनें धनबाद पहुंचेंगी। रविवार को रेलवे को यह जानकारी मिली है। तीनों ट्रेनों से करीब पांच हजार श्रमिक पहुंचेंगे। धनबाद से बस के माध्यम से मजदूरों को उनके घर भेजा जाएगा।
चेन्नई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन 23 मई को रात नौ बजे खुली है। इस यह ट्रेन सोमवार को सुबह छह बजे तक धनबाद पहुंचेगी। बेंगलुरु से ट्रेन 23 मई को रात 11 बजे रवाना हुई थी। यह ट्रेन भी सुबह 10 बजे धनबाद पहुंच सकती है। घाटकेसर वाली ट्रेन भी वहां से 23 मई को ही रात 11 बजे खुली थी। यह ट्रेन सोमवार की सुबह छह बजे के बाद धनबाद पहुंचेगी।
  
Today (15:28) गुजरने वाली स्पेशल ट्रेनों में रेलवे खिला रहा खाना (www.livehindustan.com)
0 Followers
25 views

News Entry# 409232  Blog Entry# 4636754   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
रविवार से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या में एकाएक बढ़ोतरी हो गई है। धनबाद सहित मंडल के सभी स्टेशनों से गुजरने वाली ट्रेनों में यात्रियों के लिए भोजन और पानी का इंतजाम किया गया है। धनबाद और गोमो स्टेशन पर यात्रियों को रेलवे की ओर से भोजन कराया गया। यात्रियों को पूड़ी, सब्जी, अचार और केला के साथ पानी दिया गया।
धनबाद से गुजरने वाली चार श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में रेलवे की ओर से मुफ्त में भोजन कराया गया। कॉमर्शियल विभाग की ओर से तैयार भोजन के वितरण में भारत स्काउट एंड गाइड भी सहभागिता निभा रहा है। सीनियर डीसीएम अखिलेश कुमार पांडेय ने बताया कि धनबाद से गुजरने और यहां पहुंचने वाली ट्रेनों में मजदूरों के लिए भोजन के पैकेट की
...
more...
व्यवस्था की गई है। इस अभियान में सीआईटी एडमिनिस्ट्रेशन विकास कुमार, सीटीआई एके सिंह, सीटीआई आलोक कुमार, गौरव पांडेय आदि सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। इधर सीनियर डीपीओ उज्ज्वल आनंद के आदेश पर धनबाद रेलवे स्टेशन परिसर में कुल 40 और गोमो स्टेशन परिसर में 24 स्काउट एवं गाइड सदस्य इस सेवा में अपना योगदान दे रहे हैं।
  
लॉकडाउन में निरस्त ट्रेनों के रिफंड मिलना सोमवार से शुरू हो जाएगा। रेलवे बोर्ड ने इसकी मंजूरी दे दी है। 25 मई से यात्री पूर्वोत्तर रेलवे के स्टेशनों पर लॉकडाउन में निरस्त हुई ट्रेनों के आरक्षित टिकट निरस्त करा सकेंगे और रिफंड ले सकेंगे। वहीं, उत्तर रेलवे 26 मई से अपने आरक्षण केंद्रों पर टिकट निरस्त की सुविधा शुरू देने जा रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे ने लखनऊ मंडल के आरक्षण क्रेंदों में गोमतीनगर में दो, बादशाहनगर में दो, डालीगंज, लखनऊ सिटी, ऐशबाग और मोहिबुल्लापुर में एक-एक काउंटर खोला है जबकि गोण्डा, बस्ती, सीतापुर, गोरखपुर समेत पूरे मंडल के कुल 20 काउंटर खोले हैं जहां पर सोमवार से यात्री अपने टिकट निरस्त कराकर रिफंड प्राप्त कर सकेंगे। रेलवे ने यात्रियों को मास्क पहनकर और सोशल डिस्टेंसिन्ग का पालन करने की अपील की है।
पूर्वोत्तर
...
more...
रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी महेश गुप्ता ने बताया कि यात्री लॉकडाउन में निरस्त ट्रेनों के रिफंड यात्रा तिथि से छह महीने तक करा सकते हैं इसलिए स्टेशन पर ज्यादा संख्या में एक साथ एकत्रित ने हो। 
दूसरी तरफ, उत्तर रेलवे लखनऊ में चारबाग मुख्य आरक्षण केंद्र, मानकनगर और आलमबाग में मंगलवार से टिकट निरस्तीकरण की सुविधा देने जा रहा है। वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगतोष शुक्ला ने बताया कि ईद के चलते सोमवार की जगह मंगलवार से यात्री टिकट निरस्त कर सकेंगे। वहीं, सिस्टम सॉफ्टवेयर में कुछ बदलाव करने होंगे जिसके बाद यह सुविधा यात्रियों को मिलने लगेगी।
  
रविवार की दोपहर प्रवासियों से भरी सूरत से एक ट्रेन दानापुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर रुकती है। ट्रेन रुकते ही खचाखच भरे यात्री उतरने लगते हैं। यात्रियों के उतरते ही अफरा-तफरी मच जाती है, जिसको जहां मन आता है वह उस तरफ भागने लगता है। प्लेटफॉर्म पर सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर गोले तो बनाए गए थे, लेकिन प्रवासियों की भीड़ में गोले भी गुम हो गए। भीड़ जनसभा की तरह इकट्ठा हुई, जिससे लॉकडाउन का पूरा नियम ही टूट गया। सोशल डिस्टेंसिंग का खुलकर मजाक उड़ा। कोई बच्चों को लेकर भाग रहा था। स्क्रीनिंग भी जैसे-तैसे हो रही थी। भीड़ में कोई किसी को कुछ बताने वाला नहीं था। कोई ट्रेन और बस के लिए इधर-उधर भाग रहा था तो कोई खाने-पीने के सामान के लिए नियम तोड़ रहा था।
प्लेटफॉर्म
...
more...
पर प्रवासियों की इतनी भीड़ जमा हो गई कि प्रशासन का पूरा प्लान फेल हो गया। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए प्रशासन ने शुरू में हाथ पैर मारे लेकिन प्रवासियों का मेला प्लेटफॉर्म पर लगा रहा। यह ट्रेन तो महज बानगी है, दानापुर आने वाली सभी ट्रेनों का हाल ऐसा ही रहा। प्लेटफॉर्म पर सामान्य दिनों से अधिक भीड़ दिखी। यात्रियों की भीड़ को अगर नियंत्रित न किया गया और इसी तरह सोशल डिस्र्टेंंसग के नियम टूटते रहे तो प्रदेश में कोरोना का संक्रमण थमने की जगह और ज्यादा फैलने लगेगा।
जांच के नाम पर खानापूर्ति
दानापुर में प्रवासियों की भीड़ स्क्र्रींनग पर भारी पड़ गई। डीएम-एसएसपी के साथ अन्य अफसर दानापुर रेलवे स्टेशन पर मौजूद थे, लेकिन भीड़ में हर किसी की व्यवस्थित ढंग से स्क्र्रींनग कराना आसान नहीं था। हालांकि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि हर एक यात्री की स्क्र्रींनग की गई है, यात्रियों की भीड़ और व्यवस्था देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्क्र्रींनग किस तरह से की गई।
पटना में चार नए पॉजिटिव
रविवार को पटना में चार नए संक्रमित मिले हैं। ये कुम्हरार, मंदिरी, संपतचक और दीदारगंज के रहने वाले हैं। दीदारगंज, संपतचक और कुम्हरार के प्रवासी एनएमसीएच में भर्ती हैं। चारों देश के हॉट स्पॉट शहर हरियाणा, सूरत, हैदराबाद और मुम्बई से हाल ही में लौटे हैं। इधर, रविवार की सुबह एनएमसीएच में 60 वर्षीय कोरोना संक्रमित राम प्रवेश पंडित की मौत हो गई। वह सीवान के मझौलिया का रहने वाला था। नोडल कोरोना सेंटर में मरने वालों की संख्या अब पांच हो गई, जबकि प्रदेश में कोरोना से यह 13वीं मौत है।
रविवार को 45 ट्रेनें आई हैं। प्रवासियों की स्क्र्रींनग कर उन्हें ट्रेन और बस से भेज दिया गया है। दानापुर स्टेशन पर सुरक्षा के साथ प्रवासियों के खाने का इंतजाम किया गया था।
-कुमार रवि, डीएम
Page#    48476 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy