Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

patri ke is taraf ya us taraf, zindagi mein hum sab RailFan ek taraf - Ananya D'Souza

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sat Jul 20 12:59:37 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Karan Wdg Yadav~

Page#    Showing 1 to 5 of 14 news entries  next>>
  
Jun 10 (13:38) जंगल की सैर कराएगी हैविटेट ट्रेन, जंगली जानवरों की सुरक्षा को लेकर बना माइक्रोप्लान (m.patrika.com)
Tourism
0 Followers
3730 views

News Entry# 383852  Blog Entry# 4339256   
  Past Edits
Jun 10 2019 (13:38)
Station Tag: Dudhwa/DDW added by Karan Wdg Yadav~/1961808

Jun 10 2019 (13:38)
Station Tag: Nanpara Junction/NNP added by Karan Wdg Yadav~/1961808

Jun 10 2019 (13:38)
Station Tag: Bahraich/BRK added by Karan Wdg Yadav~/1961808
बहराइच. कतर्नियाघाट सेंचुरी इलाके में जंगल की सैर करने वाले पर्यटकों को घुमाने के लिए एक नई पहल की जा रही है। कतर्निया जंगल में अब पर्यटकों को रेल बस से सैर कराने की तैयारी की जा रही है। यह हैविटेट रेल बस कतर्नियाघाट से लेकर दुधवा नेशनल पार्क तक फर्राटा भरेगी। पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर रेलवे की ओर से इस तरह की तैयारी की जा रही है।हैविटेट मीटर गेज पर रेल बस का संचालन होने की रूप रेखा तैयार की जा रही। जानवरों की तस्वीरों से सजी रंग बिरंगी रेल बस इज्जतनगर रेलवे यांत्रिक कारखाना में तैयार की जा रही है। ये रेल बस आने वाले दिनों में जल्द ही हैवीटेट रेलवे लाइन पर सरपट दौड़ेगी। इस ट्रेन की संचलन से सेंचुरी रेंज के जंगली जीवों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। तकरीबन छह माह में रेल बस का पटरी पर...
more...
चलने का अनुमान विभाग के अफसर लगा रहे हैं।कतर्नियाघाट सेंचुरी क्षेत्र 551 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। संरक्षित वन क्षेत्र में नेपाली हाथियों के अलावा बाघ, तेंदुआ, चीतल, हिरन, काकड़ सहित तमाम तरह के दुर्लभ वन्यजीवों का ये सबसे ख़ास प्रवास स्थल है।आप को बता दें कि दुधवा मैलानी-नानपारा रेलवे लाइन कतर्नियां जंगल के बीच से होकर गुजरी है। जिसके चलते आए दिन बाघ, तेंदुए, हांथी , बारासिंघा के साथ ही अन्य तमाम जंगली जानवर रेलगाड़ियों की चपेट में आकर दम तोड़ देते हैं। इसको लेकर वन विभाग ने भी रेलवे विभाग से कई बार विरोध दर्ज कराया था। इसी को लेकर एक वन्यजीव प्रेमी की ओर से न्यायाल में याचिका भी दाखिल की गई थी। जिसपर रेलवे ने सेंचुरी इलाके में ब्राड गेज लाइन की जगह हैविटेट मीटर गेज पर रेल बस चलाने का अस्वासन दिया था। तीन वर्ष पूर्व गोंडा से बहराइच के मध्य मीटर गेज लाइन को ब्राडगेज में परिवर्तित किया जा चुका है। वन विभाग के विरोध व जंगली जीवों की मौत को देखते हुए सरकार ने मैलानी जंक्शन तक रेल लाइन को ब्राड गेज में न परिवर्तित करने का फैसला किया है।

  
Rail News
1785 views
Jun 12 (16:21)
ModiVikasBahraich   33 blog posts
Re# 4339256-1            Tags   Past Edits
बहराइच के लोगों की परिवहन शिकायत !
स्वतंत्रता के बाद से बहराइच उत्तर प्रदेश भारत के पिछड़े जिले में से एक है। लखनऊ, दिल्ली, मुंबई और भारत के अन्य मेट्रो शहरों के लिए कोई ट्रेन सेवा नहीं है । बहराइच का विकास अवरुद्ध हो रहा है क्योंकि लंबे रूट की ट्रेन सेवा नहीं है। बहराइच के अधिकांश लोग भारत के मेट्रो शहरों में काम कर रहे हैं, यात्रा के दौरान असुविधा महसूस करते हैं, अनावश्यक रूप से उन्हें लखनऊ की 4 घंटे बस की यात्रा तथा इंतजार करना पड़ता है ट्रेन पकड़ने के लिए 10 से 24 घंटे पहले ट्रेन प्रस्थान से | बहराइच जरवल रोड रेल लिंक परियोजना पर शीघ्र कार्य प्रारंभ करें | बहराइच से जरवल रोड की दूरी मात्र
...
more...
55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) हैं |

  
Rail News
1815 views
Jun 12 (16:22)
ModiVikasBahraich   33 blog posts
Re# 4339256-2            Tags   Past Edits

  
Rail News
1832 views
Jun 12 (16:24)
ModiVikasBahraich   33 blog posts
Re# 4339256-3            Tags   Past Edits

  
Rail News
2011 views
Jun 12 (16:25)
ModiVikasBahraich   33 blog posts
Re# 4339256-4            Tags   Past Edits
बहराइच के लोगों की परिवहन शिकायत !
मेरे प्रिय मंत्री जी ! मैं आपका ध्यान बहराइच रेलवे स्टेशन की ओर आकर्षित करने की कोशिश कर रहा हूं। मैं बहराइच लखनऊ UPSRTC बसों और राजमार्ग पर आपके काम की सराहना करता हूं। बहराइच के अधिकतम लोग भारत के मेट्रो शहरों और विदेशों में काम कर रहे हैं, वे अपने गृह नगर बहराइच की यात्रा करते समय असुविधा महसूस करते हैं। UPSRTC की बसें बहराइच के लोगों को लूट रही हैं | लखनऊ और भारत के मेट्रो शहरों में ट्रेन सेवा क्यों नहीं चला रहे हैं। ट्रेन नियमित यात्रियों के लिए वरदान होगी क्योंकि यात्रियों की आवृत्ति बहराइच और लखनऊ मार्ग पर अधिक है। 130 KM के लिए ट्रेन का किराया 30 रुपए होगा।
...
more...
समय बदल गया है अब आप परिवहन के वैकल्पिक साधनों की तलाश क्यों नहीं करते हैं भारतीय रेलवे माल और यात्री गाड़ियों से अधिकतम राजस्व कमा सकता है। एक और चीज़ बहराइच के कई लोग जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं, वे भी अपने गृह नगर बहराइच की यात्रा करते समय असुविधा महसूस करते हैं ...
क्या आप समझा सकते हैं कि क्या बहराइच से UPSRTC की बसों के माध्यम से मुंबई पहुंचना संभव है ? बहराइच के लोगों को धोखा देने की कोशिश मत करो। समय बदल गया है अब बहराइच के बहुत से लोग मेट्रो शहरों और विदेशों में काम कर रहे हैं। बहराइच से गोंडा और बहराइच से लखनऊ के आगे सोचने की कोशिश करें। बहराइच के लोग अब जागरूक हैं ... अपने विचार व्यापक करें |
बहराइच जरवल रोड रेल मात्र 55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) से जुड़े | बहराइच Uttar Pradesh अब भारतीय रेलवे मार्ग मानचित्र पर है और एक नव निर्मित Broad Gauge प्रदान करता है l
मेरे प्रिय मंत्री जी, टाउन प्लानिंग के समय बहराइच शहर की मौजूदा जरूरतों पर ध्यान दिया गया है और भविष्य की जरूरतों को भी रखना चाहिए था । भविष्य में जनसंख्या बढ़ैगी और आज की आबादी को दोगुना कर देगा।वस्तुओं और सेवाओं के दाम दोगुना हो जाएगा। जनसंख्या विस्फोट (Population Explosion) और मुद्रास्फीति (Inflation) भविष्य की समस्याएं होंगी।मैं बहराइच जिले की वर्तमान परिवहन प्रणालियों संबंधित समस्याओं पर मैं आपका ध्यान आकर्षित करने की कोशिश कर रहा हूं ।क्या ये UPSRTCs बसे बहराइच की बढ़ी हुई आबादी को लखनऊ ले जाने में सक्षम होंगे और इसका जवाब नहीं होगा क्योंकि आप बहराइच लखनऊ रोड पर बसों की संख्या बढ़ाने जा रहे हैं और उनकी सड़क पर लोड देने की सीमा है। दुसरी समस्या वर्तमान और भविष्य में UPSRTCs बसों के टिकट की कीमत है, मांग और आपूर्ति के आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतें भी बढ़ जाती हैं। भविष्य में एक यात्री ले जाने के लिए प्रति व्यक्ति कीमत 500 रुपये या उससे अधिक होगी। .यह असमंजस की स्थिति होगी | क्या आपने इन सामाजिक और महंगाई जैसे चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है ? आपकी क्या योजना है ? चूंकि बहराइच के लोगों के लिए परिवहन का कोई अन्य साधन उपलब्ध नहीं है, इसलिए UPSRTCs बसों का एकाधिकार बना हुआ हैं बहराइच लखनऊ रोड पर | मंत्री जी बहराइच से UPSRTCs की बसों के माध्यम से मुंबई पहुंचना असंभव है | और बहराइच की युवा पीढ़ी बेहतर जीवन और भविष्य के लिए भारत के मेट्रो शहरों और विदेशों की ओर बढ़ रही है। क्या आप उनकी आकांक्षाओं पर अंकुश नहीं लगा रहे हैं। अन्यथा बहराइच के परिवार स्थायी रूप से पलायन कर जाएंगे। क्या आपने इस सामूहिक पलायन को रोकने के लिए कोई उपाय किया है ? बहराइच के लोगों का सामूहिक पलायन को रोकने और भारत से ब्रेन ड्रेन (Brain Drain) को रोकने के लिए भारत सरकार ने कौन कौन से आकर्षित और मजबूत कदम उठाये हैं | आपके ये “जुगाड़” कब तक काम आएगा | आप बहराइच लखनऊ इंटरसिटी (Bahraich Lucknow Intercity) चलाने जा रहे हैं अच्छी बात है पर गोंडा हो कर कब तक चलेगी ? आप को ज्ञान है Via गोंडा एक लम्बा मार्ग है समय भी नष्ट हो जायेगा | बहराइच जरवल रोड लिंक (केवल 55 कि.मी.) आपकी जानकारी में है लेकिन आप अनदेखा कर रहे हैं| यह मार्ग लखनऊ (130 KM) या आगे के गंतव्यों तक पहुँचने का सबसे छोटा मार्ग है | यह वैसा ही है जैसे कोई व्यक्ति A से B तक जाना चाहता है, लेकिन आपने एक ऐसी प्रणाली बनाने जा रहे है जहां वह C अनावश्यक यात्रा करने के लिए बाध्य होगा | बहराइच लखनऊ रेलवे का किराया बहराइच की आम जनता के पक्ष में होगा। 130 KM के लिए केवल 30 रु |”लखनऊ” बहराइच के लोगों के लिए लाइफ लाइन है | मेरे प्रिय मंत्री जी आप बहराइच से हैं और इस बारे में भली भाँति अवगत होंगे | बहराइच लखनऊ लिंक पूरा होने में समय लेगा अगर इसे अभी नहीं देखा गया फिर बहराइच लखनऊ और आगे के गंतव्य के लिए परिवहन प्रणाली के खराब परिणाम होंगे | मानव चाँद पर पहुँच गया और अब वे अन्य ग्रह पर पहुँचने की योजना बना रहे हैं, लेकिन आप अभी भी बहराइच से लखनऊ पहुँचने के लिए जुगाड़ लगा रहे हैं | डाक सेवाएं प्रभावित हो रही हैं बहराइच के लोग समय पर डाक प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं | बहराइच के लोगों की भारतीय सेना में गहरी रुचि है। वे जम्मू और कश्मीर में तैनात हैं। वे हमारे दुश्मनों से लड़ रहे हैं। मेरे प्रिय मंत्री जी आप नहीं जानते कि एक सेना के व्यक्ति का जीवन कितना कठिन होता है। उनके बलिदान से हम चिंता मुक्त नींद लेने में सक्षम हैं। बहराइच के लोग जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना में तैनात हैं। वे अपने गृह नगर बहराइच जाते हैं अपने परिवार से मिलने के लिए वे जम्मू और कश्मीर से बहराइच की यात्रा करने में असुविधा महसूस करते हैं क्योंकि कोई सीधी ट्रेन सेवा नहीं है। मेरे प्रिय मंत्री जी, आप बहाना देने के बजाये सकारात्मक कदम क्यों नहीं उठाते।आपके सकारात्मक प्रयासों से बहराइच के और भी लोग भारतीय सेना में शामिल होने के लिए प्रेरित होगे | Total cost of project 529.96 करोड़ क्या भारत सरकार वीर जवानों के लिए इतना नहीं कर सकती ? हमें Fancy बुलेट ट्रेन की जरूरत नहीं है। मेरा सुझाव भारतीय सेना को की वे बहराइच में एक दूरस्थ भर्ती केंद्र (Remote recruitment centre) स्थापित करे | फखरपुर और कैसरगंज के लोग रेलवे लाइन की उम्मीद कर रहे हैं वे आजादी के बाद से ही रेलवे लाइन की मांग करते आ रहे हैं क्या आप उनके सपने को साकार कर सकते हैं ?
बहराइच का जरवल रोड से रेल लिंक नहीं होने के कारण बहराइच का विकास अवरुद्ध हो रहा | बहराइच से लखनऊ की दूरी मात्र 55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) हैं | बहराइच जरवल रोड रेल पर निवेश पर रिटर्न (ROI) अधिक है | इस मार्ग पर यात्रियों और माल की आवृत्ति अधिक है। भारतीय रेलवे राजस्व अवसर खो रहा है। बहराइच के लोग इस ट्रेन सुविधा से वंचित हैं।एक द्वीप प्रकार की स्थिति बनाने की कोशिश मत करो बहराइच को कुछ लोग के स्वार्थ के चलते | कुछ निस्वार्थ लोगों की वजह से हम बहराइच के विकास को रोक नहीं सकते हैं l जो लोग विकास कार्य में बाधा डाल रहे हैं, रेलवे अधिकारियों को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए और आईपीसी (IPC) के तहत मामला दर्ज करना चाहिए और सलाखों के पीछे भेजना चाहिए। वे स्वार्थी लोग बहराइच के धनि लोग और राजनीतिज्ञ, उनके पास चार पहिया वाहन हैं, वे अपने स्वार्थ के चलते बहराइच का जरवल रोड रेल से लिंक नहीं होने दे रहे हैं और कोई आवाज नहीं उठाते मर रही है बहराइच की आम जनता | यह रेल मुद्दा बहुत जटिल है सामाजिक अभिशाप की शक्ल लेता जा रहा है आप ऐसे समझ सकते हैं : 1-बहराइच की families का सामूहिक पलायन 2- बहराइच का पिछड़ापन शर्म है हमारे लिये. 3-महानगरों/बड़े शहर के घर में शादी के रिश्ते reject हो रहे हैं कहते हैं “बहराइच में रेलवे लाइन नहीं वहां से शादी कौन करेगा” 4- राज्य और केंद्र सरकार के कर्मचारी (विशेषकर शिक्षक) बहराइच में posting नहीं चहेते क्योंकि मुख्य लाइन (दिल्ली-बरौनी) पर बहराइच नहीं है | 5-Poor infrastructure 6- दरिद्रता (Poverty)
मेरे प्रिय मंत्री जी मेरा अगला वोट बहराइच जरवल रोड रेल लिंक को समर्पित होगा पुरुष महिलाएं बच्चे वरिष्ठ नागरिक और विकलांग सभी बहराइच लखनऊ रेल संपर्क चाहते हैं बहराइच की जनता मांगे मोर
आप बहराइच के जिम्मेदार नागरिक हैं।
आप पहल क्यों नहीं करते ?
कृपया हस्तक्षेप एवं कार्रवाई करें
  
बहराइच में रेलवे पटरी के किनारे आकर बैठ गया बाघ, लोगों में बना रहा दहशत का माहौल,
बहराइच के ककरहा रेंज में हंसुलिया रेलवे क्रॉसिंग के पास एक बाघ शाम को जंगल से निकलकर पटरी के निकट ही बैठ गया, जिससे लोगों का आवागमन थम गया। सूचना के बाद ककरहा रेंज के वनकर्मी मौके पर पहुंचे, लेकिन तब तक बाघ जंगल की ओर चला गया। बाघ निकलने से लोगों में दहशत का माहौल रहा।

1 Public Posts - Mon May 27, 2019

1 Public Posts - Thu May 30, 2019

  
Rail News
1988 views
May 30 (09:38)
santosh4india2019   70 blog posts
Re# 4327540-3            Tags   Past Edits

  
Rail News
1984 views
May 30 (09:41)
santosh4india2019   70 blog posts
Re# 4327540-4            Tags   Past Edits

  
1981 views
May 30 (09:55)
Karan Wdg Yadav~   266 blog posts   1 correct pred (100% accurate)
Re# 4327540-5            Tags   Past Edits
पहले ये सब माँग की जा रही थी

  
Rail News
1983 views
May 30 (10:08)
santosh4india2019   70 blog posts
Re# 4327540-6            Tags   Past Edits
बहराइच के लोगों की परिवहन शिकायत !

स्वतंत्रता के बाद से बहराइच उत्तर प्रदेश भारत के पिछड़े जिले में से एक है। लखनऊ, दिल्ली, मुंबई और भारत के अन्य मेट्रो शहरों के लिए कोई ट्रेन सेवा नहीं है । बहराइच का विकास अवरुद्ध हो रहा है क्योंकि लंबे रूट की ट्रेन सेवा नहीं है। बहराइच के अधिकांश लोग भारत के मेट्रो शहरों में काम कर रहे हैं, यात्रा के दौरान असुविधा महसूस करते हैं, अनावश्यक रूप से उन्हें लखनऊ की 4 घंटे बस की यात्रा तथा इंतजार करना पड़ता है ट्रेन
...
more...
पकड़ने के लिए 10 से 24 घंटे पहले ट्रेन प्रस्थान से | बहराइच जरवल रोड रेल लिंक परियोजना पर शीघ्र कार्य प्रारंभ करें | बहराइच से जरवल रोड की दूरी मात्र 55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) हैं |

  
Rail News
1994 views
May 30 (10:11)
santosh4india2019   70 blog posts
Re# 4327540-7            Tags   Past Edits
बहराइच के लोगों की परिवहन शिकायत !
मेरे प्रिय मंत्री जी ! मैं आपका ध्यान बहराइच रेलवे स्टेशन की ओर आकर्षित करने की कोशिश कर रहा हूं। मैं बहराइच लखनऊ UPSRTC बसों और राजमार्ग पर आपके काम की सराहना करता हूं। बहराइच के अधिकतम लोग भारत के मेट्रो शहरों और विदेशों में काम कर रहे हैं, वे अपने गृह नगर बहराइच की यात्रा करते समय असुविधा महसूस करते हैं। UPSRTC की बसें बहराइच के लोगों को लूट रही हैं | लखनऊ और भारत के मेट्रो शहरों में ट्रेन सेवा क्यों नहीं चला रहे हैं। ट्रेन नियमित यात्रियों के लिए वरदान होगी क्योंकि यात्रियों की आवृत्ति बहराइच और लखनऊ मार्ग पर अधिक है। 130 KM के लिए ट्रेन का किराया 30 रुपए होगा।
...
more...
समय बदल गया है अब आप परिवहन के वैकल्पिक साधनों की तलाश क्यों नहीं करते हैं भारतीय रेलवे माल और यात्री गाड़ियों से अधिकतम राजस्व कमा सकता है। एक और चीज़ बहराइच के कई लोग जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं, वे भी अपने गृह नगर बहराइच की यात्रा करते समय असुविधा महसूस करते हैं ...

क्या आप समझा सकते हैं कि क्या बहराइच से UPSRTC की बसों के माध्यम से मुंबई पहुंचना संभव है ? बहराइच के लोगों को धोखा देने की कोशिश मत करो। समय बदल गया है अब बहराइच के बहुत से लोग मेट्रो शहरों और विदेशों में काम कर रहे हैं। बहराइच से गोंडा और बहराइच से लखनऊ के आगे सोचने की कोशिश करें। बहराइच के लोग अब जागरूक हैं ... अपने विचार व्यापक करें |

बहराइच जरवल रोड रेल मात्र 55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) से जुड़े | बहराइच Uttar Pradesh अब भारतीय रेलवे मार्ग मानचित्र पर है और एक नव निर्मित Broad Gauge प्रदान करता है l

मेरे प्रिय मंत्री जी, टाउन प्लानिंग के समय बहराइच शहर की मौजूदा जरूरतों पर ध्यान दिया गया है और भविष्य की जरूरतों को भी रखना चाहिए था । भविष्य में जनसंख्या बढ़ैगी और आज की आबादी को दोगुना कर देगा।वस्तुओं और सेवाओं के दाम दोगुना हो जाएगा। जनसंख्या विस्फोट (Population Explosion) और मुद्रास्फीति (Inflation) भविष्य की समस्याएं होंगी।मैं बहराइच जिले की वर्तमान परिवहन प्रणालियों संबंधित समस्याओं पर मैं आपका ध्यान आकर्षित करने की कोशिश कर रहा हूं ।क्या ये UPSRTCs बसे बहराइच की बढ़ी हुई आबादी को लखनऊ ले जाने में सक्षम होंगे और इसका जवाब नहीं होगा क्योंकि आप बहराइच लखनऊ रोड पर बसों की संख्या बढ़ाने जा रहे हैं और उनकी सड़क पर लोड देने की सीमा है। दुसरी समस्या वर्तमान और भविष्य में UPSRTCs बसों के टिकट की कीमत है, मांग और आपूर्ति के आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतें भी बढ़ जाती हैं। भविष्य में एक यात्री ले जाने के लिए प्रति व्यक्ति कीमत 500 रुपये या उससे अधिक होगी। .यह असमंजस की स्थिति होगी | क्या आपने इन सामाजिक और महंगाई जैसे चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है ? आपकी क्या योजना है ? चूंकि बहराइच के लोगों के लिए परिवहन का कोई अन्य साधन उपलब्ध नहीं है, इसलिए UPSRTCs बसों का एकाधिकार बना हुआ हैं बहराइच लखनऊ रोड पर | मंत्री जी बहराइच से UPSRTCs की बसों के माध्यम से मुंबई पहुंचना असंभव है | और बहराइच की युवा पीढ़ी बेहतर जीवन और भविष्य के लिए भारत के मेट्रो शहरों और विदेशों की ओर बढ़ रही है। क्या आप उनकी आकांक्षाओं पर अंकुश नहीं लगा रहे हैं। अन्यथा बहराइच के परिवार स्थायी रूप से पलायन कर जाएंगे। क्या आपने इस सामूहिक पलायन को रोकने के लिए कोई उपाय किया है ? बहराइच के लोगों का सामूहिक पलायन को रोकने और भारत से ब्रेन ड्रेन (Brain Drain) को रोकने के लिए भारत सरकार ने कौन कौन से आकर्षित और मजबूत कदम उठाये हैं | आपके ये “जुगाड़” कब तक काम आएगा | आप बहराइच लखनऊ इंटरसिटी (Bahraich Lucknow Intercity) चलाने जा रहे हैं अच्छी बात है पर गोंडा हो कर कब तक चलेगी ? आप को ज्ञान है Via गोंडा एक लम्बा मार्ग है समय भी नष्ट हो जायेगा | बहराइच जरवल रोड लिंक (केवल 55 कि.मी.) आपकी जानकारी में है लेकिन आप अनदेखा कर रहे हैं| यह मार्ग लखनऊ (130 KM) या आगे के गंतव्यों तक पहुँचने का सबसे छोटा मार्ग है | यह वैसा ही है जैसे कोई व्यक्ति A से B तक जाना चाहता है, लेकिन आपने एक ऐसी प्रणाली बनाने जा रहे है जहां वह C अनावश्यक यात्रा करने के लिए बाध्य होगा | बहराइच लखनऊ रेलवे का किराया बहराइच की आम जनता के पक्ष में होगा। 130 KM के लिए केवल 30 रु |”लखनऊ” बहराइच के लोगों के लिए लाइफ लाइन है | मेरे प्रिय मंत्री जी आप बहराइच से हैं और इस बारे में भली भाँति अवगत होंगे | बहराइच लखनऊ लिंक पूरा होने में समय लेगा अगर इसे अभी नहीं देखा गया फिर बहराइच लखनऊ और आगे के गंतव्य के लिए परिवहन प्रणाली के खराब परिणाम होंगे | मानव चाँद पर पहुँच गया और अब वे अन्य ग्रह पर पहुँचने की योजना बना रहे हैं, लेकिन आप अभी भी बहराइच से लखनऊ पहुँचने के लिए जुगाड़ लगा रहे हैं | डाक सेवाएं प्रभावित हो रही हैं बहराइच के लोग समय पर डाक प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं | बहराइच के लोगों की भारतीय सेना में गहरी रुचि है। वे जम्मू और कश्मीर में तैनात हैं। वे हमारे दुश्मनों से लड़ रहे हैं। मेरे प्रिय मंत्री जी आप नहीं जानते कि एक सेना के व्यक्ति का जीवन कितना कठिन होता है। उनके बलिदान से हम चिंता मुक्त नींद लेने में सक्षम हैं। बहराइच के लोग जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना में तैनात हैं। वे अपने गृह नगर बहराइच जाते हैं अपने परिवार से मिलने के लिए वे जम्मू और कश्मीर से बहराइच की यात्रा करने में असुविधा महसूस करते हैं क्योंकि कोई सीधी ट्रेन सेवा नहीं है। मेरे प्रिय मंत्री जी, आप बहाना देने के बजाये सकारात्मक कदम क्यों नहीं उठाते।आपके सकारात्मक प्रयासों से बहराइच के और भी लोग भारतीय सेना में शामिल होने के लिए प्रेरित होगे | Total cost of project 529.96 करोड़ क्या भारत सरकार वीर जवानों के लिए इतना नहीं कर सकती ? हमें Fancy बुलेट ट्रेन की जरूरत नहीं है। मेरा सुझाव भारतीय सेना को की वे बहराइच में एक दूरस्थ भर्ती केंद्र (Remote recruitment centre) स्थापित करे | फखरपुर और कैसरगंज के लोग रेलवे लाइन की उम्मीद कर रहे हैं वे आजादी के बाद से ही रेलवे लाइन की मांग करते आ रहे हैं क्या आप उनके सपने को साकार कर सकते हैं ?

बहराइच का जरवल रोड से रेल लिंक नहीं होने के कारण बहराइच का विकास अवरुद्ध हो रहा | बहराइच से लखनऊ की दूरी मात्र 55 कि.मी.(दिल्ली-बरौनी लाइन) हैं | बहराइच जरवल रोड रेल पर निवेश पर रिटर्न (ROI) अधिक है | इस मार्ग पर यात्रियों और माल की आवृत्ति अधिक है। भारतीय रेलवे राजस्व अवसर खो रहा है। बहराइच के लोग इस ट्रेन सुविधा से वंचित हैं।एक द्वीप प्रकार की स्थिति बनाने की कोशिश मत करो बहराइच को कुछ लोग के स्वार्थ के चलते | कुछ निस्वार्थ लोगों की वजह से हम बहराइच के विकास को रोक नहीं सकते हैं l जो लोग विकास कार्य में बाधा डाल रहे हैं, रेलवे अधिकारियों को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए और आईपीसी (IPC) के तहत मामला दर्ज करना चाहिए और सलाखों के पीछे भेजना चाहिए। वे स्वार्थी लोग बहराइच के धनि लोग और राजनीतिज्ञ, उनके पास चार पहिया वाहन हैं, वे अपने स्वार्थ के चलते बहराइच का जरवल रोड रेल से लिंक नहीं होने दे रहे हैं और कोई आवाज नहीं उठाते मर रही है बहराइच की आम जनता | यह रेल मुद्दा बहुत जटिल है सामाजिक अभिशाप की शक्ल लेता जा रहा है आप ऐसे समझ सकते हैं : 1-बहराइच की families का सामूहिक पलायन 2- बहराइच का पिछड़ापन शर्म है हमारे लिये. 3-महानगरों/बड़े शहर के घर में शादी के रिश्ते reject हो रहे हैं कहते हैं “बहराइच में रेलवे लाइन नहीं वहां से शादी कौन करेगा” 4- राज्य और केंद्र सरकार के कर्मचारी (विशेषकर शिक्षक) बहराइच में posting नहीं चहेते क्योंकि मुख्य लाइन (दिल्ली-बरौनी) पर बहराइच नहीं है | 5-Poor infrastructure 6- दरिद्रता (Poverty)

मेरे प्रिय मंत्री जी मेरा अगला वोट बहराइच जरवल रोड रेल लिंक को समर्पित होगा पुरुष महिलाएं बच्चे वरिष्ठ नागरिक और विकलांग सभी बहराइच लखनऊ रेल संपर्क चाहते हैं बहराइच की जनता मांगे मोर
आप बहराइच के जिम्मेदार नागरिक हैं।
आप पहल क्यों नहीं करते ?
कृपया हस्तक्षेप एवं कार्रवाई करें
  
May 23 (11:46) आज से होगा पैसेंजर ट्रेनों का संचालन (www.amarujala.com)
0 Followers
10905 views

News Entry# 382658  Blog Entry# 4324273   
  Past Edits
May 23 2019 (11:46)
Station Tag: Meerut City Junction/MTC added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Station Tag: Muzaffarnagar/MOZ added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Station Tag: Saharanpur Junction/SRE added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Station Tag: Ambala Cantt. Junction/UMB added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Ambala Cantt - Delhi MEMU (via Saharanpur)/64562 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Delhi - Ambala Cantt MEMU (Via - Saharanpur)/64561 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Ambala Cantt - Meerut City Passenger/54542 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Meerut City - Ambala Cantt Passenger/54541 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Delhi - Saharanpur Passenger (Via Meerut Cantt)/54473 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Saharanpur - Delhi Passenger (via Meerut Cantt)/54474 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Saharanpur - Delhi MEMU/64558 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Delhi - Saharanpur MEMU (Via - Meerut Cantt)/64559 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Ambala Cantt - Hazrat Nizamuddin Passenger (Via - Meerut Cantt)/54540 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Hazrat Nizamuddin - Ambala Cantt Passenger (Via - Meerut cantt)/54539 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Rishikesh - Delhi Passenger ( Via Meerut Cantt )/54472 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Delhi - Rishikesh Passenger (Via - Meerut Cantt)/54471 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 23 2019 (11:46)
Train Tag: Kalka - Delhi Passenger (Via - Saharanpur)/54304 added by Karan Wdg Yadav~/1961808
खतौली-मुजफ्फरनगर के बीच डबल ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन शुरू होने पर रेलवे ने 26 मई तक रद्द 11 ट्रेनों का संचालन बहाल कर दिया है। बृहस्पतिवार यानि से दिल्ली-मेरठ-सहारनपुर के बीच ट्रेनों का संचालन फिर से शुरू हो जाएगा। रेलवे विभाग के अनुसार पैसेंजर ट्रेनों मेरठ-अंबाला, निजामुद्दीन-अंबाला, ऋषिकेश-दिल्ली, सहारनपुर-दिल्ली, अंबाला-मेरठ, अंबाला-निजामुद़्दीन, दिल्ली-हरिद्वार-ऋषिकेश, सहारनपुर-दिल्ली, कालका पैसेंजर आदि का संचालन बहाल कर दिया है। इनमें से दिल्ली-अंबाला, मेरठ-अंबाला, निजामुददीन-अंबाला पैसेंजर ट्रेन 24 मई से प्रारंभ होगी। बाकी अन्य सभी पैसेंजर ट्रेन बृहस्पतिवार यानि आज से संचालित होगी। रेलवे लाइन दोहरीकरण के कार्य के कारण इन ट्रेनों को रद्द किया गया था। सभी ट्रेन फिर से चलने से यात्रियों को राहत मिलेगी
  
May 22 (11:18) दोहरे ट्रैक को सीआरएस की ओके....मंगलवार शाम से हुआ संचालन, शान से आयी शालीमार (www.royalbulletin.com)
0 Followers
4697 views

News Entry# 382589  Blog Entry# 4323435   
  Past Edits
May 22 2019 (11:19)
Station Tag: Khatauli/KAT added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 22 2019 (11:19)
Station Tag: Muzaffarnagar/MOZ added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 22 2019 (11:19)
Train Tag: Shalimar Express/14645 added by Karan Wdg Yadav~/1961808
Trains:  Shalimar Express/14645  
Stations:  Muzaffarnagar/MOZ   Khatauli/KAT  
मुजफ्फरनगर। आखिर वह दिन आ ही गया, जिसका जनपद के लोगों को बेसब्री इंतजार था। वह था दोहरे ट्रैक की सौगात, जिसे सीआरएस ने आज अपने निरीक्षण के उपरांत जनपदवासियों को दी। सीआरएस ने डीआरएम के साथ मिलकर खतौली से लेकर मुजफ्फरनगर तक के रेलवे ट्रैक का अपने लाव-लश्कर के साथ निरीक्षण किया। उसके बाद स्पेशल ट्रेन के द्वारा 140 की रफ्तार पर ट्रैक को जांचा परखा गया। उसके उपरांत सीआरएस की ओके होने के बाद मंगलवार शाम से ही दोहरे ट्रैक को ट्रेनों के संचालन को लेकर खोल दिया गया। इस मार्ग पर पहली ट्रेन चलने का सौभाग्य शालीमार एक्सप्रेस को मिला। खतौली से लेकर मुजफ्फरनगर के बीच रेलवे ट्रैक के दोहरीकरण का कार्य किया जा रहा है। इसे लेकर 18 मई को डीआरएम एससी जैन का दौरा तक हो चुका है। आज सीआरएस (कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्रटी) शैलेष कुमार पाठक का दौरा होना था। इसे लेकर पूरी तैयारी की...
more...
गयी। दोपहर एक बजकर 35 मिनट पर सीआरएस डीआरएम एससी जेेैन सहित अपने लाव-लश्कर के संग ट्रॉली के द्वारा ट्रैक को चैक करते हुए मुजफ्फरनगर स्टेशन पहुंचे। जहां पर स्टेशन अधीक्षक विपिन त्यागी व उनके स्टाफ ने उनका स्वागत किया। यहां पर वीआईपी गेस्ट हाउस में वार्ता करने के उपरांत सीआरएस व अन्य स्टाफ कारों के द्वारा लगभग ढाई बजे खतौली पहुंचे। जहां पर फाटक नंबर 43 से मुजफ्फरनगर तक के ट्रैक का जांचने को लेकर स्पेशन ट्रेन खड़ी थी। जिसे जांच को 120 की रफ्रतार से चलाया जाना था। उसे 140 की रफ्तार से चलाया गया। जो कि तीन बजकर 30 मिनट पर मुजफ्फरनगर स्टेशन पर पहुंची। यहां पर मीडिया से वार्ता करते हुए सीआरएस शैलेष कुमार पाठक ने बताया कि निरीक्षण में सभी कुछ ओके पाया गया। कहीं पर भी किसी प्रकार की कमी नहीं नजर आयी। ट्रेन को पहले 120 की रफ्तार से चलाया जाना था, लेकिन इसे 140 की रफ्तार से चलाया गया। इस प्रकार के ट्रैक भविष्य में कारगर साबित होंगे। जिन पर हाई स्पीड की ट्रेनें संचालित की जाएंगी। आज से ही इस ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन होगा। उसके बाद वह अपने लाव-लश्कर के संग दिल्ली की ओर सवा चार बजे प्रस्थान कर गये। खतौली से लेकर मुजफ्फरनगर तक इस ट्रैक को लेकर बने कार्यक्रम को चार बार टाला गया। आखिरकार आज इसे हरी झंडी मिल ही गयी। इस विषय में स्टेशन अधीक्षक विपिन त्यागी का कहना था कि सीआरएस के निरीक्षण में सभी कुछ ओके पाया गया। उनकी ओर से ट्रैक ट्रेनों को लेकर खोलने की अनुमति मिल गयी है। आज से ही इस ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन प्रारंभ कर दिया गया है। शालीमार बनी पहली आने वाली ट्रेन: खतौली से लेकर मुजफ्फरनगर के नये ट्रैक को सीआरएस की हरी झंडी मिल गयी। उसके बाद इस ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन मंगलवार की शाम से ही प्रारंभ कर दिया गया। इस पर आने का पहला सौभाग्य गाड़ी संख्या 14645 शालीमार एक्सप्रेस मिला। गौरतलब है कि दोहरीकरण की कड़ी में पहले मेरठ से लेकर दौराला तक का, पिफर दौराला से लेकर खतौली तक का दोहरीकरण किया गया। तीसरी कड़ी में खतौली से लेकर मुजफ्फरनगर तक का दोहरीकरण का कार्य किया जाना था, जो कि चार बार टाला गया। जो आज अंतत: पूर्ण हो ही गया। आज के दौरे में सीआरएस शैलेष कुमार पाठक, डीआरएम एससी जैन, सीनियर डिवीजन इंजीनियर रश्मि कुमार, सीनियर डीओएमजी एमपी पात्रो आदि शामिल रहे।

  
Rail News
2075 views
May 22 (11:20)
Karan Wdg Yadav~   266 blog posts   1 correct pred (100% accurate)
Re# 4323435-1            Tags   Past Edits
चालू हो गया 3 साल बाद 22 किमी कल
  
May 08 (17:40) लखनऊ चंडीगढ़ सुपरफास्ट ट्रेन में लगेंगे एलएचबी कोच (www.amarujala.com)
0 Followers
5090 views

News Entry# 381761  Blog Entry# 4312062   
  Past Edits
May 08 2019 (17:40)
Station Tag: Chandigarh Junction/CDG added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 08 2019 (17:40)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 08 2019 (17:40)
Train Tag: Chandigarh - Lucknow (Sadbhavna) SF Express/12232 added by Karan Wdg Yadav~/1961808

May 08 2019 (17:40)
Train Tag: Lucknow - Chandigarh (Sadbhavna) SF Express/12231 added by Karan Wdg Yadav~/1961808
बरेली। लखनऊ से चंडीगढ़ जाने वाली सुपरफास्ट ट्रेन में अब एलएचबी (लिंके हॉफमैन बुश) तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। इससे हादसे के वक्त जनहानि की आशंका बेहद कम होगी। रेलवे जल्द ही सभी इंटीग्रल कोच को एलएचबी में बदलने जा रहा है। लखनऊ-चंडीगढ़ सुपरफास्ट ट्रेेन लखनऊ से रात 10.30 बजे चलकर अगले दिन सुबह 10.05 बजे चंडीगढ़ पहुंचती है। अब तक ट्रेन में साधारण कोच लगे हैं। सूत्रों का कहना है कि जर्मन तकनीक के एलएचबी कोच लगने से ट्रेन की स्पीड बढ़ जाएगी। यह कोच सबसे पहले गोरखपुर आनंद विहार प्रीमियम ट्रेन में लगाए गए थे। ट्रायल सफल होने के बाद राजधानी, शताब्दी, महामना एक्सप्रेस समेत अब कई ट्रेनों में लग रहे हैं। कोच में सौ किलोमीटर की स्पीड पर भी झटका नहीं लगता है।रेलवे सूत्रों का कहना है कि पहले सभी सुपरफास्ट ट्रेनों में एलएचबी कोच लगाए जाएंगे। हादसे के समय एलएचबी कोच एक दूसरे पर नहीं...
more...
चढ़ते, जिससे जनहानि की आशंका नहीं होती, जबकि इंटीग्रल कोच से जनहानि बढ़ जाती है, जिससे रेलवे को मुआवजा भी देना पड़ता है।क्या है एलएचबी कोचएलएचबी (लिंके हॉफमैन बुश) में दोहरा बफर सिस्टम के बजाए सेंटर बफर युग्मन होता है। जर्मन तकनीकी से बने एलएचबी कोच में एंटी क्लाइम्बिंग जैसी विशेषताएं होती हैं, जिससे टकराव के समय कोच एक दूसरे पर नहीं चढ़ते हैं। रेलवे ने चरणबद्ध तरीके से कोचों को बदलने का निर्णय किया है। इसके अलावा इंट्रीगल कोच दो सौ किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड तक दौड़ सकते हैं। इसके अलावा ट्रेन चलने पर कोच का शोर भी इंटीग्रल कोच से 40 प्रतिशत कम है। फिलहाल, एलएचबी कोच कपूरथला कोच फैक्ट्री में बन रहे हैं।
Page#    14 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy